जैन कैलेंडर 2023

banner

जैन कैलेंडर 2023

जैन धर्म दुनिया के सबसे पुराने और काफी प्रचलित धर्मों में से एक है, जिसकी स्थापना छठी शताब्दी ईसा पूर्व में जीना वर्धमान महावीर ने की थी। इसी के साथ जैन धर्म के लोग अहिंसा, सत्य, अपरिग्रह, अचौर्य (अस्तेय) और ब्रह्मचर्य के पांच मुख्य सिद्धांतों का पालन करते हैं। जैन समुदाय में दो प्रमुख संप्रदाय श्वेतांबर (सफेद पहनावा), दिगंबर (आकाश से ढका हुआ) होते हैं। जैन कैलेंडर, जैन धर्म से जुड़ा हैं, जो भारत और दुनियाभर में काफी लोकप्रिय धर्म माना जाता है। हालांकि, जैन धर्म में भी हिंदू त्यौहारों का पालन किया जाता है और इसमें हिंदू धर्म और संस्कृतियां भी शामिल होती हैं। जैन कैलेंडर 2023 की आवश्यकता इसलिए उत्पन्न हुई, क्योंकि इस धर्म और संस्कृति से संबंधित लोगों को जैन त्यौहार 2023 और अन्य घटनाओं की जानकारी आसानी से प्राप्त हो सके। अगर हम जैन धर्म की बात करें, तो यह लोक कल्याण से जुड़ा है। जो लोग इस धर्म का पालन करते हैं, वे स्वतः ही अहिंसा के सिद्धांत का अनुसरण करते हैं, क्योंकि इस धर्म को सबसे अधिक प्राथमिकता दी जाती है। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि महात्मा गांधी एक प्रख्यात हिंदू थे और उन्होंने ही भारत को आजादी दिलाने में जैन धर्म के माध्यम से अहिंसा के सिद्धांतों को अपनाया था।

जैन कैलेंडर बनाते समय विभिन्न तथ्यों और आंकड़ों को ध्यान में रखा जाना चाहिए। कैंलेडर बनाने के लिए सभी नियम और कानून लागू होते हैं। जैन कैलेंडर 2023 जिसमें जैन त्यौहार भी शामिल होते हैं, यह एक चंद्र सौर कैंलेडर होता है। जैन कैलेंडर 2023 के घटकों को बनाने के लिए चंद्रमा और सूर्य दोनों की चाल और स्थिति का पता होना आवश्यक होता है। इतना ही नहीं, इस कैलेंडर को बनाने के लिए एक पारंपरिक चंद्र कैलेंडर को ध्यान में रखा जाता है ताकि जैन त्यौहारों और आयोजनों की सूची तैयार की जा सके। आइए साल 2023 में आने वाले जैन त्यौहारों और महत्वपूर्ण आयोजनों के बारे में जानते हैं।

जनवरी 2023 जैन धर्म त्यौहार

दिनांक दिन त्यौहार
4 जनवरी 2023 बुधवार रोहिणी व्रत
20 जनवरी 2023 शुक्रवार मेरु त्रयोदशी
31 जनवरी 2023 मंगलवार रोहिणी व्रत

फरवरी 2023 जैन धर्म त्यौहार

दिनांक दिन त्यौहार
26 फरवरी 2023 रविवार फाल्गुन अष्टाहिका विधान प्रारंभ
27 फरवरी 2023 सोमवार रोहिणी व्रत

मार्च 2023 जैन धर्म त्यौहार

दिनांक दिन त्यौहार
6 मार्च 2023 सोमवार फाल्गुनी चौमासी चौदस
7 मार्च 2023 मंगलवार फाल्गुन अष्टान्हिका विधान पूर्ण
15 मार्च 2023 बुधवार वर्षी तप आरम्भ
27 मार्च 2023 सोमवार रोहिणी व्रत
28 मार्च 2023 मंगलवार चैत्र नवपद ओली प्रारम्भ

अप्रैल 2023 जैन धर्म त्यौहार

दिनांक दिन त्यौहार
4 अप्रैल 2023 मंगलवार महावीर स्वामी जयंती
6 अप्रैल 2023 गुरुवार चैत्र नवपद ओली पूर्ण
22 अप्रैल 2023 शनिवार वर्षीतप पारणा
23 अप्रैल 2023 रविवार रोहिणी व्रत
30 अप्रैल 2023 रविवार महावीर स्वामी कैवल्य ज्ञान

मई 2023 जैन धर्म त्यौहार

दिनांक दिन त्यौहार
21 मई 2023 रविवार रोहिणी व्रत

जून 2023 जैन धर्म त्यौहार

दिनांक दिन त्यौहार
17 जून 2023 शनिवार रोहिणी व्रत
25 जून 2023 रविवार आषाढ़ अष्टान्हिका विधान प्रारभ

जुलाई 2023 जैन धर्म त्यौहार

दिनांक दिन त्यौहार
2 जुलाई 2023 रविवार आषाढ़ चौमासी चौदस
3 जुलाई 2023 सोमवार आषाढ़ अष्टान्हिका विधान पूर्ण
14 जुलाई 2023 शुक्रवार रोहिणी व्रत

अगस्त 2023 जैन धर्म त्यौहार

दिनांक दिन त्यौहार
10 अगस्त 2023 गुरुवार रोहिणी व्रत

सितंबर 2023 जैन धर्म त्यौहार

दिनांक दिन त्यौहार
7 सितंबर 2023 गुरुवार रोहिणी व्रत
11 सितंबर 2023 सोमवार पर्युषण पर्वारंभ
20 सितंबर 2023 बुधवार सम्वत्सरी पर्व

अक्टूबर 2023 जैन धर्म त्यौहार

दिनांक दिन त्यौहार
4 अक्टूबर 2023 बुधवार रोहिणी व्रत
21 अक्टूबर 2023 शनिवार अश्विन नवपद ओली प्रारंभ
28 अक्टूबर 2023 शनिवार अश्विन नवपद ओली पूर्ण
31 अक्टूबर 2023 मंगलवार रोहिणी व्रत

नवंबर 2023 जैन धर्म त्यौहार

दिनांक दिन त्यौहार
12 नवंबर 2023 रविवार लक्ष्मी पूजा
14 नवंबर 2023 मंगलवार गुजराती नया साल
18 नवंबर 2023 शनिवार लाभ पंचमी
19 नवंबर 2023 रविवार कार्तिक अष्टान्हिका विधान प्रारंभ
26 नवंबर 2023 रविवार कार्तिक चौमासी चौदस
27 नवंबर 2023 सोमवार कार्तिक अष्टान्हिका विधान पूर्ण
27 नवंबर 2023 सोमवार कार्तिक रथ यात्रा
28 नवंबर 2023 मंगलवार रोहिणी व्रत

दिसंबर 2023 जैन धर्म त्यौहार

दिनांक दिन त्यौहार
25 दिसंबर 2023 सोमवार रोहिणी व्रत

जैन कैलेंडर 2023

जैन कैलेंडर 2023 शक कैलेंडर की तरह ही एक चंद्र कैलेंडर होता है। पृथ्वी के संबंध में चंद्रमा की स्थिति के आधार पर महीने और हर तीन साल में एक अतिरिक्त महीना जोड़कर समायोजित किया जाता है, ताकि मौसम के साथ महीने को चरण में लाने के लिए सूर्य के साथ मेल किया जा सके। इसे दिन या तिथि के रूप में जाना जाता है, चंद्रमा चरण को इंगित करता है और महीना सौर वर्ष के अनुमानित मौसम को इंगित करता है। चंद्र-सौर कैलेंडर में एक नियमित या सामान्य वर्ष में 12 महीने होते हैं और एक लीप वर्ष में 13 महीने होते हैं। एक नियमित या सामान्य वर्ष में 353, 354 या 355 दिन होते हैं। इसी के साथ एक लीप वर्ष में 383, 384 या 385 दिन होते हैं।

जैन कैलेंडर में कार्तक, मगसर, पोष, महा, फागन, चैत्र, वैशाख, जेठ, आषाढ़, श्रवण, भादरवो, आसो महीने होते हैं। हालांकि जैन कैलेंडर में हिंदी माह के नामों को ही स्टैंडर्ड के तौर पर उपयोग किया जाता है, जिसमें चैत्र, बैसाखी, ज्येष्ठ, आषाढ़, श्रावण, भाद्रपद, अश्विन, कार्तिक, मार्गशीर्ष, पौष, माघ और फाल्गुन माह होते हैं। जैन कैलेंडर के अनुसार इनमें एक महीने में दिनों की औसत संख्या 30 होती है। लेकिन एक चंद्र-सौर वर्ष में दिनों की औसत संख्या 354 है, न कि 360, क्योंकि चंद्रमा को एक चक्कर पूरा करने में लगभग 29.5 दिन लगते हैं। इसलिए लगभग दो महीने की अवधि में एक तिथि समाप्त होती है। हिब्रू, हिंदू चंद्र, बौद्ध और तिब्बती कैलेंडर सभी चंद्र-सौर पर आधारित होते हैं।

चंद्र कैलेंडर

भूतकाल से लेकर वर्तमान तक भारत में कई कैलेंडर एक साथ इस्तेमाल किए गए हैं, जो इसमें शामिल उद्देश्य पर निर्भर करता है। दैनिक जीवन के लिए सौर मास और नागरिक दिवस प्रासंगिक हैं। उत्तर भारत की आधुनिक भारतीय भाषाओं में जैसे हिंदी और गुजराती 12 महीनों के अंग्रेजी नाम आज काफी ज्यादा उपयोग में हैं। लेकिन धार्मिक अभ्यास के मामलों में एकमात्र प्रासंगिक कैलेंडर चंद्र कैलेंडर होता है। चंद्र कैलेंडर के मूल घटक चंद्र माह, चंद्र पखवाड़े और चंद्र दिवस होते हैं। इस प्रकार जैनियों और हिंदुओं के बीच धार्मिक त्यौहारों या किसी भी अन्य धार्मिक अवसरों की तिथियां महीने के शुक्ल पक्ष के तीसरे दिन के आधार पर व्यक्त की जाती है।

परंपरा के अनुसार वर्ष के सभी जैन त्यौहारों को सूचीबद्ध करने वाले चंद्र कैलेंडर बुकलेट के रूप में प्रकाशित किए जाते हैं या वेब रूप में उपलब्ध होते हैं। वे तथाकथित जैन पंचांग हैं। अपनी सारणियों में वे आधुनिक पाश्चात्य व्यवस्था में समान तिथियां भी देते हैं, जिनका उपयोग समकालीन जैन दैनिक जीवन में तेजी से किया जाता है।

जैन धर्म के महत्वपूर्ण त्यौहार 2023

  • रोहिणी व्रत - जैन त्यौहार 2023 की सूची में जो पहला त्यौहार आता है, वह है रोहिणी व्रत। जैन धर्म के अनुयायियों के बीच काफी लोकप्रिय उपवास है, जो रोहिणी नक्षत्र के दौरान नियमित अंतराल पर होता है।
  • मेरु त्रयोदशी - मेरु त्रयोदशी रोहिणी व्रत के बाद पंजीकृत होने वाला दूसरा सबसे लोकप्रिय त्यौहार है। यह त्यौहार प्रसिद्ध जैन साधु/संत, ऋषभदेव की स्मृति में मनाया जाता है। इसी दिन उन्हें मोक्ष की प्राप्ति हुई थी।
  • फाल्गुन अष्टान्हिका शुरू - यह पर्व साल में तीन बार आते हैं। यह पर्व कार्तिक, फाल्गुन और आषाढ़ के महीनों में आठ दिनों तक मनाया जाता है। यह काफी पुराना त्यौहार है। इसकी शुरुआत काफी महत्वपूर्ण है।
  • फाल्गुन चौमासी चौदस - जैन कैलेंडर 2023 की सूची में यह एक महत्वपूर्ण त्यौहार है, क्योंकि इस त्यौहार के दौरान जैनसिम, अहिंसा का प्रमुख आदर्श सिद्धांत प्रकट होता है।
  • फाल्गुन अष्टान्हिका समाप्त - जिस तरह फाल्गुन अष्टान्हिका की शुरुआत जैनियों के लिए महत्वपूर्ण है, उसी तरह फाल्गुन अष्टान्हिका का अंत भी महत्वपूर्ण है।
  • वर्षीतप आरंभ - जैन कैलेंडर 2023 की सूची में एक और त्यौहार शामिल है वह है वर्षीतप, जो चैत्र महीने के कृष्ण पक्ष के आठवें दिन से शुरू होता है।
  • चैत्र नवपद ओली शुरू - जैन त्यौहार 2022 की सूची में उल्लेखित यह त्यौहार साल में दो बार आता है और नौ दिनों तक चलता है। जैन पंचांग के अनुसार चैत्र और अश्विन दो महीने हैं, जिसके दौरान यह त्यौहार आता है।
  • महावीर स्वामी जयंती - इस पर्व को किसी विशेष परिचय की आवश्यकता नहीं है। इस बात से तो सभी वाकिफ हैं कि यह जैन धर्म और संस्कृति के 24वें और अंतिम तीर्थंकर भगवान महावीर की जयंती है।
  • वर्षीतप पारणा - 2023 जैन कैलेंडर की इस सूची में एक और वर्षीतप पारणा का त्यौहार होता है, जो चैत्र महीने के दौरान शुरू होता है और अक्षय तृतीया के पारणा के साथ समाप्त होता है।
  • महावीर स्वामी केवलज्ञान - यह त्यौहार महावीर स्वामी केवलज्ञान जैन कैलेंडर 2022 का एक विशेष त्यौहार है। मान्यताओं के अनुसार इस दिन महावीर ने मोक्ष या सर्वोच्च ज्ञान प्राप्त किया था।
  • पर्युषण पर्वारम्भ- यह वह दिन है जब जैन धर्म और संस्कृति के सभी लोग अपना जीवन मोक्ष के लिए समर्पित करने का निर्णय लेते हैं, जो कि तब उनके जीवन का उद्देश्य बन जाता है।
  • संवत्सरी पर्व - संवत्सरी पर्व पर्युषण का अंतिम दिन होता है। इसे बड़े चाव से मनाया जाता है।
  • नवपद ओली: इस त्यौहार की शुरुआत और अंत 2023 जैन कैलेंडर का काफी महत्वपूर्ण घटक माना जाता है।
  • लक्ष्मी पूजा- लक्ष्मी पूजा तो सभी जानते हैं। यह पूजा घर की बेहतरी और समृद्धि के लिए देवी लक्ष्मी को समर्पित है।
  • गुजराती नव वर्ष - गुजराती नव वर्ष जैन त्यौहारों 2023 की सूची में एक प्रमुख प्रविष्टि है।
  • कार्तिका रथ यात्रा - कार्तिक रथ यात्रा जैन धर्म का काफी महत्वपूर्ण त्यौहार है, जो कार्तिक महीने में मनाया जाता है।

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

कॉपीराइट 2022 कोडयति सॉफ्टवेयर सॉल्यूशंस प्राइवेट. लिमिटेड. सर्वाधिकार सुरक्षित