नक्षत्र तारामंडल

banner

नक्षत्र

वैदिक ज्योतिष के अनुसार, नक्षत्र शब्द का उपयोग चंद्र महल के लिए किया जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि चंद्रमा ग्रह लगभग एक दिन के लिए खुद को एक नक्षत्र में रखता है। इसलिए, प्रत्येक चंद्र महल की लंबाई लगभग 13°20' के आसपास है। इसके अलावा, इन्हें चरण नामक चार तिमाहियों में विभाजित किया गया है। प्रत्येक चरण लगभग 3°20' लंबा होता है।

वैदिक ज्योतिष के अनुसार, यह माना जाता है कि चंद्र नक्षत्र या नक्षत्र चंद्रमा के जन्म के प्रतीकों के साथ संबंध बनाते हैं। इस वजह से चंद्रमा को हर राशि में घूमने में 28 दिन लगते हैं और वह 2.3 दिन तक रहता है। साथ ही चंद्रमा को नक्षत्रों का स्वामी भी कहा जाता है। इसलिए, यह ग्रहों की स्थिति की देखभाल करता है, जो प्रत्येक व्यक्ति के जीवन की एक परिवर्तनशील तरीके से भविष्यवाणी करने के लिए जिम्मेदार होता है।

ज्योतिष शास्त्र में इन नक्षत्रों का विशेष महत्व है। प्राचीन ग्रंथों का मनना है कि नक्षत्र शब्द नक्ष से लिया गया है, जिसका अर्थ है नक्शा, और तारा एक तारा होता है। नक्षत्र का शाब्दिक अर्थ सितारों का नक्शा है। इतिहास यह भी बताता है कि नक्षत्रों का सबसे पहला परिचय ऋग्वेद में है। हालांकि, आपको यजुर्वेद और अथर्ववेद में 28 नक्षत्रों की पूरी सूची मिल जाएगी।

आप अपना नक्षत्र कैसे निर्धारित कर सकते हैं?

यह जानने के लिए कि आप किस नक्षत्र से संबंधित हैं, आपको अपने सटीक जन्म विवरण की आवश्यकता है, जिसमें जन्म की सही तारीख, वर्ष, जन्म स्थान और सटीक समय शामिल हैं। जब आप किसी ज्योतिषी को ये विवरण प्रदान करेंगे, तो वे आसानी से दिए गए जन्म विवरण पर चंद्रमा की स्थिति की जांच करेंगे और आपको बताएंगे कि आप किस नक्षत्र से संबंध रखते हैं। तो आपके जन्म के दौरान, आपका चंद्रमा जहां होगा, वही आपका संबंधित नक्षत्र होगा। इसके अलावा, आपकी कुंडली की भूमिका भी महत्वपूर्ण होगी। यह आपके जन्म के घंटों के दौरान सूर्य और चंद्रमा की स्थिति के बारे में, आपके बारे में अतिरिक्त विवरण प्रदान करता है। इस संभावना को देखना महत्वपूर्ण है क्योंकि यह आपकी भलाई, विशेषताओं आदि के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान करता है।

वैदिक ज्योतिष में 27 नक्षत्र

नक्षत्रों को उनकी विशेषताओं, उन पर शासन करने वाले ग्रह और बहुत कुछ के आधार पर विभिन्न श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है।

ज्योतिष में 27 सितारे हैं

एक 28वां नक्षत्र भी है, जिसे ज्योतिषी मानते हैं। वह है, अभिजीत नक्षत्र। इस नक्षत्र का स्वामी सूर्य है और इसे चलाने वाले देवता ब्रह्मा हैं।

नक्षत्रों के पीछे की पौराणिक कथा

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, ऐसा माना जाता है कि एक राजा दक्ष थे जिनकी 27 बेटियां थीं। चंद्रमा ने सभी 27 कन्याओं से विवाह किया। चांद का अपनी एक रानी की ओर अधिक झुकाव था जिसका नाम था, रोहिणी। ज्योतिष के अनुसार रोहिणी को चंद्रमा का उच्च का बिंदु कहा जाता है। इसी कारण चंद्रमा की अन्य 26 पत्नियों ने राजा दक्ष से शिकायत की। राजा के बार-बार अनुरोध के बावजूद चंद्रमा ने अपना स्वभाव नहीं बदला। जिससे राजा क्रोधित हो गए, और उन्होंने चंद्रमा को श्राप दिया, जिससे वह आकार में छोटा हो गया।

इसके चलते चंद्रमा कमजोर हो गया। परिणाम देखकर, अन्य देवताओं ने राजा से अपना श्राप वापस लेने का अनुरोध किया और उनसे वादा किया कि चंद्रमा उनकी प्रत्येक बेटी के साथ समय बिताने के लिए समान रूप से उनसे मिलने जाएगा। चूंकि राजा अपने श्राप को पूरी तरह से दूर नहीं कर सकते थे, इसलिए उन्होंने चंद्रमा के लिए एक उपाय बताया। उन्होंने कहा कि आधे महीने में वो अपनी ताकत बहाल कर पाएंगे।

यही कारण है कि हमारे पास पूर्णिमा और अमावस्या हैं। चंद्रमा प्रत्येक नक्षत्र में समान समय के लिए रहता है, हर महीने में अपनी राशि की कक्षा पूरी करता है।

नक्षत्र के चरण

जैसा कि हम जानते हैं कि 27 नक्षत्र हैं। ये तारे चार भागों में विभाजित होते हैं जिन्हें चरण कहा जाता है। इन चरणों में राशि चक्र के लक्षण हैं, जो पहली राशि से शुरू होते हैं यानी की मेष से। इसलिए, हम यह मान सकते हैं कि चरण सबसे एकीकृत प्रणाली है जिसका पालन नक्षत्र राशियों को शामिल करते हुए करते हैं।

प्रत्येक 3 नक्षत्रों में 12 चरण होते हैं। जैसा कि प्रत्येक चरण तीन राशियों की तिकड़ी में एक राशि को दर्शाता है, हम सभी राशियों को चरण संकेतों के रूप में देखते हैं।

जैसा कि हम जानते हैं कि प्रत्येक राशि, राशि चक्र के लगभग 2.25 भागों को कवर करती है। इससे चरणों की गिनती 4+1, यानी 9 चरण हो जाती है। चरण व्यक्ति की आत्मा के बारे में जानकारी प्रदान करते हैं। साथ ही, यह एक राशि के बराबर जानकारी रखते हैं।

नक्षत्र की विशेषताएं

वैदिक ज्योतिष में नक्षत्र का प्रतीकवाद वास्तव में समृद्ध है। नक्षत्र ग्रहों, देवता और जीवन के उद्देश्य, गुण और देवता के साथ निकटता से मेल खाता है। इसके अलावा, यह जाति, लिंग, दोष, तत्व, स्वभाव, पशु, हवा की दिशा आदि से भी संबंधित है। नक्षत्रों की व्याख्या करते समय, इन सभी बिंदुओं पर विस्तार से विचार किया जाता है।

1. लिंग

ज्योतिष के अनुसार, नक्षत्रों को दो श्रेणियों या लिंगों में बांटा गया है, पुरुष नक्षत्र और महिला नक्षत्र। आमतौर पर, पुरुष महिलाओं की तुलना में अधिक उत्साही और सक्रिय होते हैं।

अश्विनी, भरणी, पुष्य, अश्लेषा, माघ, उत्तरा फाल्गुनी, स्वाति, ज्येष्ठ, मूल, पूर्वाषाढ़, उत्तराषाढ़, श्रवण और पूर्व भाद्रपद पुरुष नक्षत्र माने जाते हैं।

दूसरी ओर, महिला नक्षत्र हैं कृतिका, रोहिणी, मृगशीर्ष, आर्द्रा, पुनर्वसु, पूर्वाफाल्गुनी, हस्त, चित्रा, विशाखा, अनुराधा, धनिष्ठा, शतभिषक, उत्तरा भाद्रपद और रेवती महिला नक्षत्र हैं।

2. स्वभाव

जब हम नक्षत्र की इस संभावना को देखते हैं, तो हम तीन उप-श्रेणियों पर ध्यान देंगे। देव, मनुष्य और राक्षस।

  • देव नक्षत्र अश्विनी, मृगशीर्ष, पुनर्वसु, पुष्य, हस्त, स्वाति, अनुराधा और रेवती हैं।
  • मनुष्य नक्षत्र भरणी, रोहिणी, आर्द्रा, श्रवण पूर्वा और उत्तरा नक्षत्र हैं।
  • राक्षस नक्षत्रों की श्रेणी में कृतिका, अश्लेषा, माघ, चित्रा, विशाखा, ज्येष्ठ, मूल, धनिष्ठा और शतभिषक नक्षत्र आते हैं।

जिन लोगों के नक्षत्र में अधिक ग्रह होते हैं, वे कठोर लोग होते हैं। हालांकि, जिन लोगों के देव नक्षत्र में अधिक ग्रह होते हैं, वे स्वभाव से नरम होते हैं।

3. पशु

वैदिक ज्योतिष में नक्षत्रों का पशुओं के साथ भी घनिष्ठ संबंध है। यह जानकर कि आप किस लग्न के हैं, आप यह पता लगा सकते हैं कि आपका स्वभाव किस पशु जैसा होगा। नक्षत्र विज्ञान के अनुसार, प्रत्येक नक्षत्र अलग पशु से संबंधित होता है, जो विस्तार से वर्णन करने में मदद करता है कि आप किस तरह के व्यक्ति होंगे।

4. गुण

नक्षत्र में तीन प्रकार के गुण यानी ऊर्जा होती हैं। वैदिक ज्योतिष में प्रत्येक नक्षत्र व्यक्ति के एक निश्चित गुण का प्रतिनिधित्व करता है। लेकिन, यह एक स्तर पर नहीं बल्कि तीन अलग-अलग स्तरों पर होता है।

  • राजस: यह जगमगाती ऊर्जा को दर्शाता है जिसमें दुनिया में अवतार लेने की क्षमता है। इसी के अंतर्गत ज्योतिष में नौ तारे हैं और पहली चार राशियां, यानी मेष, वृष, मिथुन और कर्क।
  • तमस: यह उस आत्मा का प्रतिनिधित्व करता है जो दुनिया में प्रवेश करती है और खुद को भौतिकता में शामिल करती है। मूल रूप से, हम कह सकते हैं कि तमस भौतिकवाद के बारे में है। इसमें नौ चंद्र महज भी शामिल हैं। सिंह, कन्या, तुला और वृश्चिक राशियां तमस बनाती हैं।
  • सत्व: यह अंतिम गुण है। यह मुक्ति का गुण है और भौतिकवाद और इसकी जड़ों से बहुत आगे जाने की अवधारणा को परिभाषित करता है। अंतिम सेट में भी नौ नक्षत्र होते हैं। धनु, मकर, कुंभ और मीन राशियां इस गुण की रचना करती हैं।

राशि चक्र से नक्षत्र कैसे भिन्न होते हैं?

यदि आप आकाश को बारह अलग-अलग भागों में विभाजित करते हैं, तो आप इन 12 भागों को राशि चक्र कह सकते हैं। हालांकि, यदि आप इसे 27 समान भागों में विभाजित करते हैं, तो वह नक्षत्र कहलाएगा। विभाजन के दौरान, प्रत्येक राशि 360° के वृत्त से 30° के क्षेत्र को कवर करती है। हालांकि, प्रत्येक नक्षत्र 13.33° भाग को लगभग कवर करता है।

दूसरे शब्दों में, हम कह सकते हैं कि ज्योतिष में हमारे पास मौजूद बारह राशियों में से नक्षत्र एक छोटा हिस्सा हैं। तो, मेष से मीन तक, प्रत्येक राशि के अंतर्गत प्रत्येक नक्षत्र के 2.25 भाग के आसपास आते हैं।

जीवन के चार उद्देश्य और नक्षत्र

हमारे जीवन के चार उद्देश्य हैं- धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष। ग्रहों में नक्षत्र की स्थिति को देखकर व्यक्ति के जीवन के मुख्य उद्देश्य का पता लगाया जा सकता है।

  • धर्म मूल रूप से बताता है कि आप क्या करते हैं या क्या करने वाले हैं। यह रोजमर्रा के काम और गतिविधियों के साथ आपकी आत्मा की तृप्ति को दर्शाता है।
  • फिर आता है अर्थ। यह धन और आय को दर्शाता है ताकि आप अपने भोजन और आश्रय के संबंध में तृप्ति महसूस करें।
  • तीसरा है काम। यह किसी भी इच्छा के बाद आपकी उस इच्छा को पूरा करने का प्रतिनिधित्व करता है।
  • अंतिम है मोक्ष , जो आपकी आत्मा की मुक्ति को दर्शाता है। यह एक दिलचस्प तथ्य है कि जीवन का प्रत्येक उद्देश्य ज्योतिष में एक तत्व का प्रतिनिधित्व करता है। धर्म अग्नि के साथ एक मजबूत संबंध दिखाता है, अर्थ पृथ्वी के साथ और काम और मोक्ष जल के साथ संबंधित है।

ज्योतिष में नक्षत्र का महत्व

वैदिक ज्योतिष में नक्षत्र का विश्लेषण बहुत महत्वपूर्ण है। इससे यह पता चलता है कि कोई व्यक्ति जीवन के बारे में कैसे सोचता है, समझता है या दूसरों को समझाता है। इसके अलावा, इन नक्षत्रों की मदद से आप अपनी कुंडली की दशा अवधि का भी पता लगा सकते हैं।

इनके अलावा, नक्षत्र कई मायनों में महत्वपूर्ण है। आइए जानते हैं कि ज्योतिषीय भविष्यवाणियों और सटीक विश्लेषण के लिए ज्योतिषी नक्षत्र रीडिंग की मदद लेते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि नक्षत्रों में राशियों का उपयोग शामिल होता है और वे एक शासक देवता के अधिकारी होते हैं। साथ ही, यह किसी व्यक्ति के कई लक्षणों और विशेषताओं को समझने में भी मदद करता है। ज्योतिष में इन सितारों की अपनी शक्ति और ऊर्जा होती है। ज्योतिष शास्त्र में नवग्रहों का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए ज्योतिषीय विश्लेषण में इनका अपना महत्व है। इसके साथ ही नक्षत्र उन वासों का भी वर्णन करते हैं, जिनमें हमारे कर्मों के परिणाम संग्रहीत और स्थानांतरित होते हैं।

नक्षत्र व्यक्ति के लक्षणों को समझने और उसकी महत्वाकांक्षाओं और ऊर्जा के आवश्यक बिंदुओं को निर्धारित करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। कुंडली मिलान के दौरान ज्योतिषी नक्षत्रों को अत्यंत महत्वपूर्ण चीज मानते हैं। यह उन्हें उस अनुकूलता को समझने में मदद करता है, जिन कपल्स की शादी होगी। साथ ही, यह उन्हें यह जानने में मदद करता है कि भविष्य में दंपति का जीवन कितना समृद्ध होगा। कुल मिलाकर वैदिक ज्योतिष में नक्षत्रों का अत्यधिक महत्व है। यह लोगों को व्यक्ति के लक्षणों और व्यक्तित्व को समझने में मदद करता है और जन्म कुंडली में कुछ मुख्य बिंदुओं को साफ करते हुए उनके प्रमुख चरण की गणना करता है।

कॉपीराइट 2022 कोडयति सॉफ्टवेयर सॉल्यूशंस प्राइवेट. लिमिटेड. सर्वाधिकार सुरक्षित