भूमि पूजन मुहुर्त 2023

banner

भूमि पूजन 2023

प्लॉट खरीदकर उस पर घर बनाना, आज भी ज्यादातर लोगों का सपना है। इसलिए यह खरीदे हुए प्लॉट पर घर बनाना व्यक्ति के जीवन में बहुत महत्व रखता है। भारत में यह एक आम धारणा है कि कोई नया कार्य शुरू करने से पहले दैवीय आशीर्वाद प्राप्त करना सौभाग्य और समृद्धि लाता है। भारत में कई परिवार वास्तु शास्त्र और भूमि पूजन के अनुष्ठान को बहुत महत्व देते हैं। वास्तु शास्त्र के अनुसार भूमि पूजन एक महत्वपूर्ण अनुष्ठान है, जो घर के निर्माण से पहले देवताओं का आशीर्वाद प्राप्त करने और सकारात्मक ऊर्जा को आमंत्रित करने के लिए किया जाता है। यदि आप वास्तु तिथियां और भूमि पूजन मुहूर्त 2023 के बारे में जानना चाहते हैं, तो आप इस लेख पर ये सारी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

भूमि पूजन और गृह निर्माण शुरू करने के लिए शुभ तिथियों का चयन करते समय, यह जांचना चाहिए कि क्या वह महीना शुभ है, जिसमें शुभ मुहूर्त, तिथि और नक्षत्र शामिल हैं। आपके लिए चीजों को सरल बनाने के लिए हम नए साल में भूमि पूजन करने के लिए शुभ मुहूर्त की सूची लेकर आए हैं, जिनके बारे में आप इस लेख में पढ़ सकते हैं।

भूमि पूजन क्या है?

इससे पहले कि हम आगे बढ़ें, पहले यह जान लेते हैं कि भूमि पूजन क्या है? भूमि पूजन एक हिंदू अनुष्ठान है, जो एक नए घर के निर्माण की शुरुआत से पहले भूमि और देवी-देवताओं के सम्मान में किया जाता है। भूमि पूजन के दौरान प्रकृति के पांच तत्वों की भी पूजा की जाती है, जिसे नींव पूजन भी कहा जाता है। भूमि का अर्थ धरती माता है। आमतौर पर भूमि पूजा निर्माण स्थल के उत्तर-पूर्व कोने में की जाती है। वास्तु विशेषज्ञों के अनुसार स्थल की खुदाई ईशान कोण से शुरू होनी चाहिए।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

कुछ लोगों को अपनी जन्म तिथि और जन्म स्थान के विवरण के बारे में पता नहीं होता है। ऐसे मामलों में, पुजारी राशि नाम का उपयोग करके घर का निर्माण शुरू करने की शुभ तिथि तय कर सकता है। शुभ मुहूर्त तिथि, नक्षत्र आदि के आधार पर भी तय किया जा सकता है।

भूमि पूजन का महत्व

भारत में पारंपरिक प्रथा के अनुसार किसी भी संरचना के निर्माण से पहले अन्य देवताओं के साथ भूमि या धरती माता की पूजा की जाती है। इस प्रथा को भूमि पूजन के नाम से जाना जाता है। अनुष्ठान में जमीन पर आधारशिला रखना और भगवान के आशीर्वाद का आह्वान करना शामिल है।

  • भूमि पूजन धरती माता या देवी देवताओं को प्रसन्न करने और प्रकृति के पांच तत्वों पृथ्वी, वायु, अग्नि, आकाश और जल को प्रसन्न करने के लिए किया जाता है।
  • भूमि पूजन करने से वास्तु दोष को दूर करने और भूमि को प्रभावित करने वाली किसी भी नकारात्मक ऊर्जा को दूर करने में मदद मिलती है।
  • यह अनुष्ठान भवन या भूमि और उसके सभी निवासियों को दुर्घटनाओं या इसी तरह की घटनाओं से सुरक्षा प्रदान करता है।
  • यह सकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित करने में मदद करता है और नए घर के परिवार के सदस्यों के लिए सौभाग्य को आमंत्रित करते हुए जगह को शुद्ध करता है।
  • भूमि पूजा उन जीवित प्राणियों से क्षमा मांगने के लिए भी की जाती है, जो जमीन के नीचे रहते हैं और निर्माण गतिविधियों के दौरान अनजाने में उन्हें नुकसान पहुंचता है।

साल 2023 में भूमि पूजन का शुभ मूहुर्त

जनवरी माह में भूमि पूजन का शुभ मूहुर्त 2023

साल 2023 में जनवरी माह में भूमि पूजन के लिए शुभ मुहूर्त नहीं है।

फरवरी 2023 में भूमि पूजन मुहूर्त
दिनांक मुहूर्त
10 फरवरी 2023, शुक्रवार सुबह 09:15 से दोपहर 12:15 तक
मार्च 2023 में भूमि पूजन मुहूर्त
दिनांक मुहूर्त
मार्च 9 2023, गुरुवार सुबह 07:28 से दोपहर 12:24 तक
मार्च 10 2023, शुक्रवार सुबह 07:24 से रात 10:25 तक

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए : यहां क्लिक करें

अप्रैल, मई, जून और जुलाई, अगस्त 2023 में भूमि पूजन मुहूर्त

हिंदू कैलेंडर के आधार पर अप्रैल से अगस्त 2023 तक के महीनों में कोई शुभ तिथियां नहीं होती हैं।

सितंबर 2023 में भूमि पूजन मुहूर्त
दिनांक मुहूर्त
2 सितंबर 2023, शनिवार सुबह 07:40 से दोपहर 12:16 तक
25 सितंबर 2023, सोमवार सुबह 06:42 से रात 08:26 तक
27 सितंबर, 2023, बुधवार सुबह 07:39 से रात 10:38
अक्टूबर 2023 में भूमि पूजन मुहूर्त

हिंदू कैलेंडर के अनुसार इस माह में भूमि पूजन के लिए कोई शुभ मुहूर्त नहीं है।

नवंबर 2023 में भूमि पूजन मुहूर्त
दिनांक मुहूर्त
23 नवंबर 2023, गुरुवार सुबह 07:21 से रात 09:12 तक
24 नवंबर 2023, शुक्रवार सुबह 07:22 से रात 09:08 तक
दिसंबर 2023 में भूमि पूजन मुहूर्त
दिनांक मुहूर्त
29 दिसंबर 2023, शुक्रवार सुबह 08:55 से दोपहर 12:05 तक

भूमि पूजन मुहूर्त 2023: गृह निर्माण के लिए शुभ तिथि और भूमि पूजन मुहूर्त

  • द्वितीय
  • तृतीया
  • पंचमी
  • सप्तमी
  • दशमी
  • एकादशी
  • त्रयोदशी
  • पूर्णिमा

घर का निर्माण शुरू करने के लिए उपयुक्त महीनों में आप नीचे दी गई तिथियों में से किसी एक का चुनाव कर सकते हैं। शनिवार, रविवार और मंगलवार के दिन गृह निर्माण की शुरुआत करने से बचना चाहिए। 2023 में नए मकान निर्माण मुहूर्त के लिए सोमवार और गुरुवार सबसे अच्छे होते हैं। साल 2023 में नए घर का निर्माण शुरू करने के लिए ये हैं शुभ मुहूर्त-

2रा 3 रा 5वां 7वां 10वां 12वां 13वां 15वां 1 कृष्ण पक्ष

साल 2023 में भूमि पूजा तिथियां और गृहारंभ के लिए शुभ नक्षत्र

विशेषज्ञों के अनुसार साल 2023 में घर निर्माण के लिए निम्नलिखित नक्षत्रों को अच्छा माना जाता है।

  • उत्तराफाल्गुनी
  • उत्तराषाढ़ा
  • उत्तरभाद्रपद
  • रोहिणी
  • मृगशिरा
  • रेवती
  • चित्रा
  • अनुराधा
  • शतभिषा
  • स्वाति
  • धनिष्ठा
  • हस्त
  • पुष्य

साल 2023 में भूमि पूजन के लिए शुभ लग्न

भूमि पूजा तिथियों के लिए शुभ लग्न इस प्रकार हैं:

  • वृषभ
  • मिथुन
  • सिंह
  • कन्या
  • वृश्चिका
  • धनु
  • कुम्भ

साल 2023 में शिलान्यास के लिए भूमि पूजा की तिथियां और शुभ दिन चुनते समय आपको शुभ लग्न का भी उल्लेख मिलेगा। निर्माण कार्य शुरू करने के लिए आषाढ़ शुक्ल से कार्तिक शुक्ल तक की अवधि से बचें। हिंदू शास्त्रों के अनुसार आषाढ़ शुक्ल एकादशी से कार्तिक शुक्ल एकादशी तक का समय वह समय है, जब भगवान विष्णु शाश्वत नींद में रहते हैं। इस प्रकार इन दिनों भूमि पूजन करने से भगवान विष्णु की कृपा नहीं मिल सकती है।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

भूमि पूजन मुहूर्त के लिए इन दिनों का चुनाव न करें

नए घर का शिलान्यास करने के लिए अशुभ तिथियां इस प्रकार हैं:

चैत्र

यह मार्च से अप्रैल तक होता है। इस समय से बचना चाहिए, क्योंकि ऐसा कहा जाता है कि यह घर के मालिक के लिए मुश्किलें लेकर आता है।

ज्येष्ठ

यह जून का महीना होता है और ग्रह अनुकूल स्थिति में नहीं हैं।

आषाढ़

जुलाई के महीने में शिलान्यास करने से बचें, क्योंकि ऐसा कहा जाता है कि इससे व्यापार में नुकसान होता है।

श्रावण

यह अगस्त का महीना होता है और यह समय अनुकूल नहीं है, क्योंकि यह वित्तीय नुकसान ला सकता है।

भाद्रपद

अपने नए घर की नींव खोदने के लिए सितंबर माह से बचना चाहिए, क्योंकि इससे घर में झगड़े और तनाव हो सकते हैं।

अश्विन

वास्तु के अनुसार अपने नए घर की नींव रखने के लिए अक्टूबर महीने से बचना चाहिए।

माघ

18 जनवरी से शुरू होकर 16 फरवरी को समाप्त होने वाले इस महीने में अगर घर की नींव रखी जाए, तो जातक को विशेष लाभ नहीं होगा।

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए : यहां क्लिक करें

भूमि पूजन के लिए इन तिथियों का चुनाव न करें

चौथी, नौवीं और चौदहवीं तिथि से बचना चाहिए, क्योंकि ये गृह निर्माण या भूमि पूजा के लिए शुभ नहीं मानी जाती हैं।

चंद्र नक्षत्रों का प्रभाव

यदि चंद्र दिवस महीने की पहली और सातवीं या 19 और 28 तारीख के बीच पड़ता है, तो भूमि पूजन करने से बचना चाहिए, क्योंकि इसे अशुभ माना जाता है। साथ ही 8 से 18 तारीख के बीच पड़ने वाले किसी भी चंद्र दिवस को भूमि पूजन के लिए शुभ माना जाता है।

निर्माण स्थल पर भूमि पूजा कहां करनी चाहिए?

भूमि पूजा निर्माण स्थल के उत्तर-पूर्व कोने में की जाती है, क्योंकि यह पूजनीय स्थान माना जाता है। साथ ही स्थल की खुदाई हमेशा उत्तर-पूर्व कोने से की जाती है, क्योंकि खुदाई की वजह से उत्तर-पूर्व नीचा और दक्षिण-पूर्व तुलनात्मक रूप से ऊंचा हो जाएगा, जो वास्तु के अनुसार अच्छे परिणाम देता है।

भूमि पूजन विधि 2023: भूमि पूजन अनुष्ठान कैसे करना चाहिए?

घर खरीदने वाले अक्सर भूमि पूजा को पूरे विधि-विधान के साथ करना चाहते हैं। लेकिन इसके सभी नियमों को जानने के कारण अपने आसपास मौजूद अनुभवियों से बातचीत करते हैं। कई लोग इस बात अपने माता-पिता की मदद लेते हैं और कुछ लोग सीधे पुरोहित से बातचीत करते हैं। हमारा सुझाव है कि आप ऐसा करना जारी रखें। यहां कुछ महत्वपूर्ण तथ्यों के बारे में बताया जा रहा, भूमि पूजन से पहले इन बातों का भी ध्यान अवश्य रखें।

  • स्थान की पहचान: स्नान करने के बाद उस जगह को साफ करना चाहिए। स्थान को साफ करने और शुद्ध करने के लिए गंगाजल का उपयोग किया जाता है। निर्माण स्थल के उत्तर-पूर्व कोने में विभिन्न देवताओं का प्रतिनिधित्व करने वाले 64-भाग का चित्र बनाएं।
  • भूमि पूजा पुजारी द्वारा की जानी चाहिए: एक योग्य पुजारी को अनुष्ठान करना चाहिए और वास्तु दोष और नकारात्मक ऊर्जा को खत्म करने के लिए उसकी उपस्थिति अनिवार्य होती है।
  • वास्तु दिशा: भूमि पूजन करते समय पूर्व दिशा की ओर मुख करके बैठना चाहिए। पुजारी का मुख आमतौर पर उत्तर दिशा की ओर होता है, जबकि पूजा का आयोजन करने वाले व्यक्ति का मुख पूर्व की ओर होता है।
  • भगवान गणेश की पूजा: भूमि पूजन की शुरुआत बाधाओं को दूर करने वाले भगवान गणेश की पूजा से होती है। किसी भी बाधा से बचने के लिए भगवान गणेश जी की पूजा करके उनका आशीर्वाद मांगा जाता है।
  • देवताओं की मूर्ति: तेल या घी का दीपक जलाया जाता है। भगवान गणेश की प्रार्थना के बाद नाग देवता की मूर्ति और कलश की पूजा की जाती है। चांदी के सांप की पूजा के पीछे तर्क यह है कि शेषनाग पृथ्वी पर शासन करता है और भगवान विष्णु का सेवक है। इसलिए आप भूमि पूजन के जरिए उनसे आशीर्वाद मांग रहे हैं और अपने घर की रक्षा करने के लिए प्रार्थना कर रहे हैं। सर्प भगवान का आशीर्वाद लेने के लिए निर्माण कार्यों को शुरू करने के लिए उनकी स्वीकृति लेनी होती है।
  • कलश पूजा: कलश ब्रह्मांड का प्रतीक है। एक कलश में पानी भरा जाता है और उसके ऊपर आम या पान के पत्ते उलटे नारियल के साथ रखे जाते हैं। भगवान गणेश और देवी लक्ष्मी की पूजा करने के लिए कलश में एक सिक्का और सुपारी रखा जाता है। कलश पूजा दैवीय ऊर्जा को प्रसारित करने और विशेष भूमि पर समृद्धि और सकारात्मकता को आकर्षित करने के लिए की जाती है।
  • भूमि पूजा: शुभ मुहूर्त पर गणेश पूजा सहित मुख्य अनुष्ठान किया जाता है, उसके बाद हवन किया जाता है।
  • खुदाई: जमीन के एक छोटे से हिस्से को खोदकर उस पर घर बनाने के लिए नींव का पत्थर या ईंट रखी जाती है।
  • प्रसाद: भूमि पूजा और पुजारी द्वारा मंत्र जाप के दौरान फूल, अगरबत्ती, कलावा, कच्चे चावल, चंदन, हल्दी, सिंदूर (रोली), सुपारी, फल और मिठाई सहित अन्य वस्तुओं का भोग लगाना चाहिए।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

भूमि पूजा समारोह के लिए खरीदी जाने वाली वस्तुएं

भूमि पूजन करने के लिए आपको जिन सामग्री की आवश्यकता होती है वे हैं चावल, नारियल, सुपारी, फूल गुच्छा, फल, प्रसाद, कपूर, अगरबत्ती, आरती के लिए कपास, तेल या घी, दीप, पानी, हल्दी पाउडर, कुमकुम, पेपर टॉवल, कुल्हाड़ी, नवरत्न या पंचधातु आदि सामग्री का उपयोग करना चाहिए।

भूमि पूजा किसे करनी चाहिए?

गृह निर्माण या भूमि पूजा विधि परिवार के मुखिया को अपनी पत्नी के साथ करनी चाहिए। पूजा एक पुजारी की उपस्थिति में की जानी चाहिए और पूजा को सफलतापूर्वक पूरा करने के लिए उनके दिए गए मार्गदर्शन का अनुसरण किया जाना चाहिए।

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

कॉपीराइट 2022 कोडयति सॉफ्टवेयर सॉल्यूशंस प्राइवेट. लिमिटेड. सर्वाधिकार सुरक्षित