वास्तु शास्त्र के अनुसार करें घर का निर्माण: वास्तु दोष दूर करने के उपाय

  • वास्तु क्या है? हमें इसका पालन क्यों करना चाहिए?
  • निर्माण शुरू करने से पहले विचार किए जाने वाले वास्तु अनुष्ठान…..
  • भूमि पूजन या अनुष्ठान : प्रक्रिया और लाभ
  • भूमि पूजा प्रक्रिया / अनुष्ठान के कार्य के विभिन्न चरण नीचे सूचीबद्ध हैं:-
  • जल स्रोत के लिए वास्तु
  • कुएं के लिए वास्तु दिशा
  • कंपाउंड वॉल वास्तु
  • वास्तु के अनुसार घर के आसपास मौजूद चीजें कितनी लाभकारी और कितनी नुकसानदायक
  • वास्तु शास्त्र के अनुसार घर का डिजाइन
  • वास्तु घर/मंजिल एक उत्तरमुखी भूखंड की योजना
  • वास्तु घर/मंजिल एक पूर्वमुखी भूखंड की योजना
  • वास्तु घर/फर्श पश्चिममुखी प्लॉट की योजना
  • वास्तु घर/फर्श में दक्षिणमुखी प्लॉट की योजना
  • वास्तु के अनुसार हो भूमि का आकार
  • वास्तु के अनुसार किस दिशा में हो मुख्य द्वार
  • वास्तु के अनुसार किस दिशा में हो बेड रूम
  • वास्तु के अनुसार किस दिशा में हो बच्चों का रूम
  • वास्तु के अनुसार किस दिशा में हो लिविंग रूम
  • वास्तु के अनुसार किस दिशा में हो बाथरूम
  • वास्तु के अनुसार किस दिशा में हो गेस्ट रूम
  • वास्तु के अनुसार किस दिशा में बनवाएं डाइनिंग रूम
  • वास्तु के अनुसार भगवान का घर/ पूजा घर किस दिशा में होना चाहिए
  • वास्तु के अनुसार कहां बनवाएं सीढ़ियां
  • वास्तु के अनुसार छत पर वॉटर टैंक होना सही है या नहीं

इसांन का अपना घर अक्सर उसकी भविष्य की आकांक्षाओं और सफलता की नींव के साथ-साथ सुखद यादों का खजाना होता है। जो सुकून आपको अपने खुद के घर में मिलता है, वह दुनिया के किसी कोने में नहीं मिल सकता है। कई मायनों में हमारी पहचान का एक अभिन्न अंग हमारा घर होता है। इसीलिए माना जाता है कि जब घर का निर्माण किया जाए तो उस समय सभी चीजों को बड़े ध्यान से सूचीबद्ध तरीकों से करना आवश्यक होता है।

इसके अलावा घर निर्माण में छोटी से छोटी चीज का सही होना आवश्यक है। चाहे वह घर निर्माण की सामग्री हो या फिर जमीन का आकार या दिशा हो। सब का अपना अलग महत्व होता है। जैसा कि कहते हैं, भाग्य में जो लिखा होता है, वह होना तय है। इसी वजह से, कई बार हमारी लाख कोशिशों के बाद भी चीजें गलत हो जाती हैं।

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, वास्तु शास्त्र वास्तुकला का विज्ञान है जो घर के निर्माण के व्यावहारिक पहलुओं को आध्यात्मिक पहलुओं से जोड़ता है। अपने घर और अपने भविष्य को सुरक्षित करने के लिए, घर के वास्तु की दिशा के साथ-साथ वास्तु से जुड़ी अनेक चीजों का पालन करना होता है।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

वास्तु क्या है? हमें इसका पालन क्यों करना चाहिए?

घर निर्माण में वास्तु का क्या महत्व है यह जाने से पहले यह जानना अत्यधिक आवश्यक है कि आखिर वास्तु होता क्या है और हमें इसका पालन क्यों करना चाहिए| वास्तु शास्त्र या वास्तुकला के हिंदू ब्रह्मांडीय विज्ञान को अर्थवेद के दिनों में समझा जा सकता है जो घरों, इमारतों, शहरों, मंदिरों आदि के निर्माण की कला के बारे में प्राचीन ज्ञान का प्रतीक है।

इसमें डिजाइन के सिद्धांत शामिल हैं जो वास्तुकला के तत्वों को भी शामिल करते हैं। एक आदर्श रूप मे अंतरिक्ष और प्राकृतिक तत्व का मिश्रण है । हिंदू पौराणिक कथाओं में कहा गया है कि हमारी पंक्ति में हर एक घटना पहले से ही निर्धारित है और ब्रह्मांड के पांच तत्व अग्नि, पृथ्वी, जल, वायु और आकाश है। जब गृह निर्माण से संबंधित बात आती है, तो घर और उसमें रहने वाले सदस्यों की भलाई सुनिश्चित करने के लिए सभी तत्वों के आदर्श संरेखण की आवश्यकता होती है। वास्तु शास्त्र उन सिद्धांतों और लेआउट का प्रतीक है, जो घर के मालिक के साथ-साथ अन्य सदस्यों के जीवन में अहम भूमिका रखते हैं।

इसी अनुसार, वास्तु शास्त्र के प्रति के कई अलग-अलग दृष्टिकोण हैं। कुछ का मानना ​​है कि वास्तु प्राचीन वैज्ञानिक ज्ञान में डूबा हुआ है, जबकि अन्य इसे प्राचीन और अंधविश्वास के रूप मे मानते हैं।

वास्तु शास्त्र की आवश्यकता पर अक्सर सवाल किया जाता है। क्या किसी विशेष घर के सदस्यों के जीवन में समृद्धि और सुरक्षा लाने के कोई सबूत हैं।

माना जाता है कि घर के प्रत्येक कोने में ब्रह्मांड के पांच तत्वों में से प्रत्येक का प्रभाव होता है। वैदिक साहित्य इस बात की पुष्टि करता है कि शांति और समृद्धि सुनिश्चित करने के लिए इन तत्वों के बीच सही संतुलन आवश्यक है। वास्तु सिद्धांत इन सिद्धांतों के लिए डिजाइन और लेआउट को निश्चित करके इन तत्वों के बीच सही संतुलन की सुविधा के बारे में दिशानिर्देश प्रदान करते हैं।

यह देखते हुए कि यह सौंदर्य तत्वों को भी मिश्रित करता है, अपने घरों का वास्तु बीमा बनाने के सिद्धांतों को शामिल करने में कोई बुराई नहीं है। बेशक, सावधानी रखना आवश्यक है। लाभ प्राप्त करने के लिए केवल प्रामाणिक और विश्वसनीय वास्तु सिद्धांतों का पालन किया जाना चाहिए और किसी भी बिंदु पर वास्तु दिशानिर्देशों को शामिल करने के लिए आपके घर से व्यावहारिक जरूरतों और अपेक्षाओं से समझौता नहीं किया जाना चाहिए।

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए: यहां क्लिक करें

निर्माण शुरू करने से पहले विचार किए जाने वाले वास्तु अनुष्ठान

घर का निर्माण शुरू करने से पहले इन आवश्यक वास्तु से जुड़ी बातों पर ध्यान देना सभी जातकों के लिए आवश्यक है और घर निर्माण वास्तु टिप्स सभी आवश्यक वास्तु दिशा-निर्देश को ध्यान में रखकर दिए गए हैं।

भूमि पूजन या अनुष्ठान: प्रक्रिया और लाभ

घर निर्माण से पहले जो जमीन घर बनाने के लिए खरीदी गई है, उसका वास्तु शास्त्र के मानदंडों के अनुसार होना आवश्यक होता है। आपको बता दें कि घर, व्यवसाय या औद्योगिक के लिए किसी भी निर्माण से पहले भूमि पूजा की जानी चाहिए यह काफी आवश्यक होता है।

भूमि पूजा प्रक्रिया / अनुष्ठान के कार्य के विभिन्न चरण नीचे सूचीबद्ध हैं:-

घर निर्माण के लिए जो आपने जमीन खरीदी है, उस जमीन पर आप ज्यादा से ज्यादा सकारात्मकता लाने के लिए उसके आसपास तरह-तरह के पेड़ पौधे जरूर लगाएं इससे सकारात्मक ऊर्जा आपके घर के आस-पास हमेशा उपलब्ध रहेगी और घर निर्माण से पहले और भूमि पूजा प्रक्रिया शुरू करने से पहले, भूमि को साफ और स्वच्छ करने की जरूरत होती है। आपको कांटेदार पौधों और झाड़ियों की जड़ सहित भूमि से गंदगी, मलबा, ह्यूमस और सभी प्रकार के कूड़ा-करकट को हटा देना चाहिए। सबसे भाग्यशाली नक्षत्र के तहत सबसे अनुकूल समय के दौरान आप यह कार्य शुरू करें। सटीकता सुनिश्चित करने के लिए, एक विशेषज्ञ ज्योतिषी से सलाह जरुर लें जो आपको घर निर्माण के लिए भूमि स्थापित करने के लिए उचित समय और दिशा बता सके। अगर आप निर्माण के लिए भूमि पूजा कर रहे हैं, तो सोमवार और गुरुवार, दो बहुत ही शुभ दिन होते हैं। भूमि पूजा के लिए वास्तु तिथियों को देखना बंद करें और अगर आपके घर की महिला सदस्य सात महीने से अधिक गर्भवती है तो निर्माण शुरू न करें। माना जाता है जब दिन रात से बड़े हों और सूर्य की किरणें आकाश में फैली हो तब भूमि पूजन करना चाहिए आमतौर पर यह 21 जून से 20 दिसंबर तक होता है।

इसके आलावा सभी निर्माण कार्य सूर्यास्त से पहले खत्म हो जाने चाहिए। रात के दौरान काम करना जारी रखना अशुभ माना जाता है। इतना ही नहीं घर निर्माण प्रोजेक्ट पर काम करने के लिए योग्य इंजीनियरों की भी जरूरत होती है।

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर निर्माण सामग्री का सामान संपत्ति के दक्षिण-पश्चिम या दक्षिण-पूर्व कोने में करना चाहिए। स्थिति ऐसी होनी चाहिए कि यह संपत्ति की सीमा से कम से कम एक मीटर की दूरी पर रखा हुआ हो। हालांकि चोरों को समान से दूर रखने के लिए दक्षिण-पूर्व कोने में गार्ड लगाए जाने चाहिए।

जब बात होती है वास्तु शास्त्र के सिद्धांतों की तो इसमें अनेक तरह के सिद्धांत आ जाते हैं। आपको बता दें कि वास्तु शास्त्र के सिद्धांतों के अनुसार एक नया घर या भवन बनाने के लिए पुरानी गृह निर्माण वस्तुओं व सामग्रियों का इस्तेमाल करना आपके नए घर की सकारात्मक ऊर्जा को नकारात्मक ऊर्जा में बदल सकती हैं इसीलिए कभी भी नया घर बनाने में पुरानी सामग्री का इस्तेमाल ना करें। उसकी जगह आप नई सामग्री इस्तेमाल में लाकर घर निर्माण कर सकते हैं जो ऊर्जा का एक नया स्रोत बनती है। अगर हो सके तो पुरानी सामग्री को बेच दिया जाना चाहिए और बिक्री से प्राप्त धन का उपयोग नई सामग्री खरीदने के लिए किया जाना चाहिए।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

जल स्रोत के लिए वास्तु

जब किसी घर के निर्माण के लिए जमीन खरीदी जाए तो उसके आसपास यह ध्यान रखने की आवश्यकता होती है कि जल की व्यवस्था किस प्रकार से है बता दें कि एक कुएं/जल स्रोत के प्रारंभिक निर्माण के साथ एक नया घर बनाना वास्तु शास्त्र के तहत सबसे अच्छा निर्धारित है वास्तु के अनुसार कुएं की स्थिति के लिए, अगर कुएं को संपत्ति के उत्तर या उत्तर-पूर्व की ओर खोदा जाता है, तो यह एक अच्छा संकेत होता है। कुआं खोदने के लिए सबसे बेहतर स्थान का पता लगाने के लिए, आपको दक्षिण-पूर्व कोने से उत्तर-पूर्व कोने तक एक रेखा खींचनी चाहिए। अपने कुएं को रेखा के दाईं या बाईं ओर खोदने की व्यवस्था करनी चाहिए सुनिश्चित करें कि जो रेखा आप खींचे वह पूरी तरह से बराबर होनी चाहिए।

कुएं के लिए वास्तु दिशा

अगर घर के आस-पास आप कुएं की सुविधा जल स्रोत के लिए रखना चाहते हैं तो यह सुनिश्चित करें की कुएं मे जो पानी हो वो पूरी तरह शुद्ध हो, साथ ही एक ज्योतिषीय अनुष्ठान समय पर किया जाना चाहिए; सही समय की बात करे तो अधोमुखी नक्षत्र सबसे भाग्यशाली समय होता है। इसके आलावा पारंपरिक और व्यावहारिक कुओं का आकार गोल होना चाहिए। वास्तु के अनुसार कुएं के लिए, यह या तो दक्षिण-पूर्व कोने या उत्तर-पूर्व कोने में स्थित होता है, जहां कम से कम 5 घंटे की धूप ताजा प्राप्त होती है।

कंपाउंड वॉल वास्तु

किसी भी घर निर्माण मैं सबसे जरूरी चीज होती है घर का द्वार और कंपाउंड वॉल इन दोनों को ही वास्तु के अनुसार तय करने से घर में सुख समृद्धि का वास होता है हालाकि परिसर की दीवारें और द्वार दोनो ही महत्वपूर्ण निर्माण हैं जिन्हें घर या भवन के वास्तविक निर्माण से पहले ही किया जाना चाहिए। इन दीवारों के वास्तविक निर्माण के दौरान अनुकूल नक्षत्र भी उन्हें प्रभावित करते हैं। सोमवार, बुधवार, गुरुवार या शुक्रवार को निर्माण कार्य की शुरुआत का शुभ दिन माना जाना चाहिए। साथ ही, शुरुआत करने वाला पक्ष दक्षिण-पश्चिम होना चाहिए।

अगर बात करे परिसर की दीवार तो वास्तु के मानदंडों के अनुसार, परिसर की दीवार की अधिकतम ऊंचाई घर के निर्माण से अधिक नहीं होनी चाहिए। इन दीवारों की ऊंचाई में एकरूपता नहीं रखनी चाहिए बाउंड्री मेन गेट के लिए वास्तु द्वारा एक अच्छी सिफारिश है कि दीवार का दक्षिण-पश्चिम हिस्सा हमेशा बाकी हिस्सों से ऊंचा हो। सरल तरीके से बात करें तो उत्तर और पूर्व की ओर की दीवारें पश्चिम और दक्षिण की ओर की दीवार से 21 इंच छोटी होनी चाहिए।

हालांकि, यदि यह संभव नहीं है, तो उत्तर और पूर्व पक्षों को पश्चिम और दक्षिण पक्षों की तुलना में कम से कम 3 इंच का अंतर बनाए रखना चाहिए। कंपाउंड वॉल गेट के लिए एक आदर्श वास्तु टिप्स कंपाउंड के लिए दो गेट स्थापित करना होगा, ताकि एक गेट में प्रवेश करने वाली बुरी ताकतें अंत में दूसरे गेट से बाहर निकल सकें। वास्तु के अनुसार एक सुनहरा अंगूठा नियम और स्थिति प्रवेश द्वार के रूप में दक्षिण की ओर से बनता है।

वास्तु के अनुसार घर के आसपास मौजूद चीजें कितनी लाभकारी और कितनी नुकसानदायक

जब भी आप घर खरीदें तो घर के आसपास उपलब्ध चीजों का निरीक्षण जरूर करें क्योंकि आपके घर को हर छोटी से छोटी चीज सकारात्मक एवं नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकती है| इसीलिए घर की जमीन खरीदने से पहले यह बातें जरूर ध्यान दें कि घर के आसपास क्या-क्या चीजें मौजूद हैं और घर बनने के पश्चात उनका आपके जीवन पर क्या प्रभाव पड़ेगा।

  • बड़ा पेड़ - वास्तु के अनुसार अगर घर के आस-पास कोई बड़ा पेड़ है तो यह बाधा बच्चों की प्रगति में बाधा उत्पन्न कर सकती है|
  • गटर या खाई - वास्तु के अनुसार आसपास में अगर किसी तरह की जिंदगी का माहौल है और वह गडर जैसी जगह मौजूद है तो यह दुख का कारण बन सकती है इसीलिए आप कोशिश करें कि ऐसी जगहों पर घर निर्माण से बचें
  • खुला कुआँ - वास्तु के अनुसार किसी भी ऐसी जगह पर घर निर्माण बिल्कुल ना करें जहां पर खुला हुआ कुंआ हो यह नकारात्मक है क्योंकि यह मानसिक समस्या के बराबर है|
  • दूसरे भवन का कोना - वास्तु के अनुसार यह भी मानसिक अशांति अस्थिरता से संबंधित है|
  • जल निकासी - वास्तु के अनुसार इस प्रकार की स्थिति में आपको अनेक प्रकार के अनावश्यक खर्चो का आए दिन सामना करना पड़ सकता है
  • अगर आपके घर निर्माण की जगह के आसपास कोई सीधी सड़क है तो इसका यह सीधा अर्थ है कि यह आपकी जीवन काल को छोटा कर सकती है इसके लिए जमीन खरीदने से पहले थोड़ा निरीक्षण अवश्य करें|
  • टूटा हुआ घर या दीवार - कोई भी टूटी हुई चीज या फिर टूटा हुआ घर आपकी संपत्ति के आसपास मौजूद नहीं होना चाहिए वरना इससे समृद्धि पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है|
  • सीढ़ी की रेलिंग - अगर आप अपने घर निर्माण में सीढ़ियों के इर्द-गिर्द रेलिंग लगाते हैं तो इस बात का ध्यान रखिए यह अक्सर उदासी से जुड़ी होती है|
  • स्तंभ - वास्तु के अनुसार बिजली या टेलीफोन पोस्ट महिला सदस्यों की भलाई को प्रभावित कर सकते हैं|
  • मुख्य द्वार वास्तु संपत्ति से बाधा को अलग करने के लिए एक सार्वजनिक सड़क के अस्तित्व का सुझाव देता है यह कमियों को कम करेगा यदि यह पूरी तरह से शून्य नहीं होता है।

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए: यहां क्लिक करें

इसी तरह, घर के प्रवेश द्वार के लिए वास्तु के अनुसार , यदि बाधा और घर के बीच की दूरी का अंतर घर की ऊंचाई से दोगुना हो जाता है, तो कमियां खत्म हो जाएंगी और कोई असर नहीं होगा।

अगर कोई पेड़ अपने नकारात्मक परिणामों के कारण उखड़ जाता है, तो उसे माघ या भाद्रपद के महीने में नष्ट करना चाहिए। पेड़ को काटने से पहले और अंत में उसे हटाने से पहले उससे माफी मांगना जरूरी है। साथ ही यह पूर्व या उत्तर दिशा में गिरना चाहिए। एक पेड़ फिर से लगाने की शपथ लेनी चाहिए और अगले तीन महीने के भीतर शपथ का सम्मान किया जाना चाहिए। गुलाब को छोड़कर, नया पौधा लगाते समय कांटों वाले पौधों से बचना चाहिए,

और अगर आप कोई ऐसा पौधा लगाते हैं जिसकी लताएं दूर तक फैल कर जा सकती है तो आप ही कोशिश करें कि इन पौधों को आप बगीचे की ऐसी जगह पर लगाए जाते यह लताएं आपके संपत्ति की दीवारों पर ना लटके।

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर का डिजाइन

वैसे तो घर बनाने से पहले सभी जातकों के दिमाग में अपने घर को लेकर पहले से ही अनेक इच्छाएं होती है कि वह अपने घर को किस तरह की रूपरेखा में देखना पसंद करेंगे लेकिन यह बात अवश्य ध्यान रखनी चाहिए कि वास्तु में गृह निर्माण के लिए अनेको दिशा-निर्देश निर्धारित किए हैं, इसमें ऐसे विशिष्ट नियम हैं जिन्हें अपने गृह निर्माण में वास्तु सिद्धांतों को शामिल करते समय ध्यान में रखा जा सके।

पहला नियम घर का प्रवेश द्वार है। माना जाता है आदर्श रूप से घर का प्रवेश द्वार पूर्व दिशा की ओर होना चाहिए। साथ ही इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए है कि सूर्य पूर्व में उगता है। सूर्य को सकारात्मक ऊर्जा और ज्ञान का सबसे शुद्ध रूप माना जाता है। नतीजतन, यदि प्रवेश द्वार पूर्व की ओर है, तो यह घर में ऐसी लाभकारी ऊर्जा का मार्ग प्रशस्त करता है। यह सलाह दी जाती है कि भले ही दरवाजा किसी अन्य दिशा में बनाया गया हो, पूर्व में एक खिड़की या बालकनी का निर्माण करना चाहिए ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि आपके घर में उस समृद्ध सौर ऊर्जा का कुछ प्रवाह हो।

और जब घर निर्माण से जुड़ी बात हो तो कभी भी किसी भी जातक को वास्तु सिद्धांत को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए क्योंकि वास्तु सिद्धांतों के अनुसार, जल वह तत्व है जो धन और समृद्धि में प्रवेश करता है। इसलिए, आपके भूखंड में पानी का स्रोत होना एक अच्छा विचार है। निर्माण शुरू करने से पहले अपने प्लॉट की उत्तर-पूर्व दिशा में एक छोटा वाटर रिजर्व या एक बोरवेल स्थापित करना एक अच्छा विचार हो सकता है। आगे भविष्य में, सभी जल तत्व जैसे वॉशरूम, आरओ फिल्टर, पूल आदि का निर्माण घर के उत्तरी हिस्से में किया जाना चाहिए ताकि अच्छे भाग्य को बनाए रखा जा सके।

घर के दक्षिण, पश्चिम, दक्षिण-पश्चिम की ओर सीढ़ियां बनवाने की सलाह दी जाती है ताकि सीढ़ी के सिर पर स्थित कमरा उत्तर-पूर्व की ओर संरेखित न हो। रहने वालों के घरेलू जीवन में स्वास्थ्य और शांति सुनिश्चित करने के लिए यह महत्वपूर्ण है।

सूर्य से सकारात्मक ऊर्जा के अनुकूलन के सिद्धांत पर वापस जाते हुए, वास्तु सलाह देता है कि खाना पकाने के शीर्ष पूर्व दिशा की ओर हों, इसलिए, रसोई की स्थापना दक्षिण पूर्व कोने के साथ की जानी चाहिए।

अद्वितीय डिजाइन विचार हमें चकित करते हैं लेकिन कभी-कभी, मूल बातों पर टिके रहना सबसे अच्छा होता है। आइए कमरों का उदाहरण लेंते है। हम अक्सर कमरे के आकार पर ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं लेकिन यह आपके जीवन के महत्वपूर्ण पहलुओं को प्रभावित कर सकता है। वास्तु बताता है कि एक वर्ग एक कमरे का सबसे पसंदीदा आकार है क्योंकि यह सद्भाव और संतुलन का प्रतीक होता है। हालाकि आयताकार कमरे भी वास्तु सिद्धांतों द्वारा अनुमानित होते हैं जब तक समरूपता बनाए रखी जाती है। कई आधुनिक इमारतों में अनियमित आकार के कमरे हैं। ये सौंदर्य की दृष्टि से अलग हो सकते हैं लेकिन वास्तु में घरेलू कलह और खराब स्वास्थ्य के लिए एक संकेत माना जाता है।

वास्तु घर/मंजिल एक उत्तरमुखी भूखंड की योजना

सभी वास्तु निर्देशों की तरह, उत्तर की ओर मुख वाले घर का मुख्य प्रवेश द्वार बिना बाधा वाला और पूर्व की ओर होना चाहिए। बेडरूम को घर के दक्षिण-पश्चिम या उत्तर-पश्चिम कोने में डिजाइन किया जाना चाहिए। जबकि रसोई घर को पूर्वी हिस्से की ओर होना चाहिए, इसके अलावा वॉशरूम घर के पश्चिमी हिस्से की ओर होना चाहिए। उत्तर की ओर मुख वाले घरों के लिए एक और वास्तु यह भी है की सीढ़ियों के लिए विषम संख्या में सीढ़ियां होनी चाहिए।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

वास्तु घर/मंजिल एक पूर्वमुखी भूखंड की योजना

अगर आपका मुख्य द्वार पूर्व की ओर है, तो आपका घर पूर्वमुखी घर माना जाएगा। जबकि कई लोग मानते हैं कि पूर्व-उन्मुख घर सबसे शुभ होते हैं, हालंकि वास्तु वास्तव में जो बताता है वह यह है कि यह कमरों और अन्य उपयोगिताओं का स्थान है जो वास्तव में सभी मे अंतर बनाता है। वास्तु शास्त्र शौचालय में शयनकक्ष और वॉशरूम रखना अशुभ मानता है और इस तरफ रसोई रखना सख्त माना करता है। इसके बजाय, उत्तर-पूर्व कोनों को पुस्तकालय या रहने की जगह के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है और उत्तर-पश्चिम कोनों को शयनकक्ष के रूप में इस्तेमाल किया जाना चाहिए।

वास्तु घर/फर्श पश्चिममुखी प्लॉट की योजना

पश्चिममुखी घर के लिए मुख्य सलाह यह है कि प्रवेश द्वार घर के दक्षिण-पश्चिम कोने में होना चाहिए। इसके अलावा उत्तर या पूर्व की ओर मुख वाले घर के विपरीत, रसोईघर दक्षिण-पश्चिम की ओर स्थित नहीं होना चाहिए। इसके बजाय, पश्चिम मुखी भूखंड में रसोई के लिए सही स्थान उत्तर-पश्चिम या दक्षिण-पूर्व कोने होने चाहिए। इस मामले में दक्षिण-पश्चिम का कोना बेडरूम के लिए सबसे उपयुक्त है। यदि घर कई का है, तो ऊपरी मंजिल पर मास्टर बेडरूम बनाना एक अच्छा विचार हो सकता है।

वास्तु घर/फर्श में दक्षिणमुखी प्लॉट की योजना

दक्षिणमुखी घरों की वास्तु में एक मुश्किल स्थिति होती है, क्योंकि वास्तु में उत्तर और पूर्व की ओर मुख वाले घरों का उपयोग किया जाता है। हालांकि, कमरों की सही दिशा और व्यवस्था के साथ, दक्षिणमुखी घर भी समृद्धि और शांति का केंद्र साबित हो सकता है। यहां रसोईघर अनिवार्य रूप से घर के दक्षिण-पूर्व कोने में होना चाहिए जबकि शयनकक्ष दक्षिण-पश्चिम में होना चाहिए। इसके अलावा, सजावट में खुबसुरत फूल और पौधे लगा सकते हैं। प्लाट या घर के उत्तर-पूर्वी दिशा में एक छोटा सा बगीचा लगाना या गमले वाले पौधे रखना सही फैसला है।

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए: यहां क्लिक करें

वास्तु के अनुसार हो भूमि का आकार

प्लॉट का आकार और प्रभाव

वर्गाकार आकार -: वास्तु के अनुसार वर्गाकार आकार प्लॉट में बहुत शुभ, स्वास्थ्य, धन और खुशी लाता है।

आयताकार आकार -: आयताकार आकार प्लॉट मे अच्छा और शुभ। सर्वांगीण समृद्धि लाता है।

वृत्ताकार आकार -: केवल वृत्ताकार आकार की इमारतों के निर्माण के लिए अच्छा है।

पहिया के आकार का -: वास्तु के अनुसार पहिया के आकार के प्लॉट के मालिक वित्तीय स्थिति खो देता है और गरीबी का सामना करने की स्थिति को पैदा करता है|

विषम आकार -: अनेक प्रकार की समस्याओं और गरीबी का कारण बनता है इस आकार का प्लॉट|

त्रिकोणीय आकार -: यह प्रगति को प्रभावित करता है और सरकारी और राजनीतिक समस्याओं का कारण बनता है|

भादर्शन का आकार -: आवासीय उपयोग के लिए अच्छा नहीं है। सरकारी कार्यालय जैसे विशेष भवनों के लिए उपयोग किया जा सकता है|

गाड़ी के आकार -: वास्तु के अनुसार गाड़ी के आकार का प्लॉट गरीबी का और दुख का प्रतिक बनता है। मालिक को गाड़ी की तरह इधर-उधर भागना पड़ता है।

लंबी पट्टी के आकार -: वास्तु के अनुसार लंबी पट्टी के आकार का प्लॉट अच्छा नहीं है अगर मवेशी शेड के लिए इस्तेमाल किया जाता है, यहां पाले गए मवेशी मर जाते हैं|

डमरू के आकार का प्लॉट -: सदस्यों की आंखों की रोशनी पर बहुत बुरा प्रभाव डालेगा। साथ ही, घर में हर कोई निर्णय के लिए विवेक खो देता है|

विषम बहू आकार का प्लॉट -: स्वास्थ्य को प्रभावित करता है, अदालती मुकदमों में कैदियों को शामिल करती है और उन्हें गरीबी की ओर ले जाता है|

ढोल आकार का प्लॉट -: ढोल या ढोलक या मिरडुंग के आकार की पत्नी और परिवार की अन्य महिला सदस्यों की हानि होगी|

हाथ-पैन के आकार का प्लॉट -: धन, मवेशी आदि का नुकसान होता है। इसे ठीक किया जा सकता है और यदि अन्य पहलू वास्तु सिद्धांतों के अनुरूप हों तो इसका उपयोग किया जा सकता है|

वरहन मुखी आकार का प्लॉट -: इस आकार का जमीन भाइयों और रिश्तेदारों की मृत्यु का कारण बनता है|

कछुए के आकार का प्लॉट -: वास्तु के अनुसार कछुए के आकार का प्लॉट के कारण मालिक और उसके परिवार के सदस्यों की असमय मौत और हत्याएं होने का खतरा रहता है|

खिड़की के आकार का -: वास्तु के अनुसार इस भूखंड के निवासी मानसिक शांति खो देते हैं और गरीबी का सामना करते हैं|

धनुष के आकार का प्लॉट -: वास्तु के अनुसार इस प्लॉट में रहने वाले लोगों को चोरी, लूट, दुश्मनों के हमले आदि का डर रहता है।

मुसलाकर प्लॉट का प्लॉट -: वास्तु के अनुसार यह दुश्मनी को बढाता है और दोस्ती को तोड़ने का प्रतिक बनता है|

षट्भुज के आकार -: षट्भुज के आकार का भूखंड यदि अन्य सभी वास्तु सिद्धांतों का पालन किया जाए तो यह अच्छा माना जाता है। परिवार के सदस्यों की प्रगति में सहायक बताया गया है

अण्डाकार भूखंड का आकार -: धन, महिला और सम्मान जैसे कई तरीकों से हानि पहुंचा सकता है|

बहुभुज भूखंड -: इस तरह के भूखंड को आयताकार भूखंड बनाने से पहले आबाद नहीं किया जाना चाहिए अन्यथा यह मुकदमेबाजी और झूठे आरोप लाएगा

अष्टकोणीय आकार -: भूखंड शुभ है और सर्वांगीण समृद्धि लाएगा

पॉट टाइप प्लॉट इस प्लॉट पर रहने वाले लोगों को प्रगति के लिए समस्याओं और बाधाओं का सामना करना पड़ता है

सिम्हा मुख -: वास्तु के अनुसार सिम्हा मुख आवासीय उद्देश्यों के लिए अच्छा नहीं है। एक व्यावसायिक संगठन के लिए बहुत शुभ है।

गौमुख आकार -: वास्तु के अनुसार यह शुभ है, बशर्ते कि सड़कें भूखंड के दक्षिणी और पश्चिमी किनारों में हों।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

वास्तु के अनुसार किस दिशा में हो मुख्य द्वार

  • उत्‍तर दिशा -: वास्‍तु में उत्‍तर दिशा को देव दिशा माना गया है। इस दिशा को वास्‍तु के हिसाब से सबसे शुभ माना गया है। इस दिशा में आपके घर के मुख्‍य दरवाजे का होना सबसे शुभ माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि अगर आपके घर का मेन डोर उत्‍तर दिशा में हो तो आपको सुख प्राप्त होने की मात्रा अधिक होती है| जो कि बेहद फलदायी मानी जाती है। इस दिशा में मेन डोर होने से आपके मन में अच्छे विचार आते हैं।
  • पूर्व दिशा में मेन डोर -: अगर आपका मेन डोर पूर्व दिशा में है तो यह सबसे अच्छा माना जाता है। व्‍यवहारिक दृष्टि से इस दिशा में मेन डोर होना यानी लाभ का होना। क्योकि इस दिशा से सुरज निकलता है। इस दिशा में मेन डोर होने से आपके घर में सूर्य की ज्यादा रौशनी मिलेगी। वहीं यह दिशा आध्‍यात्मिक दृष्टि से भी शुभ मानी जाती है। वास्‍तु के अनुसार इस दिशा में दरवाजा होना सबसे अच्‍छा माना जाता है।
  • पश्चिम दिशा में मेन डोर -: आपके मकान का मेन डोर अगर पश्चिम दिशा में होता है तो यह बेहद शुभ संदेश देने वाला होता है। ऐसे लोग जीवन में तरक्‍की थोड़ी धीरे करते हैं, लेकिन उन्हें सफलता जरुर मिलती है। ऐसे लोगों की किस्मत अच्छी होती है।
  • दक्षिण दिशा में मेन डोर -: घर का मेन डोर दक्षिण दिशा में होना बहुत ही अशुभ माना जाता है। यह दिशा यम दिशा मानी गई है। इस दिशा में मेन डोर बनाने से घर का मालिक भी दुखी रहता है और उसमें रहने वाली महिलाएं भी दुखी रहती हैं। यहां तक कि ऐसे घर में रहने वाले लोगों पर मृत्यु का खतरा मंडराता रहता है। या फिर कई बार मृत्यू इन्हे छुकर निकर जाती है। इस दिशा से घर का मेन डोर होने से पितरों का आगमन होता है, इसलिए इस दिशा को अच्छी दिशा नही मानी जाती है और इस दिशा मे मेन डोर बिलकुल अच्‍छा नहीं होता।

वास्तु के अनुसार किस दिशा में हो बेड रूम

वास्तु शास्त्र के अनुसार बेड या पलंग को रखने के लिये कमरे में दक्षिण-पश्चिम दिशा का चुनाव करना चाहिए और उसका सिरहाना दक्षिण की ओर रखना चाहिए। वहीं, कमरे के उत्तर-पूर्व दिशा की बात करें तो कमरे के इस हिस्से को खाली ही रखना चाहिए।

वास्तु के अनुसार किस दिशा में हो बच्चों का रूम

वास्तु के अनुसार बच्चो के कमरे की दिशा उत्तर पूर्व दिशा में होनी चाहिए, क्योंकि यह दिशा बुद्धि, शक्ति और शक्ति से संबंधित होती है। इस दिशा में बिस्‍तर रखने से बच्‍चे पढ़ाई में व्‍यस्‍त रहते हैं और उनमें सकारात्मक ऊर्जा का अनुभव होता है|

वास्तु के अनुसार किस दिशा में हो लिविंग रूम

वास्तु के अनुसार लिविंग रूम का मुख उत्तर, पूर्व, उत्तर-पूर्व या उत्तर-पश्चिम की ओर होना चाहिए। यदि डाइनिंग एरिया लिविंग रूम से जुड़ा है, तो इसे लिविंग रूम के पूर्व या दक्षिण-पूर्व में स्थित होना चाहिए और किचन के करीब होना चाहिए।

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए: यहां क्लिक करें

वास्तु के अनुसार किस दिशा में हो बाथरूम

वास्तु शास्त्र के अनुसार फ्लश टॉयलेट या कमोड का अपना स्थान ऐसा होना चाहिए जहां उपयोगकर्ता का मुख किसी भी दिशा में हो लेकिन कभी भी पश्चिम या पूर्व दिशा में नहीं। इसलिए, फ्लश शौचालय रखने के लिए सबसे अच्छी जगह या तो दक्षिण-पूर्व में है या उत्तर-पश्चिम में या दक्षिण की ओर है।

वास्तु के अनुसार किस दिशा में हो गेस्ट रूम

उत्तर पश्चिम दिशा अतिथि कक्ष के लिए आदर्श स्थान है। घर की उत्तर-पश्चिम दिशा में गेस्ट रूम का निर्माण करें। यह गेस्ट रूम के लिए सबसे अच्छी जगह मानी जाती है। कमरे का दरवाजा भी उचित वास्तु दिशा में होना चाहिए ताकी घर में खुशियां आ सके।

वास्तु के अनुसार किस दिशा में बनवाएं डाइनिंग रूम

घर के दक्षिण, पश्चिम या पूर्व दिशा में डाइनिंग रुम रसोई घर से जुड़ा होना चाहिए। क्योंकि यह सबसे लाभप्रद स्थिति है, भोजन कक्ष बनाने के लिए सही दिशा पश्चिम है।

वास्तु के अनुसार भगवान का घर/ पूजा घर किस दिशा में होना चाहिए

वास्तु शास्त्र में पूजा कक्ष घर का बहुत महत्वपूर्ण भाग है। विशेषज्ञों का कहना है कि पूजा घर के लिए सबसे बेहतर दिशा उत्तर पूर्व है, उसके बाद पूर्व और उत्तर दिशा है। हालंकि ये दिशाएं आशाजनक हैं और घर में रहने वाले सभी सदस्यों के लिए सौभाग्य लाएंगी।

वास्तु के अनुसार कहां बनवाएं सीढ़ियां

वास्तु की मानें तो, सीढ़ियों के लिए दक्षिण-पश्चिम दिशा सबसे अच्छी होती है। साथ ही जब भी घर मे सिढियों का निर्माण करे तो ध्यान रखे सिढियों की संख्या विषम हो साथ ही इनकी ऊंचाई कम हो और सीधी हो|

वास्तु के अनुसार छत पर वॉटर टैंक होना सही है या नही

वास्तु के अनुसार हर घर मे वॉटर टैंक होता है। चाहे वो अंडरग्राउंड हो या छत पर रखा हो लेकिन यह जानना जरुरी है की छत पर वॉटर टैंक होना सही है या नहीं। अगर वास्तु की मानें तो वॉटर टैंक ऐसी जगह होना चाहिए, जो दक्षिण-पश्चिम दिशा से ऊंचा और भारी तो यह शुभ फलदायी माना जाता है।

छत पर पानी का टैंक दक्षिण पश्चिम दिशा में लगाने से अन्य भागों की अपेक्षा यह भाग ऊंचा और भारी हो जाता है। इसलिए शांति और समृद्धि के लिए दक्षिण पश्चिम दिशा में पानी का टैंक लगाना चाहिए क्योंकि यह बहुत शुभ होता है और घर में सकारात्मक लाने मे मददगार साबित होता है।

वास्तु दोष दूर करने के उपाय

  1. वास्तु दोष दूर करने के लिए घर की अच्छी तरह सफाई करें। साफ-स्वच्छ घर में हल्दी का घोल को पान के पत्ते की मदद से पूरे घर पर छिड़क दें। हल्दी की जगह आप गंगाजल का भी उपयोग कर सकते हैं।
  2. वास्तु शास्त्र के अनुसर जिस घर में रोजाना सूर्य की किरणें और स्वच्छ हवाएं आती हैं, वही अच्छा होता है। यदि आपके घर की खिड़कियां हमेशा बंद रहती हैं, तो उससे वास्तु दोष और नकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न होती है। जब भी मौका मिले, सुबह के समय कुछ देर के लिए ही सही, खिड़की और दरवाजे खोल दिया करें।
  3. पूजा स्थल में स्थान पर बासी फूल, फल या अन्य पूजन सामग्री नहीं छोड़ना चाहिए। इससे भी वास्तु दोष उत्पन्न होता है।
  4. वास्तु दोष कम करने के लिए प्रतिदिन पूजा के दौरान शंख और घंटी बजाएं। इससे घर में मौजूद नकारात्मकता दूर होगी, जिससे वास्तु दोष खत्म होगा।
  5. घर के उत्तर दिशा में हरे पेड़ पौधे रख सकते हैं। इसके अलावा दक्षिण-पूर्व दिशा यानी आग्नेय कोण की ओर लाल घोड़े के जोड़ों की तस्वीर लगाना लाभकारी माना जाता है।
  6. मकान के ब्रह्म स्थान या फिर ईशान कोण में स्फटिक श्रीयंत्र स्थापित कराएं। इससे आय में बढ़ोत्तरी होती है।
  7. घर के उत्तर-पूर्व दिशा में घर का बेकार पड़ा सामान नहीं रखना चाहिए। इससे भी घर में वास्तु दोष उत्पन्न होता है। इस दिशा को साफ-सुथरा रखें। इससे वास्तु दोष दूर होगा, परिवार में सुख-शांति बनी रहेगी।

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

कॉपीराइट 2022 कोडयति सॉफ्टवेयर सॉल्यूशंस प्राइवेट. लिमिटेड. सर्वाधिकार सुरक्षित