जानें शाम की पूजा में क्यों नहीं बजाई जाती है घंटी और पूजा से जुड़े अन्य नियम

शाम की पूजा में घंटी

हिंदू धर्म में पूजा का विशेष महत्व माना जाता है, क्योंकि पूजा धार्मिक अनुष्ठान के रूप में की जाती है और इसमें भगवान की प्रार्थना, ध्यान, मंत्र और आरती की जाती हैं। पूजा के माध्यम से व्यक्ति भगवान के सामने अपनी सभी भावनाओं व इच्छाओं को रखता हैं। इसे धर्म के एक महत्वपूर्ण अंग के रूप में माना जाता है, जो जातक को धार्मिक जीवन में सुधार करने में मदद करता है। पूजा से मनुष्य का मन शुद्ध होता है और जातक का ध्यान भगवान की ओर जाता है, जिससे व्यक्ति को आस्था, विश्वास और शक्ति प्राप्त होती है। लेकिन भगवान की पूजा करने से पहले जातक को शाम की पूजा से जुड़े नियम को समझना चाहिए ताकि वह बिना किसी परेशानी के भगवान की पूजा कर सकें।

बता दें कि पूजा धार्मिक आदर्शों को स्थापित करने में मदद करती है। साथ ही यह जातक में अनुशासन, संयम, उत्तम आचार और श्रद्धा जैसे गुणों का विकास करती है। इसके अलावा, पूजा सामाजिक एवं आध्यात्मिक भाव को बढ़ाती है और जातक को समाज में एक अच्छी स्थिती प्रदान करती हैं। चलिए आज इस लेख में जानते है कि शाम की पूजा करते समय तुलसी व घंटी का उपयोग क्यों नहीं किया जाता हैं।

हिंदू धर्म में पूजा का महत्व

घर में पूजा करने से जातक को धार्मिक उत्साह प्राप्त होता है और व्यक्ति ईश्वर के साथ जुड़ाव का अनुभव करता है। साथ ही पूजा करने से परिवार के सदस्यों के संबंधों में प्रेम और एकता बढ़ती है। पूजा करने से जातक के घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होता हैं और घर में शांति का माहौल बन रहता है। घर में पूजा करने से जातक को आत्मिक एवं मानसिक शुद्धि प्राप्त होती है, जो स्वस्थ जीवन जीने के लिए आवश्यक होती है। पूजा करने से समय के साथ-साथ जातक के व्यवहार में भी बदलाव होता हैं और व्यक्ति का संबंध ईश्वर और धर्म से मजबूत हो जाता हैं।

सुबह और शाम पूजा करने से दिन की शुरुआत और अंत धार्मिक अनुभव से होती है और इससे जातक को दिन के सभी कामों के लिए प्रेरणा मिलती है। सुबह और शाम पूजा करने से व्यक्ति ईश्वर के साथ जुड़ाव अनुभव करता है, जिससे जातक को आत्मिक शांति मिलती है। साथ ही पूजा करने से घर का माहौल धार्मिक, सद्भाव और सौहार्द बना रहता है। पूजा करने से जातक के मन में शुद्धि उत्पन्न होती है, जो व्यक्ति के आत्मिक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए बहुत आवश्यक है। 

यह भी पढ़ें- ज्योतिष अनुसार जानें विवाह में क्यों पहनाई जाती है जयमाला?

इस पूजा विधि से करें शाम की पूजा

शाम के समय पूजा करना बहुत ही शुभ माना जाता है। इसके लिए आप निम्नलिखित विधि का पालन कर सकते हैं:

  • सबसे पहले, देवी या देवता की मूर्ति के सामने बैठ जाएं।
  • इसके बाद उपयुक्त पूजा सामग्री जैसे फूल, दीपक, धूप, अगरबत्ती आदि का पूजा में उपयोग करें।
  • अब भगवान के सामने एक दीपक, धूप और अगरबत्ती जलाएं।
  • इसके बाद आप भगवान की आरती करें।
  • अंत में, भगवान से दोनों हाथ जोड़कर आशीर्वाद मांगें और ध्यान करें।
  • पूजा का प्रसाद घर के सभी लोगों में जरूर बांटे।

यह भी पढ़ें: जानें मेष राशि में राहु-बृहस्पति-बुध की युति 2023 प्रत्येक राशि को कैसे प्रभावित करेगी?

ज्योतिष अनुसार घर पर पूजा करने के नियम

हिंदू धर्म में घर पर पूजा करने के कुछ नियम होते हैं, जिनका पालन करना आवश्यक होता है। यह नियम इस प्रकार हैं:

स्नान करना 

हिंदू धर्म में पूजा के लिए स्नान करना बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। इसका मुख्य उद्देश्य शुद्धता और पवित्रता को बनाए रखना होता है। स्नान करने से शरीर के समस्त अंगों को स्वच्छ और शुद्ध करके अधिक उत्तेजित बनाया जाता है, जो पूजा के दौरान ध्यान और अध्ययन करने में मदद करता है। इसके अलावा, स्नान करने से अनेक बीमारियों से बचाव होता है और शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखने में भी मदद मिलती है। पूजा से पहले स्नान करने की सलाह दी जाती है, क्योंकि इससे आपका मन और शरीर दोनों ही शांत और अच्छा महसूस करते हैं। 

घर की साफ-सफाई

घर पर साफ सफाई बहुत महत्वपूर्ण होती है, क्योंकि एक साफ सुथरा मंदिर या पूजा स्थल आपके मन को शांति देता है और आपके आध्यात्मिकता के अनुभव को बढ़ावा देता है। साथ ही साफ मंदिर शुद्धता और स्वच्छता का प्रतीक होता है, जो आपके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी है।

पूजा का आसन

हिंदू धर्म में पूजा के दौरान आसन का उपयोग किया जाता है, क्योंकि यह शरीर को स्थिर रखता है और चित्त को शांत करता है। एक स्थिर आसन में बैठकर पूजा करने से शरीर का रक्त संचार बेहतर होता है और मन शांत रहता है। इसलिए आसन का उपयोग पूजा के दौरान अत्यंत महत्वपूर्ण होता है।

पूजा का समय

हिंदू धर्म में सुबह और शाम दो बार पूजा की जाती है। सुबह की पूजा को सूर्योदय के समय किया जाना चाहिए, जब सूर्य की किरणें पृथ्वी पर चमकती हैं। शाम की पूजा को सूर्यास्त के समय किया जाना चाहिए, जब सूर्य की रोशनी ढलने लगती है। यह समय स्थान और ऋतु के अनुसार भी बदल सकता है। आप इसके लिए किसी अनुभवी ज्योतिष या पंडित से बात कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें- जानें सपने में देवी-देवता के दर्शन हों तो क्या है इसका मतलब

शाम की पूजा करते समय रखें इन बातों का विशेष ध्यान

घंटी न बजाएं

हिंदू धर्म में शाम की पूजा करते समय घंटी नहीं बजानी चाहिए, क्योंकि इस समय पितृ देवताओं की पूजा की जाती है और इन देवताओं को अस्तित्व में लाने के लिए शांति और सामंजस्य की आवश्यकता होती है। घंटी बजाने से इस शांति एवं सामंजस्य को विघटित किया जा सकता है और इससे पितृ देवताओं को असंतोष हो सकता है। इसलिए शाम की पूजा में घंटी नहीं बजानी चाहिए।

पूजा में तुसली का पत्ता

हिंदू धर्म में शाम को तुलसी के पत्ते को नहीं छूना चाहिए, क्योंकि शाम का समय देवी-देवताओं का माना जाता है और तुलसी को देवी का स्वरूप कहा जाता है। यही कारण है कि सूर्यास्त होने के बाद तुलसी के पत्ते को नहीं छूना चाहिए, क्योंकि ऐसा करने से तुलसी देवी नाराज हो जाती है और यह जातक के लिए शुभ नहीं होता हैं। 

शाम को सूर्यदेव की पूजा

पूजा के नियमों के अनुसार शाम को सूर्य देव की पूजा नहीं की जाती है, क्योंकि शाम का समय सूर्यास्त के बाद होता है और सूर्य देव को दिन के देवता कहा जाता है। इसलिए शाम के समय इनका पूजन नहीं किया जाता हैं। हालांकि, शाम की पूजा में अग्नि का उपयोग किया जा सकता है, जो प्रकृति का एक महत्वपूर्ण तत्व मानी जाती है।

शाम की पूजा में फूल

हिंदू धर्म में शाम की पूजा करने के लिए फूलों को तोड़ना अशुभ माना जाता है, क्योंकि शाम की पूजा का मुख्य उद्देश्य देवी-देवताओं की आराधना करना होता है, जो संसार के सभी जीवों का कल्याण करते हैं। साथ ही भगवान पेड़-पौधों के रूप में धरती पर विराजमान होते है और उन्हें तोड़ने से देवी-देवताओं को बुरा लगता है। इसलिए शाम की पूजा के लिए फूलों को तोड़ने से बचना चाहिए।

 

शाम की पूजा के दौरान अपनाएं ये ज्योतिषी उपाय होगा लाभ

आप शाम की पूजा के दौरान निम्नलिखित ज्योतिषीय उपाय करके परेशानियों से बच सकते है:

  • पूजा करते समय अगर जातक को शुरू में कुछ अशुभ विचार आते हैं, तो उन्हें दूर करें और मन को शुद्ध व शांत रखने के लिए ध्यान करना चाहिए।
  • आप पूजा के दौरान कम से कम एक मिठाई और थोड़ा प्रसाद भगवान को जरूर चढ़ाएं।
  • पूजा के दौरान अगर संभव हो, तो तुलसी के पत्तों का प्रयोग करें, क्योंकि तुलसी का पत्ता शुभता का प्रतीक माना जाता है। लेकिन शाम की पूजा में इसका उपयोग न करें।
  • यदि संभव हो, तो पूजा के दौरान उपयुक्त वस्तुओं का दान करना चाहिए।
  • पूजा के बाद भगवान के समक्ष आरती जरूर करें।
  • आपको रोजाना देवी-देवताओं व अपने इष्ट देवता की पूजा करें और उनसे धन, स्वास्थ्य, समृद्धि और शांति की प्रार्थना करें।

यह भी पढ़ें- Nadi Dosha: कुड़ली मिलान में नाड़ी दोष के प्रभाव और इसके ज्योतिष्य उपाय

शाम को पूजा करते समय इन मंत्रों का जरूर करें जप

आपको शाम के समय पूजा के दौरान निम्न मंत्रों का जप करना चाहिए:

  • शाम के समय पूजा करते समय ॐ नमः शिवाय मंत्र का जप करना जातक के लिए शुभ होता हैं।
  • श्री गणेशाय नमः मंत्र का जप करने से जातक को शांति मिलती हैं।
  • ॐ नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का जप हिंदू धर्म में शुभ माना जाता हैं।
  • श्री राम जय राम जय जय राम यह राम जी का मंत्र है, जिसका जप शाम की पूजा में जरूर करना चाहिए।
  • आपको शाम की पूजा में ॐ मणि पद्मे हूँ मंत्र का जप जरूर करना चाहिए।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 17,616 

Posted On - March 25, 2023 | Posted By - Jyoti | Read By -

 17,616 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation