मानसिक रोग और ज्योतिष कैसे हैं संबंधित?

Posted On - September 28, 2021 | Posted By - Shantanoo Mishra | Read By -

 159 

मानसिक रोग और ज्योतिष, mental illness and astrology

हमारा दैनिक, मासिक व वार्षिक राशिफल हमारे शरीर, आत्मा, जीवन और उस जीवन में हमारे उद्देश्य के हर पहलू का व्याख्यान करता है। क्या आप जानते हैं कि हमारे कुंडली में ग्रह-नक्षत्र हमारे शारीरिक स्वास्थ्य के साथ मानसिक स्वास्थ्य पर भी महत्वपूर्ण प्रभाव डालते हैं? ग्रहों की अस्वस्थ स्थिति से हमारे मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इसलिए मानसिक रोग और ज्योतिष तालमेल सदियों से चला आ रहा है। भारतीय ज्योतिष विद्वान ग्रह एवं नक्षत्र का अध्ययन कर मानसिक रोग और ज्योतिष के पीछे छुपे तर्कों को जानने में सफल रहे हैं।

आमतौर पर चिकित्सा ज्योतिष में, हमारा मानसिक स्वास्थ्य 4 ग्रहों पर निर्भर करता है। नीचे स्पष्टीकरण और स्थितियों को विस्तारपूर्वक बताया गया है कि, कब आप मानसिक बीमारी का अनुभव कर सकते हैं और इसके इलाज के लिए आप क्या कर सकते हैं। साथ ही आप यह भी जानेंगे कि मानसिक रोग और ज्योतिष हमारे जीवन में क्यों महत्वपूर्ण है?

यह भी पढ़ें: ज्योतिष में राशि के अनुसार प्यार कैसे ढूंढे?

राशिफल में मानसिक रोग के संकेत

सभी ग्रहों की स्थिति के अतिरिक्त, कुंडली के भाव और राशि विभिन्न मानसिक अवस्था, अवसाद और चिंता पर ध्यान केंद्रित करती हैं। इसके परिणामस्वरूप अलग-अलग मानसिक रोग छोटी या लंबी अवधि दोनों में उतपन्न हो सकती हैं।

  • चंद्रमा मन का कारक है। जन्म कुण्डली में पीड़ित चंद्रमा के कारण मानसिक रोग उतपन्न होता है।
  • जब कुंडली में बुध या तंत्रिका तंत्र का कारक, पीड़ित होता है तब भी व्यक्ति मानसिक रोग या अस्वस्थता का शिकार होता है।
  • इसके अलावा, जब बुद्धि और परिपक्वता का कारक बुध ग्रह पीड़ित होता है, तो इसका परिणाम खराब भावनात्मक और मानसिक स्वास्थ्य होता है।
  • पांचवां भाव चंचलता और आशावाद का घर है। यदि मिथुन या कुम्भ राशि इस भाव पर प्रभाव डालते हैं, तो यह मानसिक विकार या तर्कहीनता का कारण बन सकती है। एक दुखी 5 वां भाव व्यक्ति को अस्वस्थ भावनात्मक स्थिति की ओर ले जाता है।

यह भी पढ़ें: ज्योतिष विद्या के अनुसार राजनीति में सफलता के योग

मानसिक रोग के अन्य संकेत

  • साथ ही, जब बृहस्पति ग्रह मंगल ग्रह के साथ सप्तम भाव में होता है, तो यह जातक को क्रोध अवस्था से जूझने का कारण बनता है।
  • शनि ग्रह (जिसे धीमा ग्रह भी मन जाता है) को भी अवसाद और चिंता का कारक माना जाता है। कुंडली में जब शनि लग्न मंगल के साथ पांचवें या सातवें या नवम भाव में होता है, तो यह मानसिक रोग को सक्रिय करता है।
  • इसके अतिरिक्त, जब शनि कमजोर चंद्रमा के साथ बारहवें भाव में होता है, तब जातक को मनोवैज्ञानिक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।
  • लग्न में शनि, कुंडली के बारहवें भाव में सूर्य के साथ मंगल या चंद्रमा हो तब भी मानसिक रोग उत्पन्न होता है।
  • जब शनि दूसरे भाव के स्वामी के साथ मंगल या सूर्य के साथ जुड़ा हो तो मनोरोग संबंधी समस्याएं उतपन्न होती हैं।
  • साथ ही, जब शनि की प्रवृत्ति सप्तम भाव में होती है और हानिकारक ग्रह से पीड़ित होती है, तब भी इसका परिणाम मानसिक समस्या होता है।

यह भी पढ़ें: ‘मृत्यु के बाद का जीवन’ के पीछे ज्योतिष तर्क

मानसिक स्वास्थ्य और चिंता- ज्योतिष में महत्व

एक दीर्घवृत्त में-

  • मानसिक शांति- चौथा भाव और चंद्रमा मानसिक शांति का कारक है।
  • भावनात्मक शांति- कुंडली का पंचम भाव और चंद्रमा भावनात्मक स्वास्थ्य का कारक है
  • तंत्रिका नियंत्रण- कुंडली और बुध का छठा घर शरीर के तंत्रिका तंत्र की भलाई का प्रतीक है।
  • निराशा – कुंडली का पांचवां भाव निराशा का संकेतक है।

-चंद्रमा की भूमिका

चंद्रमा, मनोवैज्ञानिक सद्भाव को सुचारु रूप से बनाए रखने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। जातक के मस्तिष्क का द्योतक चंद्रमा होता है। यह किसी व्यक्ति के मस्तिष्क के रचनात्मक भाव, कल्पना और कला को नियंत्रित करता है। एक व्यक्ति जिस तरह से सोचता है और जिस तरह से विभिन्न परिस्थितियों में प्रतिक्रिया करता है, वह कुंडली में चंद्रमा की स्थिति द्वारा दर्शाया जाता है ।

एक व्यक्ति की कुंडली में बलवान चंद्रमा कई महान गुण प्रदान करता है जिसमें तीव्र सोचन शक्ति, कल्पनाशील चरित्र और नवाचार की प्रतिभा शामिल है। वहीं दूसरी ओर निर्बल चंद्रमा के कारण जबरदस्त मानसिक परेशानी सामना करना पड़ सकता है। जब चंद्रमा कमजोर स्थान पर होता है, तो व्यक्ति को सिज़ोफ्रेनिया, अवसाद, नींद की कमी और मासिक धर्म जैसी समस्याएँ का सामना करना पड़ सकता है। उदाहरण के लिए, जब कोई विघातक ग्रह आपकी कुंडली में चंद्रमा पर प्रभाव डालता है तब यह मानसिक रोग का कारण बनता है। इसके अलावा, जब चंद्रमा छठे या आठवें या बारहवें भाव में होता है तो जातक में एकाग्रता की कमी होती है।

इसके साथ, जीवन में कमजोर चंद्रमा बड़ी समस्याओं का प्रतीक है। जब चंद्रमा शनि से पीड़ित होता है, तो व्यक्ति को बार-बार आत्महत्या के विचार आते हैं और बार-बार निराशा का अनुभव हो सकता है। इसके साथ ही जब राहु या केतु चंद्रमा को पीड़ित करते हैं तब यह व्यक्ति के आत्मविश्वास और आत्मसम्मान को कम करता है।

यह भी पढ़ें: भकूट दोष- कुंडली मिलान में प्रभाव और उपचार

– बुध की भूमिका

बुध, ज्ञान को ग्रहण करने की और अधिक सीखने की क्षमता का स्वामी है। उत्तेजना, श्वसन प्रणाली और तंत्रिका तंत्र के साथ सब कुछ बुध के शासन में आता है। जब कुंडली में बुध की बलशाली स्थिति होता है, तब जातक में सोचने और नवाचार करने की स्थिति उत्कृष्ट होती है। वह एक समर्थक की तरह सभी क्रियाओं को संतुलित करता है।

वहीं यदि कोई अशुभ ग्रह बुध से पीड़ित हो तो जातक घबराहट, अवसाद और चंचल मन से पीड़ित हो सकता है। कुंडली में बुध दुर्बल होने की स्थिति में, ग्रह की महादशा या अंतर्दशा के दौरान जातक को मानसिक परेशानी का अनुभव होगा। इसके अलावा, यह उनमें अनियमित व्यवहार ला सकता है।

यदि बुध छठे या आठवें घर या बारहवें घर में हो या शनि, राहु या केतु जैसे किसी विघातक ग्रह पर दृष्टि रखता हो तो यह स्पष्ट है कि जातक मनोरोग से पीड़ित हैं। वह गंभीर मानसिक विकारों जैसे ओसीडी, एडीएचडी और अवसाद जैसी समस्याओं का सामना कर सकते हैं ।

यह भी पढ़ें: जानिए आपकी हथेली पर धन रेखा आपके विषय में क्या कहती है

– शुक्र की भूमिका

शुक्र आनंद, चंचलता, प्रेम और सुख का स्वामी है। यह परिवार, दोस्त और जीवनसाथी से संबंधित सभी प्रकार की खुशियों को नियंत्रित करता है। कुंडली में प्रबल शुक्र जातक को कई रूपों में समृद्धि प्रदान करता है। हालाँकि, यह इच्छाओं का कारक भी है। जब निर्बल शुक्र के साथ इच्छाएं पूरी नहीं होती हैं, तो जातक स्वयं को गंभीर मानसिक तनाव और विकार से घिरा हुआ पाता है।

जब शुक्र कुंडली के पंचम भाव में होता है तो यह गंभीर दुष्प्रभाव डालता है। यह मनुष्य के मन और शरीर दोनों को नियंत्रित करता है। इसलिए, जब शुक्र पीड़ित स्थिति में होता है, तब यह केवल एकाग्रता की कमी का कारण बनता है जिससे कार्य में विघ्न उत्पन्न होता है।

इसके अलावा, ज्ञान और मधुरता का कारक बृहस्पति मानसिक स्वास्थ्य में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। जब यह एक मजबूत स्थिति में होता है, तो यह हर ग्रह के लाभकारी व्यवहार को नियंत्रित और निर्देशित करता है। कमजोर बृहस्पति के कारण मनोवैज्ञानिक समस्याएं जैसे अवसाद, चिंता उतपन्न होती हैं।

यह भी पढ़ें: सकारात्मक रहने और निराशाओं से बचने के कुछ खास तरीके

खराब मानसिक स्वास्थ्य के उपाय

हमारे विशेषज्ञ ज्योतिषियों ने मानसिक स्थिरता से संबंधित बीमारी के लिए कई उपाय सूचीबद्ध किए हैं। यहाँ उनमें से कुछ हैं-

  • अशुभ प्रभाव वाले ग्रह की पूजा से परेशानी को दूर किया जा सकता है।
  • नव ग्रह पूजा आप के लिए लाभ आकर्षित कर सकते हैं।
  • जैसा कि ऊपर बताया गया है, मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करने में चंद्रमा का बहुत महत्व है। इसलिए, चंद्र यंत्र को स्वयं के पास रखने से सुखद परिणाम मिल सकते हैं।
  • लग्न के स्वामी और उनसे जुड़े देवता की पूजा अवश्य करें।
  • इसके अलावा, सोने का हाथी दान करने से विघातक ग्रह प्रसन्न होंगे।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 160 

Our Astrologers

1400+ Best Astrologers from India for Online Consultation

Copyright 2021 CodeYeti Software Solutions Pvt. Ltd. All Rights Reserved