जानें जातक की कुंडली पर क्या प्रभाव डालते हैं मारक ग्रह और इससे जुड़े उपाय

जन्म राशि
WhatsApp

वैदिक ज्योतिष में मारक ग्रहों का अत्यधिक महत्व होता है, क्योंकि यह एक कुंडली से दूसरी कुंडली में अलग-अलग होता है यानी एक लग्न से दूसरी कुंडली में यह ग्रह अलग होते हैं। इनके प्रभाव से जातक को मृत्यु का सामना भी करना पड़ सकता है। हालांकि, ऐसा अशुभ परिणाम तभी होता है, जब इन ग्रहों की महादशा, अंतर्दशा या प्रत्यन्तर्दशा सक्रिय हो जाती है। मारक ग्रह जातक के जीवन में अशुभ समय लेकर आते हैं, जो व्यक्ति के लिए काफी कष्टकारी होता है।

यदि किसी मारक ग्रह की दशा आपके जीवन में एक से अधिक बार आती है, तो यह आवश्यक नहीं है कि वह आपके जीवन में केवल परेशानी ही लाए, बल्कि आपको कई अच्छे परिणाम भी दे सकता है। साथ ही इन ग्रहों का विश्लेषण करने पर प्रत्येक लग्न यानी मेष से मीन लग्न के लिए अलग-अलग मारक ग्रहों का प्रभाव उसी के अनुसार भिन्न होता है। ज्योतिष शास्त्र में नवग्रह यानी नौ ग्रह होते हैं। लेकिन प्रत्येक राशि के लग्न के लिए अलग-अलग ग्रह मारक और कारक की जिम्मेदारी निभाते हैं। दरअसल मारक ग्रह से तात्पर्य ऐसे ग्रहों से है, जो हमारे जीवन में बहुत सारी समस्याओं को जन्म देने में सक्षम हैं और जिनका हमारे जीवन पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

आज इस लेख के माध्यम से हम मारक ग्रहों के बारे में विस्तार से जानने की कोशिश करेंगे कि मारक ग्रहों का जातक की कुंडली पर क्या प्रभाव होता है और मारक ग्रहों के प्रभाव को संतुलित करने के लिए जातक को क्या उपाय करने चाहिए।

क्या होते हैं मारक ग्रह

मारक ग्रह कोई विशेष ग्रह नहीं होते बल्कि जातक की कुंडली में मौजूद नौ ग्रहों में कुछ विशेष ग्रह होते हैं, जो किसी विशेष लग्न के लिए अहम भूमिका निभाते हैं। किसी भी प्रकार की कुंडली में ग्रह कारक की भूमिका निभाते हैं और जीवन में अनुकूल परिणाम प्रदान करते हैं। वहीं कुछ ग्रहों को तटस्थ माना जाता है, जो विशिष्ट परिस्थितियों के आधार पर जातक को फल देने में सक्षम होते हैं। इनके साथ ही कुछ ग्रहों को मारक ग्रह कहा जाता है, जो जीवन में परेशानी पैदा करने की क्षमता रखते हैं। जब इन मारक ग्रहों की दशा जातक जीवन में सक्रिय होती है, तो यह व्यक्ति को संबंधित फल की प्राप्ति होती है। अब वह परिणाम कितना बुरा है यह उस स्थिति पर निर्भर करता है और इसके बारे में कुंडली के समग्र विश्लेषण के बाद ही बताया जा सकता है।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

कुंडली में मारक ग्रह का अर्थ

मारक ग्रह उन ग्रहों को वर्णित करते हैं, जो किसी विशेष कुंडली के लिए अशुभ परिणाम देते हैं। कुंडली में लग्न को शरीर माना गया है यानी लग्न के आधार पर हमारे व्यक्तित्व का विश्लेषण किया जाता है। लग्न से अष्टम भाव आयु और दीर्घायु का भाव भी जुड़ा होता है और जब अष्टम भाव का मूल्यांकन किया जाता है, तो  कुंडली का तीसरा भाव भी आयु के बारे में जानकारी प्रदान करता है।

ऐसे मुख्य भाव जो आयु को कम करने का कार्य करते हैं, वे मारक ग्रहों के प्रभाव में आते हैं। इस प्रकार अष्टम भाव अर्थात सप्तम भाव के हानि भाव को मारक भाव तथा सप्तम के स्वामी को कुंडली का मारक ग्रह कहा जाता है। इसी प्रकार कुंडली के तीसरे भाव अर्थात दूसरे भाव के लिए हानि भाव को भी मारक भाव कहा जाता है और दूसरे भाव के स्वामी को मारक ग्रह के नाम से जाना जाता है।

मुख्य रूप से सप्तम और द्वितीय भाव के स्वामी मारक ग्रह कहलाते हैं और जब इनकी दशा, महादशा, अंतर्दशा, प्रत्यन्तर्दशा सक्रिय होती है, तो जातक को जीवन में विभिन्न प्रकार की बाधाओं का सामना करना पड़ता है। इन दोनों भावों के स्वामी को अशुभ मानना ​​अनुकूल नहीं है। लेकिन कुंडली के छठे भाव के स्वामी को भी अशुभ फल देने वाला माना जाता है, क्योंकि यह रोग, बीमारी और कर्ज का भाव होता है। कुछ अनुभवी ज्योतिषी भी व्यय भाव अर्थात बारहवें भाव के स्वामी को मारक मानते हैं, क्योंकि यह लग्न भाव से हानि का भाव है। चलिए अब जानते हैं कि कौन से ग्रह विभिन्न लग्नों के लिए मारक माने जाते हैं:

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए: यहां क्लिक करें

मेष लग्न

मेष लग्न का स्वामी ग्रह मंगल है और सप्तम भाव का स्वामी शुक्र है। इस प्रकार, दो मारक भावों का स्वामी होने के कारण शुक्र ग्रह मेष लग्न के लिए एक शक्तिशाली मारक ग्रह माना जाता है। मेष लग्न के लिए बुध भी अशुभ ग्रह माना जाता है, क्योंकि यह तीसरे और छठे भाव का स्वामी है।

वृषभ लग्न

वृषभ लग्न का स्वामी ग्रह शुक्र है। यह जातक के लग्न में बुध ग्रह दूसरे भाव का स्वामी होने के साथ-साथ पंचम भाव का भी स्वामी है, इसलिए यह मारक का प्रभाव नहीं देता है। आपके सप्तम भाव पर मंगल का शासन है, जिसके दूसरे भाव की राशि आपके बारहवें भाव में आती है, इसलिए मंगल वृषभ लग्न के लिए एक शक्तिशाली मारक ग्रह बन जाता है। वृषभ लग्न में देव गुरु बृहस्पति भी अष्टम के साथ-साथ एकादश भाव का स्वामी होने के कारण भी अशुभ हो जाता है।

मिथुन लग्न

मिथुन लग्न का स्वामी बुध है। आपके दूसरे भाव का स्वामी चंद्रमा है, जो बुध ग्रह के साथ अपने अस्थिर और शत्रुतापूर्ण संबंध के कारण एक अशुभ ग्रह की भूमिका निभाता है। आपके सप्तम भाव का स्वामी देव गुरु बृहस्पति है, जो आपके दशम भाव का स्वामी भी है। इसी कारण यह मारक ग्रह की भूमिका नहीं निभाता है। लेकिन मंगल जो कि छठे और ग्यारहवें भाव का स्वामी है, वह एक मजबूत मारक बन जाता है।

कर्क लग्न

कर्क लग्न का स्वामी चंद्रमा है और दूसरे भाव का स्वामी सूर्य है, जो चंद्रमा के अनुकूल भी है। इसलिए यह मारक ग्रह की भूमिका नहीं निभाता है, बल्कि कर्क लग्न में शनि ग्रह का स्वामी होने के कारण यह मारक ग्रह की भूमिका निभाता है। सप्तम और अष्टम भाव प्रबल मारक ग्रह बनता है। आपकी लग्न से तीसरे और बारहवें भाव का स्वामी होने के कारण बुध ग्रह को अशुभ ग्रह भी कहा जाता है।

सिंह लग्न

आपके लग्न का स्वामी सूर्य है और कुंडली के दूसरे भाव यानी कन्या राशि का स्वामी बुध ग्रह है। लेकिन बुध सूर्य के प्रति तटस्थ होता है, इसलिए वह मारक नहीं बनता है। लेकिन सातवें और छठे भाव का स्वामी होने के कारण शनि एक मजबूत मारक ग्रह बन जाता है।

कन्या लग्न

कन्या लग्न का स्वामी बुध है और तुला जातक के दूसरे भाव में है, जिसका स्वामी शुक्र है। लेकिन शुक्र कन्या लग्न के लिए मारक की भूमिका नहीं निभाता है, क्योंकि वह नवम भाव का स्वामी है और बुध ग्रह के प्रति मित्रवत है। देव गुरु बृहस्पति, कन्या लग्न में सप्तम भाव का स्वामी होता है। लेकिन साथ ही चतुर्थ भाव का स्वामी होने के कारण प्रभावशाली मारक नहीं बन पाता है, जबकि मंगल तृतीय भाव का स्वामी होने के कारण प्रभावशाली मारक नहीं बन पाता है और इनकी कुंडली में अष्टम भाव प्रबल मारक होता है।

तुला लग्न

तुला लग्न का स्वामी ग्रह शुक्र है, इसके दूसरे भाव का स्वामी मंगल है, जो सप्तम भाव का भी स्वामी है। इस तरह तुला लग्न के जातकों के लिए मंगल प्रबल मारक ग्रह बन जाता है। तुला लग्न में तीसरे भाव का स्वामी और छठे भाव का स्वामी होने के कारण बृहस्पति अशुभ ग्रह बन जाता है।

वृश्चिक लग्न

वृश्चिक लग्न का स्वामी मंगल है, जबकि बृहस्पति आपके दूसरे भाव का स्वामी है। लेकिन लग्नेश का मित्र है। सप्तम भाव का स्वामी शुक्र है, जो आपके बारहवें भाव का स्वामी है और इसलिए शुक्र प्रबल मारक बन जाता है। इसके अलावा, आठवें और एकादश भाव का स्वामी होने के कारण बुध भी कष्टकारक ग्रह बन जाता है।

धनु लग्न

धनु लग्न का स्वामी ग्रह बृहस्पति है और शनि दूसरे और तीसरे भाव का स्वामी होने के कारण धनु राशि के जातकों के लिए मारक ग्रह बन जाता है। उनके सप्तम भाव के साथ दशम भाव का स्वामी होने के कारण बुध ग्रह मारक ग्रह की भूमिका नहीं निभाता है। फिर भी यह कुछ हद तक परेशानी पैदा करने की क्षमता रखता है। शुक्र छठे और एकादश भाव का स्वामी होने के कारण मारक हो जाता है।

मकर लग्न

मकर लग्न के स्वामी शनि देव हैं, जो आपके दूसरे भाव के स्वामी भी हैं। आपकी कुंडली में चंद्रमा सप्तम भाव का स्वामी है। लेकिन एकादश भाव का स्वामी होने के कारण और लग्नेश शनि से शत्रुता के कारण मंगल शक्तिशाली मारक बन जाता है। चंद्रमा की दशा भी कष्टदायी होती है। बृहस्पति भी अशुभ भावों यानी तीसरे और बारहवें भाव का स्वामी होने के कारण अशुभ फल देने वाला होता है।

कुंभ लग्न

कुम्भ लग्न के स्वामी शनि देव हैं, जिनके द्वितीय भाव में बृहस्पति शासित मीन राशि का स्वामी है। अपनी दूसरी राशि धनु आपके एकादश भाव में होने के कारण  बृहस्पति एक मारक ग्रह की भूमिका निभाते हैं। सूर्य सप्तम भाव का स्वामी होने के कारण तथा मंगल तृतीय भाव का स्वामी होने के कारण लग्नेश से शत्रुता के कारण मारक का कार्य करता है।

मीन लग्न

मीन लग्न का स्वामी बृहस्पति है। आपके दूसरे भाव का स्वामी मंगल है, जिसकी दूसरी राशि वृश्चिक आपके नवम भाव में है और लग्न के प्रति मित्रता होने के कारण मंगल मारक ग्रह नहीं बनता है। आपकी लग्न से तीसरे भाव का स्वामी शुक्र भी आपके आठवें भाव का स्वामी है। इसलिए यह एक शक्तिशाली ग्रह बन जाता है। शनि बारहवें और ग्यारहवें भाव का स्वामी होने के कारण भी कष्टकारी होता है।

यदि उपर्युक्त मारक ग्रह कुंडली में प्रमुख राजयोग कारक ग्रह बन जाते हैं, तो वे अपना मारक प्रभाव छोड़ देते हैं। यदि कोई मारक ग्रह अपनी महादशा के दौरान अपनी अंतर्दशा से गुजर रहा हो, तो यह बहुत पीड़ादायक होता है। शनि देव को काल भी कहा जाता है, इसलिए विशेष परिस्थितियों में शनि जब मारक ग्रहों से संबंधित होते हैं, तो शनि देव स्वयं उन ग्रहों के प्रभाव को अवशोषित कर मारक बन जाते हैं। लेकिन इसके लिए शनि देव का अशुभ ग्रह होना जरूरी है। 

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए: यहां क्लिक करें

मारक ग्रह के परिणाम

वैदिक ज्योतिष में उस विशेष ग्रह की महादशा की अंतर्दशा या प्रत्यंतर दशा के दौरान मारक ग्रह का प्रभाव देखा जाता है। मारक ग्रह की दशा मृत्यु की पीड़ा देने में सक्षम है। लेकिन कुछ विशेष परिस्थितियों में यह अनुकूल परिणाम भी देती है। आमतौर पर जब किसी मारक ग्रह की दशा चल रही हो, तो व्यक्ति के जीवन में परेशानियां बढ़ जाती हैं। उन्हें अपने कार्यों में चुनौतियों और बाधाओं का सामना करना पड़ता है, जो असफलताओं और समस्याओं का कारण बनते हैं। मानसिक तनाव बढ़ता है और मानसिक और शारीरिक परेशानी उन्हें परेशान करने लगती है।

इसी के साथ मारक ग्रह के कारण मानहानि का भी सामना करना पड़ता है। साथ ही किसी प्रकार की दुर्घटना या चोट लगने की संभावना भी बढ़ जाती है। मारक ग्रह की दशा जातक को किसी प्रकार की दीर्घकालिक बीमारी या परेशानी की स्थिति का सामना करना पड़ता है। यदि आप मारक ग्रह की दशा से गुजर रहे हैं, तो आपके वैवाहिक जीवन में भी अकारण कष्ट, भय और घबराहट का सामना करना पड़ सकता है। आप में आत्मविश्वास की कमी है और आपको जीवन के लगभग कई क्षेत्रों में समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

मारक ग्रह का जातक पर प्रभाव

वहीं मारक ग्रहों की दशा हमेशा कष्टदायक नहीं होती है। यह मूल्यांकन किया जाना चाहिए कि क्या व्यक्ति की आयु युवा, मध्यम आयु वर्ग या वृद्ध मानी जाती है। उदाहरण के लिए यदि कोई जातक युवा है और बहुत कम उम्र में मारक ग्रह की दशा से गुजर रहा है, तो उसकी मृत्यु की संभावना बढ़ जाती है। यदि कोई व्यक्ति अधेड़ यानी जिसकी उम्र ढल रही है। लेकिन उसकी मारक ग्रह की दशा सक्रिय है। इस उम्र में व्यक्ति की मृत्यु नहीं होती है। लेकिन उसे मृत्यु जैसी पीड़ाओं, शारीरिक समस्याओं और काम में बाधाओं का सामना करना पड़ता है।

यदि कुंडली में मारक ग्रह अनुकूल स्थिति में यानी अपनी उच्च राशि में स्थित हो, तो यह भी संभव है कि जब इस ग्रह की दशा हो, तो कुछ शारीरिक समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। लेकिन जीवन के कई क्षेत्रों में अनुकूल परिणाम मिल सकते हैं, जिससे सफलता मिलती है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार अष्टमेश होने के कारण सूर्य और चंद्रमा दोष प्राप्त नहीं करते हैं। इसका अर्थ है कि यदि इनमें से कोई भी ग्रह अष्टम भाव का स्वामी हो, तो मृत्यु का कारण नहीं बनता। लेकिन अष्टम भाव का स्वामी होने के कारण जीवन में परेशानी हो सकती है।

अब यदि सूर्य अष्टम भाव का स्वामी होकर केंद्र में अपनी उच्च राशि में हो, तो सूर्य की महादशा सक्रिय होने से उस जातक के जीवन में भय, घबराहट, मानसिक तनाव और शारीरिक पीड़ा हावी हो सकती है। लेकिन सूर्य अपनी उच्च अवस्था में है इसलिए जातक को अपने सम्मान में वृद्धि देखने को मिलेगी और आर्थिक स्थिति मजबूत होगी। इस प्रकार जीवन में विभिन्न रूपों और विभिन्न स्थितियों में इन ग्रहों का प्रभाव देखा जा सकता है।

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए: यहां क्लिक करें

मारक ग्रहों के अशुभ प्रभावों से बचने के लिए उपाय

जातक के जीवन में दुख का प्रमुख कारण यह ग्रह होते है और भगवान का आशीर्वाद लेना दुख से छुटकारा पाने का मुख्य तरीका है। इसलिए कहा जाता है कि व्यक्ति को हमेशा अच्छे कर्म करने चाहिए ताकि उसे कष्टदायक समय से गुजरना न पड़े और हमेशा भगवान की भक्ति में तैयार रहना चाहिए, ताकि भगवान उसके कष्टों को दूर कर सकें।

वैदिक ज्योतिष में जब मारक ग्रह की दशा और महादशा सक्रिय हो जाती है और जातक कई प्रकार की समस्याओं का सामना कर रहा होता है, तो कुछ विशेष उपाय करने से समस्या का काफी हद तक कम हो जाती है। हालांकि, जीवन में आपको जो कुछ भी मिल रहा है, वह आपके कार्यों का परिणाम है, इसलिए आपको उसी के अनुसार फल भुगतना होगा। लेकिन इन उपायों से आप ऐसे कठिन समय और चुनौतियों से निपटने में सक्षम हो जाते हैं। मारक ग्रह की दशा सक्रिय होने पर निम्नलिखित उपाय किए जा सकते हैं:

  • आपको भगवान शिव जी की पूजा करनी चाहिए, जो सभी कष्टों का नाश करने वाले हैं। साथ ही इन ग्रह की चल रही दशा के दौरान परिणामों से लड़ने का सबसे अच्छा उपाय भी है।
  • यदि आपकी कुंडली में कोई मारक ग्रह अपनी दशा से गुजर रहा है, जिसके परिणामस्वरूप आपको कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है, तो आपको भगवान शिव की पूजा करनी चाहिए और रुद्राभिषेक विधिपूर्वक करना चाहिए। इससे आपको जीवन में आए इन कष्टों से राहत मिल सकती है।

यह भी पढ़ें- वरलक्ष्मी व्रत 2022ः जानें क्या होता हैं वरलक्ष्मी व्रत और शुभ मुहूर्त

शिव मंत्र

  • भगवान शिव के महामृत्युंजय रूप को परिभाषित करने वाले मंत्र “ॐ नमः शिवाय मृत्युंजय महादेवाय नमोस्तुते/ का नियमित रूप से जप करने से जातक को परेशानियों से निपटने में सहायता मिलती है।
  • यदि आपके परिवार के किसी अन्य सदस्य को किसी भी प्रकार की समस्या का सामना करना पड़ रहा है या आपका कोई परिचित दर्द में है, तो मारक ग्रह के उपाय के रूप में “ॐ जूं स: (उस व्यक्ति का नाम) मंत्र का जाप करें। 
  • इसके अलावा मारक ग्रह की दशा-अंतर्दशा को ध्यान में रखते हुए उस मारक ग्रह के दिन, नक्षत्र में उस इन ग्रह से संबंधित वस्तुओं का दान किया जा सकता है।
  • यदि आप मारक ग्रह के प्रभाव में हैं, तो श्री राम रक्षा स्तोत्र का पाठ करें। 
  • मारक ग्रह का प्रबल प्रभाव आपके लग्नेश या स्वास्थ्य के लिए अनुकूल नहीं है। यही कारण है कि आपको लग्नेश की पूजा करनी चाहिए और इससे जुड़े मंत्रों का जाप करना चाहिए।
  • गायत्री मंत्र का जाप करना जातक के लिए शुभ होगा। 

ऊपर बताए गए उपाय से मारक ग्रह से संबंधित अशुभ प्रभावों को कुछ हद तक कम किया जा सकता है, क्योंकि इस जीवन में ग्रहों के प्रभाव के कारण हमें जो भी फल प्राप्त होते हैं, वे हमारे पिछले कर्मों के फल होते हैं। इसलिए इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि आपके किसी भी कार्य से किसी को ठेस न पहुंचे। आपको हमेशा अच्छे काम करने चाहिए। ऐसे में यह ग्रह आपके मार्ग में विघ्न नहीं डालते और व्यक्ति को ईश्वर की कृपा प्राप्त होती है।

अधिक जानकारी के लिए आप Astrotalk के अनुभवी ज्योतिषियों से बात करें।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 1,134 

WhatsApp

Posted On - October 20, 2022 | Posted By - Jyoti | Read By -

 1,134 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation