शुभ मुहूर्त 2022

banner

अभिजीत मुहूर्त 2022

जब कुछ नया शुरू करने की बात आती है, तो दिए गए समय की शुभता सबसे अधिक होती है। चाहे आप कहीं भी हों या किसी भी धर्म से जुड़े हो। हिंदू धर्म में दिन की शुभता को जानने के तरीकों में से एक है शुभ मुहूर्त 2022। कोई भी चीज को आप हासिल करना चाहते है, चाहे आपकी शादी हो या आपके बच्चे का मुंडन, शुभ मुहूर्त का पालन करते हुए इस तरह के अनुष्ठान करने से आपको परमात्मा से आशीर्वाद मिलता है। साथ ही यह इस तरह किसी भी स्थिति को आनंदमय और यादगार बना देता है।

2022 मे आप अपने लिए नई शुरुआत की योजना बना रहे हैं, तो यहां हिंदी और अंग्रेजी में सभी शुभ मुहूर्त 2022 की एक सूची है जो आपको भगवान की कृपा सुनिश्चित करने में मदद कर सकती है। एस्ट्रोटॉक पर ज्योतिषियों ने ग्रहों की गणना के आधार पर वर्ष 2022 में पड़ने वाले सभी शुभ मुहूर्तों की तिथियों और समय का संकलन किया है। इन शुभ मुहूर्त का ज्ञान होने से आप दिन के किसी भी समय आने वाली परेशानियों से बचाव कर सकते है।

आइए अब विवाह, नाम करण, विद्यारंभ, मुंडन, गृह प्रवेश, अन्नप्राशन, उपनयन, कर्णवेध, आदि के लिए शुभ मुहूर्त 2022 का पता लगाएं।

Add

शुभ मुहूर्त 2022: तिथि और समय

2022 में शुभ मुहूर्त के महत्व के बारे में आपको समझाने की हमें निश्चित रूप से कोई आवश्यकता नहीं है। एक साधारण पूजा करने से लेकर चंद्रमा पर रॉकेट भेजने तक भारतीयों ने हमेशा किसी भी तरह के शुभ कार्य को शुरू करने के लिए शुभ मुहूर्त पर भरोसा किया है। हमेशा से हमारा मतलब वास्तव में वैदिक काल से है जब ऋषियों ने वास्तव में विभिन्न उद्देश्यों के लिए शुभ मुहूर्त खोजने की प्रथा शुरू की थी। इसके बाद जैसे-जैसे हिंदू धर्म का विकास हुआ वैसे यह मान्यता भी हुई कि यदि कोई शुभ और मंगल कार्य करना है, तो उसे सही समय के दौरान करना चाहिए।

लेकिन सवाल यह है कि कोई यह कैसे तय करता है कि दिया गया समय सही है या गलत? या, यह सब शुभ मुहूर्त वास्तव में कैसे काम करता है? ठीक है यदि आप हमारे ज्योतिषियों से पूछें, तो वे निश्चित रूप से आपको शुभ मुहूर्त खोजने पर ध्यान देने के लिए विभिन्न आयाम बताएंगे। लेकिन यहां हम आपको ये सब बहुत ही आसान तरीके से समझाने की कोशिश करेंगे।

ज्योतिष में शुभ मुहूर्त 2022 खोजने के लिए हमारे ज्योतिषी जिन मुख्य बातों पर विचार करते हैं उनमें से एक ग्रह क्षण है। ज्योतिष में हमारे नौ ग्रह हैं जिन्हें नवग्रह भी कहा जाता है। ये ग्रह किसी भी समय आपकी कुंडली के 12 भावों में से किसी एक भाव में आसीन होते हैं। ये 12 भाव वित्त, प्रेम, स्वास्थ्य, विवाह, विदेश यात्रा, शत्रु, संतान, आदि से संबंधित होते हैं।

अब यदि कोई 2022 में विवाह करना चाहता है और 2022 में विवाह के लिए शुभ मुहूर्त कि खोज में है, तो ज्योतिषी पहले उनकी कुंडली देखेंगे। अन्य बातों के अलावा जैसे कि आप मांगलिक हैं या नहीं - ज्योतिषी आपकी कुंडली में विवाह के भाव पर और किसी विशेष समय पर कौन सा ग्रह उस पर गोचर कर रहा है इस पर भी एक नज़र डालेंगे। उदाहरण के लिए यदि विवाह भाव में राहु ग्रह स्थित हो तो वह दिन आपके लिए विवाह के लिए उत्तम नहीं हो सकता है। हालाँकि, यदि सूर्य ग्रह विवाह भाव में है, तो यह आपके लिए विवाह के लिए शुभ समय हो सकता है। इस प्रकार लड़के और लड़की दोनों की कुण्डलियाँ सुमेलित हो जाती हैं। जिसके बाद शादी के लिए यह शुभ मुहूर्त निकला जाता है।

अब जो लोग शुभ मुहूर्त की परिष्कृत परिभाषा चाहते हैं, उनके लिए हमारे ज्योतिषी इसे एक विशेष समय के रूप में परिभाषित करते हैं। जिसके दौरान सौर मंडल में ग्रह नक्षत्रों की स्थिति किसी व्यक्ति के लिए शुभ होती है।

2022 में शुभ मुहूर्त खोजने का महत्व

सब कुछ आधुनिक होने के साथ किसी को आश्चर्य हो सकता है कि हम अभी भी 2022 में एक या दो काम शुरू करने के लिए एक शुभ समय खोजने पर विचार क्यों करते हैं। खैर, जवाब बहुत आसान है। जब हम कुछ भी कर रहे होते हैं, तो हमारा पहला इरादा सफलता पाने का होता है। इस सफलता को पाने के लिए हमारा दिमाग हर संभव साधन ढूंढता है। निश्चित रूप से हम कड़ी मेहनत करते हैं। लेकिन, आपकी तरफ से की गई अतिरिक्त मेहनत आपके लिए नुकानदायक नहीं होगी। ज्योतिष शास्त्र में ग्रहों और नक्षत्रों को ऊर्जा का माध्यम माना गया है। उनकी ऊर्जा होने से हमें सकारात्मकता मिल सकती है। जिसे हमें प्राप्त जरूर करना चाहिए। यही एकमात्र कारण है कि किसी कार्य को शुरू करने से पहले शुभ मुहूर्त खोजने की आवश्यकता होती है।

शुभ मुहूर्त खोजने की इस परंपरा का इतिहास वैदिक काल से है। उन दिनों में ऋषि राजाओं को प्रस्ताव देते थे कि युद्ध शुरू करते समय भी समय की शुभता का विश्लेषण करके ही उन्हें कुछ करना चाहिए। ऐसा करने से आने वाली बाधाएं दूर रहती हैं, और सकारात्मकता आती है।

यह जानना बहुत दिलचस्प है कि अधिकांश आधुनिक पीढ़ी वैदिक बातों पर विचार नहीं करती है। हालाँकि, कहीं न कहीं उनके दिमाग में हमेशा कुछ नया शुरू करते समय शुभ मुहूर्त खोजने का विचार रहता है। बॉलीवुड से लेकर राजनीति तक, महंगी कारों की पूजा से लेकर राफेल जेट की पूजा तक, हमने बार-बार शुभ मुहूर्त खोजने के विज्ञान की वैधता को साबित किया है।

यहां तक कि अगर आप कभी भी हिंदू मूर्तियों या ग्रंथों को, विशेष रूप से वैदिक ग्रंथों को पढ़ते हैं, तो आप स्वयं पाएंगे कि इनमें से कई ग्रंथों में शुभ मुहूर्त और उनके महत्व का उल्लेख है। यहां तक कि कई देवताओं ने भी, जब रावण के पुत्र का जन्म होने वाला था तब ज्योतिष में ग्रहों को अनुपयुक्त स्थिति में ले जाने के लिए कहा था ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि रावण के पुत्र का जन्म शुभ समय पर नहीं हुआ है। यह कहानी स्वयं शुभ मुहूर्त की वैधता को साबित करती है कि हमारे जीवन को एक परोपकारी शक्ति क्यों माना जाता है।

ज्योतिषी शुभ मुहूर्त कैसे खोजते हैं?

शुभ मुहूर्त के प्रतिबाधा को इंगित करने के बाद अब हम देखेंगे कि हमारे ज्योतिषी शुभ मुहूर्त 2022 को कैसे पाते हैं। जबकि उसी प्रश्न का एक छोटा सा सार पहले पैराग्राफ में उल्लेख किया गया है। यहां उसी का एक विस्तृत संस्करण है। शुभ मुहूर्त 2022 को हिंदी में खोजने के लिए ग्रहों की स्थिति के अलावा हम अन्य ज्योतिषीय तत्वों पर भी विचार करते हैं जैसे - तिथि, नक्षत्र, शुभ योग, अशुभ योग, लग्न, राहु काल, भाद्र, अधिक मास, आदि।

जिन्हें बहुत से लोग समझ नहीं पाएंगे वर्ष का शुभ और अशुभ समय भी पाया जाता है। पूर्व को शुभ मुहूर्त कहा जाता है, वहीं बाद वाला आपको यह पता लगाने की अनुमति देता है कि कब कुछ नहीं करना है। क्योंकि अगर आप इस समय कुछ करने की कोशिश करते हैं, तो इस बात की अधिक संभावना है कि आपको सफलता नहीं मिलेगी या कई बाधाओं का सामना करना पड़ सकता है। इस प्रकार जब भी शुभ मुहूर्त 2022 खोजने का प्रयास करें, तो अशुभ समय पर भी विचार करें।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार पूरे दिन, यानि 24 घंटे में अलग-अलग काम करने के लिए 30 शुभ मुहूर्त होते हैं। प्रत्येक मुहूर्त कम से कम 48 मिनट तक रहता है। और, किसी महत्वपूर्ण कार्य को इन 48 मिनट में पूरा करने का प्रयास करना चाहिए।

शुभ मुहूर्त 2022 के प्रकार

जैसा कि हमने कहा 24 घंटे में 30 मुहूर्त होते हैं। पहला मुहूर्त यानी रुद्र मुहूर्त सुबह 6 बजे से शुरू होकर 48 मिनट तक चलता है। हालाँकि, यह एक अशुभ मुहूर्त है और एक नया कार्य शुरू करने के लिए व्यवहार्य नहीं माना जाता है। रुद्र मुहूर्त समाप्त होने के बाद अहि मुहूर्त आता है और यह भी अशुभ मुहूर्त की श्रेणी में आता है। इन दो मुहूर्तों के अलावा एक दिन में पड़ने वाले बाकी 28 शुभ मुहूर्त होते हैं।

S.No.Daily PeriodName (मुहूर्त)TranslationQuality, or Guṇa (गुण)
106:00 – 06:48 (sunrise)Rudra (रुद्र)“Cryer”, “Howler”Inauspicious
206:48 – 07:36Āhi (आहि)“Serpent”Inauspicious
307:36 – 08:24Mitra (मित्र)“Friend”Auspicious
408:24 – 09:12Pitṝ (पितॄ)“Father”Inauspicious
509:12 – 10:00Vasu (वसु)“Bright”Auspicious
610:00 – 10:48Vārāha (वाराह)“Boar”Auspicious
710:48 – 11:36Viśvedevā (विश्वेदेवा)“Heavenly Lights in the Universe”Auspicious
811:36 – 12:24Vidhi (विधि) or Abhijit“Insight”Auspicious – except Mondays, Wednesdays and Fridays
912:24 – 13:12Sutamukhī (सतमुखी)“Goat/Charioteer-Face”Auspicious
1013:12 – 14:00Puruhūta (पुरुहूत)“Many Offerings”Inauspicious
1114:00 – 14:48Vāhinī (वाहिनी) / Vinda“Possessed of Chariot”Inauspicious
1214:00 – 14:48Vāhinī (वाहिनी) / Vinda“Possessed of Chariot”Inauspicious
1314:00 – 14:48Naktanakarā (नक्तनकरा)“Night Maker”Inauspicious
1415:36 – 16:24Varuṇa (वरुण)“All-Envoloping Night Sky”Auspicious
1516:24 – 17:12Aryaman (अर्यमन्)“Possessed of Nobility”Auspicious – except Sundays
1617:12 – 18:00Bhaga (भग)“Share”/”Stake”Inauspicious
1718:00 – 18:48 (sunset)Girīśa (गिरीश)“Lord of the Mount”Inauspicious
1818:48 – 19:36Ajapāda (अजपाद)“Unborn Foot”/”Goat Foot”Inauspicious
1919:36 – 20:24Ahir-Budhnya (अहिर्बुध्न्य)“Serpent at the Bottom”Auspicious
2020:24 – 21:12Puṣya (पुष्य)“Nourishment”/”Blossom”Auspicious
2121:12 – 22:00Aśvinī (अश्विनी)“Horsemen”Auspicious
2222:00 – 22:48Yama (यम)“Restrainer” (Death)Inauspicious
2322:48 – 23:36Agni (अग्नि)“Fire”/”Ignition”Auspicious
2423:36 – 24:24Vidhātṛ (विधातृ)“Distributor”Auspicious
2524:24 – 01:12Kaṇḍa (क्ण्ड)“Ornament”Auspicious
2601:12 – 02:00Aditi (अदिति)“Destitute”/”Boundless”Auspicious
2702:00 – 02:48Jīva/Amṛta (जीव/अमृत)“Life”/”Immortal”Very Auspicious
2802:00 – 02:48Jīva/Amṛta (जीव/अमृत)“Life”/”Immortal”Very Auspicious
2902:48 – 03:36Viṣṇu (विष्णु)“All Pervading”Auspicious
3003:36 – 04:24Dyumadgadyuti (द्युमद्गद्युति)“Resounding Light”Auspicious
3104:24 – 05:12Brahma (ब्रह्म)“Universe”Very Auspicious for Mantra Japa or Prayer
3205:12 – 06:00Samudram (समुद्रम)“Ocean”Auspicious

शुभ मुहूर्त 2022: पांच महत्वपूर्ण बातें

जब हम शुभ मुहूर्त खोजने की कोशिश करते हैं, तो यह सुनिश्चित करने के लिए मुख्य रूप से पांच चीजों पर विचार किया जाता है। ये 5 चीजें हैं: पंचांग तिथि, वार, नक्षत्र, योग और करण। इन्हीं के आधार पर 2022 में शुभ मुहूर्त मिलता है। अब हम इन पर एक-एक करके चर्चा करेंगे।

पंचांग तिथि

तिथि हिंदू पंचांग के तत्वों में से एक है। शुभ मुहूर्त जानने के लिए तिथि जानना बहुत जरूरी है। एक तिथि चंद्रमा के दो चरणों की अवधि है जो पृथ्वी से देखे जाते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार एक महीने में 30 तिथियां होती हैं। इनमें से 15 शुक्ल पक्ष में और शेष 15 कृष्ण पक्ष में आती हैं। तिथि एक सूर्योदय से शुरू होकर दूसरे सूर्योदय तक चलती है।

हालांकि, कभी-कभी दो तिथियां एक ही दिन पड़ सकती हैं। इनमें से जिस तिथि में सूर्योदय नहीं होता उसे क्षय तिथि तथा दो सूर्योदय तक रहने वाली तिथि को वृष तिथि कहते हैं।

कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष के नाम इस प्रकार हैं:

कृष्ण पक्ष तिथि - प्रतिपदा, द्वितीया, तृतीया, चतुर्थी, पंचमी, षष्ठी, सप्तमी, अष्टमी, नवमी, दशमी, एकादशी, द्वादशी, त्रयोदशी, चतुर्दशी, अमावस्या

शुक्ल पक्ष तिथि - प्रतिपदा, द्वितीया, तृतीया, चतुर्थी, पंचमी, षष्ठी, सप्तमी, अष्टमी, नवमी, दशमी, एकादशी, द्वादशी, त्रयोदशी, चतुर्दशी, पूर्णिमा

वार

जब शुभ मुहूर्त 2022 खोजने की बात आती है, तो वार महत्पूर्ण है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार प्रत्येक सप्ताह में 7 वार होते हैं। ये हैं- सोमवार, मंगलवार, बुधवार, गुरुवार, शुक्रवार, शनिवार, रविवार। ज्योतिष में सभी वारों की अपनी-अपनी विशेषताएं बताई गई हैं।

हर दूसरी चीज़ की तरह प्रत्येक वार एक या दो चीज़ों का समर्थन करता है। यहां एक अच्छा उदाहरण है कि कैसे मुसलमान शुक्रवार को सबसे शुभ वार में से एक मानते हैं। इसी तरह कुछ वार विवाह के लिए अच्छे हैं और अन्य मुंडन, आदि के लिए शुभ होते है। ज्योतिष में मंगलवार, रविवार और गुरुवार को कई तरह से अच्छा माना जाता है।

नक्षत्र

नक्षत्र और कुछ नहीं बल्कि जो हम आकाश में देखते हैं वह है। चन्द्रमा जिस भी नक्षत्र में से किसी निश्चित समय में गुजरता है वह उस दिन का नक्षत्र बन जाता है। ऋषियों के समय, राशियों के बारे में जानने के लिए उन्होंने 12 राशियों को 27 नक्षत्रों में विभाजित किया। प्रत्येक नक्षत्र लगभग एक दिन का होता है और इसकी अपनी विशेषताएं होती हैं। जबकि कुछ नक्षत्र किसी विशेष कार्य के लिए अच्छे होते हैं, वहीं अन्य नक्षत्र अच्छे नहीं होते हैं। इस प्रकार 2022 में शुभ मुहूर्त का पता लगाते समय आपको केवल एक मुहूर्त का पालन करना चाहिए। जो अच्छे नक्षत्र पर पड़ता है।

ज्योतिष में 27 नक्षत्र हैं:

नक्षत्रों के नाम हैं: अश्विनी, भरणी, कृतिका, रोहिणी, मृगशिरा, आर्द्रा, पुनर्वसु, पुष्य, अश्लेषा, माघ, पूर्वाफाल्गुनी, उत्तरा फाल्गुनी, हस्त, चित्रा, स्वाति, विशाखा, अनुराधा, ज्येष्ठ, मूल, पूर्वा आषाढ़, उत्तरा आषाढ़, श्रवण, धनिष्ठा, शतभिषा, पूर्व भाद्रपद, उत्तरा भाद्रपद और रेवती।

नक्षत्र के भगवान

केतु - अश्विनी, माघ, मूल

शुक्र - भरणी, पूर्वा फाल्गुनी, पूर्वा आषाढ़

रवि - कृतिका, उत्तराफाल्गुनी, उत्तरा आषाढ़

चन्द्रमा - रोहिणी, हस्त, श्रवण

मंगल - मृगशिरा, चित्रा, धनिष्ठा

राहु - आर्द्रा, स्वाति, शतभिषा

ब्रहस्पति - पुनर्वसु, विशाखा, पूर्वाभाद्रपद

शनि - पुष्य, अनुराधा, उत्तरभाद्रपद

बुध - अश्लेषा, ज्येष्ठ, रेवती

योग

शुभ मुहूर्त 2022 को जानते समय ज्योतिषी भी योग का पालन करते हैं। किसी विशेष दिन का योग रात के आकाश में सूर्य और चंद्रमा की स्थिति से तय होता है। ज्योतिष शास्त्र में कुल 27 योग हैं जिनके आधार पर शुभ मुहूर्त 2022 का पता लगाया जा सकता है। 27 योगों में से नौ अत्यंत अशुभ हैं, जबकि शेष सभी योग शुभ माने जाते हैं। अशुभ योगों में कोई भी कार्य करना बुरा माना जाता है। यहां आपको 27 योगों और उनकी प्रकृति के बारे में जानने की जरूरत है-

ज्योतिष में योग के नाम

  1. विशाकुंभ
  2. प्रीति
  3. आयुष्मान
  4. सौभाग्य
  5. शोभना
  6. अतिगंडा
  7. सुकर्मा
  8. धृति
  9. शूल
  10. गंदा
  11. वृद्धि
  12. ध्रुव
  13. व्यघाट:
  14. हर्षना
  15. वज्र
  16. सिद्धि
  17. व्यतिपात:
  18. परिघा
  19. शिव
  20. सिद्ध
  21. साध्या
  22. शुभ:
  23. शुक्ल
  24. ब्रह्मा
  25. इंद्र
  26. वैधृति

ज्योतिष में शुभ योग - प्रीति, आयुष्मान, सौभाग्य, शोभन, सुकर्मा, धृति, वृद्धी, ध्रुव, हर्षना, सिद्धि, वरियान, शिव, सिद्ध, साध्य, शुभ, शुक्ल, ब्रह्मा, इंद्र।

ज्योतिष में अशुभ योग - विशकुंभ, अतिगंडा, शूल, गंडा, व्याघाट, वज्र, व्यतिपत, परिघ, वैधृति

करण

शुभ मुहूर्त की गणना करते समय करण पांचवीं चीज है। एक करण तब होता है जब चंद्रमा सूर्य से 6 डिग्री की स्थिति में चलता है। जब शुभ मुहूर्त 2022 खोजने की बात आती है, तो करण स्पष्ट रूप से सबसे महत्वपूर्ण तत्वों में से एक है। शुभ मुहूर्त 2022 ज्योतिष में एक तिथि में 2 करण होते हैं। ज्योतिष में कुल 11 करण हैं जिनमें से चार स्थिर प्रकृति के हैं, और अन्य सात करण परिवर्तनशील प्रकृति के हैं।

करण के नाम - किमस्तुघ्न, शकुनि, नाग, चतुर्पाद, बावा, बलव, कौलव, गर, तैतिल, वनिज, विष्टी/भद्रा

स्थिर करण - किमस्तुघ्न, शकुनि, नाग, चतुर्पाद

चार करण - बाव, बलव, कौलव, गर, तैतिल, वनिज, विष्टी/भद्रा

शुभ मुहूर्त 2022 के दौरान आपको क्या करना चाहिए?

अब तक आप समझ ही गए होंगे, कि हिंदू धर्म में शुभ मुहूर्त की खोज क्यों जरूरी है, और आपको इसकी विधि क्यों जाननी चाहिए। यदि आप किसी भी कार्य के लिए शुभ मुहूर्त का पालन करते हैं, तो निश्चित करें कि आप अपने लिए जो कुछ भी हासिल करने की कोशिश कर रहे हैं, उसमें समृद्धि और ढेर सारी शांति, खुशी और सफलता मिले।

फिर भी केवल 2022 में शुभ मुहूर्त खोजने से किसी का काम खत्म नहीं हो जाता। शुभ मुहूर्त पर क्या करें और क्या नहीं, यह भी आपको पता होना चाहिए। संक्षेप में 2022 में शुभ मुहूर्त के दौरान आप क्या करने पर विचार कर सकते हैं, आइये देखते हैं:

  • आप शुभ मुहूर्त के दौरान कमाई के साधन शुरू करना चुन सकते हैं। ये व्यवसाय, नौकरी आदि हो सकते हैं।
  • शुभ मुहूर्त के दौरान किए जा सकने वाले अन्य कार्य संस्कार/अनुष्ठान हैं। कुछ सबसे महत्वपूर्ण संस्कार जो केवल शुभ मुहूर्त के दौरान किए जाने चाहिए, वे हैं नामकरण, मुंडन संस्कार, विवाह संस्कार, आदि।
  • शुभ मुहूर्त 2022 के दौरान आप अपने घर, दुकान, कारखाने की नींव रखना चुन सकते हैं।
  • शुभ दिन की गई किसी भी प्रकार की धार्मिक यात्रा आपको भगवान का आशीर्वाद प्राप्त करने में मदद कर सकती है।
  • अगर आप चांदी, सोना या कोई अन्य रत्न खरीदना चाहते हैं, तो आपको शुभ मुहूर्त की जांच करनी चाहिए।
  • क्या आप वाहन खरीदने की योजना बना रहे हैं? तो, 2022 में भी वाहन खरीदने का शुभ मुहूर्त है।

जबकि यह सब हमारी तरफ से है, अधिक जानकारी के लिए आप हमारे ज्योतिषियों से बात कर सकते हैं।.

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

आज का राशिफल

horoscopeSign
मेष

Mar 21 - Apr 19

horoscopeSign
वृषभ

Apr 20 - May 20

horoscopeSign
मिथुन

May 21 - Jun 21

horoscopeSign
कर्क

Jun 22 - Jul 22

horoscopeSign
सिंह

Jul 23 - Aug 22

horoscopeSign
कन्या

Aug 23 - Sep 22

horoscopeSign
तुला

Sep 23 - Oct 23

horoscopeSign
वृश्चिक

Oct 24 - Nov 21

horoscopeSign
धनु

Nov 22 - Dec 21

horoscopeSign
मकर

Dec 22 - Jan 19

horoscopeSign
कुंभ

Jan 20 - Feb 18

horoscopeSign
मीन

Feb 19 - Mar 20

निःशुल्‍क ज्योतिष सेवाएं

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न:

प्रश्न1. मुहूर्त और चौघडिया में क्या अंतर है?

मुहूर्त एक अनुकूल समय को दिया गया नाम है। ऐसा माना जाता है कि शुभ मुहूर्त के दौरान किया गया कोई भी कार्य बेहतर परिणाम देगा और बिना किसी कठिनाई के पूरा होगा। यह मुहूर्त कार्य की प्रकृति और नक्षत्रों और ग्रहों की स्थिति से निर्धारित होता है। एक ही दिन में कई मुहूर्त हो सकते हैं या महीनों तक कोई भी मुहूर्त नहीं हो सकता है। दूसरी ओर चौघड़िया का अर्थ है चार घड़ियाँ। यह एक निश्चित दिन के लिए शुभ मुहूर्त निर्धारित करने के सबसे सरल तरीकों में से एक है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार घड़ी को घड़ी में मापा जाता है। और प्रत्येक घडी आम तौर पर 24 मिनट का होता है। नतीजतन, चौघड़िया लगभग 96 मिनट लंबा है।

प्रश्न 2. 2022 में किन महीनों में शादी के लिए शुभ मुहूर्त नहीं है?

मार्च, अगस्त, सितंबर और अक्टूबर में 2022 में विवाह के लिए कोई शुभ तिथियां नहीं हैं।

प्रश्न3. अभिजीत मुहूर्त का क्या अर्थ है?

अभिजीत मुहूर्त ज्योतिष के अनुसार सूर्योदय से सूर्यास्त तक सभी पंद्रह मुहूर्तों में से आठवां और सबसे शुभ मुहूर्त है। यह मुहूर्त स्वयं निर्मित है और अंतरिक्ष के मूल में स्थित है।

प्रश्न4. ब्रह्म मुहूर्त का क्या अर्थ है?

ब्रह्म मुहूर्त एक चरण (मुहूर्त) है, जो सूर्योदय से 1 घंटे 36 मिनट पहले शुरू होता है और इसके 48 मिनट बाद समाप्त होता है।

कॉपीराइट 2022 कोडयति सॉफ्टवेयर सॉल्यूशंस प्राइवेट. लिमिटेड. सर्वाधिकार सुरक्षित