मंगल मंत्र

banner

मंगल मंत्र: अर्थ, महत्व और लाभ

जैसा कि हिंदू पौराणिक कथाओं और ज्योतिष में कहा गया है कि लाल रंग का मंगल ग्रह सूर्य से चौथे स्थान पर है। पृथ्वी से निकटतम बाहरी ग्रह, यह सौरमंडल का 7वां सबसे बड़ा ग्रह भी है। लाल-नारंगी रंग में दिखने के कारण इसे लाल ग्रह कहा जाता है। इसका रंग इसके व्यक्तित्व को बखूबी उभारता है। जब ज्योतिष के विषय की बात आती है, मंगल ग्रह अपनी अपराजेय शक्ति और नश्वर प्राणियों की कुंडली चार्ट पर उच्च प्रभुत्व के कारण सबसे सम्मोहक खगोलीय रहा है।

मंगल ग्रह पुरुषत्व से जुड़ा हुआ है। यह पुरुष प्रधान गुण जैसे शारीरिक बल, वर्चस्व, मुखरता, साहस, वीरता, स्वयं पर विश्वास और ऊर्जा को व्यक्त करता है। मंगल, नवग्रहों (नौ ग्रहों) में से एक को देवी भूमा (पृथ्वी) और भगवान वराह के पुत्र के रूप में माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि पृथ्वी (भूमा) देवी लक्ष्मी का अवतार है, और भगवान वराह, भगवान विष्णु के तीसरे अवतार हैं।

कहा जाता है कि इस ग्रह से प्रार्थना करने से व्यक्ति को कर्ज, गरीबी और त्वचा संबंधित बीमारी से मुक्ति मिलती है। यह ग्रह संपत्ति और वाहन प्रदान करता है। जो साम वेद साम वेद का उच्चरण करना चाहते हैं, उनके लिए मंगलवार का दिन मंगल की पूजा के लिए है। 21 बार मंगलवार के दिन व्रत करने से मंगल के सभी अशुभ प्रभाव को खत्म किया जा सकता है। जब भी मंगल की पूजा की जाती है या प्रसाद चढ़ाया जाता है, तो मंगल की पूजा के प्रभाव को दर्शाने वाली कथा सुनाई जाती है। वह इस प्रकार है:

एक वृद्ध महिला प्रत्येक मंगलवार को व्रत रखती थी और भगवान मंगल को प्रसन्न करने के लिए मंगल मंत्रों का जाप करती थी। उसके बेटे का नाम मांगलिया था। भगवान मंगल इस वृद्ध महिला की धर्मनिष्ठता की परीक्षा लेना चाहते थे। इसलिए वह ब्राह्मण के वेश में वृद्ध महिला के घर पहुंचे। भगवन मंगल ने उससे पूछा, "मुझे भूख लगी है और मैं अपना खाना खुद तैयार करूंगा लेकिन आपको जमीन को गाय के गोबर से लेपना होगा।" तब महिला ने उसे समझाया कि चूंकि मंगलवार का दिन था; वह उस दिन गाय के गोबर का लेप नहीं करती। इसके बजाय कहा कि वह जमीन पर पानी छिड़क देगी ताकि ब्राह्मण अपना भोजन तैयार कर सके। लेकिन ब्राह्मण ने जमीन को गाय के गोबर से लेपने पर ही बल दिया। वह उसी भोजन पकाने की जिद करने लगा। महिला ने मना कर दिया और कहा कि वह गाय के गोबर से जमीन को नहीं लेप सकती। इसके बजाय वह कुछ भी करने के लिए तैयार है। इस पर ब्राह्मण ने कहा, "तेरा पुत्र जमीन पर उल्टा लेटे, मैं उसकी पीठ पर खाना बनाऊंगा।"

कुछ क्षण सोचने के बाद, अपने धर्म से बंधी वृद्ध महिला ने ब्राह्मण की इस बात पर सहमति जताई और अपने पुत्र को बुलाया। वेश बदले ब्राह्मण ने उसकी बेटे के पीठ पर आग जलाई और खाना पकाने लगा। खाना पकाने के बाद, ब्राह्मण ने महिला से अपने बेटे को बुलाने के लिए कहा ताकि वह इस शुभ भोजन सेवन कर सके। महिला ने दुखी स्वर में उससे कहा कि चूंकि उसकी पीठ पर भोजन पकाए जाने की वजह से उसका बेटा जीवित नहीं रह सकता। इसलिए ऐसा क्रूर मजाक उसके साथ न करे। फिर भी ब्राह्मण ने वृद्ध महिला को समझाया और जोर देकर कहा कि वह अपने बेटे को बुलाए। महिला ने ब्राह्मण के कहने पर अपने बेटे को आवाज लगाई। उसका बेटा भागा-भागा अपनी मां के पास आ गया। ब्राह्मण ने कहा, "वृद्ध महिला, आपका उपवास सफल हुआ। दया के साथ-साथ तुम्हारा मन भक्ति और विश्वास से भरा है। तुम हमेशा खुश रहो।" इसके बाद ब्राह्मण वेश में आए भगवान मंगल वहां से अदृश्य हो गयए। यह कहानी मंगल पूजा और उसके उच्चारण के लाभों की व्याख्या करती है।

मंगल मंत्र

मंगल मंत्र: वे कैसे मदद करते हैं

भगवान मंगल को कई नामों से जाना जाता है जैसे अंगारक (जिसकी चमक लाल रंग जैसी है) रक्तवर्ण (जिसकी त्वचा रक्त की तरह लाल है), भौमा, लोहितांग और कूज। लाल रंग भगवान मंगल से जुड़ा हुआ है, यही कारण है कि लोग मंगलवर के दिन लाल रंग की वस्तुओं का दान करते हैं। इससे भगवान मंगल प्रसन्न होते हैं, जिससे मंगल की स्थिति उनके अनुकूल होती है, जो कि प्रतिकूल स्थितियों को सुधारती है। साथ ही इसका उन्हें भरपूर लाभ मिलता है। अंगारक को चार हाथों से चित्रित किया गया है, जिनमें क्रमश: एक हाथ में त्रिशूल, दूसरे में गदा, तीसरे में कमल और चौथे में भाला होता है। लाल रंग के वस्त्र धारण कर वह अकसर भेड़/बकरी की सवारी करते हैं।

मंगल की पुरुषत्व ऊर्जा हमारी महत्वपूर्ण ऊर्जा और भावनाओं के प्रक्षेपण को दर्शाती है, और यह हमारे जुनून, प्रेरणा और दृढ़ संकल्प को इंगित करती है। एक मजबूत मंगल जीवन शक्ति के गुण, सामर्थ्य, धीरज, प्रबल प्रेरणा, साहस आदि के इन गुणों को इंगित करता है। साथ ही जब मंगल अच्छी तरह से स्थित होता है, तो यह आत्मविश्वास, दृढ़ इच्छा शक्ति, अंतर्दृष्टि और विवेकशीलता प्रदान करता है। हालाँकि मंगल की कमजोर स्थिति हिंसा, नियंत्रण, निर्दयता, चोट, दुर्घटना, क्रोध, युद्ध, आलोचना, विवाह में देरी, रिश्ते संघर्ष आदि का कारण बन सकता है।

मंगल मंत्र का जाप कैसे करें

  • अधिक लाभ के लिए मंगलवार के दिन इस मंत्र का उच्चारण करें। मंत्र उच्चारण करने से पलहे स्नान करें और साफ-सुथरे तथा धुले हु वस्त्र पहनें।
  • मंत्र उच्चारण करने के लिए पद्मासन बैठें। अपने पास जप माला रखें।
  • अब मंगल मंत्र का 108 बार जाप करें, जो कि जाप माला का एक पूर्ण चक्र भी है।
  • आपको उपरोक्त प्रक्रिया को कम से कम 11 दिनों तक दोहराना होगा। यदि आप किसी विशेष कारण से मंत्र कर रहे हैं, तो मंत्र को तब तक करना सुनिश्चित करें जब तक आपकी इच्छा पूरी हो। आम तौर पर 21 दिनों में मंगल ग्रह आपकी इच्छा की पूर्ति या मन मार्फत फल देते हैं।
  • मंत्र के बेहतर प्रभाव के लिए मंगलवार के दिन वस्तुओं का दान करें। आप इस दिन लाल रंग की वस्तुएं जैसे तांबे के बर्तन, लाल मसूर की दाल, गुड़ और टीले का दान करें।
  • मंगल मंत्र का अधिक से अधिक लाभ प्राप्त करने के लिए आप मंगलवार का व्रत भी कर सकते हैं। प्रसन्न भगवान मंगल आपके जीवन में आई बाधाओं को दूर कर आपकी मदद करेंगे।

महत्वपूर्ण मंगल मंत्र

1. मंगल बीज मंत्र

बीज मंत्रों को वैदिक बीज मंत्रों के रूप में भी समझा जाता है और ये मूल मंत्र या ध्वनियां हैं जो अत्यधिक आध्यात्मिक शक्तियों से संपन्न हैं। उन्हें लोकप्रिय रूप से हिंदू धर्म में सभी देवताओं के श्रव्य बीज संस्करण कहा जाता है। बीज कई मंत्रों का हिस्सा हैं इसलिए ये काफी महत्वपूर्ण हैं। ऐसा माना जाता है कि एकाग्रता के साथ बीज मंत्रों का जप करने से भक्तों की इच्छाएं पूरी हो सकती हैं और उनके लिए सुरक्षा कवच की तरह काम कर सकते हैं।

मंगल बीज मंत्र है:

॥ ॐ क्रां क्रों क्रौं स: भौमाय नम: ॥

अर्थ - मैं भौमा (भूमा पुत्र के रूप में भगवान मंगल का दूसरा नाम) को श्रद्धा से नमन करता हूं।

मंगल बीज मंत्र के उच्चारण के लाभ
  • अगर आपको अपना जीवन लक्ष्यहीन लग रहा है, जीवन में कुछ भी हासिल करने के प्रति आपका उत्साह नहीं बचा, तो आपको इस मंत्र का उच्चारण नियमित रूप से करना चाहिए।
  • ज्योतिष के अनुसार अगर आप ऊर्ज की कमी महसूस करते हैं, कोई भी काम की शुरुआत सहजता से नहीं कर पाते, खुद को आलस्य में घिरा हुआ पाते हैं, तो इस मंत्र का जाप करने से आपके आत्मविश्वास में वृद्धि होगी और खुद को जीवंत महसूस करेंगे।
  • अगर आपका मंगल भारी है यानी अगर मंगल भगवान आपसे नाराज हैं, तो आपको मनवांछित फल कभी नहीं मिलेगा और न ही वह आपको ऊर्जावान बनने का आशीर्वाद देंगे। ऐसा न हो, इसके लिए जरूरी है कि आप उन्हें खुश रखें। इसके लिए आप मंगल बीज मंत्र का उच्चारण कर सकते हैं।
  • मंगल बीज मंत्र का जाप करने से जातक गणित में कुशल हो सकता है, क्योंकि यह ग्रह गणित को प्रभावित करता है।
  • यह मंगल मंत्र भाई-बहनों के रिश्ते को बेहतर बना सकता है। यदि आपके और आपके भाई या बहन के बीच कोई समस्या चल रही है, तो आप मंगल बीज मंत्र का जाप करके उन्हें सुलझा सकते हैं।
मंगल बीज मंत्र का जाप करने का सर्वोत्तम समय सुबह
इस मंत्र का जाप करने की संख्या रोजाना 108 बार
मंत्र का जाप कौन कर सकता है? कोई भी
किस ओर मुख करके इस मंत्र का जाप करें मंगल यंत्र
2. ऋणमोचन मंगल मंत्र

यदि आप अपने कर्ज में डूबे हु हैं और इसका भुगतान करने में असमर्थ हैं, तो ऋणमोचन मंगल स्तोत्र का जाप आपके लिए चमत्कारिक साबित हो सकता है। इसे स्कंद पुराण से लिया गया है और यह भगवान मंगल और वानरों के भगवान श्री हनुमान, दोनों को समर्पित है। इसका उपयोग ऋण और कर्ज से छुटकारा पाने के लिए किया जाता है। यदि आप एक ऐसे व्यक्ति हैं जो आसानी से अपने गुस्से पर नियंत्रण खो देते हैं, दूसरों से नाराज हो जाते हैं, तो आप निश्चित रूप से पेशेवर और व्यक्तिगत जीवन में इसके दुष्प्रभावों को भलीभांति समझ सकते हैं। जब आप नियमित रूप से ऋणमोचन मंगल मंत्र का पाठ करते हैं, तो यह आपको अपने गुस्से और भावनाओं पर नियंत्रण पाने में मदद करता है।

ऋणमोचन मंगल मंत्र है

ऊँ अं अंगारकाय नमः।।

अर्थ - मैं अंगारकाय को नमन करता हूं, जिनकी त्वचा लाल है और भगवान मंगल का दूसरा नाम है।

ऋणमोचन मंगल मंत्र के जाप के लाभ
  • ऋण को चुकाने के लिए ऋणमोचन मंगल मंत्र बहुत उपयोगी है।
  • यदि आपने किसी ऐसे व्यक्ति को पैसे दिए हैं जो जरूरत पड़ने पर भी आपको वापिस नहीं दे रहा है, तो ऐसे में इस मंत्र का उच्चारण करें। पैसा वापिस मिलने में मदद मिलेगी।
  • ऋणमोचन मंगल मंत्र आपको भारी कर्ज के चंगुल से मुक्त कराने में मदद करेगा।
  • यदि आपको ऐसा लग रहा है कि स्थितियां आपके नियंत्रण में नहीं हैं या आप अपने आसपास हो रही किसी घटना को नियंत्रित नहीं कर पा रहे हैं, तो ऐसे में यह मंगल मंत्र आपके लिए काफी फायदेमंद होगा और स्थितियों पर आप नियंत्रण भी कर सकेंगे।
ऋणमोचन मंगल मंत्र का जाप करने का सर्वोत्तम समय सुबह
इस मंत्र का जाप करने की संख्या 11 या 21 दिनों के लिए 108 बार
ऋणमोचन मंगल मंत्र का जाप कौन कर सकता है? कोई भी
किस ओर मुख करके इस मंत्र का जाप करें मंगल यंत्र के सामने बैठकर
3. मंगल मंत्र

यह मंत्र मंगल की शक्ति को बढ़ाने में मदद करता है। यह शारीरिक शक्ति और सामर्थ्य को बढ़ाने के लिए है। यदि आप अपनी खेल क्षमताओं को बढ़ाना चाहते हैं या मार्शल आर्ट के कुछ रूपों का अभ्यास कर रहे हैं, तब यह मंत्र आपके लिए बहुत फायदेमंद रहेगा। यह आपके मनोवैज्ञानिक कौशल को भी उन्नत करता है। इस मंत्र की मदद से आप ऐसा महसूस करेंगे, जैसे आपके अंदर विशेष ऊर्जा और शक्ति का समावेश हो रहा है। इसका उपयोग अन्य लोगों को प्रभावित करने के लिए भी किया जाता है। साथ ही यह जातक के पेशेवर जीवन को बेहतर बनाने में भी मदद करता है।

यह मंगल मंत्र है:

धरणीगर्भसम्भूतं विद्युत्कान्तिसमप्रभम्।

कुमारं शक्तिहस्तं च मङ्गलं प्रणमाम्यहम्॥

ॐ मंगलाय नमः ||

अर्थ - मैं सर्वशक्तिमान मंगल के सामने झुककर नमन करता हूं। वह स्वर्ग का सबसे शुभ प्रतीक हैं, वह ईश्वर द्वारा निर्मित सभी जीवों का समर्थन करते हैं। वह ब्रह्मांड में चमक रहे हैं और प्रेम की किरणों को चौतरफा फैला रहे हैं। साथ ही स्नेह की झिलमिलाहट के साथ भूमि को सुशोभित कर रहे हैं। उनके पास स्वर्ग की सर्वोच्च शक्ति है और सामर्थ्य है। ऊं, मैं मंगल को श्रद्धा से प्रणाम करता हूं।

मंगल मंत्र जाप के लाभ
  • यह मंत्र शारीरिक शक्ति को बढ़ाता है।
  • यदि आप शारीरिक रूप से अधिक सक्षम और आत्मविश्वासी बनना चाहते हैं, तो इस मंगल मंत्र का जाप आपको बहुत लाभ देगा।
  • यह जातक को मार्शल आर्ट में विशेषज्ञता हासिल करने में भी मदद करता है। इसके साथ ही यह आपको अधिक साहसी और बहादुर भी बनाता है।
  • यदि आप आसानी भयभीत हो जाते हैं, स्वभाव से डरपोक किस्म के हैं, तो इस मंगल मंत्र का पाठ चुनौतियों से लड़ने के लिए आपको शक्ति प्रदान करेगा।
मंगल मंत्र का जाप करने का सर्वोत्तम समय सुबह
इस मंत्र का जाप करने की संख्या 11 या 21 दिनों के लिए 108 बार
मंगल मंत्र का जाप कौन कर सकता है? कोई भी
किस ओर मुख करके इस मंत्र का जाप करें मंगल यंत्र

मंगल मंत्रों के समग्र लाभ

मंगल मंत्र का पाठ पराक्रमी मंगल को प्रसन्न करता है और विभिन्न तरीकों से आपकी मदद करता है:

  • जब आप मंगल मंत्रों का पाठ करते हैं, तो कुंडली में मंगल दोष को दूर या कम किया जा सकता है।
  • मंगल मंत्र का जाप करने वाले को सुख की प्राप्ति होती है और मंत्र के जाप से जीवन में आने वाली बाधाएं दूर होती हैं।
  • मंगल मंत्र का जप करने से जातक को गरीबी, कर्ज और त्वचा रोगों से मुक्ति मिलती है।
  • मंगल मंत्र का जाप करने से व्यक्ति को साहस, ऊर्जा और प्रतिष्ठा का आशीर्वाद प्राप्त होता है।
  • मंगल मंत्र क्रोध, झूठ, ईर्ष्या को दूर करता है और व्यक्ति को साहसी बनाता है।
  • यह आपको अपने जीवन के उद्देश्य की तलाश में मदद करता है और आपको उस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए शक्ति भी प्रदान करता है।
  • जीवन में लक्ष्य हासिल करने के लिए जुनून होना बहुत जरूरी है। यहीं पर मंगल, शक्ति के ग्रह के रूप में आपके जीवन में आता है।
  • वैदिक ज्योतिष में मंगल मंत्र अग्नि, ऊर्जा, धातु, हथियार, निर्माण, सैनिक, पुलिस, चिकित्सा, इंजीनियर और खेल से संबंधित व्यवसायों में सफलता प्राप्त करने में मदद करता है। यदि आप उल्लिखित क्षेत्रों में से एक में हैं तो यह आपके लिए आदर्श है।
  • यह अन्य लोगों पर प्रभुत्व कायम करने में मदद करता है। यदि आप लोगों द्वारा नरजंदाज किए जा रहे हैं फिर किसी कारण वश आप उनका सामना करने में असमर्थ हैं, तो नियमित रूप से मंगल मंत्रों का जाप आपको इस स्थिति से उबरने में मदद करेगा।

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

कॉपीराइट 2022 कोडयति सॉफ्टवेयर सॉल्यूशंस प्राइवेट. लिमिटेड. सर्वाधिकार सुरक्षित