Love marriage in Kundli: जानें कुंडली में प्रेम विवाह के लिए महत्वपूर्ण योग, ग्रह, और भाव जो देते है लव मैरिज के संकेत

प्रेम विवाह
WhatsApp

विवाह एक ऐसा बंधन होता है, जो न केवल दो लोंगो को बल्कि दो परिवारों को आपस में जोड़ता है। यह जीवनभर का साथ है, जो दो लोग मिलकर निभाते है। बहुत लोग कहते है कि जोड़ियां स्वर्ग में बनती हैं और यह काफी हद तक सटीक भी होता है। कई जातकों की कुंडली में प्रेम विवाह मौजूद होता है। यह सर्वविदित तथ्य है कि यह एक ऐसा शुभ योग, ग्रह, और भाव है, जो आपके जीवन में प्रेम ला सकता है, जिसके कारण आपका जीवन सुखी होता है। जानें कुंडली में लव मैरिज के लिए महत्वपूर्ण योग, ग्रह, और भाव जो जीवन में विवाह केसा होगा ये बताते हैं।

ज्योतिष शास्त्र में लव मैरिज का अर्थ

कुंडली में प्रेम विवाह का विश्लेषण और भविष्यवाणी करने के लिए आपको ग्रहों की स्थिति और ज्योतिषीय भावों को जानना ज़रूरी है। आपकी कुंडली के भावों में ग्रहों और उनके संबंधों से प्रेम विवाह की संभावना का अनुमान लगाया जा सकता है। साथ ही साथ ही आपका जीवन साथी कैसा होगा, उनके और आपके बीच शादी के बाद सम्बन्ध कैसे रहेंगे यह भी बताता है। इसके अलावा, अपनी कुंडली में इन विवरणों के महत्व को समझकर, आप एक ही धर्म में अंतर्जातीय प्रेम विवाह को आसानी से जान सकते हैं।

यह भी पढ़े: होने वाला है शनि गोचर 2023, जानें किस राशि की चमकेगी किस्मत और किस राशि को उठाना होगा परेशानियों का बड़ा भार

उसी प्रकार, कुंडली में कई योग बनते है, जो जातक को सकारात्मक और नकारात्मक दोनों प्रभावों से अवगत कराते है। उन्ही में से एक प्रेम विवाह का योग, जो जातक की कुंडली में बनने से व्यक्ति के प्रेम विवाह होने की संभावना को बढ़ा देता है। और यह योग ग्रहों की युति, परिवर्तन, गोचर, संयोजन आदि के कारण बनता है।

ज्योतिष के अनुसार, कुंडली में प्रेम विवाह योग बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले 5वां और 7वां भाव होता है। इसके अलावा, ज्योतिष में विवाह योग के संकेतों की जांच के लिए 8वें या 11वें भाव का विश्लेषण भी किया जाता है। यह योग जातक के लिए सकारात्मक होता है, क्योंकि जब यह योग जातक की कुंडली में बनता है, तो वह अपने पंसदीदा व्यक्ति के साथ विवाह कर सकता है और अपने साथी के साथ एक खुशहाल जीवन जी सकता है।

यह भी पढ़े: इस पूजा विधि से करें महाशिवरात्रि 2023 पर भगवान शिव को प्रसन्न, मिलेगा मनचाहा वरदान

प्रेम विवाह के लिए कुंडली के महत्वपूर्ण भाव

ज्योतिष के अनुसार कुंडली में प्रेम विवाह योग बनाने में 5वें और 7वें भाव का महत्वपूर्ण योगदान होता है। इसके अलावा, आप 8वें या 11वें भाव में कुंडली में प्रेम विवाह के ज्योतिषीय संकेतों की भी जांच कर सकते हैं।

सातवां भाव

सप्तम भाव को वैवाहिक भाव कहा जाता है। इसके माध्यम से आप वैवाहिक आनंद, सेक्‍सुअल कंपैटिबिलिटी, और युगल के विवाह के बारे में विस्तार से जान सकते हैं। ग्रहों की स्थिति और 7वें भाव या उसके स्वामी के संबंध से रिश्ते के बारें में जाना जा सकता है।

पांचवां भाव

जन्म कुंडली में 5वां भाव प्रेम, आनंद और रिश्तों का प्रतीक है। प्रेम विवाह के लिए कुंडली विश्लेषण के दौरान इसका निरीक्षण करना महत्वपूर्ण है। यदि पंचम भाव का स्वामी सप्तम भाव में विराजमान हो, उन दोनों के बीच युति हो या पंचम और सप्तम भाव में नक्षत्रों की स्थिति में परिवर्तन हो, तो जातक की लव मैरिज हो सकती है।

आठवां भाव

अष्टम भाव ससुराल, वैवाहिक जीवन, यौन सुख और शारीरिक निकटता से जुड़ा होता है। इस भाव में जुनून और प्रेम विवाह का अपना वास्तविक महत्व होता हैं। इसके अलावा, इस भाव में ग्रह और नक्षत्र गुप्त शक्तियों का प्रतीक होते हैं, जिसके कारण कुंडली में आपका प्रेम विवाह होने की संभावना बनती है। इस प्रकार, इस भाव में जितने अधिक ग्रह होंगे, आपके साथी के साथ आपके संबंध उतने ही जटिल होंगे।

ग्यारहवां भाव

यह भाव दोस्ती का प्रतीक है। यह आपके परिणामों, रिश्तों, आकांक्षाओं और सामाजिक दायरे को नियंत्रित करता है। भावनात्मक संबंध होंगे या आपके बंधन की ताकत सभी एकादश भाव को देखकर स्पष्ट हो सकती है। ग्यारहवें भाव में ग्रह, गोचर, और अन्य भावों के साथ उनकी युति कुंडली में प्रेम विवाह का कारण बनती है।

कुंडली में लव मैरिज के लिए महत्वपूर्ण ग्रह

कुंडली में प्रेम विवाह का योग कई ग्रहों के कारण बनता है। आइए उन पर एक नजर डालते हैं।

शुक्र ग्रह 

शुक्र ग्रह प्रेम का प्रतीक माना जाता है। वहीं यह ग्रह स्त्री ऊर्जा का भी प्रतीक है। इसी के साथ यह ग्रह जातक के प्रेम जीवन को महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित करता है। कामुकता, आकर्षण और सामाजिक आकर्षण सभी इस ग्रह द्वारा नियंत्रित होते हैं। इसके अलावा, शुक्र की स्थिति और ग्रहों स्वामियों के साथ तालमेल प्रेम विवाह का संकेत देता है।

मंगल ग्रह

मंगल उत्साह, आकांक्षाओं, गतिविधियों, जोश, यौन, बहादुरी और मुखरता का ग्रह है। इसकी उपस्थिति बताती है कि आप भविष्य में अपने प्रयासों को कहां और कैसे केंद्रित करेंगे। साथ ही यह पता लगाया जा सकता है कि आप कितने आक्रामक और प्रतिस्पर्धी होंगे। प्रेम विवाह ज्योतिष के अनुसार मंगल ग्रह आपके प्रेम हितों और झुकाव को निर्धारित करता है। इसके कुंडली में अनुकूल स्थिति में नहीं होने पर मंगल दोष का कारण बनता है। कुंडली मिलान के दौरान, यह दोष पति-पत्नी के बीच बाधाओं, तर्क-वितर्क का कारण बन सकता है। मंगल और शुक्र ग्रह एक साथ होने से प्रेम विवाह की संभावना कम हो जाती है।

राहु ग्रह 

राहु कुख्यात शक्तियों वाला ग्रह है। प्रेम विवाह के संबंध में ज्योतिषीय भविष्यवाणियों के लिए इसका स्थान बहुत महत्वपूर्ण है। कुंडली में राहु का 7वें भाव से संबंध गैर-पारंपरिक संघों का कारण बनता है। यदि लग्न में राहु हो और सप्तम भाव पर बृहस्पति की दृष्टि हो, तो जातक प्रेम विवाह कर सकता है।

चंद्रमा ग्रह

चंद्रमा वैदिक ज्योतिष में आपकी बुद्धि का प्रतीक है। कुंडली में चंद्रमा के नकारात्मक स्थान के परिणामस्वरूप तनाव, आत्मघाती विचार और निराशावादी दृष्टिकोण होता है। अगर चंद्रमा अनुकूल है, तो व्यक्ति खुशी, उत्साह और मन की शांति का आनंद लेता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार प्रेम विवाह पर विचार करते समय पुरुष की कुंडली में चंद्रमा एक प्रमुख कारक होता है। वहीं शक्तिशाली चंद्रमा पुरुष को एक सुंदर स्त्री प्रदान करता है। चंद्रमा द्वारा शनि की दृष्टि विवाह में देरी उत्पन्न करती है।

बुध ग्रह

बुध को संचार का ग्रह कहा जाता है। इसमें युवा जीवन शक्ति है और ये विपरीत लिंग के लोगों के साथ मित्रता की सुविधा प्रदान करता है। इसी के कारण यह विचार करना महत्वपूर्ण है कि बुध आपकी जन्म कुंडली में कहां स्थित है। यदि आप उस व्यक्ति से शादी करना चाहते हैं, जिससे आप प्यार करते हैं, तो  बुध-शुक्र की युति 5वें या 7वें भाव में आपकी मदद कर सकती है।

कुंडली में किन कारणों से बनता है प्रेम विवाह योग?

जब भी हम किसी से प्यार करते हैं, तो हमारे मन में एक इच्छा होती है कि यही शख्स हमारा लाइफ पार्टनर बने। ज्योतिष अनुसार ग्रहों की परस्पर युति इसका स्पष्ट संकेत देती है। चलिए जानते है कि जातक की कुंडली में बनने वाले उन संयोंगो, युति, परिवर्तन के बारें में, जिसके कारण जातक का प्रेम विवाह होता हैः 

पंचम और सप्तम भाव 

  • कुंडली का सप्तम भाव लंबे समय तक चलने वाली साझेदारी और विवाह का भाव भी माना जाता है। 
  • यदि कुंडली के पंचम और सप्तम भाव का परस्पर संबंध हो, तो प्रेम विवाह करना आसान होता है। 
  • पंचम भाव के स्वामी सप्तम में स्थित हो या सप्तमेश पंचम भाव में स्थित हो, तो प्रेम विवाह होता है।

पंचम, एकादश या सप्तम भाव

  • कुंडली में राहु और शुक्र ग्रह का एक साथ होना विशेषकर पंचम, एकादश या सप्तम भाव में प्रेम विवाह का स्पष्ट संकेत है।
  • लग्न या सप्तम में मंगल और शुक्र ग्रह की स्थिति भी प्रेम विवाह को जन्म दे सकती है।
  • यदि कुंडली का पंचम भाव और सप्तम भाव बहुत अच्छी तरह से बना हुआ है, अर्थात उन पर किसी भी अशुभ ग्रह का प्रभाव नहीं है, इन भावों पर शुक्र और चंद्रमा जैसे ग्रहों की स्थिति है, या मंगल के रूप में कार्य कर रहा है, तो जातक की लव मैरिज जरूर होती है।

शुक्र और चंद्रमा

  • शुक्र और चंद्रमा का एक साथ होना या एक दूसरे पर दृष्टि या गोचर करना भी प्रेम विवाह होता है।
  • इसके अलावा, शुक्र ग्रह प्रेम का मुख्य कारक होने के कारण यदि जातक की कुंडली में शुक्र ग्रह का संबंध उसके लग्न भाव, पंचम भाव, सप्तम भाव या एकादश भाव से हो, तो जातक प्रेम से ओत-प्रोत और प्रेम की ओर अग्रसर होता है। 
  • यदि कुंडली के पंचम भाव का संबंध नवम भाव से हो, तो प्रेम विवाह की संभावना बढ़ जाती है। माना जाता है कि इन दोनों व्यक्तियों के बीच पिछले जन्म का प्रेम ऋण होने के कारण इनका जन्म वर्तमान जीवन में प्रेमी युगल के रूप में हुआ होगा। 
  • वहीं ये जातक एक दूसरे से शादी करने के बाद हमेशा के लिए एक दूसरे के हो जाते हैं।
  • इस प्रकार हम कह सकते हैं कि कुंडली के लग्न भाव, पंचम भाव, सप्तम भाव और एकादश भाव पर शुक्र, चंद्र और मंगल का प्रभाव जातक को प्रेम विवाह की ओर ले जाता है।

राहु और शुक्र ग्रह

  • वर्तमान समय में राहु और शुक्र की स्थिति के कारण प्रेम विवाह हो सकता है। 
  • ऐसा इसलिए भी होता है, क्योंकि राहु के तीनों नक्षत्र काम त्रिकोण के अंतर्गत आते हैं और शुक्र के साथ स्थित होने से व्यक्ति प्यार के लिए कुछ भी करने को तैयार हो जाता है।
  • शुक्र और मंगल ग्रह की युति आकर्षण के बाद प्यार को बढ़ाती है। 
  • जहां मंगल ऊर्जा देता है, वहीं शुक्र प्रेम की भावना को बढ़ावा देता है। 
  • इस प्रकार जातक एक दूसरे के प्रति परस्पर शारीरिक आकर्षण में बंध कर प्रेम विवाह की ओर अग्रसर होते हैं।
  • यदि कुंडली के लग्नेश अर्थात लग्नेश का संबंध पंचम भाव से हो और पंचमेश का संबंध सप्तम भाव से हो, तो प्रेम विवाह की अच्छी संभावना बनती है। साथ ही यह विवाह लंबे समय तक चलता है। 
  • शुक्र और मंगल की युति शुक्र की राशि में होने पर भी प्रेम विवाह संभव हो सकता है।

शुक्र और चंद्र ग्रह

  • यदि शुक्र और चंद्र ग्रह पंचमेश और सप्तमेश होकर एक दूसरे के भाव में स्थित हों और लग्न से संबंध बनाएं, तो लग्न और त्रिकोण का संबंध होने पर भी जातक का प्रेम विवाह होता है।
  • यदि जन्म कुंडली में सप्तम भाव का स्वामी लग्न भाव के स्वामी से अधिक शक्तिशाली है और किसी शुभ ग्रह के नवांश में स्थित है, तो वह व्यक्ति जिससे वह प्रेम विवाह करता है, उससे उच्च परिवार का व्यक्ति होता है। 

सप्तमेश और पंचमेश, नवमांश

  • कुंडली में सप्तमेश और पंचमेश एक दूसरे के नक्षत्र में स्थित हों, तो भी जातक के प्रेम विवाह के योग बन सकते हैं।
  • यदि पंचम भाव और सप्तमेश की युति पंचम भाव, एकादश भाव, लग्न भाव या सप्तम भाव में हो, तो यह भी प्रेम विवाह की स्थिति बनाता है। इस स्थिति में जातक का प्रेम विवाह लंबे समय तक चलता है।
  • पंचम भाव में शुक्र की दृष्टि हो या चंद्रमा पर शुक्र की दृष्टि हो, तो ऐसा प्रेम गुप्त रूप से शुरू होता है और फिर धीरे-धीरे आगे बढ़ता है।
  • पांचवां भाव प्यार और भावनाओं का भाव है, जबकि ग्यारहवां भाव  महत्वाकांक्षा और उनकी पूर्ति का भाव है। यदि किसी कुंडली में पंचमेश और एकादश एक साथ हों, तो प्रबल प्रेम योग बनता है।
  • राहु का संबंध पंचम या सप्तम भाव से हो या शुक्र के साथ युति हो, तो प्रेम विवाह होता है। साथ ही ऐसा विवाह अंतर्जातीय विवाह हो सकता है।
  • यदि मंगल पंचम या सप्तम भाव में शुक्र के साथ स्थित हो, तो यह प्रेम को विवाह में बदलने में मदद करता है। लेकिन विवाह के बाद लंबे समय तक साथ देने में समस्या आती है।

कुंडली में प्रेम विवाह न होने के कारण

प्यार का साक्षी होना और फिर उसकी असफलता का अनुभव करना सबसे भयानक अनुभव है। कई बार आपकी शादी उस व्यक्ति से हो जाती है, जिससे आप प्यार करते हैं, लेकिन बाद में साथ रहने में परेशानी होती है। आइए जानते हैं कि ऐसी कौन सी स्थितियां हैं, जिनके कारण कुंडली में प्रेम विवाह विफल हो सकता है।

शुक्र ग्रह

  • यदि कुंडली में प्रेम विवाह का योग हो, लेकिन शुक्र ग्रह अशुभ ग्रहों के प्रभाव में हो, तो प्रेम विवाह करने में समस्या आती है या विवाह करने के बाद भी परेशानी का सामना करना पड़ता है। 
  • यदि कुंडली में प्रेम विवाह योग योग बना हो, लेकिन सप्तम अशुभ ग्रहों की दृष्टि या सम्बन्ध हो, तो प्रेम विवाह में बहुत समस्या आती है।विवाह होने के बाद भी जातक को उस विवाह को चलाने के लिए काफी प्रयास करने पड़ते हैं।

पंचम भाव

  • यदि जातक की कुंडली में पंचम भाव का स्वामी अष्टम भाव में जाकर नीच राशि में जाता है, तो जातक को धोखा मिलता है या पूर्व जन्म के कर्मों के कारण प्रेम संबंधों में समस्या आती है। इसके कारण प्रेम विवाह नहीं हो पाता है। 
  • कई बार योगों के कारण प्रेम विवाह हो जाता है, लेकिन जातक को जीवन साथी से सुख नहीं मिलता है।

छठे और आठवें भाव

  • किसी जातक की कुंडली में शुक्र अर्थात प्रेम का कारक ग्रह छठे भाव में, आठवें भाव में या लग्न भाव से बारहवें भाव में हो, तो प्रेम की संभावनाएं बनती हैं, लेकिन प्रेम विवाह संभव नहीं है। 
  • अगर किसी वजह से प्यार हो भी जाता है, तो लव मैरिज के बाद भी दिक्कतें बनी रहती हैं।
  • यदि कुंडली के सप्तम भाव में उच्च राशि का शुक्र स्थित हो या शुक्र के साथ राहु स्थित हो, तो जातक का विवाह हो जाता है। लेकिन उसके बाद विवाहेत्तर संबंधों के कारण जातक का विवाह असफल हो सकता है।
  • अगर किसी जातक की कुंडली में पंचम भाव और सप्तम भाव का स्वामी छठे भाव, आठवें भाव या बारहवें भाव में विराजमान हो और उन पर पाप ग्रहों का प्रभाव हो और उनका किसी से भी शुभ ग्रह से अच्छा संबंध न हो, तो प्रेम जीवन में बाधा आएगी। इसके कारण प्रेम संबंधों में दरार आ सकती है और उन्हें जीवन में अपने प्यार को छोड़ना पड़ सकता है।
  • यदि कुंडली के एकादश भाव और महत्वकांक्षा भाव में पाप ग्रह बली हों, तो शादी में दिक्कतें आती हैं।  इसके कारण प्रेमी हमेशा के लिए एक- दूसरे से दूर हो जाते हैं। 

सफल लव मैरिज के लिए ज्योतिषी उपाय

  • कन्याओं को मनचाहा जीवनसाथी पाने के लिए मंगला गौरी व्रत करना चाहिए।
  • राधा कृष्ण की पूजा करने से प्रेम संबंध मजबूत होते हैं।
  • किसी विद्वान ज्योतिषी को अपनी कुंडली दिखाक उनके द्वारा बताए गए उपायों करके लव मैरिज को मजबूत कर सकते हैं।
  • अगर आपकी कुंडली में प्रेम योग कमजोर है या प्रेम विवाह करने में समस्या आ रही है या फिर जिन लोगों से आप प्यार करते हैं, उनसे आपकी नहीं बनती है, तो आपको कुछ खास उपाय करने चाहिए। इसके कारण आपके और आपके साथी के बीच प्यार बढ़ेगा।
  • अपनी कुंडली में शुक्र ग्रह की स्थिति को मजबूत करें। शुक्र को मजबूत करने के लिए कुंडली में शुक्र की शुभ या अशुभ दशा जानकर दान और मंत्र जाप करें।
  • जीवन में प्यार बढ़ाने के लिए आप रोज क्वार्टज स्टोन की अंगूठी, ब्रेसलेट या पेंडेंट भी पहन सकते हैं।
  • अपनी कुंडली के पंचम भाव के स्वामी को जानना और उसे मजबूत करना भी आपको लव मैरिज में सफलता दिलाएंगा।
  • पंचम भाव के साथ-साथ सप्तम भाव को बल देने से आपका प्रेम विवाह संभव हो सकता है।
  • सोमवार के दिन माता पार्वती और भगवान शिव की कलावे से युति करें।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 4,565 

WhatsApp

Posted On - January 24, 2023 | Posted By - Jyoti | Read By -

 4,565 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation