हरियाली तीज २०२०- इस वर्ष तिथि और उत्सव

हरियाली तीज २०२०- इस वर्ष तिथि और उत्सव

हरियाली तीज २०२०- इस वर्ष तिथि और उत्सव

हिंदू चंद्र कैलेंडर के अनुसार, हरियाली तीज श्रावण के महीने में तीसरे दिन आती है। भारत के सभी क्षेत्रों की महिलाएं अपने वैवाहिक जीवन के लिए शुभकामनायें चाहती हैं और इस अवसर पर वह व्रत और पूजन के माध्यम से खुशहाली की कामनाएं करती हैं। इसे त्यौहार को छोटी तीज या श्रावण तीज के नाम से भी जाना जाता है।

भगवान शिव के भक्त दुनिया भर में हैं। उनकी महानता और शाश्वत प्रेम दुनिया के लिए कोई रहस्य नहीं है। वह अपने मतभेदों के बावजूद लोगों को एकजुट करते हैं। भगवान शिव प्रेम और आनंद के प्रतीक हैं और हम भगवान शिव और उनकी पत्नी देवी पार्वती का आशीर्वाद पाने के लिए हरियाली तीज का त्योहार मनाते हैं। हरियाली तीज इसलिए मनाई जाती है क्योंकि इस दिन भगवान शिव ने देवी पार्वती को अपनी पत्नी के रूप में स्वीकार किया था।

हरियाली तीज एक सुखद विवाह कामना के लिए हर के लिए एक मंगल अवसर है। मानसून भी इस त्योहार के उत्सव का एक कारण है। इस दिन महिलाएं अपने परिवार के साथ एकत्रित होती हैं और अपने पति, बच्चे और परिवार की सलामती के लिए देवी पार्वती और भगवान शिव की पूजा करती हैं।

हरियाली तीज उत्सव की कथा

तीज अथार्थ तीसरा दिन जो हर महीने अमावस्या के बाद आता है। मुख्य रूप से यह त्यौहार, भक्त देवी पार्वती और भगवान शिव के साथ आने के आनंद को समर्पित करते हैं। इस दिन, विशेष रूप से महिलाएं और लड़कियां भक्ति गीत गाती हैं और तीज माता (देवी पार्वती) का आशीर्वाद लेने के लिए भजन गाती हैं और उत्सव मानाने के लिए झूले झूलती हैं। इसे सावन का झूला झूलना भी कहा जाता है। लगभग प्रत्येक घर की महिलाएं और कन्याएँ इस उत्सव को मानती हैं और झूला झूलती है।

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, देवी पार्वती ने 108 वां जन्म लिया जब तक कि भगवान शिव ने उन्हें स्वीकार नहीं किया। उन्होंने भगवान शिव की प्रशंसा की और उनसे शादी करने की कामना की। इस दिन तक, देवी पार्वती भगवान शिव से शादी करने के लिए अपने समर्पण को साबित करने के लिए फिर से जन्म लेती रहीं। तीज उनके समर्पण और दृढ़ संकल्प का प्रतीक है।

ऐसा कहा जाता है कि जो महिलाएं इस दिन उपवास रखती हैं देवी पार्वती उनके परिवार को अच्छे स्वास्थ्य का आशीर्वाद देती हैं। इस दिन महिलाएँ हाथों पर मेहँदी लगाती हैं, हरे कपड़े पहनती हैं, व्रत रखती हैं, झूलों पर खेलती हैं, भक्ति गीत गाती हैं, और प्रसाद चढ़ाती हैं। इसे लोग सिंघारातीज के नाम से भी जानते हैं।

कैसे मनाएं हरियाली तीज

हरियाली तीज फूलों और सजावट की ख़ास मान्यता है। आगे पढ़ के आप जान सकते हैं कि हरियाली तीज कैसे मनाते हैं-

इस दिन महिलाएं एक साथ आती हैं और व्रत रखती हैं। महिलाएं और लड़कियां हरे कपड़े पहनती हैं क्योंकि यह हरियाली का प्रतीक है जो हरियाली तीज के साथ आता है। त्यौहार की शुरुआत सुबह स्नान और शुद्ध लाल साड़ी और हरे रंग की चूड़ियों और गहनों से होती है। साथ ही महिलाएं हाथों को मेहंदी से बने खूबसूरत डिजाइनों से सजती हैं।

महिलाएं देवी पार्वती की पूजा करती हैं जो तीज माता हैं। वे मंदिरों में जाती हैं और तीज के लिए विशेष गीत गाती हैं। परिवार के पुरुष सदस्य उद्यान क्षेत्र में बड़े पेड़ों की शाखाओं पर उनके लिए झूले लगाते हैं। बाद में, सभी महिलाएँ एक-एक करके बारी-बारी से झूला झूलती और खुशियाँ मनाती हैं। जिन लड़कियों की शादी होने वाली होती है उन्हें अपने होने वाले ससुराल वालों से उपहार मिलते हैं और विवाहित महिलाओं को उनके पति से उपहार मिलते हैं। इन उपहारों में सुंदर चूड़ियाँ, मेहंदी, साड़ी और मिठाइयाँ शामिल होते हैं।

इसे लोगों की भावनाओं के उत्थान के लिए एक त्यौहार माना जाता है। हरियाली तीज गर्मी दूर करता है और आरामदायक हवा और अपने साथ हरियाली का मौसम लाता है।

हरियाली तीज के अनुष्ठान

इस दिन, देश भर में महिलाएं व्रत (उपवास) का पालन करती हैं। हरियाली तीज व्रत निर्जल व्रत है। इस व्रत के अनुष्ठानों में महिलाएं पानी नहीं पीती हैं और खाना नहीं खाती हैं। इसे हिंदू परंपरा में सबसे कठिन व्रतों में से एक माना जाता है। मूल अनुष्ठान तीज पूरे 48 घंटों के लिए मनाया जाता है।

तीज व्रत का पालन करने वाली महिलाएं पूरी रात जागती रहती हैं। वे भगवान शिव और देवी पार्वती की पूजा करते हैं। हरियाली तीज पर व्रत और पूजा करने से दांपत्य जीवन में समृद्धि आती है।

उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, बिहार, राजस्थान और झारखंड के लोग हरियाली तीज को भव्य रूप से मनाते हैं। यह भारत के कई अलग-अलग कोनों में मनाया जाता है, सभी राज्यों के लोग यह त्यौहार अपने प्रवासी महत्वों के अनुसार मानते हैं। इस त्योहार के इतिहास के अनुसार, भगवान शिव हरियाली तीज का व्रत रखने वाले भक्तों की इच्छाओं को पूरा करते हैं।

“तीज” शब्द के कुछ विशेष महत्व हैं। हिंदू धर्म में हम मुख्यतः, हम अक्खा तीज, हरियाली तीज, कजरी तीज और हरतालिका तीज मनाते हैं।

हरियाली तीज 2020 के लिए विशेष भोजन

आप अपनी हरियाली तीज को थोड़ा और खास बनाने के लिए निम्न व्यंजनों को आजमा सकते हैं-

हरियाली तीज 2020 के लिए विशेष भोजन
  • पेय: अनानास पन्ना, जल जीरा, और जसवंत शरबत।
  • मिठाई: घेवर और रबड़ी, खीर, गुजिया और मालपुआ।
  • नाश्ता: राजस्थानी मिर्च वड़ा, समोसा और प्याज़ कचौरी।
  • भोजन: गट्टेकी सब्ज़ी, जीरा चावल और चपाती, भरवां बाटी के साथ आलू भरता और तड़का दाल।

भारत भर में हरियाली तीज उत्सव

यह त्यौहार भारत की चारों दिशाओं के लोग इस अवसर को पूरी ऊर्जा और खुशी के साथ मनाते हैं। इसके अतिरिक्त, त्योहार का राजस्थान में महत्वपूर्ण स्थान है। इस दिन, एक शानदार शाही जुलूस मनाया जाता है। लोग शहर की गलियों में तीज माता (देवी पार्वती) की पूजा करते हैं। जुलूस में देवी पार्वती की एक मूर्ति होती है और इसे तीज सवारी कहते हैं।

भारत और नेपाल के उत्तरी हिस्से के लोग इस त्योहार को मनाते हैं और अपने परिवार के कल्याण के लिए उपवास करते हैं।

समापन शब्द

देश में मानसून के आने का जश्न मनाने के लिए हरियाली तीज एक लोकप्रिय त्योहार है। गर्मियों के गर्म दिनों के बाद, यह हरियाली लाता है और वातावरण की गर्मी को शांत करता है। इसके अलावा, यह बारिश और पौधों की वृद्धि आगमन की सूचना देता है। तीज एक ऐसा त्यौहार है जिस वातावरण में उमंग और जोश आता है।

हरियाली तीज 2020 तिथि और अगले चार साल

वर्ष 2020 में हरियाली तीज शनिवार, 23 जुलाई को मनाई जाएगी।

दिन दिनांक वर्ष
गुरुवार 23 जुलाई 2020
बुधवार 11 अगस्त 2021
शनिवार 31 जुलाई 2022
शनिवार 19 अगस्त 2023
बुधवार 7 अगस्त 2024

कामिका एकादशी 2020- इस दिन व्रत रखने से मिट जाते हैं कई पाप

 294 total views


Tags: , , , , ,

No Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *