नक्षत्र Krittika

banner

कृतिका नक्षत्र

पुरुषों का व्यक्तित्व

कृतिका नक्षत्र में जन्मे लोग हमेशा ज्ञान अर्जित करने के लिए लालायित रहते हैं। फिर भी स्वभाव से काफी अधीर होते हैं और एक ही समय में कई कार्य करने की इनकी प्रवृत्ति होती है। अपनी इसी आदत की वजह से कई बार ये लोग खुद अपने लिए परेशानी खड़ी कर देते हैं और कई बार तो अपनी ही सुलझी हुई चीजों को बिगाड़ लेते हैं। इन सबके बावजूद यह कहा जा सकता है कि कृतिका नक्षत्र में जन्मा पुरुष काफी अच्छा दोस्त होने के साथ-साथ अच्छा सलाहकार भी है। लेकिन आपको बता दें कि आप भले ही इनके करीबी दोस्त हैं, फिर भी आप इन्हें इनके मन का काम करने से रोकने से बचें। क्योंकि आपका ऐसा किया जाना, उन्हें पसंद नहीं आएगा। इन्हें अपने काम में रोकटोक जरा भी पसंद नहीं है। कृतिका नक्षत्र में जन्म लेने वाले जातक में धन कमाने की असाधारण क्षमता होती है और यह व्यवसायी मानसिकता के होते हैं। इन लोगों के लिए सुझाव यह हो सकता है कि अगर जिंदगी में आगे बढ़ना है, तो इन्हें अपने संकल्पों के प्रति दृढ़ निश्चय होना चाहिए और जोखिम उठाने से डरना नहीं चाहिए।

पुरुषों की अनुकूलता

'हर सफल पुरुष के पीछे, एक मजबूत महिला होती है', कृतिका नक्षत्र में पैदा हुए पुरुषों के लिए यह वाक्यांश बिल्कुल उपयुक्त बैठता है, क्योंकि आमतौर पर शादी के बाद ही इनका भाग्य खुलता है। पत्नी और पति दोनों मिलकर अपने जीवन को खुशहाल बनाने के लिए बहुत कुछ कर सकते हैं। हालांकि, अन्य दंपतियों की तरह इनकी जिंदगी में भी उठापटक आती है और कई बार इन्हें कामकाजी टूर के चलते अलग भी रहना पड़ता है। लेकिन कहते हैं कि लंबे समय तक अपनत्व और रिश्ते को मधुर बनाए रखने के लिए कभी-कभी अलग रहना भी जरूरी है। कहने का मतलब यह है कि कामकाजी जीवन की वजह से दंपति के बीच आया अलगाव, उनके रिश्ते में मधुरता घोलता है और उनके रिश्ते को मजबूत बनाता है। कृतिका नक्षत्र में जन्मे पुरुष के लिए 25 से 35 वर्ष की आयु प्रेम संबंधों के लिए बिल्कुल मुफीद यानी सकारात्मक होती है।

पुरुषों का स्वास्थ्य

कृतिका नक्षत्र में जन्म लेने वाले पुरुष आमतौर पर अपने स्वास्थ्य की उपेक्षा करते हैं। ये लोग अपने स्वास्थ्य का ध्यान नहीं रखते और खानपान के लिए भी लापरवाह होते हैं। लेकिन इन्हें अपनी इस प्रवृत्ति में बदलाव करना चाहिए और स्वास्थ्य से जुड़ी कुछ बातों पर आवश्यक तौर पर ध्यान देना चाहिए जैसे दांतों की समस्या और कमजोर दृष्टि। आपको बता दें कि आपकी कमजोर दृष्टि किसी प्रकार की दुर्घटना का कारण बन सकती है। इसलिए इस तरह की समस्या का निवारण खोजना ही समझदारी होगी।

महिलाओं का व्यक्तित्व

कृतिका नक्षत्र में जन्मी महिला अपनी भावनाओं को छिपाती नहीं है बल्कि काफी संवदेनशील होती है। हालांकि उन्हें अपनी भावनाओं को नियंत्रण में रखना सीखना चाहिए अन्यथा दूसरे उनकी भावनाओं को उन्हीं के खिलाफ इस्तेमाल कर सकते हैं। लेकिन यह भी सच है कि उनकी संवेदनशीलता ही उन्हें दूसरों के सामने अपनी अलग पहचान दिलाती है। दरअसल उनका भावनात्मक व्यक्तित्व होने की वजह से ये महिलाएं दूसरों की काफी फिक्र करती हैं। यही नहीं, कृतिका नक्षत्र में जन्मी महिलाएं आसानी से दूसरों पर भराेसा भी कर लेती हैं। इनकी यही आदत दूसरों को काफी पसंद आती है। मगर इनके व्यक्तित्व का एक अन्य पहलू भी है, झगड़ालू। ये काफी तुनक मिजाज हैं और किसी भी बात पर झगड़ बैठती हैं। ऐसा ये महिलाएं सिर्फ घर में ही नहीं बल्कि अपने कायर्सस्थल में भी करती हैं। फिर भी हम समग्र रूप से यह कह सकते हैं कि पांरपरिक और आधुनिक, दोनों का मिश्रण होने के कारण सभी पीढ़ियों के लोग कृतिका नक्षत्र में जन्मी महिलाओं को काफी पसंद करते हैं।

महिलाओं का करियर

कृतिका नक्षत्र में जन्मी महिलाएं अगर शिक्षित हैं, तो इनके लिए सबसे उपयुक्त करियर क्षेत्र प्रशासनिक कार्य, खासकर सरकार के अधीन, शिक्षक, डॉक्टर और इंजीनियरिंग है। यदि ये महिलाएं अशिक्षित हैं, तब ये संभवत: महज एक गृहिणी बनकर रह जाएं। फिर भी इनके मन में कुछ न कुछ करने की चाह बनी रहती है।

महिला की अनुकूलता

कृतिका नक्षत्र में जन्म लेने वाली महिला के जीवन में विवाह में अलगाव की आशंका हमेशा बनी रहती है। अगर आप चाहती हैं कि आपका वैवाहिक जीवन सफल और समृद्ध हो, तो इसके लिए आपको अपने पति के साथ मिलकर अपने रिश्ते पर मेहनत करनी होगी। वैसे आपको बता दें कि अपने जीवनसाथी से उम्मीद सीमित रखें। आमतौर पर देखने में यह भी आता है कि विवाह में अलगवा का मुख्य कारण महिला द्वारा अपने पति के परिवार और उनके रिश्तेदारों को सही तरह से न समझ पाना और उनके साथ सामंजस्य स्थापित न कर पाना होता है। साथ ही परिवार से महिला की काफी उम्मीदें होती हैं, जो पूरी न होने पर महिला का मन खराब हो जाता है, जिससे स्थिति अलगाव तक पहुंच जाती है।

महिलाओं का स्वास्थ्य

कृतिका नक्षत्र में जन्म लेने वाली महिलाएं शारीरिक रूप से काफी मजबूत होती हैं। लेकिन मानसिक रूप से उन्हें तनाव का सामना करना पड़ सकता है। इसके साथ ही उम्र बढ़ने के साथ ही इन्हें तपेदिक (Tuberculosis) की समस्या हो सकती है, जो कि इनकी प्रगति में बाधा बन सकती है। अगर आपको इस बीमारी से संबंधित कोई लक्षण नजर आए, तो उन्हें कतई नजरंदाज न करें।

प्रथम चरण

कृतिका नक्षत्र का पहला चरण बृहस्पति द्वारा शासित धनु नवांश में पड़ता है। इस तिमाही में जन्म लेने वाले जातकों पर सूर्य, मंगल, बृहस्पति और केतु का आशीर्वाद होता है, जो इन जातकों को इच्छाशक्ति, क्षमता और सहनशक्ति प्रदान करते हैं।

द्वितीय चरण

कृतिका नक्षत्र का दूसरा चरण शनि द्वारा शासित मकर नवांश में आता है। इस चरण में जन्म लेने वाले लोगों में भौतिकवादी होने की स्वाभाविक प्रवृत्ति होती है और इसलिए ये लोग अधिक खर्च करते हैं।

तृतीय चरण

कृतिका नक्षत्र का तीसरा चरण कुंभ नवांश में पड़ता है, जो फिर से शनि द्वारा शासित है। इस चरण में जन्म लेने वाले लोग बहुत सारी ऐसी चीजें हासिल करना चाहते हैं, जिसकी वजह से इन्हें काफी खर्च करना पड़ता है।

चतुर्थ चरण

कृतिका नक्षत्र का चौथा चरण बृहस्पति द्वारा शासित मीन नवांश में आता है। इस चरण के तहत पैदा हुए लोग बुद्धिमान, शिक्षित होते हैं। इसके अलावा ये लोग धार्मिक जीवन जीते हैं और इसी तरह की आदतों की ओर इनका झुकाव होता है।

कॉपीराइट 2022 कोडयति सॉफ्टवेयर सॉल्यूशंस प्राइवेट. लिमिटेड. सर्वाधिकार सुरक्षित