बौद्ध कैलेंडर 2023

banner

बौद्ध कैलेंडर 2023

सभी धर्मों की तरह बौद्ध महत्वपूर्ण धर्मों में से एक है। यह धर्म भी अन्य धर्मों की तरह हमें सदैव सच्चाई की राह पर चलने की सीख देता है। बौद्ध कैलेंडर 2023 न केवल बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिए महत्वपूर्ण है बल्कि उन लोगों के लिए भी मददगार है, जिनकी बौद्ध धर्म के त्यौहारों और समारोहों में रुचि है। बौद्ध धर्म मूलत: भगवान बुद्ध की शिक्षाओं और उपदेशों के लिए जाना जाता है। साथ ही बुद्ध भगवान को इस धर्म का संस्थापक भी माना जाता है, जो अहिंसा के मार्ग को अपनाते हैं। यही उनका प्रथम धर्म भी है। बौद्ध धर्म की शुरुआत चौथी-पांचवीं शताब्दी ईसा पूर्व से भारत में हुई, जो बाद में एशिया के अन्य हिस्सों में फैल गई। इस तरह एक पुराने धर्म में कई त्यौहार और कार्यक्रम शामिल होते चले गए।

बौद्ध कैलेंडर मुख्य रूप से कंबोडिया, लाओस, म्यांमार, भारत, श्रीलंका और थाईलैंड, मलेशिया, सिंगापुर और वियतनाम में चीनी लोगों के द्वारा धार्मिक या आधिकारिक अवसरों के लिए उपयोग किए जाने वाले चंद्र कैलेंडर है। जबकि कैलेंडर एक सामान्य वंश साझा करते हैं, उनके पास मामूली लेकिन महत्वपूर्ण भिन्नताएं भी होती हैं जैसे कि अंतराल कार्यक्रम, महीने के नाम और चक्रों का उपयोग आदि। थाईलैंड में, बौद्ध युग नाम पारंपरिक थाई चंद्र-सौर कैलेंडर द्वारा साझा की गई एक वर्ष संख्या प्रणाली होती है।

आज पारंपरिक बौद्ध चंद्र-सौर कैलेंडर मुख्य रूप से थेरवाद बौद्ध त्यौहारों के लिए उपयोग किया जाता है। थाई बौद्ध युग, एक पुनः क्रमांकित ग्रेगोरियन कैलेंडर, थाईलैंड में एक आधिकारिक कैलेंडर के रूप में जाना जाता है। बौद्ध कैलेंडर का उपयोग मुख्य भूमि दक्षिण पूर्व एशिया में कंबोडिया, लाओस, थाईलैंड, म्यांमार (पूर्व में बर्मा) और श्रीलंका के कई संबंधित रूपों में किया जाता है। यह एक चंद्र-सौर कैलेंडर है, जिसमें बारी-बारी से 29 और 30 दिनों के महीने होते हैं, जिसमें एक अंतराल दिन और नियमित अंतराल पर एक 30-दिन का महीना जोड़ा जाता है। इसके सभी रूप तीसरी शताब्दी के सूर्य सिद्धांत पर आधारित हैं, न कि इसके आधुनिक रूप (दोनों रूपों का उपयोग विभिन्न हिंदू कैलेंडर द्वारा किया जाता है)।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

बौद्ध धर्म के तत्व

बौद्ध धर्म के संस्थापक भगवान सिद्धार्थ का जन्म भारत में हुआ था। 35 वर्ष की उम्र में उन्हें अपना पहला ज्ञान प्राप्त हुआ और वह बौद्ध धर्म के अनुयायी कर्म और अवतार के पूर्ण विश्वासी हैं। उनका मानना ​​है कि अष्टांगिक मार्ग पर ध्यान लगाकर और नैतिक जीवन व्यतीत करके निर्वाण प्राप्त किया जा सकता है। बौद्ध धर्म के अनुसार, दुःख निरोध पाने का रास्ता चौथे आर्य सत्य का आर्य अष्टांग मार्ग है। गौतम बुद्ध कहते थे कि सत्य की सत्यता का निश्चय करने के लिए इस मार्ग का अनुसरण करना चाहिए-

  1. सम्यक दृष्टि- वस्तुओं के यथार्थ स्वरूप को जानना।
  2. सम्यक संकल्प- द्वेष तथा हिंसा से खुद को दूर रखना।
  3. सम्यक वाक्- हमेशा सत्य बोलना था भाषा में सौम्यता बनाए रखना।
  4. सम्यक कर्मांत- बुरे या हानिकारक कर्म न करना।
  5. सम्यक आजीव- जीवन-यापन के लिए सदाचार का मार्ग अपनाना।
  6. सम्यक व्यायाम- अच्छे कर्म करना और बुरे को त्याग करना।
  7. सम्यक स्मृति- वस्तुओं के वास्तविक स्वरूप के संबंध में जागरूक रहना।
  8. सम्यक समाधि - ध्यान की वह अवस्था जिसमें मन की चचंलता और अस्थिरता शांत का होना तथा विचारों के भटकाव का रुकना।

साल की शुरुआत कब हुई?

हिंदू कैलेंडर और बौद्ध प्रणाली के बीच एक और समानता यह है कि नया साल तब शुरू होता है जब सूर्य मेष राशि में प्रवेश करता है। बौद्ध कैलेंडर वर्ष एक नक्षत्र की लंबाई निर्भर करता है। नक्षत्र वर्ष वह समय होता जब पृथ्वी को निश्चित सितारों के संबंध में सूर्य के चारों ओर एक कक्षा पूर्ण करता है। चूंकि यह समय एक उष्णकटिबंधीय वर्ष से लगभग 20 मिनट लंबा है, जो ऋतुओं की शुरुआत को निर्धारित करता है और जिसे पश्चिमी ग्रेगोरियन कैलेंडर प्रतिबिंबित करना चाहता है। प्रत्येक वर्ष बौद्ध वर्ष थोड़ा देरी से शुरू होता है। इस वर्ष, बौद्ध नव वर्ष अप्रैल के दूसरे भाग में आएगा। हालांकि क्षेत्रीय भिन्नताएं होती हैं।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

पहला वर्ष कब था?

बौद्ध कैलेंडर, गौतम बुद्ध की मृत्यु की तारीख का उपयोग करता है - या, बौद्ध शब्दों में, जिस क्षण बुद्ध परिनिर्वाण तक पहुंचे - अपने शुरुआती बिंदु के रूप में। हालांकि सटीक वर्ष ज्ञात नहीं है और इस पर विशेषज्ञों की असहमति है। फिर भी कैलेंडर के कुछ संस्करण 543 या 545 ईसा पूर्व में अपनी वर्ष की गणना शुरू करते हैं, सबसे अधिक देखी जाने वाली वर्ष संख्या प्रणाली वर्ष 544 ईसा पूर्व में शुरू होती है।

बौद्ध कैलेंडर 2023 में त्यौहार और महत्वपूर्ण आयोजन

दिन दिनांक त्यौहार
शनिवार 07 जनवरी 2023 महायान नव वर्ष
रविवार 22 जनवरी 2023 चीनी नववर्ष
बुधवार 15 फरवरी 2023 निर्वाण दिवस
सोमवार 06 मार्च 2023 माघ पूजा दिवस
गुरुवार 06 अप्रैल 2023 थेरवाद नया साल
शुक्रवार 19 मई 2023 वेसाक - बुद्ध दिवस
सोमवार 03 जुलाई 2023 असला - धर्म दिवस
रविवार 13 अगस्त 2023 ओबोनी
शुक्रवार 08 दिसम्बर 2023 बोधि दिवस

बौद्ध कैलेंडर 2023 के अनुसार बौद्ध त्यौहार

बोधि दिवस

बोधि दिवस लोकप्रिय बौद्ध त्यौहार में से एक है, यह त्यौहार उस दिन को चिह्नित करता है जब गौतम बुद्ध ने बोधगया में 596 ईसा पूर्व में एक बोधि वृक्ष के नीचे बैठकर ज्ञान प्राप्त किया था। कई मुख्यधारा की महायान परंपराओं में बोधि दिवस को सबसे प्रमुख बौद्ध त्यौहार में से एक के रूप में मनाया जाता है। बौद्ध धर्म के अनुयायी इस दिन को ध्यान, मंत्रों का जाप, धर्म का अध्ययन और अन्य प्राणियों के प्रति दयालु भाव से मनाते हैं। कई लोगों द्वारा इस दिन केक, चाय का पारंपरिक भोजन तैयार किया जाता है।

महायान नव वर्ष

महायान नव वर्ष बौद्ध कैलेंडर 2023 के अनुसार विभिन्न देशों और परंपराओं में अलग-अलग दिनों में मनाया जाता है। कुछ महायान बौद्ध इस दिन को 31 दिसंबर या 1 जनवरी को मनाते हैं, जबकि कुछ लोग वर्ष की पहली पूर्णिमा की प्रतीक्षा करते हैं। इस बौद्ध त्यौहार को मनाने के लिए जनवरी के मध्य भाग का इंतजार करना पड़ता है।

इस दिन को भगवान बुद्ध को सम्मान देने और उनकी पूजा करने के लिए मनाया जाता है। भगवान बुद्ध की मूर्तियों को सम्मान की निशानी के रूप में स्नान कराया जाता है और धार्मिक गीत बजाए जाते हैं। बौद्ध धर्म के लोग आस-पास के मंदिरों में जाते हैं और आने वाले वर्ष के लिए खुशी और सौभाग्य के प्रतीक के रूप में वहां मोमबत्तियां जलाते हैं। बौद्ध धर्म के अनुयायी इस दिन को आत्मनिरीक्षण और ध्यान के समय के रूप में मनाते हैं।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

चीनी नववर्ष

चीनी नववर्ष पारंपरिक चंद्र-सौर चीनी कैलेंडर के अनुसार मनाया जाता है। इस दिन बौद्ध समुदाय के लोग पास के मंदिर में जाते हैं और भगवान बुद्ध की मूर्ति की पूजा करते हैं। बौद्ध लोग इस दिन सौभाग्य के लिए उपहार देने के साथ-साथ अपने घरों की सफाई और सजावट भी करते हैं। वे अपने रिश्तेदारों को दावत देते हैं और साथ में भोजन का आनंद उठाते हैं। साथ ही मिष्ठान में अलग-अलग प्रकार की ढेर सारी मिठाइयां बनाई जाती हैं और आधी रात को यह लोग आतिशबाजी का आनंद लेते हैं।

निर्वाण दिवस

इस दिन को परिनिर्वाण दिवस भी कहा जाता है। इसी दिन बुद्ध का निधन उनकी 80 वर्ष की आयु में हुआ था। इस दिन उनकी याद में ही मनाया जाता है, जब उन्होंने निर्वाण प्राप्त किया था। निर्वाण मृत्यु और पुनर्जन्म के चक्र की परिणति का प्रतीक है और माना जाता है कि एक बार सभी कष्ट और चाहत दूर हो जाने के बाद इसे प्राप्त किया जाता है। इस दिन का उत्सव जगह-जगह अलग-अलग प्रकार से मनाया जाता है। कुछ लोग इस बौद्ध त्यौहार को ध्यान लगाकर मनाते हैं, जबकि अन्य बौद्ध लोग मंदिरों और मठों की यात्रा करते हैं।

मठ निर्वाण दिवस को एक सामाजिक कार्यक्रम के रूप में मनाते हैं। इस दिन लोग भोजन तैयार करते हैं और जरूरतमंदों को देने के लिए कपड़े और अन्य घरेलू सामान लाते हैं।

माघ पूजा दिवस

माघ पूजा एक महत्वपूर्ण बौद्ध धार्मिक तयौहार है, जो तीसरे चंद्र मास में पूर्णिमा के दिन 2500 से अधिक वर्षों तक मनाया जाता है। इसे चौगुनी सभा या संघ दिवस के रूप में भी जाना जाता है। यह पूजा भगवान बुद्ध के ज्ञान प्राप्त करने के नौ महीने बाद, उत्तरी भारतीय में राजघना के पास हुई एक नहीं बल्कि चार शुभ घटनाओं की याद दिलाती है।

इस दिन बौद्ध धर्म के अनुयायी एक साथ इकट्ठा होते हैं और बुद्ध की शिक्षाओं पर चर्चा करने के लिए बैठकें करते हैं, सुनते हैं कि समुदाय के वरिष्ठों को क्या पेशकश करनी है और क्या ध्यान करना है। माघ पूजा के दिन लोग तेल के दीपक भी जलाते हैं और उपहारों का आदान-प्रदान करते हैं।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

थेरवाद नया साल

थेरवाद नववर्ष एक महत्वपूर्ण बौद्ध त्यौहार है, यह त्यौहार तीन दिनों तक मनाया जाता है और उत्सव अप्रैल की पहली पूर्णिमा से शुरू होता है।

वेसाक-बुद्ध दिवस

वेसाक को सबसे महत्वपूर्ण बौद्ध त्यौहारों में से एक माना जाता है। इसे बुद्ध दिवस या वेसाक के नाम से भी जाना जाता है। यह दिन बुद्ध के जन्मदिन के उपलक्ष्य में मनाया जाता है और बौद्ध धर्म के अनुयायियों द्वारा मनाया जाता है। बुद्ध दिवस की तिथि हर साल बदलती रहती है। यह वैशाख मास की पहली पूर्णिमा के समय मनाया जाता है। यह ज्यादातर मई या जून की शुरुआत में पड़ता है।

असला- धर्म दिवस

यह बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिए एक महत्वपूर्ण दिन है, क्योंकि सिद्धार्थ गौतम ने इस दिन पहली बार बुद्ध बनने की अपनी शिक्षा प्रदान की थी। थेरवाद देशों में, यह दिन जुलाई में पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है।

ओबोनी

ओबोन मुख्य रूप से जापानी बौद्ध समुदाय द्वारा पूर्वजों की आत्माओं के सम्मान में मनाया जाता है। इस दिन लोग अपने परिवार के साथ इकट्ठा होते हैं। अपने पूर्वजों की कब्रों में जाते हैं, उसकी साफ-सफाई करते हैं। ऐसा माना जाता है कि पूर्वज घर की वेदियों के दर्शन करते हैं। ओबोन उत्सव 3 दिनों तक चलता है।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

कॉपीराइट 2022 कोडयति सॉफ्टवेयर सॉल्यूशंस प्राइवेट. लिमिटेड. सर्वाधिकार सुरक्षित