नक्षत्र मूल

banner

मूल नक्षत्र

पुरुषों का व्यक्तित्व

मूल नक्षत्र में जन्मे पुरुष विशेष रूप से समय को महत्व देता है और हमेशा अपने और अपने आसपास के लोगों के लिए शांतिपूर्ण वातावरण बनाए रखता है। इस नक्षत्र के पुरुष में भी सब कुछ अपने दम पर करने की प्रवृत्ति होती है, जो कभी-कभी उसे कमजोर बना देती है और जीवन में अन्य चीजों में व्यस्त कर देती है। यह पुरुष जातक अपने भविष्य को लेकर बहुत चिंतित रहता है, जिस वजह से ये लाेग अकसर अपने लिए परेशानियां खड़ी करते रहते हैं। वास्तव में, जातक अपने आसपास के लोगों से बहुत अधिक प्रभावित होता है। इन लोगों का भगवान पर पूरा भरोसा होता है और इन्हें यकीन होता है कि जब भी उनकी जिंदगी में कुछ खराब होगा, तो भगवान उसे जरूर संभाल लेंगे। ये लोग इसी विश्वास के साथ पूरी ईमानदारी और मेहनत के साथ अपना काम करते रहते हैं।

पुरुषों का करियर

मूल नक्षत्र में जन्म लेने वाले जातक अपने फाइनेंस को अच्छी तरह मैनेज नहीं कर पाते इसलिए अकसर उधार या कर्ज में डूबे रहते हैं। ऐसी परिस्थितियों से बचने के लिए जरूरी है कि इस नक्षत्र के जातक सेविंग करें। जबकि ये लोग ऐसा नहीं करते। आश्चर्य की बात ये है कि ये लोग खुद मैनेजमेंट करना नहीं जानते, लेकिन दूसरों को इस संबंध में भरपूर सलाह देते हैं। दूसरों को सलाह-सुझाव देने में ये लोग बहुत आगे रहते हैं। वैसे इनका मैनेजमेंट खराब होने के बावजूद , इनके पास आय के अच्छे स्राेत हैं और ये लोग कई स्रोतों से कमाई करते हैं। साथ ही, वह अपने जीवन में कई बार अपना पेशा बदल लेते हैं। 25 साल की उम्र के बाद, आपके लिए उन दोस्तों से दूर रहना सबसे अच्छा रहेगा जो स्वभाव से मतलबी हैं, क्योंकि उनकी कंपनी में, आप अपने लक्ष्य से भटक सकते है।

पुरुषों की अनुकूलता

मूल नक्षत्र में जन्म लेने वाला जातक अपने करीबियों को हर चीज से ज्यादा प्यार करता है। हालांकि, कई बार, यह या तो उस भावना को दिखाने में सक्षम नहीं होता है या उसके पास समय नहीं होता है, जिससे वह अपने परिवार से अलग होने का अनुभव कर सकता है। परिवार की बात करें तो जातक को अपने माता-पिता से कोई लाभ मिलने की संभावना नहीं है और यह एक स्व-निर्मित व्यक्ति है। जब यह अपने बच्चों के प्रबंधन और पालन-पोषण की बात करता है तो वह बहुत मददगार होता है। साथ ही जैसा जातक भविष्य के बारे में सोचता है, वह एक अच्छा योजनाकार होता है।

पुरुषों का स्वास्थ्य

मूल नक्षत्र में जन्म लेने वाले जातक को ऐसे लक्षणों से जूझना पड़ सकता है जो तपेदिक, पक्षाघात, या लगातार पेट की समस्याओं का कारण बन सकते हैं। जिस उम्र में जातक को अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता होती है वह है 27, 31, 44, 48, 56 और 60 वर्ष है।

महिलाओं का व्यक्तित्व

मूल नक्षत्र में जन्म लेने वाली महिलाएं साफ दिल होती हैं। जिन्हें ये महिलाएं प्यार करती हैं, उसके लिए जान छिड़कती हैं और उनके हित के लिए किसी भी हद तक जा सकती हैं। हालांकि उनका यह स्वभाव कभी-कभी उनके लिए परेशानियां खड़ी कर देती हैं। क्योंकि कई लोग उनका नाजायज फायदा उठाते हैं। इसलिए इस नक्षत्र की महिलाओं को दोस्त बनाने से पहले सावधानी बरतनी चाहिए और उसे ही अपना दोस्त बनाना चाहिए, जो उनकी भावनाओं का गलत उपयोग न करें। इसके अलावा मूल नक्षत्र में जन्म लेने वाली महिलाएं काफी जिद्दी होती हैं। उनकी यह प्रवृत्ति दूसरों के सामने उनकी छवि खराब करती है। हालांकि ये महिलाएं भावुक होने के साथ-साथ समझदार भी हैं और भलीभांति इस बात से परिचित हैं कि अपने जिद का उपयोग कहां और कब करना है। दरअसल इन महिलाओं का जिद्दी स्वभाव इन्हें अच्छा काम करने के लिए प्रेरित करता है, जिससे उन्हें सफलता प्राप्त करने में मदद मिलती है। लेकिन अपने जिद के चलते किसी अन्य व्यक्ति से ईर्ष्या करना इनके हित के लिए सही नहीं है। यही कारण है कि इन महिलाओं को सुझाव दिया जाता है कि किसी दूसरे व्यक्ति की सफलता से ईर्ष्या कर खुद को जिद्दी बनाना समझदारी नहीं है। जहां तक इनके प्रेम जीवन की बात है, तो इन्हें कई बार दिल टूटने का भी सामना करना पड़ सकता है।

महिलाओं का करियर

मूल नक्षत्र में जन्म लेने वाली जातक को आमतौर पर अपने लिए शिक्षा प्राप्त करने में कई परेशानियों का सामना करना पड़ सकते है। ऐसा इसलिए क्योंकि इनका पढ़ाई की ओर ज्यादा मन नहीं लगता बल्कि कलात्मक और सामाजिक चीजों पर ये ज्यादा ध्यानकेंद्रित करती हैं। हालांकि, ऐसे समय में जब गुरु मूल नक्षत्र में अनुकूल रूप से स्थित होता है, यह शिक्षा से संबंधित कुछ भी शुरू करने का एक अच्छा समय है क्योंकि बृहस्पति आपको इसे आगे बढ़ाने में मदद कर सकता है। मूल नक्षत्र में जन्म लेने वाली महिला चिकित्सा संबंधी नौकरी में भी अच्छा कर सकती है।

महिलाओं की अनुकूलता

मूल नक्षत्र में जन्म लेने वाली महिला के ऊपर हमेशा अलगाव का खतरा मंडराता रहता है। यह उसके पति के विद्रोही स्वभाव के कारण हो सकता है। मूल नक्षत्र में जन्म लेने वाली महिला अपने करीबियों का बहुत आसानी से ध्यान आकर्षित करती है। अगर दूसरे उनकी ओर आकर्षित न हों, तो इससे ये महिलाएं परेशान भी हो जाती हैं। हालांकि इनके सकारात्मक पक्ष की बात करें, तो उनकी यही आदत इनकी विवाह में किसी तरह की बाधा या अड़चनें नहीं आने देतीं। अपने सुखी जीवन के लिए ये महिलाएं मंगल को प्रसन्न करने के उपाय आजमा सकती हैं। इसके लिए ये चाहें तो अपने पति और बच्चे को भी मंगल की पूजा करने के लिए प्रेरित कर सकती हैं।

महिलाओ का स्वास्थ्य

मूल नक्षत्र में जन्म लेने वाली जातक को पेट की समस्याओं से जूझना पड़ सकता है। उसे अपनी उम्र के निम्नलिखित वर्षों में विशेष रूप से सावधान रहना होगा खासकर इस उम्र 27, 31, 38, 56, और 60 तक अधिक सावधान रहे।

प्रथम चरण

मूल नक्षत्र का पहला चरण मेष नवांश में पड़ता है और इस पर मंगल का शासन होता है। इस चरण में जन्म लेने वाले जातक को भौतिक इच्छाओं से सावधान रहने की आवश्यकता है। यह जातक को भौतिक जगत की ओर प्रभावित करता है।

द्वितीय चरण

मूल नक्षत्र का दूसरा चरण वृष नवांश में आता है और शुक्र द्वारा शासित होता है। इस चरण में जन्म लेने वाले लोग मेहनती होते हैं। वे अपने भौतिक विकास के बारे में बहुत खास हैं।

तृतीय चरण

मूल नक्षत्र का तीसरा चरण मिथुन नवांश में पड़ता है और इस पर बुध का शासन है। इस चरण में जन्म लेने वाले जातक अत्यधिक बुद्धिजीवी होते हैं। ऐसे जातक स्वभाव से बहुत संतुलित होते हैं और आध्यात्मिक गतिविधियों के साथ-साथ सांसारिक गतिविधियों के लिए भी समान समय दे सकते हैं।

चतुर्थ चरण

मूल नक्षत्र का चौथा चरण कर्क नवांश में पड़ता है और चंद्रमा द्वारा शासित होता है। इस चरण में जन्म लेने वाले लोगों का दूसरों की देखभाल करने का आध्यात्मिक और दार्शनिक तरीका होता है।

कॉपीराइट 2022 कोडयति सॉफ्टवेयर सॉल्यूशंस प्राइवेट. लिमिटेड. सर्वाधिकार सुरक्षित