क्या है गणेश चतुर्थी का महत्व?

Posted On - September 9, 2021 | Posted By - Shantanoo Mishra | Read By -

 240 

गणेश चतुर्थी 2021, ganesh chaturthi 2021, importance of ganesh chaturthi

गणेश चतुर्थी(2021) 10 दिनों तक चलने वाला प्रमुख हिंदू त्योहार है। जिसे लम्बे समय से मनाया जाता आ रहा किन्तु पहली बार सार्वजनिक रूप से वर्ष 1885 में मुंबई में आयोजित किया गया था। भक्तजन श्रीजी भगवान गणेश के प्रति श्रद्धा व्यक्त हुए गणेश चतुर्थी(2021) त्योहार को मनाते हैं। प्रभु गणेश भगवान शिव और माँ पार्वती के छोटे पुत्र हैं। भगवान गणेश अपने भक्तों के लिए गणपति, गजानन, गदाधारा और कई अन्य नामों से जाने जाते हैं।

हिन्दू ग्रंथों के अनुसार भगवान गणेश या श्री गणेश को बुद्धि का देवता माना गया है। गणेश चतुर्थी(2021) का उत्सव उनकी जयंती पर उनकी विधि-विधान से पूजा करने के लिए मनाया जाता है। गणेश चतुर्थी(2021) को गणपति पूजा के नाम से भी जाना जाता है।

ग्रंथों में, श्री गणेश को कला और विज्ञान का भी स्वामी कहा गया है। इसलिए लोग उनकी पूजा करते हैं और कोई भी काम और धार्मिक समारोह शुरू करने से पहले सर्वप्रथम उनकी आराधना करते हैं। प्रभु गणेश की कृपा भक्तों की कार्य में आने वाली सभी बाधाओं को दूर करती है।

चंद्रमा के दर्शन पर प्रतिबंध का इतिहास

विनायक चतुर्थी के बारे में सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि लोग चंद्रमा को नहीं देख सकते हैं। चंद्रमा को देखने वाला व्यक्ति चोरी के आरोप का श्राप पाता है। यह कहानी प्राचीन समय से प्रसिद्ध है कि जब भगवान श्री कृष्ण पर गहना चोरी करने का आरोप लगाया गया था तब ऋषि नारद ने उल्लेख किया कि भगवान कृष्ण ने चंद्रमा को देखा होगा। वर्तमान युग में इस अभिशाप का भी एक समान मूल्य है।

इस पर्व का महत्व

गणेश चतुर्थी को विनायक चतुर्थी के नाम से भी जाना जाता है। यह भगवान गणेश के प्रति श्रद्धा एवं आदर देने के लिए मनाया जाता है वह भी उनके लिए जो ज्ञान, भाग्य और सद्भाव के देवता हैं। भारत में, आमतौर पर यह पर्व हर वर्ष अगस्त या सितंबर के महीने में मनाया जाता है।गणेश चतुर्थी के पर्व की तिथि शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को पड़ती है। लोग 10 दिनों तक भगवान गणेश के प्रति आदर प्रकट करते हैं और विधि-विधान से पूजा करते हैं और 11 वें दिन बप्पा को विदा कर बड़ा उत्स्व मनाया जाता है जिसे अनंत चतुर्दशी कहा जाता है।

हमारे पर्वजों ने यह उल्लेख किया है महाराष्ट्र में गणेश चतुर्थी के पर्व की शुरुआत सबसे पहले शिवाजी के समय में की गई थी। छत्रपति मराठा योद्धा शिवाजी मराठा साम्राज्य के संस्थापक थे। कुछ समय बाद, भारतीय स्वतंत्रता सेनानी लोकमान्य तिलक द्वारा त्योहार को सार्वभौमिक रूप से प्रेरित किया गया।

यह भी पढ़ें: 5 राशियाँ जो ज्योतिष के अनुसार विवाह सामग्री हैं

उत्सव के पीछे का इतिहास

भगवान गणेश एकदंत, विनायक, हेरम्बा, ओमकारा और विघ्नहर्ता जैसे कई नामों से जाने जाते हैं।

गणेश चतुर्थी सम्पूर्ण भारत में और व्यापक रूप से मनाए जाने वाले त्योहारों में से एक है। ऐसा इसलिए है क्योंकि भगवान श्री गणेश प्रमुख देवताओं में से एक हैं जिनकी पूजा सभी लोग करते हैं। श्री गणेश भाग्य के दाता हैं और इस दिन लोग इस विश्वास के साथ उनकी पूजा करते हैं कि वह उन्हें समृद्धि प्रदान करेंगे। ग्रंथों के अनुसार भगवान गणेश, यात्रा और धन के भी देवता हैं। उनकी भक्ति एवं आराधना से समृद्धि और स्वास्थ्य दोनों प्राप्त होते हैं।

उत्सव और अनुष्ठान

गणेश चतुर्थी प्रभु श्री गणेश के जन्मदिन का स्मरण कराता है। इस पर्व की तैयारियां करीब एक माह पहले से ही शुरू हो जाती हैं। मूर्तिकारों द्वारा भगवान गणपति की सुंदर मूर्तियों का निर्माण किया जाता है और भक्त उन मूर्तियों को गणपति पूजा के पहले दिन स्थापित करने के लिए घर ले जाते है । कई परिवारों के लोग भक्ति गीत गाते और नाचते हुए मूर्तियों को घर ले जाते हैं यह भाव भगवान गणेश के आने के समय उत्साह को दर्शाता है।

इस पूरे क्रम को गणपति स्थापना नाम दिया गया है। यह एक 16 क्रमों का अनुष्ठान है जिसे षोडशोपचार पूजा कहते हैं। लोग एक दिव्य इकाई शक्ति का आवाहन करने के अनुष्ठान को विधि-विधान से सम्पन्न करते हैं। इस बीच, यह अनुष्ठान, परिवार और दोस्त गणेश की मूर्ति के सामने मिठाई, फूल और नारियल चढ़ाकर पूरा करते हैं। यह उस दिन का शुभ समय है जब लोग मानते हैं कि भगवान श्री गणेश का जन्म हुआ था।

यह भी पढ़ें: पैर पर काला धागा बांधने के फायदे

विसर्जन के अनुष्ठान

लोग हर दिन दीपक, फूलों और मिठाइयों से सजी थाली से घर में स्थापित भगवान गणेश की पूजा करते हैं और यह क्रम 10 दिनों तक चलता है।

गणेश चतुर्थी 2021

ग्यारहवें दिन यानि अनंत चतुर्दशी के दिन लोग मूर्तियों को जल में विसर्जित कर बप्पा को विदा करते हैं। यह पर्व “गणपति विसर्जन” के नाम से भी लोकप्रिय है। सभी श्रद्धालु “गणपति बप्पा मोरया” कहते हुए एक समूह में नाचते गाते बप्पा को विदा करते हैं। “पुरच्यवर्षि लौकर या” जिसका अर्थ है हे, पिता गणेश! अगले साल हमारे घर फिर आना।

भगवान गणेश को जल में क्यों विसर्जित किया जाता है?

गणेश चतुर्थी 2021

आप शायद सोच रहे होंगे कि हिन्दू संस्कृति में किसी भी उत्सव के अंतिम दिन मूर्तियों का विसर्जन क्यों किया जाता है?

तो भगवान अनंत है और संस्कृत के अनुसार अनंत का अर्थ शाश्वत ऊर्जा है, जिसका न ही कोई अंत है और न ही विनाश। यह उत्सव भगवान विष्णु को समर्पित है जो जीवन के संरक्षक हैं।

हर साल गणेश चतुर्थी के ग्यारहवें हजारों की संख्या में श्री गणेश की मूर्तियों को पानी में विसर्जित किया जाता है। मूर्तियाँ, पूजा के लिए भगवान के दृश्य रूप हैं। आखिर, शरीर और मूर्तियों के साथ दृश्य रूप में आने वाली हर एक वस्तु प्रकृति के अंतिम छोर तक जाती है और अंत निराकार हो जाती है। फिर भी, उसकी ऊर्जा हमेशा बनी रहती है।

10 दिनों के लंबे उत्सव के बाद भगवान गणेश की मूर्तियों को इसी प्रक्रिया को याद दिलाने के लिए समुद्र में विसर्जित कर दिया जाता है। वह ब्रह्मांड पर नजर रखते हैं और लोगों पर आशीर्वाद और अच्छाई देते हैं।

यह भी पढ़ें: भकूट दोष- कुंडली मिलान में प्रभाव और उपचार

पूरे भारत में गणेश चतुर्थी

भारत में, इस त्योहार का धार्मिक पहलू के साथ-साथ एक भव्य आर्थिक मूल्य भी है। गणेश चतुर्थी का त्योहार आमतौर पर देश के पश्चिम में धूम-धाम से मनाया जाता है। महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, गुजरात, गोवा, उड़ीसा, तमिलनाडु और पुडुचेरी में इसके प्रमुख स्थल हैं।

यहां भारत में शीर्ष 3 गंतव्य जहाँ हैं जहां एक श्रद्धालु गणेश चतुर्थी में दर्शन के लिए जा सकता है-

– मुंबई

मुंबई, भारत की आर्थिक राजधानी, गणेश चतुर्थी को भव्य उत्साह और उत्सुकता के साथ मनाती है। इस दिन, भगवान गणेश की 6000 से अधिक मूर्तियों को अकेले मुंबई में समुद्र में विसर्जित की जाती हैं। यह मंत्रमुग्ध कर देने वाला दृश्य होता है। श्रद्धालु लोकप्रिय गणेश पंडालों जैसे खेतवाड़ी गणराज और लालबागचा राजा के दर्शन कर सकता है।

– हैदराबाद

हैदराबाद के लोग मुंबई के लोगों से कम उत्साह नहीं दिखाते। आंध्र प्रदेश की इस राजधानी में राजसी गणपति विसर्जन देखने के लिए शानदार स्थान हैं। हैदराबाद में गणेश उत्सव की विभिन्न समितियों ने इस अवसर पर बड़ी गणेश मूर्तियों की स्थापना की होती है।

– गणपतिपुले

आपको आश्चर्य हो सकता है कि गणपतिपुलेकन जैसी छोटी सी जगह एक पर्यटक क्या प्रदान कर सकती है। हालाँकि, यह जगह भले ही छोटी है लेकिन यही इसको आकर्षण का केंद्र बनाती है। यहां, विभिन्न क्षेत्रों के लोग एक साथ आते हैं और भगवान गणेश की मूर्ति की विधि-विधान से पूजा करते हैं।

मनभावन प्रसाद

इस पर्व का प्रमुख व्यंजन है मोदक। पौराणिक कथाओं में उल्लेख है कि भगवान गणेश को मोदक बहुत पसंद है।

यहाँ कुछ और व्यंजन हैं जो विनायक चतुर्थी के अवसर पर परोसे जा सकते हैं-

  • मिठाई – सतोरी, पूरन पोली, नारियल चावल, श्रीखंड और शीरा।
  • पेय – छाछ, लस्सी, जल जीरा और शरबत।
  • स्नैक्स – मेदु वड़ा, रवा पोंगल, और काबुली चने का सुंदल

अंत में-

महाराष्ट्र राज्य में गणेश चतुर्थी के पर्व का विशेष महत्व है। लोग इसे बड़े उत्साह से और लाखों की संख्या में मनाते हैं। हिंदू धर्म में हम हर दिन भगवान गणेश की पूजा करते हैं। 

प्रभु गणेश का नाम किसी अन्य देवी-देवता से पहले आता है। गणेश चतुर्थी का दिन भक्तों के लिए एक साथ आने और प्रमुख भगवान से प्रार्थना करने का एक शुभ अवसर है।

गणेश चतुर्थी 2021

विनायक चतुर्थी त्योहार शुक्रवार, 10 सितम्बर को पड़ता है। यह त्योहार साल का सबसे प्रमुख त्योहारों में से एक है।

अधिक के लिए, हमसे इंस्टाग्राम पर जुड़ें। अपना  साप्ताहिक राशिफल  पढ़ें।

 241 

Our Astrologers

1400+ Best Astrologers from India for Online Consultation

Copyright 2021 CodeYeti Software Solutions Pvt. Ltd. All Rights Reserved