बृहस्पति गोचर 2022ः जल्द होने वाला है बृहस्पति गोचर इन राशि वालों के शुरु होंगे अच्छे दिन

बृहस्पति गोचर
WhatsApp

ज्योतिष शास्त्र में सभी ग्रहों का अपना अलग-अलग महत्व होता है। उसी तरह बृहस्पति ग्रह को काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार यह ग्रह धनवान, बुद्धिमान, उदार बनने में जातक की काफी सहायता करता है। इसी के साथ यह ग्रह कर्क राशि में उच्च और मकर राशि में नीच होता है। साथ ही बृहस्पति ग्रह धनु और मीन राशि पर शासन करता है। आपको बता दें कि जब बृहस्पति किसी जातक की कुंडली में मजबूत होता है, तो उस जातक के पास अच्छा स्वास्थ, धन आदि चीजें होती हैं। वही जब यह किसी जातक की जन्म कुंडली पर अच्छा प्रभाव नहीं डालता है, तो वह जातक निर्धन और गलत कार्यों का शिकार हो जाता है। वहीं बृहस्पति गोचर से सभी राशियों को अलग-अलग परिणाम प्राप्त होते हैं।

आपको बता दें कि बृहस्पति ग्रह को शुभ ग्रह की उपाधि प्राप्त है। वही बृहस्पति के शुभ होने के कारण जातक एक अच्छा शिक्षक और पुजारी बन सकता है। गुरु के शुभ होने के कारण जातक का सामाजिक कार्यों में रुचि बढ़ती है और वह समाज में मान-सम्मान प्राप्त करता है। आपको बता दें कि बृहस्पति शुभ होकर जातक को फलदायक परिणाम देता है, इसके कारण जातक अपने जीवन में काफी सफलता पाता है। लेकिन जब गुरु सही दशा में ना हो, तो जातक को इसके शुभ परिणाम प्राप्त नहीं होते हैं। चलिए जानते हैं कि बृहस्पति गोचर 2022 के कारण किस राशि पर इसका शुभ और अशुभ प्रभाव पड़ेगा- 

बृहस्पति ग्रह का महत्व 

वैदिक ज्योतिष के अनुसार बृहस्पति ग्रह को शुभ ग्रह माना जाता है। वही यह ग्रह जातक के जीवन में यश, कीर्ति और सम्मान दिलाता है। साथ ही गुरु गोचर करने में एक वर्ष का समय लेता है। आपको बता दें कि बृहस्पति ग्रह जातक के जीवन में खुशियां और आनंद लेकर आता है, इसीलिए ग्रह को काफी शुभ माना जाता है। 

ज्योतिष शास्त्र में सभी ग्रह काफी महत्वपूर्ण होते हैं। क्योंकि सभी ग्रह जातक को अलग-अलग परिणाम देते हैं। उसी तरह बृहस्पति ग्रह भी शुभ होकर जातक को शुभ परिणाम देता है और अशुभ होकर जातक को अशुभ परिणाम देता है।

 बता दें कि जिस जातक की कुंडली में बृहस्पति मजबूत होता है वह एक अच्छा शिक्षक और पुजारी बन सकता है। लेकिन अगर बृहस्पति की दशा सही ना होने के कारण जातक  निर्धन या गलत कार्यों में पड़ सकता है। गुरु गोचर के दौरान इस ग्रह का शुभ होना बेहद जरूरी है। चलिए जानते हैं कि बृहस्पति गोचर का समय और तिथिः

बृहस्पति का गोचर समय

गुरु गोचर 2022 वैदिक ज्योतिष में काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। क्योंकि यह ग्रह एक राशि से दूसरी राशि में गोचर करने में एक वर्ष का समय लगाता है। साथ ही यह ग्रह काफी शुभ माना जाता है, इसीलिए इस का गोचर ज्योतिष शास्त्र में महत्वपूर्ण है। 

आपको बता दें कि बृहस्पति 13 अप्रैल 2022 को शाम 4 बजकर  58 मिनट पर कुंभ राशि से मीन राशि में प्रवेश करेगा। जिसके कारण सभी 12 राशियों पर इसका अलग-अलग परिणाम पड़ेगा। चलिए जानते हैं कि किस राशि पर इसका शुभ और अशुभ परिणाम पड़ने वाला है-

12 राशियों पर बृहस्पति गोचर का प्रभाव

मेष राशि

  • बृहस्पति मेष राशि के ग्यारहवें भाव में गोचर करेगा।
  • इसके कारण इस राशि के लोगों को आय में कुछ परिशानियों का सामना करना पड़ सकता है।
  • साथ ही उनकी नौकरी और व्यवसाय में काफी वृद्धि होगी।
  • वहीं इस राशि के जातकों को अपने करियर में अच्छे परिणामों का सामना करना पड़ेगा।
  • साथ ही बृहस्पति गोचर 2022 के दौरान इस राशि के जातक अपने भाई-बहनों के साथ अच्छे समय का अनुभव करेंगे।
  • वही अप्रैल महीने में गुरु अपनी राशि में गोचर करेगा और मेष राशि के जातकों के लिए बारहवें भाव में गोचर करेगा, तो इस समय आप काफी सुस्त महसूस कर सकते हैं।
  • आपको अपने जीवन में अशांति का अनुभव होगा।
  • साथ ही आप स्वास्थ्य के मामले में भी किसी तरह की परेशानी का अनुभव करेंगे।

उपाय

  • बृहस्पति के नकारात्मक परिणामों से बचने के लिए गुरुवार के दिन निर्धन बच्चों को केले देना चाहिए।
  • साथ ही आपको भगवान शिव, बृहस्पति, विष्णु और केले के पेड़ से प्रार्थना करनी चाहिए। आपको शुभ परिणाम प्राप्त होंगे।

वृषभ राशि

  • वृषभ राशि के लिए यह गोचर बेहद खास होने वाला है। 
  • इसी के साथ बृहस्पति इस राशि के दसवें भाव में गोचर करेगा। 
  • जिसके कारण इस राशि के पेशेवर क्षेत्र में काफी बदलाव होगा।
  • इस दौरान आप अपनी नौकरी बदल सकते हैं।
  • वहीं जो लोग नौकरी की तलाश कर रहे हैं उन्हें नौकरी मिल जाएगी।
  • आपको बता दें कि व्यवसाय से जुड़े लोग निवेश करने के बारे में विचार कर सकते हैं।
  • इसी के साथ स्टील, विज्ञान और इंटरनेट बिजनेस में बढ़ोतरी हो सकती हैं
  • जब अप्रैल के महीने में गुरु ग्रह ग्यारहवें भाव में गोचर करेगा, तो इस राशि के जातकों को निवेश करना फलदाई होगा।

उपाय

  • गुरुवार के दिन मंदिर में पीली दाल चढ़ाना लाभदायक होगा।
  • इसी के साथ बृहस्पति को प्रसन्न रखने के लिए श्री रुद्रम मंत्र और गुरु स्तोत्र का जाप करना लाभदायक होगा।

मिथुन राशि

  • बृहस्पति इस राशि के नवम भाव में गोचर करेगा, जिसके कारण इस राशि के जातकों को अच्छे परिणाम प्राप्त होंगे।
  • जो लोग किसी योग्य साथी की तलाश कर रहे थे उन्हें वह योग्य साथी मिल जाएगा।
  • साथ ही आप इस दौरान किसी तीर्थ यात्रा पर जा सकते हैं, जिससे आप अच्छा महसूस करेंगे।
  • जब गुरु इस राशि के दसवें भाव में गोचर करेगा, तो आपको व्यवसाय में किसी तरह की परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।
  • यह गोचर आपको कार्य क्षेत्र में सफलता दिलाएगा।
  • साथ ही अक्टूबर के बाद निवेश करना आपके लिए लाभदायक होगा।

उपाय

  • गुरु बीज मंत्र ग्रां घरं ग्रौं स: गुरवे नम: का रोजाना जाप करना लाभदायक होगा। 

कर्क राशि

  • गुरु इस राशि के आठवें भाव में गोचर करेगा।
  • इसके कारण आपके पेशेवर जीवन में कुछ परेशानियां आ सकती हैं।
  • इसी के साथ आपको अपने कार्य क्षेत्र पर कई तरह के मुद्दों का सामना करना पड़ सकता है।
  • इस गोचर में आपको शेयर बाजार में निवेश नहीं करना चाहिए, इससे आपको नुकसान होगा।
  • साथ ही इस दौरान आपको स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।
  • साथ ही आपको अपने आहार पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है।
  • जब गुरु नवम भाव में गोचर करेगा, तो आपको कुछ अनुकूल परिणाम प्राप्त होंगे।
  • अगर आप घर बदलने या खरीदने की योजना बना रहे हैं, तो यह लाभदायक होगा।

उपाय

  • बृहस्पति की नकारात्मक परिणामों से बचने के लिए गुरुवार के दिन ब्राह्मणों को पीले वस्त्र अर्पित करने चाहिए।
  • इसी के साथ गुरुवार के दिन जरूरतमंदों को हल्दी, केसर, चना दाल और पीला कपड़ा दान करना चाहिए।

सिंह राशि

  • गुरु आपके सातवें भाव में गोचर करेगा, जिससे आप निजी जीवन में अच्छे समय का अनुभव करेंगे।
  • इसी के साथ सिंह राशि के विवाहित जातक अपने जीवन साथी के साथ अच्छे समय का आनंद लेंगे।
  • साथ ही आपके जीवन की सभी परेशानियां भी इस समय में दूर हो जाएंगी।
  • वही आपके धन क्षेत्र में भी वृद्धि होगी।
  • बृहस्पति गोचर आपके लिए लाभदायक साबित होगा।
  • इसी के साथ जो लोग पहले से ही किसी रिश्ते में है उनके लिए यह समय थोड़ा समस्या भरा हो सकता है।
  • किसी तीसरे व्यक्ति के रिश्ते में आने से आपके रिश्ते में तनाव उत्पन्न हो सकता है।

उपाय

  • गुरुवार के दिन बच्चों को बेसन की मिठाई देने से आपको लाभ मिलेगा।
  • वहीं गुरुवार के दिन व्रत रखना आपके लिए लाभदायक साबित होगा।

कन्या राशि

  • इस राशि के छठे भाव में बृहस्पति गोचर करेगा।
  • इसके कारण आपको जल्दबाजी में निर्णय लेने से बचना चाहिए। क्योंकि आपको बाद में परेशानी का अनुभव करना पड़ सकता है।
  • कन्या राशि वालों को उनके जीवन साथी का पूरा सहयोग मिलेगा। लेकिन कुछ विचार विमर्श के मुद्दे आपके सामने आ सकते हैं।
  • इस दौरान आपको आपके स्वास्थ्य से जुड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।
  • जब बृहस्पति सप्तम भाव में गोचर करेगा, तो जो लोग योग्य साथी की तलाश कर रहे हैं उन्हें उनका योग्य साथी मिल जाएगा।
  • साथ ही इस दौरान आपको माता-पिता का पूरा सहयोग प्राप्त होगा, जिससे आप अपने जीवन में सफलता प्राप्त करेंगे।

उपाय

  • साथ ही जातक को अपने माथे पर केसर का तिलक लगाना चाहिए।
  • इसी के साथ बृहस्पति भगवान को प्रसन्न करने के लिए पूजा और रुद्राभिषेक करना लाभदायक होता है।

तुला राशि

  • तुला राशि के जातकों के लिए गुरु तीसरे और छठे भाव का स्वामी है और प्रेम और शिक्षा के पंचम भाव में गोचर करेगा।
  • इसके कारण आप अपनी परियोजना पर ध्यान केंद्रित करेंगे।
  • साथ ही आपको प्रेम जीवन में किसी तरह की परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।
  • जब बृहस्पति छठे भाव और मीन राशि में गोचर करेगा, तो इसके कारण आपको काफी अनुकूल परिणाम प्राप्त होंगे।
  • आपके निजी जीवन में काफी शांति होगी और आप खुश महसूस करेंगे।

उपाय

  • शुक्रवार के दिन मां लक्ष्मी की पूजा और व्रत करना लाभदायक होगा।
  • इसी के साथ पीपल के पेड़ की पूजा करना लाभदायक होगा।
  • भोजन करते समय किसी प्रकार के जूते पहनने से आपको बचना चाहिए।
  • साथ ही माथे पर केसर, हल्दी का तिलक लगाना शुभ होता है।

वृश्चिक राशि

  • बृहस्पति गोचर इस राशि के चौथे भाव में होगा।
  • जिसके कारण इस राशि के जातकों को अच्छे परिणाम प्राप्त होंगे।
  • साथ ही इस राशि के जातकों के विदेश जाने की अधिक संभावना बन रही है।
  • वहीं पेशेवर क्षेत्र में इस राशि के लोगों को किसी तरह की परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।
  • आपको अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखना चाहिए। क्योंकि इस दौरान आपके स्वास्थ्य बिगड़ने की अधिक संभावना बन रही है।
  • वहीं आर्थिक रूप से 2022 की पहली तिमाही के आसपास आपको सावधानी बरतनी चाहिए
  • किसी भी तरह के निवेश करने से पहले आपको सलाह मशवरा जरूर करना चाहिए।

उपाय

  • प्रतिदिन नहाने के पानी में एक चुटकी हल्दी मिलाकर नहाना सुखदायक होता है।
  • वही अपनी उंगली में एक मूल्यवान पीला नीलम या पीला पुखराज लटकन की अंगुली या अपने गले में एक लटकन पहनना चाहिए।

धनु राशि

  • धनु राशि के तीसरे भाव में बृहस्पति गोचर होगा।
  • इसके कारण विद्यार्थियों को कड़ी मेहनत करने की आवश्यकता है।
  • साथ ही आप किसी तरह की परेशानी का सामना कर सकते हैं।
  • इस दौरान आप अशांति का अनुभव करेंगे।
  • साथ ही आपको अपने स्वास्थ्य पर भी विशेष ध्यान देना चाहिए।
  • आपको गर्दन की समस्या का सामना करना पड़ सकता है।
  • जब गुरु चौथे भाव में गोचर करेगा, तो आप मई के बाद नई संपत्ति खरीद सकते हैं।

उपाय

  • अपने दाहिने हाथ की तर्जनी पर उच्च गुणवत्ता वाला पुखराज पहनना आपके लिए लाभदायक होगा।

मकर राशि

  • बृहस्पति गोचर मकर राशि के बारहवें भाव में होगा।
  •  वही शुरुआत में यह आपकी कुंडली के दूसरे भाव में होगा, इसके कारण आपको पेशेवर जीवन में काफी खुशखबरी मिलेगी।
  • साथ ही आपके वेतन में वृद्धि हो सकती है।
  • धन के मामले में आपको कई तरह के उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ सकता है।
  •  निवेश करने से पहले सोच-विचार जरूर करना चाहिए। क्योंकि यह समय निवेश करने के लिए सही नही होगा।
  • गुरु गोचर के कारण भाई-बहन और दोस्तों के आसपास की स्थिति को संभालने थोड़ा मुश्किल हो सकता है। और थोड़ी तनाव की स्थिति उत्पन्न हो सकती।
  • वही जब बृहस्पति तीसरे भाव में गोचर करेगा, तो भाई-बहनों के साथ संबंध सुधरेंगे।
  • आपके निजी जीवन में भी अच्छे समय की शुरुआत होगी।

उपाय

  • पीपल के पेड़ को बिना छुए नियमित रूप से जल देना शुभदायक होता है।
  • इसी के साथ गुरु गोचर के दुष्प्रभावों से बचने के लिए पीला रुमाल हर समय अपने साथ रखना चाहिए।

कुंभ राशि

  • बृहस्पति गोचर कुंभ राशि के पहले भाव में होगा।
  • इसके कारण इस राशि वालों को शुभ परिणाम प्राप्त होंगे।
  • स्वास्थ्य के लिहाज से आपको छोटी-मोटी बीमारियां हो सकती हैं।
  • जो लोग सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहे हैं उन छात्रों को सकारात्मक परिणाम प्राप्त होंगे।
  • प्रेम और रिश्तो में यह समय कुंभ राशि वालों के लिए काफी लाभदायक होगा।
  • जो लोग एक योग्य साथी की तलाश कर रहे हैं उन्हें उनका पसंदीदा योग्य साथी मिल जाएगा
  • जब गुरु दूसरे भाव में गोचर करेगा, तो यह आपके धन मामलों में आपकी सहायता करेगा।
  • कुल मिलाकर यह गोचर आपके लिए लाभदायक साबित होगा।

उपाय

  • बृहस्पति के नकारात्मक परिणामों से बचने के लिए गुरुवार के दिन भगवान नारायण की पूजा और व्रत करना शुभदायक होता है।
  • इसी के साथ किसी पवित्र संस्था को लगातार आठ दिनों तक हल्दी का दान करने से लाभ होगा।

मीन राशि

  • बृहस्पति गोचर मीन राशि के पहले और दशम भाव और बारहवें भाव में होगा।
  • इसके कारण इस राशि वालों को लाभ होगा।
  • आप अपने धन का संचय करने में भी सक्षम नहीं होंगे।
  • निजी जीवन में आपको किसी तरह की परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।
  • बृहस्पति गोचर आपके लिए शुभ परिणाम लेकर आयेगा। वही आपको अपने प्रेम संबंधों में साथी से वाद-विवाद की स्थिति का सामना करना पड़ेगा।
  • जब गुरु पहले भाव में होगा यह आपके लिए लाभदायक होगा।
  • आपको सलाह दी जाती है कि आपको योग जैसी गतिविधियों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। यह आपकी हेल्थ के लिए काफी अच्छा होता है। 

उपाय

  • गुरुवार के दिन पीले रंग के वस्त्र पहनना चाहिए।
  • इसी के साथ अपनी कुंडली में बृहस्पति के अशुभ प्रभावों को कम करने के लिए मांस और शराब का सेवन नहीं करना चाहिए।

अधिक जानकारी के लिए आप Astrotalk के अनुभवी ज्योतिषियों से बात करें।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 937 

WhatsApp

Posted On - March 28, 2022 | Posted By - Jyoti | Read By -

 937 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation