Astrology to find the right partner for Marriage

सही जीवनसाथी खोजने का ज्योतिष
WhatsApp

सार्वभौमिक रूप से यह माना गया है कि सौभाग्य के लिए एक व्यक्ति, एक आदर्श साथी की इच्छा रखता है। ज़िन्दगी का कोई सफर आसान नहीं होता, उसी प्रकार किसी के साथ ख़ुशी-ख़ुशी जीवन बिताना भी आसान नहीं होता है। यह वास्तव में कठिन होता है। शादी के बंधन में बांधने के बाद, दो लोग उस रिश्ते में हर रोज़ रहते हैं। साथ ही, वो हर चीज़ जो उनके जीवन में है उसके दो हिस्से होते हैं और इसमें ज़रूरी होता है की हम अपने साथी की ज़रूरतों और खुशियों को हमेशा प्राथमिकता दें।

एक विवाह को अनिवार्य रूप से अन्य चीजों के अलावा २ चीजों की आवश्यकता होती है जो है शादी के लिए उचित जीवनसाथी और उचित समय। विवाह हेतु जीवनसाथी की तलाश एक माकन को घर में बदलने के लिए शुरू होती है। एक बार जब कोई व्यक्ति नौकरी या व्यवसाय में व्यवस्थित हो जाता है, तो उसे जीवन में जीवन में एक प्रगतिशील और खुशहाल दिशा में आगे बढ़ने के लिए उसे एक और व्यक्ति चाहिए होता है। और क्यों नहीं शादी के रूप में एक सामान्य इंसान के जीवन में सबसे रोमांचक घटना है।

साथ ही, एक आदर्श जीवनसाथी मिलने से ज़िन्दगी का मज़ा दुगना हो जाता है। हालाँकि आज के आधुनिक समाज में एक देखने वाली बात ये है कि यह सरल बात अधिक जटिल होती जा रही है यथार्थ जीवनसाथी ढूँढना जितना आसान है उतना ही मुश्किल भी। साथ ही, आज पुरुष प्रधान समाज के दिन जा चुके हैं। जब हम “जीवनसाथी” में देखते हैं तो महिलाओं की मुक्ति, सोशल मीडिया के बढ़ते प्रभाव उन आकांक्षाओं का ध्यान रखते हैं।

शादी- सही जीवनसाथी न मिलने के कारण?

इस तरह से, जीवन में शादी से ज़्यादा ज़रूरी है सही व्यक्ति से शादी। अन्यथा, जीवन में कई ऐसे पड़ाव आते हैं जहां इंसान को अकेलेपन का सामना करना पड़ता है। भारतीय विरासत, ज्योतिष के प्राचीन विज्ञान के अनुसार यदि व्यक्ति चाहे तो अपने जीवन से जुडी ऐसे विशेष बातें जान सकता है। यथा, सही जीवनसाथी ढूंढने में आपकी कुंडली का क्या योगदान है, आगे पढ़ें।

सही जीवनसाथी न मिलने के कारण?

  • अधिकांश परिस्थितियों में सब कुछ अच्छा होने के बावजूद सही मैच मिलना नहीं मिल पता है।
  • कुछ स्थितियों में सारे पक्षों के उत्कृष्ट होने के बावजूद कोई प्रस्ताव नहीं आता है।
  • विवादार्थ बातों के कारण कुछ चरणों के बाद बात आगे नहीं बढ़ पाती।
  • कभी-कभी व्यक्तियों में जीवनसाथी के लिए बहुत अधिक अपेक्षायें होती हैं जिस वजह से विवाह में बाधा आती है।
  • कभी-कभार जातक का कोई करीबी भी उपयुक्त जीवनसाथी ढूंढने में बाधा डाल सकता है।
  • कुछ परिस्थियों में व्यक्ति कुंडली ग्रहों की स्थिति के कारण दुर्भाग्य का सामना करता है।

अज्ञात कारण जो शादी की संभावनाओं को सीमित करते हैं

इन परिस्थितियों के अलावा भी कुछ तथ्य हैं जो व्यक्ति के जीवन में ववाह सम्बंधित रूकावट उतपन्न करती हैं-

  • भरोसा नहीं करने वाला स्वभाव।
  • जीवनसाथी के धर्म, सामाजिक स्थिति और आर्थिक स्थिति को लेकर अत्यधिक रूढ़िवादी स्वभाव।
  • स्वभाव में अत्यधिक लेन-देन जैसी नकारात्मक सोच का होना।
  • स्वार्थी व्यक्तित्व।
  • स्वभाव में आलोचन की प्रकृति।
  • स्व-केंद्रित व्यक्ति।
  • सहानुभूति में असमर्थता।

जीवनसाथी के लिए खोज को कैसे सुधारें

  • निश्चित कर लें की शादी लव होगी या अरेंज।
  • व्यावसायिक पृष्ठभूमि निश्चित कर लें।
  • फैंसला कर लें कि शादी अपने निवास स्थान (शहर और देश) से निकट या दूर करनी है।
  • जीवनसाथी और परिवार की सामाजिक और आर्थिक पृष्ठभूमि निश्चित कर लें।
  • छोटे या बड़े परिवार आदि के साथ शादी की इच्छा निश्चित कर लें।

सही जीवनसाथी के लिए कुंडली पढ़ने का महत्व

शादी- सही जीवनसाथी के लिए कुंडली पढ़ने का महत्व

कुंडली विश्लेषण के दौरान, ऐसे कारणों का पता चलता है जो की कुछ असाधारण प्रयासों के बाद भी शादी में बाधक बनते हैं। कुंडली का कारण नकारात्मक रूप से प्रभावित लग्न और कलंकित लग्न स्वामी होते हैं। हालांकि, बहुत कम लोग हैं जो महसूस करते हैं कि उन्हें इस तरह की दुर्लभता के साथ तैयार किया गया है और बहुत कम ऐसे हैं जो इस कमी को दूर करने का काम करेंगे।

विवाह भाव- दू-स्थान

ज्योतिष शास्त्र में 6, 8 और 12 वें भाव को दू-स्थान माना जाता है। यह भाव संबंधित भाव के विकास में बाधा डालते हैं। जब, व्यक्ति के विवाह और जीवनसाथी का भाव लग्न से सातवां हो तो इस भाव से दू-स्थान 12 वां भाव, दूसरा भाव और लग्न से 6 वाँ भाव है। यह सभी भाव 7 वें भाव (शादी और जीवनसाथी के बारे में) की नकारात्मक तरीके से काम करते हैं। यदि कोई ग्रह इस भाव में है तो यह मुद्दे को और जटिल कर देगा।

विवाह का कारक

पुरुषों में शुक्र ग्रह लग्न का कारक है जबकि स्त्रीयों के लिए एक अतिरिक्त कारक है बृहस्पति ग्रह है। यदि यह कारक कुंडली में 7 वें घर जिसके लिए वे कर्ता कारक हैं, के संबंध में गलत तरीके से व्यवस्थित हैं, तो यह विवाह में देरी का कारण बन सकता हैं।

साथ ही, आप पढ़ना पसंद कर सकते हैं धार्मिक मान्यताएँ- राष्ट्र के विकास के लिए एक मार्ग?

मुफ्त ज्योतिष भविष्यवाणी के लिए सर्वश्रेष्ठ ज्योतिषी से परामर्श करें।

 1,076 

WhatsApp

Posted On - November 15, 2019 | Posted By - Deepa | Read By -

 1,076 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation