राहु गोचर 2023

banner

राहु गोचर 2023 तिथि, समय और भविष्यवाणियां

हालांकि, यह सच है कि राहु एक छाया ग्रह है। इसके बावजूद वैदिक ज्योतिष के अनुसार यह सबसे शक्तिशाली ग्रहों में से एक है। इस ग्रह का अपना विशेष महत्व है। यह ग्रह प्रत्येक राशि में लगभग 18 महीने तक रहता है। जाहिर है अन्य ग्रहों की तरह राहु गोचर भी तमाम राशियों को प्रभावित करता है। राहु ग्रह जिस कुंडली में स्थित है, उसके भौतिक मामलों के लिए जातकों की इच्छाओं को बढ़ाता है। जन्म के चंद्रमा से 3, 6 और 11 वें भाव पर होने पर यह सकारात्मक परिणाम देता है। जबकि पहले, दूसरे, चौथे, पांचवें, सातवें, आठवें, नौवें, दसवें और बारहवें भाव में गोचर करता है, जहां जन्म का चंद्रमा स्थित है, तो यह अशुभ भी हो सकता है।

कैसा रहेगा आपका साल 2023 जानने के लिए ज्योतिषी से बात करें

राहु गोचर 2023 (Rahu Gochar 2023 Meen Rashi)

तिथि और दिन इस राशि से गोचर इस राशि मे गोचर समय
30 अक्टूबर 2023, सोमवार मेष राशि मीन राशि सुबह 12 बजकर 30 मिनट तक

प्रथम भाव में राहु गोचर का प्रभाव

जब जन्म कुंडली में राहु जन्म के चंद्रमा से प्रथम भाव में प्रवेश करता है, तो यह जातक के लिए बहुत सारी चुनौतियां लेकर आता है। यह किसी की धन बर्बाद करने की प्रवृत्ति को बढ़ाता है। इस वजह से जातक को आर्थिक नुकसान झेलना पड़ता है। यही नहीं, यह समय जातक के लिए काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि इस समयावधि के दौरान जातक को कई तरह की शारीरिक समस्याओं का भी सामना करना पड़ सकता है।

विशेषकर मानसिक स्वास्थ्य प्रभावित होगा। इसके साथ ही प्रथम भाव में राहु गोचर का प्रभाव जातक के मन पर भी पड़ता है। इसके कारण जातक का किसी काम में मन नहीं लगता है, फिर चाहे वह पारिवािरक हो, निजी हो या कार्यालय से संबंधित। जातक अकसर बेचैनी महसूस करता है। अपनी परिस्थितियों को संभालने के लिए जातक को किसी भी प्रकार की अवैध या गैर-कानूनी काम करने से बचना चाहिए। साथ ही इस समयावधि में जातक को अपने रिश्ते पर भी विशेष ध्यान देना चाहिए।

उपाय:
  • शनिवार के दिन काले तिल का दान करें।

द्वितीय भाव में राहु गोचर का प्रभाव

यदि जन्म के चंद्रमा से राहु दूसरे भाव में गोचर करता है, तो जातक के जीवन में कई तरह के संकटों का अगमन होने लगता है। इसमें वित्तीय समस्याओं से लेकर दांपत्य जीवन और स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं शामिल हैं। निश्चित रूप से परिस्थितियां आपके नियंत्रण में नहीं होंगी। लेकिन आपको सोच समझकर निर्णय लेने होंगे। खासकर वित्तीय स्थिति की बात करें, तो इस समय अवधि में आपके खर्च करने की रफ्तार बढ़ सकती है। इसे आपको कंट्रोल में रखने की कोशिश करनी चाहिए। इसके अलावा, अगर आप विवाहित हैं, तो अपने दांपत्य जीवन में किसी तरह का मतभेद उत्पन्न न होने दें।

राहु गोचर यह बताता है इस भाव के संबंधित जातकों के दांपत्य जीवन में कुछ समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। अपने रिश्ते को बचाने के लिए आपको अपने शब्दों को नियंत्रण में रखना चाहिए। साथ ही अपने गुस्सैल स्वभाव को भी संयमित रखने की कोशिश करें। अब आपके स्वास्थ्य की बात करते हैं। वैसे तो स्वास्थ्य सामान्य रहने की संभावना है। लेकिन खानपान की बुरी आदतें आपको परेशानी में डाल सकती हैं। इसके साथ ही अपनी आंखों को लेकर जरा भी लापरवाही न करें। अगर आपकी दृष्टि कमजोर हो रही है, तो तुरंत विशेषज्ञ से संपर्क करें।

उपाय:

तृतीय भाव में राहु गोचर का प्रभाव

जब राहु तीसरे भाव में गोचर करता है, तो यह जीवन में सकारात्मकता को बढ़ावा देता है। इस समय अवधि के दौरान जातक के जीवन में खुशियों की लहर दौड़ पड़ती है। यह समय जातक के लिए बहुत शुभ है। वह जिस हिसाब से मेहनत करेगा, उसे उसी हिसाब से फल प्राप्त होगा। अच्छी बात यह है कि कम मेहनत में अच्छे फल प्राप्त होंगे। खासकर कार्यालय की बात करें, तो वहां पदोन्नति के योग बन रहे हैं, जिससे आसपास के लोगों के बीच आपकी प्रतिष्ठा बढ़ेगी।

यह भी पढ़ें चंद्रग्रहण 2023

वेतनभोगी व्यक्तियों के लिए, यह अवधि वेतन वृद्धि के भी अच्छे अवसर लेकर आएगी। इस समयावधि में आपको भरपूर आर्थिक लाभ और समृद्धि प्राप्त होगी। अगर लंबे समय से कोई लंबित कानूनी मामला चल रहा है, तो वह मुकदमा इस दौरान सुलझ जाएगा। आपके निजी संबंध खूब फलेंगे-फूलेंगे। खासकर, भाई-बहनों से भी आपके संबंध इस समयावधि के दौरान बेहतर होंगे। आपके सारे काम बनते हुए नजर आएंगे, इससे आपके आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। आपकी इच्छा शक्ति मजबूत होगी। आप अपने प्रयासों से समाज में प्रसिद्धि और नाम प्राप्त करेंगे।

उपाय:
  • बुधवार के दिन गायों को हरा चारा खिलाएं।

चतुर्थ भाव में राहु गोचर का प्रभाव

राहु का चौथे भाव में गोचर आपके लिए मिश्रित अनुभव लेकर आएगा। हालांकि, संकट का समय अच्छे समय की तुलना में अधिक रहेगा। इस समय अगर आपका कोई जमीन या संपत्ति से जुड़ा मामला चल रहा है, तो आपको अतिरिक्त सावधानी बरतनी पड़ेगी। आपकी जरा भी लापरवाही आपको भारी नुकसान पहुंचा सकती है। कई अन्य परेशांनियां भी आपके मार्ग पर नजर आएंगी। जैसे आपके लिए आपकी माता जी का स्वास्थ्य चिंता का विषय बना रहेगा। माता जी के साथ घर के अन्य सदस्यों के स्वास्थ्य का भी पूरा ध्यान रखें।

अगर आप वाहन का उपयोग करते हैं, दुर्घटना होने की आशंका है। कोशिश करें कि इस समयावधि में निजी वाहन का उपयोग न करें। कामकाजी लोगों के जीवन में कई तरह के परिवर्तन हो सकते हैं। इसमें से एक है, स्थानांतरण होना। परिवर्तन के लिए तैयार रहें। यह परिवर्तन आपके लिए अच्छा होगा या बुरा, यह बात आपके स्थानांतरण के बाद ही पता चल पाएगी।

उपाय:
  • आपके घर के आसपास या घूमते हुए कुत्तों को खाना खिलाएं।

पंचम भाव में राहु गोचर का प्रभाव

पंचम भाव में राहु गोचर जातक के लिए बहुत अधिक मानसिक तनाव और दुःख लाता है। हालांकि, इसका सकारात्मक पहलू भी आपके जीवन पर असर डालेगा। एक ओर, इस समयावधि में आपको अपने बच्चे से संबंधित कोई न कोई बात परेशान करती रहेगी। लेकिन दूसरी ओर, आय और व्यवसाय में वृद्धि की संभावना बन रही है। यह एक बहुत ही आशाजनक अवधि है। लेकिन जातक के प्रेम जीवन में कुछ समस्याएं आ सकती हैं।

यह भी पढ़ें विवाह मुहुर्त 2023

प्रेमी जोड़े या शादी-शुदा दंपति के बीच किसी बात को लेकर भ्रम उत्पन्न हो सकता है। इस वजह से आप मानसिक रूप से परेशानी महससू कर सकते हैं। इस स्थिति को नियंत्रित करने के लिए मतभेद या भ्रम से बचने की कोशिश करें। ध्यान रखें कि यह सब स्थितियां स्वत: ही कुछ दिनों में ठीक हो जाएंगी।

उपाय:
  • आपको रविवार के दिन रुद्राभिषेक करना चाहिए।

छठे भाव में राहु गोचर का प्रभाव

जब राहु छठे भाव में गोचर करता है, तो यह जातक के लिए कई अच्छी खबरें लेकर आता है। इसमें एक है, धन संचय में वृद्धि। इस तरह देखा जाए तो इस समयावधि में जातक न सिर्फ अपने धन को संचय करने में सफल होगा, बल्कि जिस भी व्यवासय में वह अपना हाथ आजमाएगा, वहां से भी लाभ प्राप्ति की संभावना बनेगी। इतना ही नहीं, जातक संपत्ति से संबंधित खरीद-फरोख्त भी इस समयावधि में कर सकता है। संपत्ति में लाभ के योग बन रहे हैं। जहां तक आपके निजी संबंधों और सामाजिक मान-सम्मान और प्रतिष्ठा की बात है, तो राहु गोचर इसमें भी वृद्धि करते नजर आ रहा है।

इसके साथ ही जिन लोगों का अदालती मामला चल रहा है, उन्हें इस समयावधि में उससे राहत मिल सकती है यानी अदालती मामले खत्म हो सकते हैं। अच्छी खबर यह है कि अदालती मामलों में लिया गया फैसला आपके हित में होने की संभावना है। साथ ही कई आपकी विपत्ति की घड़ी में आपके अपने करीबी आपके साथ खड़े नजर आएंगे। इसमें विशेषकर आपकी मां की तरफ से संबंधित रिश्तेदार जैसे मामा आपका साथ निभाएंगे।

उपाय:
  • बुध बीज मंत्र का नियमित जाप करें।

सातवें भाव में राहु गोचर का प्रभाव

जब राहु सातवें भाव में गोचर करेगा, तो यह जातक के जीवन में कई तरह के उथल-पुथल अपने साथ लेकर आएगा। राहु गोचर का यह समय काल जातक के लिए अस्थिर रहेगा। कई मामलों में वह खुद को परेशान स्थिति में पाएगा। इसमें सबसे बड़ा संकट, उसे वित्त से संबंधित रहेगा। अगर जातक ने कहीं निवेश किया है या निवेश करने का मन बन रहा है, तो बता दें कि वित्तीय हानि हो सकती है। अगर किसी को उधार दिया है, तो वह पैसा शायद ही आपको कभी वापिस मिले। इसलिए विशेषज्ञ आपको यही सलाह दे रहे हैं कि वित्त के मामले में सतर्क रहें और सावधानी के साथ ही कोई निर्णय लें। अब बात करते हैं आपके वैवाहिक जीवन की। आपकी शादी-शुदा जिंदगी में भी आपको इस समयावधि में अस्त-व्यस्तता नजर आएगी। कई बार आपको इसकी वजह समझ नहीं आएगी, पर फिर भी जीवनसाथी के साथ मतभेद हो जाएंगे। मतभेद झगड़ों तक पहुंच जाएंगे। लेकिन चिंता का विषय यह भी रहेगा कि इस समय काल में आपके जीवनसाथी को स्वास्थ्य संबंधी समस्या का सामना करना पड़ सकता है। इस वजह से भी आप खुद को परेशानी में पाएंगे। कार्यालय में भी आपके लिए मुश्किलें सामने खड़ी नजर आएंगी।

राहु के इस स्थिति में होने पर सहकर्मियों के साथ आपके संबंध खराब हो सकते हैं, इसलिए आपको सुझाव दिया जाता है कि कार्यालय में बहुत सोच-समझकर ही बात करें। इन दिनों किसी के साथ गैर जरूरी बातें करने से बचें। हालांकि, आपके साथ बहुत चीजें इस समयावधि में बुरी घटेंगी। लेकिन अच्छी खबर यह है कि अन्य धर्म के किसी व्यक्ति से आपकी मुलाकात हो सकती है। वह आपकी जिंदगी में दोस्त की तरह आएंगे और कम समय अंतराल में ही आपके काफी घनिष्ठ हो जाएंगे।

उपाय:
  • शुक्रवार के दिन देवी के मंदिर में जाकर स्त्री श्रृंगार का सामान चढ़ाएं।

अष्टम भाव में राहु गोचर का प्रभाव

अष्टम भाव में राहु गोचर जातक के लिए मिश्रित अनुभव लेकर आएगा। इसमें कुछ अच्छी और सुखद घटनाएं घटेंगी, तो कुछ बुरी खबरें भी सुनने को मिलेंगी। यहां हम पहले अच्छी यानी सकारात्मक घटनाओं का जिक्र करेंगे। जातक ने अगर कहीं निवेश किया हुआ है, तो उसे लाभ प्राप्त हो सकता है और उसे कहीं से छिपा हुआ धन प्राप्त हो सकता है। यह लाभ संपत्ति, गहने या धन के रूप में प्राप्त हो सकता है। यह लाभ अप्रत्याशित होगा, इसलिए जरा सा भी लाभ आपको खुशी का अहसास कराएगा।

बुरी खबरों की बात करें, तो राहु गोचर के दौरान आपके जीवन में कई तरह की बाधाओं का सामना करना होगा। इसमें स्वास्थ्य सबसे मूल समस्या रहेगी। आपको शारीरिक और मानसिक दोनों तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। दरअसल, यह अवधि आपको सावधान करती है कि जितना संभव हो अपने और अपने करीबियों के स्वास्थ्य को लेकर सतर्क रहें।

उपाय:
  • एक भी दिन छोड़े बिना रोजाना दुर्गा चालीसा का जाप करें।

साल 2023 में चंद्र ग्रहण जानने के लिए आपकी राशि पर क्या प्रभाव पड़ेगा यहां क्लिक करें

नौवें भाव में राहु गोचर का प्रभाव

जन्म के चंद्रमा से राहु का नौवें भाव में जाना जातक के लिए सकारात्मकता की ओर इशारा कर रहा है। यह समयावधि जातक के लिए काफी शांतिप्रिय रहेगी। अगर कोई लंबे समय से विदेश जाने की योजना बना रहा है, तो इस समय उसका यह सपना पूरा हो सकता है। जिन छात्रों को उच्च शिक्षा प्राप्त करनी है, उनके लिए भी यह एक आशाजनक समय है। आप खुद को अध्यात्म की ओर प्रेरित महसूस कर सकते हैं। हालांकि, यह गोचर जातक के माता-पिता के लिए अच्छा नहीं होगा।

उनके साथ या तो आपके रिश्ते प्रभावित होंगे या फिर उनका स्वास्थ्य बिगड़ सकता है। इस समय अवधि में आपको कुछ धन का नुकसान भी उठाना पड़ सकता है। इस वजह से ऑफिस में भी अशांत महसूस करेंगे। लेकिन कोशिश करें कि ऑफिस में सबके साथ आप शांतिप्रिय और मधुर संबंध बने रहें। इसके लिए जरूरी है कि आप ऑफिस में बेवजह के बहस से बचें और जरूरी न हो, तो किसी तरह की चर्चा का हिस्सा न बनें।

उपाय:
  • पक्षियों को विभिन्न प्रकार के अनाज प्रदान करें।

दसवें भाव में राहु गोचर का प्रभाव

दसवें भाव में राहु गोचर का मतलब है कि जातक का करियर बेहतरीन मार्ग पर होगा। उसे सफलता मिलेगी और कार्यक्षमता भी बढ़ेगी। अब तक ऑफिस में आपकी जो छवि थी, अब उसमें बदलाव होगा। साथ ही अब लोग आपको पहले की तुलना में ज्यादा गंभीरता से लेंगे। आप कार्यालय में अच्छा प्रदर्शन करेंगे। इस वजह से वरिष्ठों और सहकर्मियों के साथ भी आपके संबंध सौहार्दपूर्ण और पारस्परिक रूप से लाभप्रद रहेंगे।

आपको कुछ आर्थिक लाभ प्राप्त हो सकते हैं। लेकिन किसी कारण से आप मानसिक रूप से परेशानी महसूस कर सकते हैं। परेशानी की वजह से नींद न आने की समस्या बनी रहेगी। इतना ही नहीं, इस दौरान आपकी माता का स्वास्थ्य भी खराब हो सकता है, इसलिए अपना और उनका पूरा ध्यान रखें।

उपाय:
  • शनिवार के दिन तिल का दान करें।

ग्यारहवे भाव में राहु गोचर का प्रभाव

जब राहु जन्म के चंद्रमा से ग्यारहवें भाव में प्रवेश करता है, तो यह आपके जीवन में खुशहाली और समृद्धि लेकर आता है। इस समय अवधि में आपको कुछ धन लाभ भी हो सकता है। कार्यस्थल और सामाजिक स्तर पर आपकी प्रतिष्ठा और छवि में काफी सुधार होगा। आय में वृद्धि के लिए यह समय अनुकूल है। यही नहीं, आपको विदेश जाने का भी मौका मिल सकता है।

इन दिनों आपका घरेलू जीवन शांतिपूर्ण रहेगा और कहीं से शुभ खबर मिलने की संभावना भी बन रही है। आपके बच्चों की शादी हो सकती है। आप इस गोचर के दौरान एक अच्छे समय का आनंद लेंगे।

उपाय:
  • गोचर काल में अपने पास टिन का पदार्थ रखें।

बाहरवे भाव में राहु गोचर का प्रभाव

बारहवें भाव में राहु गोचर आपके लिए कई तरह के प्रभाव साथ लेकर आएगा। एक ओर इस समय अवधि में आपको विदेश जाने का अवसर मिलेगा, धन के मामले में लाभ होने की संभावना भी है। लेकिन व्यापार में नुकसान का योग बन रहा है। साथ ही आपके करियर में मन वांछित परिणाम आपको प्राप्त नहीं होंगे। आपको समझ नहीं आएगा कि समस्या क्या है। लेकिन करियर के मार्ग पर कई बाधाएं सामने आएंगी।

आपकी एक अच्छी बात यह है कि आपमें आत्मविश्वास अधिक है, जिसके चलते अकसर अच्छे निर्णय लेते हैं। लेकिन राहु गोचर की वजह से आप अति-आत्मविश्वास से भर उठेंगे। नतीजतन आप गलत फैसले लेने के लिए मजबूर हो जाएंगे। आपको सुझाव दिया जाता है कि मानसिक तनाव से बचने की कोशिश करें। भले आपके सामने कई तरह की चुनौतियां हैं, उन्हें एक-एक कर सुलझाएं। साथ ही आप अपने जीवनसाथी के स्वास्थ्य का भी ध्यान रखें।

उपाय
  • जितनी बार संभव हो अपना भोजन रसोई में ही करें।

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

Rahu Gochar 2023: अक्सर पूछे जानें वाले प्रश्न

राहु ग्रह को एक भाव से दूसरे भाव में जाने के लिए कितना समय लगता है?

राहु ग्रह लगभग 18 महीनों में एक स्थान से दूसरे स्थान की यात्रा करता है।

ज्योतिष में राहु ग्रह को कौन सा देवता नियंत्रित करता है?

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार राहु ग्रह पर बृहस्पति ग्रह का शासन हो सकता है। यह गुरु है और जीवन में राहु के दुष्प्रभाव से जातकों को बचाता है।

सला 2023 में राहु ग्रह के शत्रु कौन हैं?

ज्योतिष के अनुसार साल 2023 में सूर्य, मंगल और चंद्रमा जातकों के लिए शत्रु ग्रह होंगे। हालांकि, गुरु, बुध और केतु ग्रह तटस्थ रहेंगे।

साल 2023 में राहु ग्रह को कैसे प्रसन्न करें?

साल 2023 में राहु के गोचर (rahu gochar 2023) के कारण समस्याओं और परेशानियों से गुजर रहे जातकों के लिए दुर्गा मंत्र का जाप करके राहु की पूजा और स्तुति करना बहुत अच्छा रहेगा।

कॉपीराइट 2022 कोडयति सॉफ्टवेयर सॉल्यूशंस प्राइवेट. लिमिटेड. सर्वाधिकार सुरक्षित