इस्लाम धर्म : कुछ महत्वपूर्ण तथ्य

islam इस्लाम
WhatsApp

इस्लाम धर्म विश्व का दूसरा सबसे विस्तृत धर्म है। सम्पूर्ण विश्व में इस्लाम के लगभग 2 अरब अनुयायी है।

विशेषज्ञों का मानना है की इस्लाम धर्म की शुरुआत 7वी शदी के आस-पास मक्का (आज का सऊदी अरब) में हुई। इस्लाम धर्म की शुरुआत हजरत मोहम्मद साहब के जीवन के आस-पास ही केंद्रित थी।

इस्लाम धर्म की शुरुआत हजरत मोहम्मद साहब के जीवन के आस-पास ही केंद्रित थी।

इस्लाम से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य :

  • मुस्लिम एक ईश्वर की पूजा करते है और उन्हें “अल्लाह” के नाम से जानते है।
  • इस्लाम के अनुयायियों को मुस्लिम कहा जाता है।
  • इस्लाम के अनुसार, अल्लाह की अनुमति के बिना कुछ नहीं हो सकता। लेकिन मनुष्य के पास स्वयं की इक्षा शक्ति है।
  • मुस्लिमो का मानना है की अल्लाह समय-समय पे अपने पैगम्बर भेजता है जैसे की अब्राहम, मूसा, यीशु और नूहहजरत मोहम्मद इनमे से अंतिम पैगम्बर थे।
  • इस्लाम सिखाता है कि अल्लाह के शब्द पैगंबर मोहम्मद को “गैब्रियल” के माध्यम से पता चला था।
  • “मस्जिद” वो स्थान है जहा मुस्लिम अपने अल्लाह की आराधना करते है। कुछ मुस्लिम पवित्र स्थलों की बात करे तो मक्का में काबा, येरुसलेम में अल-अक्सा मस्जिद और मदीना में पैगम्बर साहब की मस्जिद शामिल है।
  • “कुरान”, इस्लाम के अनुयायियों का ग्रन्थ है।
  • इस्लाम में एक शब्द है “जिहाद”, जिसका अर्थ है- संघर्ष। मुस्लिमो का मानना है की जिहाद का अर्थ है अपने धर्म की रक्षा के लिए किये गए सभी आंतरिक और बाहरी प्रयास।

हजरत मुहम्मद साहब :

हजरत मोहम्मद साहब का जन्म 570 ईसवी में मक्का में हुआ। परिवार का प्रभुत्व मक्का के एक बड़े धार्मिक स्थल पर था। मोहम्मद साहब ने हजरत खरदीजा नाम की विधवा व्यापारी के लिए काम करना आरम्भ किया और फिर उसी से निकाह किया। इस्लामिक ग्रंथों के अनुसार, “गेब्रियल” नाम की एक परी 610 ईसवी में मुहम्मद से मिलने आयी, जब वह एक गुफा में ध्यान कर रहे थे ।

गेब्रियल ने मुहम्मद साहब को अल्लाह का सन्देश सुनाया और उन शब्दों के प्रचार का आदेश दिया। 613 ईशवी के आस-पास मोहम्मद साहब ने अपने ज्ञान उपदेश के प्रचार की शुरुआत की। उन्होंने कहा की ईश्वर की तरफ से उन्हें सन्देश आया है की ईश्वर एक है। ईश्वर सभी को सच्चाई और ईमानदारी की राह पर चलने को कहता है। मोहम्मद साहब ने मूर्ति पूजा का भी विरोध किया।

हिजरा :

mecca madina इस्लाम

622 ईसवी में मोहम्मद साहब मक्का से मदीना की यात्रा पर निकले। इस यात्रा को हिजरा कहा जाता है। यही से इस्लामी कैलेंडर की भी शुरुआत हुई। लगभग 7 वर्षो बाद मुहम्मद साहब मक्का वापस आये और उन्होंने अपने दुश्मनो से युद्ध कर मक्का को जीत लिया। 632 ईसवी में अपनी मृत्यु तक मोहम्मद साहब ने इस्लाम का प्रचार जारी रखा।

शिया और सुन्नी :

मोहम्मद साहब की मृत्यु के बाद यह बहस हुई की कौन मोहम्मद की जगह नेता के रूप में लेगा। इससे कुछ विवाद उत्पन्न हुए और दो सम्प्रदाय उभरे – शिया और सुन्नी।


शिया संप्रदाय का मानना था की मोहम्मद साहब के बाद आने वाले 4 वारिस मोहम्मद द्वारा ही भेजे गए थे। विश्व के 90 % मुस्लिम, शिया समुदाय के ही है।


सुन्नी संप्रदाय का मानना था की केवल अली ही सही उत्तराधिकारी थे और वो पहले 3 वारिशों को मानने से इंकार करते है। ईरान, इराक और सीरिया में सुन्नी मुस्लिम की सख्या काफी है।

शिया और सुन्नी संप्रदाय के अंदर भी कई अलग-अलग समुदाय मौजूद है : वहाबी, अलावी, ख़वारिज।

कुरान :

Kuran इस्लाम

कुरान को इस्लाम धर्म में सबसे पवित्र ग्रथ का दर्जा प्राप्त है। कुरान में लिखे शब्दों को अल्लाह के शब्द कहा गया है।


कुछ मुस्लिमो का मानना है की मुहम्मद साहब के लेखकों ने उनके शब्दों को लिख दिया था। क्यूंकि मोहम्मद को खुद कभी लिखना और पढ़ना नहीं आया।
अन्य लोगो का मानना है की मोहम्मद साहब की मृत्यु के तुरंत बाद अबू बक्र ने कुरान का संकलन करवाया।

इस्लाम के 5 मुख्य स्तम्भ :

  • शाहदा : अल्लाह और मोहम्मद पर भरोषा करना।
  • सलात : दिन में पांच बार अल्लाह का नाम लेना।
  • जकात : जरुरतमंदो को पैसे और सुविधा देना।
  • सवाम : रमजान के दौरान रोजा रखना।
  • हज : जीवन में कम से कम एक बार मक्का की यात्रा करना।

वर्ष – 2020 आपके लिए कैसा होगा : पढ़ने के लिए क्लिक करे

व्यवसाय, पेशे, नौकरी, शिक्षा से जुडी समश्याओ के ज्योतिष परामर्श पाने के लिए क्लिक करे

 2,254 

WhatsApp

Posted On - November 23, 2019 | Posted By - Navneet Suryavanshi | Read By -

 2,254 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation