नक्षत्र Uttaraashadha

banner

उत्तराषाढ़ा नक्षत्र

पुरुषों का व्यक्तित्व

उत्तराषाढ़ा नक्षत्र के पुरुष लोकप्रिय लोगों में से एक हैं क्योंकि ये उज्ज्वल और प्रतिभाशाली होते हैं। ये पुरुष बहुत बुद्धिमान और मेहनती होते हैं और ये हर काम में माहिर होते हैं। ये दूसरों के साथ भी बहुत अच्छी तरह से बात करते हैं क्योंकि वे आत्म-केंद्रित हो सकते हैं और ये दूसरों की कड़ी मेहनत की सराहना करना पसंद करते हैं। इस वजह से ये आसानी से बहुत लोकप्रियता और ध्यान प्राप्त करते हैं, भले ही इनका इरादा न हो, ऐसा करना ना हो। हालांकि इनके साथ सहज संबंध बनाना और इन्हें अच्छी तरह से जानना काफी मुश्किल है क्योंकि ये लोग स्वभाव से काफी सीक्रेटिव होते हैं। अपनी इसी प्रवृत्ति के वजह से शायद ही ये लाेग किसी के साथ अपनी भावनाओं को शेयर करते हैं। ये लोग कोई भी काम बहुत सावधानी पूर्वक करते हैं। इनका मानना है कि लोग जो भी करते हैं, भगवान उन्हें देख रहे हैं इसलिए किसी को भी गलत कार्य नहीं करना चाहिए। इसके साथ ही ये लोग इस बात की भी परवाह करते हैं कि जो भी कार्य किया जाए, उससे किसी को नुकसान न हो। इसलिए वे शायद ही कभी ऐसा कुछ करते हैं जिससे धर्म के सिद्धांतों का पालन करते हुए दूसरों को ठेस पहुंचे। चूंकि ये अपने आस-पास के बारे में बहुत सहज होते हैं, इसलिए ये आसानी से उन लोगों को खोज लेते हैं जिनकी इच्छाशक्ति खराब होती है।

पुरुषों का करियर

इस नक्षत्र के पुरुषों को इस बात से सावधान रहना चाहिए कि वे अपने आप में क्या कर रहे हैं। किसी भी प्रकार के व्यावसायिक प्रस्ताव को करने से पहले उन्हें सभी प्रकार की संभावनाओं का मूल्यांकन करना चाहिए क्योंकि इस बात की गुंजाइश है कि जिस पर आप भरोसा करते हैं, वही आपको धोखा दे। उन पुरुषों को भी सावधान रहना चाहिए जो किसी विवादास्पद चीज़ में शामिल होना चाहते हैं क्योंकि उन्हें इस रास्ते से पूरी तरह से बचने की सलाह दी जाती है। यद्यपि वे जो कुछ भी करना चाहते हैं उसमें सफल होंगे, ये 38 वर्ष की आयु के बाद अपने पेशे में प्रमुख वृद्धि देखेंगे।

पुरुषों की अनुकूलता

इस नक्षत्र के पुरुष बहुत ही सुखी और स्वस्थ वैवाहिक जीवन के लिए भाग्यशाली होते हैं। उन्हें एक ऐसी पत्नी मिलेगी जो इनको बहुत प्यार करने वाली होगी। इनका बचपन बहुत ही सामान्य और स्वस्थ रहा है और बड़े होने पर इन्हें अपने परिवार में कभी भी कोई कठिनाई नहीं देखनी पड़ी। यही कारण है कि ये लोग विपरीत परिस्थितियों के लिए तैयार नहीं होते और न ही उसके साथ आसानी से निपट पाते हैं। इनके लिए हर मुश्किल की घड़ी चुनौतीपूर्ण होती है। इन जातकों के लिए विशेष रूप से जीवनसाथी का स्वास्थ्य बड़ी चिंता का विषय होगा। 28 से 31 साल की उम्र के बीच इन्हें अपने जीवन में बड़े बदलावों का सामना करना पड़ेगा।

पुरुषों का स्वास्थ्य

उत्तराषाढ़ा नक्षत्र के पुरुषों को नुकीली चीजों से सावधान रहना होगा क्योंकि उन वस्तुओं से बड़े कट और चोट लगने की संभावना है। उन्हें अपने जीवन के शुरुआती दौर में कई स्वास्थ्य समस्याओं से भी गुजरना होगा।

महिलाओं का व्यक्तित्व

उत्तराषाढ़ा नक्षत्र की महिलाओं का स्वभाव से काफी असभ्य होती हैं। कई बार ये महिलाएं महज बातचीत के दौरान आक्रामक हो जाती हैं। इन महिलाओं के साथ बातचीत करते समय सावधान रहना चाहिए क्योंकि एक भी गलत शब्द इन्हें बर्दाश्त नहीं होता है और ये तुरंत झगड़ा करने पर उतारू हो जाती हैं। यही नहीं, ये महिलाएं बिना सोचे-समझे किसी से कुछ भी कह सकती हैं। हालांकि स्वभाव से ये बहुत सीधी और सरल होती हैं और चीजों को जटिल बनाना पसंद नहीं करती हैं। लेकिन उनका निजी स्वभाव उनके ही बस में नहीं होता है। इनके स्वभाव के कारण ज्यादातर लोग इन्हें नापसंद करते हैं और सही होने के बावजूद इन्हें गलत समझा जाता है।

महिलाओं का करियर

उत्तराषाढ़ा नक्षत्र की महिलाएं अपने पेशे में हर तरह की प्रसिद्धि हासिल करने वाली होती हैं। उन्हें ब्रह्मांड से आध्यात्मिक समर्थन प्राप्त होगा जो उन्हें सफल लेखक बनने में मदद करता है। अपने बौद्धिक स्वभाव के कारण, वे एक बहुत अच्छी शिक्षा प्राप्त करेंगी, और इसका उपयोग करके वे बैंकर या शिक्षक के रूप में नौकरी पा सकती हैं।

महिलाओं की अनुकूलता

इस नक्षत्र की महिलाओं को वैवाहिक जीवन में कुछ संघर्षों का सामना करना पड़ सकता है। ऐसी स्थितियां आ सकती हैं, जहां उन्हें अपने जीवनसाथी से दूर रहना पड़ सकता है। ऐसा होने के कई कारण हो सकते हैं जैसे नौकरी की वजह से जीवनसाथी से दूर रहना पड़ सकता है या फिर उनके जीवनसाथी को नौकरी के कारण किसी अन्य जगह जाकर रहना पड़ सकता है। इस तरह इस राशि की महिलाओं को लॉन्ग डिस्टेंस रिलेशनशिप से गुजरना होगा। नतीजतन पति-पत्नी के बीच कई मतभेद बने रहेंगे, कुछ आंतरिक वजहों से भी कलह का माहौल बन सकता है। परिणामस्वरूप पति-पत्नी के बीच दूरी बनी रहेगी और यह मानसिक अशांति का कारण भी बनेगा।

महिलाओं का स्वास्थ्य

इस नक्षत्र में जन्मी महिलाओं का स्वास्थ्य सामान्य तौर पर अच्छा रहेगा, जिसमें कुछ भी प्रमुख नहीं होगा। लेकिन कुछ स्वास्थ्य समस्याएं इन्हें परेशान कर सकती हैं जैसे गर्भाशय की समस्या, हर्निया या गैस्ट्रिक की प्रॅाब्लम। इसके अलावा इन महिलाओं का जीवन स्वस्थ रहेगा।

प्रथम चरण

बृहस्पति का प्रभुत्व धनु नवांश में स्थित है। मुख्य रूप से ज्ञान और आत्मविश्वास को इकट्ठा करने पर केंद्रित है जो जीवन में आगे बढ़ने के लिए आवश्यक होगा।

द्वितीय चरण

बृहस्पति का प्रभुत्व, मकर नवांश में पड़ने से सूर्य का गुरु और शनि के साथ केतु पर भारी प्रभाव पड़ता है। इन सभी ग्रहों की युति उन्हें महत्वाकांक्षी बनाएगी और उन्हें अपने लक्ष्य तक पहुंचने में मदद करेगी।

तृतीय चरण

इस नक्षत्र के तीसरे चरण में शनि का प्रभुत्व है और यह कुंभ नवांश में पड़ता है। इस चरण की चिंता ज्ञान प्राप्त करना और सीखना और भौतिक सुख-सुविधाओं से परिपूर्ण जीवन का निर्माण करना है।

चतुर्थ चरण

इस नक्षत्र का चौथा चरण मीन नवांश में स्थित है और इस पर बृहस्पति का प्रभुत्व है। उनके लिए मुख्य चिंता स्थिर चीज हो सकती है लेकिन यह समय के साथ-साथ भौतिक सुख से आध्यात्मिक सिद्धि में बदल जाएगी।

कॉपीराइट 2022 कोडयति सॉफ्टवेयर सॉल्यूशंस प्राइवेट. लिमिटेड. सर्वाधिकार सुरक्षित