ग्रहों के संकेत और ज्योतिष में उनका महत्व

banner

ज्योतिष ग्रह और उनका महत्व

कुंडली पढ़ने के तरीके के भाग 3 में, हमने भावों के महत्व का अध्ययन किया था। साथ ही कुंडली में भावों को कैसे पढ़ा जाए और ये भाव किसी के जीवन को कैसे प्रभावित करते हैं। वहीं हमने ज्योतिष में ग्रहों के बारे में गहराई से जाना। हालांकि, ग्रहों या राशियों की प्रकृति को अच्छे से समझने के लिए अभी भी बहुत कुछ जानना बाकि है।

इस भाग में हम प्रत्येक ग्रह और राशियों के महत्व, उनकी प्रकृति और उनके बारे में जानने के लिए आवश्यक सभी चीजों के बारे में जानेंगे। ताकि आप उन्हें बेहतर तरीके से पढ़ना सीख सकें। इन ग्रहों की प्रकृति को समझना महत्वपूर्ण है क्योंकि इससे यह समझने में मदद मिलती है कि वे आम तौर पर आपके साथ कैसा व्यवहार करते हैं या आप पर अपना प्रतिबिंब छोड़ते हैं। साथ ही यह आपको उन लक्षणों को सीखने में मदद करते है जिन पर वे शासन करते हैं और भी बहुत कुछ। चलिए शुरू करते है।

ज्योतिष में ग्रह और उनका क्या अर्थ है?

ज्योतिष में प्रत्येक ग्रह की एक विशेष प्रकृति और अर्थ होता है। इसके अलावा, कुछ चीजें हैं जो इसे नियंत्रित करती हैं। उदाहरण के लिए, सूर्य ग्रह पिता और व्यक्ति के मस्तिष्क को भी नियंत्रित करता है। साथ ही सभी ग्रहों के कुछ निश्चित रंग होते हैं जो उन्हें पसंद होते हैं एक तत्व, प्रकृति, जाति, आदि।

लेकिन आपको यह भी पता होना चाहिए कि जब ग्रह किसी अन्य ग्रह या राशि के साथ युति करता है, तो ग्रहों की यह प्रकृति बदल सकती है। उदाहरण के लिए यदि राहु और केतु सबसे शक्तिशाली ग्रहों जैसे सूर्य और चंद्रमा के साथ युति करते हैं, तो वे न केवल ग्रहण का कारण बनते हैं, बल्कि सूर्य और चंद्रमा की प्रकृति को भी बदल सकते हैं। तब किसी भी पाप ग्रह की संगति किसी भी ग्रह के अच्छे प्राकृतिक परिणामों को वाष्पित कर सकती है।

ज्योतिष में सूर्य का अर्थ

सूर्य को सभी ग्रहों की आत्मा के रूप में जाना जाता है। इसमें विभिन्न सकारात्मक लक्षण हैं जैसे कि अपार शक्ति, आत्म-सम्मान, अधिकार आदि। यह दिखाने के लिए सूर्य है कि एक व्यक्ति खुद को दुनिया में कैसे पेश करता है।

ज्योतिष में सूर्य एक मजबूत ऊर्जा और अधिकार का कारक है, जबकि एक कमजोर सूर्य व्यक्ति को अहंकारी और कम आत्मविश्वासी बना सकता है। जब आपके करियर और पेशे की बात आती है, तो आपको एक मजबूत सूर्य की आवश्यकता हो सकती है। लेकिन जब आप व्यक्तिगत संबंधों से निपटते हैं, तो इसका विपरीत होता है।

ज्योतिष में सूर्य प्रकृति: यह अग्नि तत्व से संबंधित है, गहरे लाल रंग का पक्षधर है, मनुष्य, क्षत्रिय जाति, उप ग्रह, सत्त्वगुण और पित्त प्रकृति का प्रतिनिधित्व करता है।

ज्योतिष में सूर्य मस्तिष्क, हृदय, आंख, सिर और हड्डियों को नियंत्रित करता है। यह पिता, तांबा, फलों वाले पेड़, छोटे पेड़, गेहूं का प्रतिनिधित्व करता है।

ज्योतिष में मंगल का अर्थ

ज्योतिष में मंगल साहस, जुनून, बहादुरी, ताकत और आत्मविश्वास को दर्शाता है। यदि आपकी कुंडली में मंगल प्रबल है, तो आप अपने करियर और किसी अन्य पेशेवर प्रयास में उत्कृष्टता प्राप्त करने में सक्षम होंगे। इस बीच एक नकारात्मक मंगल आपके वैवाहिक जीवन के लिए हानिकारक है।

ज्योतिष में मंगल का स्वभाव: मंगल अग्नि तत्व का है। ग्रह क्रूर, आक्रामक स्वभाव का प्रतीक है, योद्धा (क्षत्रिय) वर्ग, तमो-गुणी, पित्त प्रकृति का प्रतिनिधित्व करता है और लाल रंग का पक्षधर है।

ज्योतिष में मंगल भाई-बहन, हाथ, चोर, घाव, दाल, पित्त, रक्त, मांसपेशियों, ऑपरेशन, कान और नाक आदि को नियंत्रित करता है।

ज्योतिष में चंद्रमा अर्थ

ज्योतिष में चंद्रमा ग्रह व्यक्ति के मन का प्रतिनिधित्व करता है। मानव पर अपने मातृ प्रभाव के लिए जाना जाता है और प्रेम, मन की शांति, सकारात्मकता और भावनाओं को प्रदान करता है। कुंडली में चंद्रमा की ताकत जीवन के सभी चरणों में आपकी मदद करेगी। क्योंकि यह स्वयं का प्रतिनिधित्व करता है। हालांकि, कमजोर चंद्रमा मन से संबंधित परेशानियां जैसे तनाव, अवसाद, रुचि की हानि आदि ला सकता है।

ज्योतिष में चंद्रमा का स्वभाव: ज्योतिष में चंद्रमा वैश्य (व्यापारी वर्ग) जाति का है। यह महिलाओं, सत्व गुण, वात-कफ प्रकृति को दर्शाता है और रंग करते समय एहसान करता है। मतलब अगर आपकी कुंडली में चंद्रमा कमजोर है, तो आपको सफेद वस्त्र अधिक पहनने चाहिए।

ज्योतिष में चंद्रमा मन, माता, कला, दृष्टि, लार, फेफड़े, मन, चांदी, मिठाई, चावल और छाती को नियंत्रित करता है।

ज्योतिष में शुक्र का अर्थ

ज्योतिष में शुक्र ग्रह प्रेम, संबंध, रोमांस, यौन जीवन और ऐसे सभी भावपूर्ण लक्षणों का कारक है। इसका उन संबंधों पर भी प्रभाव पड़ता है, जो कोई अपने जीवनसाथी और यहां तक कि व्यावसायिक सहयोगियों के साथ साझा करता है। इस प्रकार, कुंडली में एक मजबूत शुक्र पेशेवर जीवन का पक्षधर है, जबकि एक कमजोर शुक्र पीड़ित प्रेम जीवन और रिश्तों के लिए जिम्मेदार है।

ज्योतिष में शुक्र का स्वभाव: शुक्र ब्राह्मण जाति का है और सुंदर स्त्री है। यह जल विलाप, आकर्षण, रजोगुणी और कफ प्रकृति का प्रतिनिधित्व करता है।

शुक्र का पक्ष करने वाला रंग सफेद है और किसी की सुंदरता, पत्नी, प्रेम संबंध, सेक्स, वैवाहिक आनंद, कविता, गायन, आंखों और महिलाओं आदि का पक्षधर है।

ज्योतिष में बुध अर्थ

ज्योतिष में बुध व्यक्ति की वाणी, हास्य, बुद्धि, तर्क और सतर्कता का कारक होता है। इनके शब्दों से आप समझ ही गए होंगे कि मजबूत पारा शिक्षा का पक्षधर है। यह शिक्षा के प्रारंभिक चरण के दौरान अधिक महत्व ग्रहण करता है।

ज्योतिष में बुध का स्वभाव: बुध ग्रह व्यवसायी वर्ग (वैश्य) का प्रतिनिधित्व करता है। यह पृथ्वी तत्व से संबंधित एक तटस्थ ग्रह है। बुध ग्रह में तीनों वात, पित्त और कफ प्रकृति शामिल हैं। बुध का पक्ष लेने वाला रंग हरा होता है।

बुध ग्रह माता के भाई का प्रतिनिधित्व करता है, सेक्स संबंधी या त्वचा संबंधी जैसे रोगों का प्रतिनिधित्व करता है। इसके अलावा, यह गणित, व्यापार, भाषण, जीभ, आवाज, मूर्खता और आलस्य का भी प्रतिनिधित्व करता है।

ज्योतिष में बृहस्पति अर्थ

ज्योतिष में बृहस्पति सबसे लाभकारी ग्रहों में से एक है। ग्रह विभिन्न प्रयासों में आपकी मदद कर सकता है, खासकर जब सभी प्रकार के ज्ञान प्राप्त करने की बात आती है। बृहस्पति व्यक्ति को शिक्षा और करियर में उत्कृष्टता प्राप्त करने में मदद करता है। इस प्रकार व्यक्ति की कम उम्र में बृहस्पति का अधिक महत्व नहीं होता है।

ज्योतिष में बृहस्पति का स्वभाव: ग्रह ब्राह्मण जाति और अंतरिक्ष तत्व का प्रतिनिधित्व करता है। ग्रह सत्त्वगुण और कफ प्रकृति को दर्शाता है। बृहस्पति का प्रतिनिधित्व करने वाला रंग पीला है।

बृहस्पति वेद, धर्म, भक्ति, सोना, ज्ञान, गुरु, वसा, कफ, सूजन, घर, शिक्षा, सूर्य, संतान, विवाह और गुर्दे आदि को भी दर्शाता है।

ज्योतिष में शनि का अर्थ

ज्योतिष में शनि कर्म का स्वामी है इसलिए इसे कर्म ग्रह भी कहा जाता है। इसका फल व्यक्ति के कर्म पर निर्भर करता है। मतलब यह आपके कर्म के आधार पर मानव के लिए सकारात्मक और नकारात्मक दोनों हो सकता है। अगर आप जीवन में अच्छे काम करते हैं, तो शनि आपको और अधिक हासिल करने में मदद करेगा। लेकिन अगर आप बुरे कर्म करते हैं, तो शनि आपको सबक सिखाएगा क्योंकि यह एक शिक्षक भी है।

ज्योतिष में शनि का स्वभाव: शनि ग्रह काले रंग का प्रतिनिधित्व करता है। इसके नाम में वायु तत्व है। साथ ही शनि को अजीबोगरीब आंखें, पतला और लंबा शरीर, क्रूर, नपुंसक भी दर्शाता है। शनि जिस जाति का प्रतिनिधित्व करता है वह शूद्र है। यह वात कफ प्रकृति का होता है।

बृहस्पति ईर्ष्या, धूर्तता, चोर, पशु, नौकर, आयु, तिल, शारीरिक शक्ति, योग का अभ्यास, विलासिता, त्याग, सेवा और हृदय रोग आदि जैसे लक्षणों का प्रतिनिधित्व करता है।

ज्योतिष में राहु अर्थ

राहु वह ग्रह है, जो मानव इच्छाओं, हेरफेर के अलावा उससे जुड़े कई अन्य संकेतों का प्रतिनिधित्व करता है। राहु छाया ग्रह है जिसका कोई रूप नहीं है। यह व्यक्ति को व्यसनी, लालची बनाने और राहु के जाल में पड़ने की स्थिति में उसे नकारात्मकता से भरने के लिए जाना जाता है। यदि आप इस लालच में पड़ जाते हैं कि राहु अज्ञात है, तो आपको इसका प्रकोप देखना होगा।

ज्योतिष में राहु का स्वभाव: राहु चांडाल, तमोगुणी, वात पित्त प्रकृति का उप ग्रह है। यह गहरे रंगों को दर्शाता है।

राहु दादा, दादी, धोखे, दुर्घटना, झगड़ा, चोरी, सांप के काटने, विदेश यात्रा, त्वचा संबंधी रोग, पैर और जीवन में कठिन प्रगति को भी दर्शाता है।

ज्योतिष में केतु अर्थ

केतु ज्योतिष अध्यात्म का कारक है लेकिन यह वैराग्य भी है। राहु के अलावा ज्योतिष में केतु एक और छाया ग्रह है। केतु व्यक्ति की भौतिकवादी इच्छाओं को पूरा करने के लिए जाना जाता है लेकिन अपने व्यक्तिगत लाभ के लिए। केतु का प्रतिकूल प्रभाव व्यक्ति को या तो सांसारिक और सांसारिक इच्छाओं से दूर कर सकता है या उसे इसके प्रति लालची बना सकता है।

ज्योतिष में केतु का स्वभावः ज्योतिष में केतु का स्वभाव मंगल के समान है।

ज्योतिष में संकेत और उनकी प्रकृति

आइए ग्रहों की प्रकृति और महत्व जानने के बाद राशियों की प्रकृति पर एक नजर डालते हैं।

मेष राशि: विषम, उग्र, जंगम, बंजर, हिंसक, चौगुना, लघु आरोहण, पुरुष, पित्त, वन, पहाड़ी क्षेत्र, सिर, मस्तिष्क।

वृषभ राशि: सम, मिट्टी, स्थिर, अर्ध-फलदायी, चौगुनी, लघु आरोहण, स्त्री, हवा, कृषि भूमि, चेहरा, आंखें।

मिथुन राशि: विषम, हवादार, दोहरा, बंजर, मानव, दोहरा शरीर, आवाज, लघु आरोहण, पुरुष, पित्त, हवा और कफ, शयनकक्ष, गला, कंधा, हाथ, फेफड़े।

कर्क राशि: सम, पानीदार, चल, फलदायी, मूक, लंबा आरोहण, महिला, कफ, पानी के साथ खाई, छाती

सिंह राशि: विषम, उग्र, स्थिर, बंजर, मानव, लंबा आरोहण, नर, पित्त, वन, हृदय, ऊपरी पेट

कन्या राशि: सम, मिट्टी, द्वैत, बंजर, मानव, लंबा आरोहण, महिला, हवा, पहाड़, निचला पेट, प्लीहा

तुला राशि: विषम, हवादार, जंगम, अर्ध फलदायी, आवाज, लंबा आरोहण, नर, पित्त, हवा और कफ, मनोरंजन स्थल, जननांग, गुर्दा।

वृश्चिक राशि: सम, पानीदार, स्थिर, फलदायी, मूक, हिंसक, कनखजूरा, लंबा आरोहण, स्त्री, कफ, भूमिगत, उत्सर्जन अंग।

धनु राशि: विषम, उग्र, दोहरा, अर्ध-फलदायी, दुगना, चौगुना (दूसरा आधा), लंबा आरोहण, पुरुष, पित्त, सैन्य स्थान, जांघ, यकृत।

मकर राशि: सम, मिट्टी, जंगम, अर्ध फलदायी, चौगुनी, लघु आरोहण, स्त्री, हवा, पानीदार, घुटने।

कुंभ राशि: विषम, हवादार, स्थिर, मानव, वाणी, लघु आरोहण, पुरुष, पित्त, वायु और कफ, पोर्टर हाउस, शिन।

मीन राशि: सम, पानीदार, द्विगुणित, फलदायी, मूक, दुगना, कनखजूरा, लघु आरोहण, स्त्री, कफ, समुद्र, पैर।

भविष्यवाणी करने के लिए इस जानकारी का उपयोग कैसे करें?

सीधे शब्दों में कहें, तो आपने ज्योतिष में भावों, ग्रहों और राशियों के बारे में जान लिया है। अब आपको केवल अपनी कुंडली पढ़ने के लिए एकत्रित की गई सभी सूचनाओं को संयोजित करने की आवश्यकता है। फिर आपको भाव के स्वामी को खोजने की जरूरत है (हमने वह भी सीखा है)। यहां पहले भाव में 11 अंक लिखा है, जो कुंभ राशि को दर्शाता है और इस पर शनि का शासन है। इसका मतलब यह है कि शनि ग्रह जातक के स्वभाव को प्रभावित कर रहा है

kundli_chart

अब प्रथम भाव का स्वामी शनि है। लेकिन शनि स्वयं किसी अन्य भाव में विराजमान है। उपरोक्त चार्ट में शनि सातवें भाव में सूर्य और बुध सिंह राशि (5=सिंह) में स्थित है। सूर्य सिंह राशि का भी स्वामी है, इस प्रकार सूर्य भी जातक के लुक को प्रभावित करेगा।

जैसा कि हमने ऊपर सीखा, शनि काले रंग का प्रतिनिधित्व करता है। इसके नाम में वायु तत्व है। साथ ही शनि को अजीबोगरीब आंखें, पतला और लंबा शरीर, क्रूर, नपुंसक, पतला और लंबा शरीर दर्शाता है।

सूर्य का स्वभाव वर्गाकार आकार, छोटा कद, गहरा लाल रंग, पुरुष, योद्धा वर्ग, दोष, सत्त्वगुण, अग्नि तत्व है।

इसका मतलब विचाराधीन जातक में इन दोनों ग्रहों के गुण होंगे।

इसके साथ ही कुंडली पढ़ना सीखने के लिए एक शुरुआत करने वाले को जानने के लिए यहां सब कुछ था। निश्चित रूप से, कुंडली पढ़ने के और भी कई आयाम हैं। लेकिन अभी के लिए आप इससे शुरुआत कर सकते हैं। आपको हमारी तरफ से शुभकामनाएं।

निःशुल्‍क ज्योतिष सेवाएं

आज का राशिफल

horoscopeSign
मेष

Mar 21 - Apr 19

horoscopeSign
वृषभ

Apr 20 - May 20

horoscopeSign
मिथुन

May 21 - Jun 21

horoscopeSign
कर्क

Jun 22 - Jul 22

horoscopeSign
सिंह

Jul 23 - Aug 22

horoscopeSign
कन्या

Aug 23 - Sep 22

horoscopeSign
तुला

Sep 23 - Oct 23

horoscopeSign
वृश्चिक

Oct 24 - Nov 21

horoscopeSign
धनु

Nov 22 - Dec 21

horoscopeSign
मकर

Dec 22 - Jan 19

horoscopeSign
कुंभ

Jan 20 - Feb 18

horoscopeSign
मीन

Feb 19 - Mar 20

कॉपीराइट 2022 कोडयति सॉफ्टवेयर सॉल्यूशंस प्राइवेट. लिमिटेड. सर्वाधिकार सुरक्षित