भकूट दोष- कुंडली मिलान में प्रभाव और उपचार

Posted On - September 8, 2021 | Posted By - Shantanoo Mishra | Read By -

 294 

विवाह में भकूट दोष, Bhakut Dosh Effects and Remedies in Kundli Matching

विवाह कुंडली, मंगनी के दौरान भकुट को एक आवश्यक कारक माना जाता है। इसमें अधिकतम 7 अंक होते हैं। जब कुंडली का मिलान  “अष्टकूट गुण मिलन ” के माध्यम से किया जाता,है तब भकूट दोष बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है। भकूट का स्थान ऊपर से दूसरा और नीचे से सातवाँ होता है। गुण मिलान के नियमों के अनुसार कुंडली मिलान या विवाह कुंडली के उद्देश्य से गुण नियत किए जाते हैं। एक सफल विवाह के लिए भकूट दोष के प्रभाव को खत्म करना महत्वपूर्ण है।

भकूट का अर्थ

वैदिक ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, जब जोड़ियों की जन्म कुंडली में चंद्र राशियाँ प्रतिकूल योग बनाटी हैं जैसे 6-8, 9-5 या 12-2 तब भकूट दोष बनता है, जो एक आनंदमय विवाह के लिए हानिकारक हो सकता है। यह संयोग ऐसे बनाए गए हैं:

  • यदि लड़का मेष राशि से है और लड़की कन्या राशि से है, तो लड़के का चंद्रमा लड़की के चंद्रमा से आठवें स्थान पर होगा और लड़की का चंद्रमा लड़के के चंद्रमा से छठे स्थान पर होगा। इस विषय में, 6-8 संयोजन बनता है।
  • 6-8 की कुंडली में भकूट होती है: यह संयोजन युगल के स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक होगा और इसमें ऑपरेशन का भी योग बनता है।
  • भकूट 9-5: इससे संतान संबंधी समस्याएं और रिश्तों में कई बड़ी समस्याएं आ सकती हैं। (जहाँ एक व्यक्ति का चन्द्रमा कन्या हो और दूसरे व्यक्ति की वृष राशि हो)
  • 12-2 की कुंडली में भकुट दोष आता है: इस दोष से वित्त बुरी तरह प्रभावित होने की संभावना होती है और विवाह में स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां आती हैं। (जहां एक व्यक्ति का चंद्रमा मिथुन हो और दूसरे व्यक्ति का वृषभ हो)
  • चरम मामलों में जहाँ भकूट के अलावा उनकी जन्म कुंडली में अन्य हानिकारक मान्यताएं भी उपस्थित हैं, इससे किसी एक साथी की मृत्यु भी हो सकती है। एक शादी में कई असहमति और झगड़े होने की संभावना होतु है जो तलाक का कारण बन सकते हैं।

भकूट दोष का नकारात्मक प्रभाव

वैवाहिक जीवन में भकूट दोष कई गंभीर विषयों को अपनी ओर खींचता है। यह समस्याएं अचानक उत्पन्न नहीं होंगी लेकिन धीरे-धीरे यह विवाहिक संबंध को खोखली करती रहेंगी। लोगों को निम्नलिखित प्रभावों को ध्यान देना होगा:

  • इनके विवाह में आर्थिक समस्या का सामना करना पड़ेगा। यह समस्या कई तरह से हो सकती है। उदाहरण के लिए भागीदारों में से एक पूरी तरह से दूसरे पर निर्भर होने के कारण, भारी निवेश या कड़ी मेहनत के बाद व्यापार में विफलता आ सकती है।
  • संतान प्राप्ति में परेशानी हो सकती है। यह शादी में असंतुष्ट शारीरिक संबंध जैसे मुद्दों को भी उजागर करता है।
  • उन्हें अपने रिश्ते में लगातार असहमति और झगड़े का सामना करना पड़ेगा जिससे कानूनी अलगाव या तलाक हो सकता है।
  • यदि आपकी कुंडली में भकूट दोष किसी अन्य अशुभ दोष के साथ आता है तो यह एक साथी की मृत्यु का कारण भी बन सकता है।

भकूट दोष के उपाय

यह दोष को ठीक करना आवश्यक है क्योंकि यह अंततः पति-पत्नी के विवाहित जीवन में कई समस्याओं को जन्म देगा। दोष को विफल करने से आपको अपने जीवन में कई ऐसे अवांछित और नकारात्मक परिस्थितियों को दूर करने में मदद मिल सकती है जो आपको लगेगा कि शादी के शुरुआती दिनों में ऐसा नहीं होगा। किन्तु जैसे-जैसे आपके वैवाहिक जीवन आगे बढ़ेगा और समय बीतेगा, समस्या सामने आती जाएगी।

इस दोष का प्रभाव पूरी तरह से समाप्त नहीं होता है। हालांकि, इसको काफी हद तक कम किया जा सकता है वह भी कोई व्यक्ति धार्मिक रूप से एवं अनुभवी ज्योतिषियों के मार्गदर्शन में यह कार्य हो सकता है। इससे दोष के दुष्प्रभाव कम हो जाएंगे और वह अंत में कमजोर हो जाएंगे। साथ ही वह वैवाहिक जीवन को हानिकारक रूप से प्रभावित नहीं करेंगे और अगर किसी को उपायों के विषय में ज्ञान है तो इससे आसानी से निपटा जा सकता है।

इसके अलावा पढ़ें:  6 राशि चक्र लक्षण जो एक अच्छा किसर हैं

भकूट दोष के प्रभाव को कम करें

जब दोनों जन्म कुंडली में चंद्र राशि का स्वामी समान हो तो दोष का प्रभाव कम हो जाता है। उदाहरण के लिए: यदि दोष का योग 12-2 है तो इसे मकर-कुंभ के संयोजन से कम किया जा सकता है। साथ ही यदि भकूट 6-8 हो तो मेष-वृश्चिक की जोड़ी के साथ इसे रद्द किया जा सकता है।

अनुभवी पुरोहितों के मार्गदर्शन में पूजा भी करवा सकते हैं। जिनके जीवन में यह दोष है उन्हें अपने विवाह में आने वाली समस्याओं से शांति से निपटना चाहिए और आवेग में निर्णय नहीं लेना चाहिए।

यह भी पढ़ें:  6 राशियाँ जो बनाती हैं सबसे ख़राब जोड़ी

निष्कर्ष

भकूट दोष के प्रभाव का सामान्य नतीजा नहीं किया जा सकता है क्योंकि वह अलग-अलग कुंडली के लिए अलग-अलग होते हैं, और यह उनकी जन्म कुंडली में किसी अन्य ग्रह की स्थिति पर भी निर्भर करता है। जब यह दोष उनकी कुंडली में नाड़ी दोष, गण दोष आदि के साथ मिल जाता है तो और अधिक समस्या होने की संभावना होती है। भकूट दोष के कारण व्यक्ति को तुरंत समस्या का सामना नहीं करना पड़ता है क्योंकि यह दोष धीरे-धीरे वैवाहिक बंधन को प्रभावित करता है और अंत में अधिक हानि हानि पहुंचाता है।

भकूट दोष से निजात पाने के उपाय हैं और इस लिए अधिकांश मामलों में चिंता नहीं करनी चाहिए है। दम्पति को किसी एक ज्योतिषी से सलाह लेनी चाहिए और पता होना चाहिए कि क्या यह स्थिति वास्तव में हानिकारक है या नहीं। इसके लिए पूजा, मंत्र और दान भी हैं जो इस दोष के प्रभाव को आसानी से कम कर सकते हैं, और दम्पति स्वस्थ और मजबूत वैवाहिक जीवन जी सकते हैं।

यहां बुक करें भकूट शांति पूजा

अधिक के लिए, हमसे इंस्टाग्राम पर जुड़ें। अपना  साप्ताहिक राशिफल  पढ़ें।

 295 

Our Astrologers

1400+ Best Astrologers from India for Online Consultation

Copyright 2021 CodeYeti Software Solutions Pvt. Ltd. All Rights Reserved