krishna janmashtami 2022: भूलकर भी न करें कृष्णा जन्माष्टमी पर यह काम, होगा बड़ा नुकासान

कृष्णा जन्माष्टमी 2022
WhatsApp

कृष्णा जन्माष्टमी 2022 (krishna janmashtami 2022)भगवान विष्णु के आठवें अवतार श्री कृष्ण के जन्म के उत्सव के रुप में बड़ी धूम-धाम से मनाया जाता है। साथ ही भगवान कृष्ण का जन्म बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। वहीं कृष्ण जन्माष्टमी 2022 (krishna janmashtami 2022) के दिन श्री कृष्ण के भक्त पूजा करते हैं और देश के विभिन्न हिस्सों में विभिन्न प्रकार के अनुष्ठान किए जाते हैं। आपको बता दें कि जन्माष्टमी को भगवान कृष्ण के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है।

वहीं दैत्यराज कंस की नगरी मथुरा में भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी को भगवान कृष्ण का जन्म देवकी की आठवीं संतान के रूप में राजा के कारागार में हुआ था। आधी रात थी और चंद्रमा रोहिणी नक्षत्र के साथ उदय हो रहा था जब उनका जन्म हुआ था। इसलिए कृष्णष्टमी हर साल भगवान कृष्ण के जन्मदिन के रूप में पूरे भारत में मनाई जाती है।

भारत में कृष्णा जन्माष्टमी 2022 (krishna janmashtami 2022)एक वार्षिक धार्मिक त्योहार है और भगवान विष्णु के आठवें अवतार भगवान कृष्ण के जन्म के उपलक्श में मनाया जाता है। इसे कृष्णष्टमी के रूप में भी जाना जाता है, इस दिन कई महत्वपूर्ण धार्मिक आयोजन किए जाते है और भक्तों द्वारा बड़ी संख्या में अनुष्ठान भी किए जाते हैं। चलिए साल 2022 के अगस्त माह में मनाई जाने वाली कृष्णा जन्माष्टमी के बारें में विस्तार से पढ़ते है। 

कृष्णा जन्माष्टमी का महत्व

जन्माष्टमी का त्यौहार हिंदुओं के लिए काफी महत्वपूर्व माना जाता है। इस दिन सभी लोग भगवान कृष्ण की पूजा करते है औऱ कई बड़े-बड़े आयोजन भी किए जाते है। चलिए जानते है इस त्यौहार का महत्व क्या हैः

  • आपको बता दें कि इस दिन देश के सभी मंदिरों को सजाया जाता है।
  • साथ ही कृष्ण के जन्मदिन के मौके पर कई झांकियों को सजाया जाता है।
  • वहीं कृष्ण को सुशोभित करने के बाद, उन्हें पालने में बिठाया जाता है और भक्तों के द्वारा झुलाया जाता है।

इस दिन लोग दूर-दूर से भगवान कृष्ण के दर्शन के लिए आते है। और आधी रात तक उपासक उपवास रखते हैं। मध्यरात्रि में शंख और घंटियों की पवित्र ध्वनियों के साथ भगवान कृष्ण के जन्म की खबर हर जगह भेजी जाती है। और भगवान कृष्ण की आरती गाई जाती है। साथ ही सभी भक्तों में प्रसाद वितरित किया जाता है।

कृष्णा जन्माष्टमी 2022 (krishna janmashtami 2022) में कब मनाई जाएगी?

भगवान श्री कृष्ण का जन्म रोहिणी नक्षत्र के तहत अष्टमी तिथि की मध्यरात्रि में हुआ था। वहीं भगवान कृष्ण के जन्म का महीना अमांता कैलेंडर के अनुसार श्रवण और पूर्णिमांत कैलेंडर में भाद्रपद है। यह अंग्रेजी कैलेंडर पर अगस्त-सितंबर के महीनों के अनुरूप है और सटीक तिथि चंद्र चक्र पर निर्भर करती है।

हालांकि, उत्तर भारतीय राज्यों में कृष्णा जन्माष्टमी 18 अगस्त को मनाई जाती है। वहीं दक्षिण भारतीय राज्य केरल, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश 18 अगस्त, गुरुवार को श्रीकृष्ण जयंती मनाई जाएगी।

यह भी पढ़ें- Nag panchami 2022: जानें नाग पंचमी से जुड़ी कथा और पूजन विधि

‘जन्म’ का अर्थ है जन्म और ‘अष्टमी’ का अर्थ है आठवां। भगवान कृष्ण भगवान विष्णु के आठवें अवतार थे जिसमें उनका जन्म आठवीं तिथि को वासुदेव और यशोदा के आठवें पुत्र के रूप में हुआ था।

आपको बता दें कि इस साल 2022 में कृष्णा जन्माष्टमी 14 अगस्त यानी वीरवार के दिन मनाई जाएगी।

कृष्ण जन्माष्टमी 2022(krishna janmashtami 2022) शुभ मुहूर्त 

  • आपको बता दें कि जब मध्यरात्रि में अष्टमी हो, तो अगले दिन व्रत रखना चाहिए।
  • यदि अष्टमी तिथि दूसरे दिन की मध्यरात्रि तक हो, तो दूसरे दिन ही व्रत रखना चाहिए।
  • अगर अष्टमी 2 दिनों की मध्यरात्रि तक हो और रोहिणी नक्षत्र केवल एक रात के दौरान प्रबल हो, तो उस रात के अगले दिन को उपवास के लिए माना जाना चाहिए।
  • यदि अष्टमी 2 दिन की मध्यरात्रि तक हो और दोनों रातों में रोहिणी नक्षत्र भी हो, तो दूसरे दिन कृष्ण जन्माष्टमी का व्रत रखा जाता है।
  • अगर अष्टमी 2 दिन की मध्यरात्रि तक हो और किसी दिन रोहिणी नक्षत्र न हो, तो कृष्ण जयंती का व्रत दूसरे दिन रखा जाता है।
  • यदि इन दोनों दिनों की मध्यरात्रि में अष्टमी तिथि न हो, तो दूसरे दिन व्रत रखा जाएगा।

कृष्ण जन्माष्टमी 2022(krishna janmashtami 2022) पर महत्वपूर्ण समय

सूर्योदय18 अगस्त, 2022 9:21 अपराह्न
सूर्यास्त18 अगस्त, 2022 शाम 6:53 बजे
निशिता काल की शुरुआत9 अगस्त, 2022 12:08 पूर्वाह्न से शुरू होगा
निशिता काल  समाप्त19 अगस्त, 2022 12:53 पूर्वाह्न समाप्त होगा
अष्टमी तिथि की शुरुआत18 अगस्त, 2022 रात 9:21 बजे शुरू होगी
अष्टमी तिथि  समाप्त19 अगस्त, 2022 रात 10:59 बजे समाप्त होगी
रोहिणी नक्षत्र की शुरुआत20 अगस्त, 2022 1:53 पूर्वाह्न से शुरू होगी
रोहिणी नक्षत्र समाप्त21 अगस्त, 2022 सुबह 4:40 बजे
पारण का समय19 अगस्त, 2022 सुबह 6:08 बजे

श्री कृष्ण जयंती (krishna janmashtami 2022) के लिए महत्वपूर्ण अनुष्ठान

आपको बता दें कि यह पवित्र त्यौहार भारत के विभिन्न हिस्सों में अलग-अलग प्रकार की स्थानीय परंपराओं और रीति-रिवाजों से मनाया जाता है।

साथ ही श्री कृष्णा जन्माष्टमी 2022 (krishna janmashtami 2022) मनाने वाले देश भर में लोग इस दिन आधी रात तक उपवास रखते हैं जब भगवान कृष्ण का जन्म हुआ था। उनके जन्म के प्रतीक के रूप में देवता की मूर्ति को एक छोटे से पालने में रखा जाता है और प्रार्थना की जाती है। इस दिन भजन और भगवद गीता का पाठ किया जाता है।

महाराष्ट्र

आपको बता दें कि महाराष्ट्र में दही हांडी का आयोजन स्थानीय और क्षेत्रीय स्तर पर किया जाता है। छाछ से भरे मिट्टी के बर्तन को तोड़ने के लिए मानव पिरामिड का निर्माण होता है। बड़ी प्रतिस्पर्धा है और इन आयोजनों के लिए लाखों रुपये के पुरस्कारों की घोषणा की जाती है।

उत्तर प्रदेश

साथ ही उत्तर प्रदेश में बड़ी संख्या में भक्त इस दिन मथुरा और वृंदावन के पवित्र शहरों में कृष्ण मंदिरों में जाते हैं।

गुजरात

इसी के साथ गुजरात में इस दिन को द्वारका शहर में स्थित द्वारकाधीश मंदिर में धूमधाम और महिमा के साथ मनाया जाता है, जो कि भगवान कृष्ण के राजा बनने पर राज्य था।

जम्मू 

आपको बता दें कि जम्मू में इस दिन पतंगबाजी का आयोजन किया जाता है।

मणिपुर

वहीं मणिपुर में भी कृष्ण जन्म नामक इस दिन को राज्य की राजधानी इम्फाल में इस्कॉन मंदिर में मनाया जाता है।

पूर्वी भारत

इसी के साथ पूर्वी भारत में जन्माष्टमी के बाद अगले दिन नंदा उत्सव मनाया जाता है, जिसमें दिन भर के उपवास रखने और मध्यरात्रि में भगवान को विभिन्न प्रकार की मिठाइयाँ चढ़ाने की विशेषता होती है। इस प्रकार उनके जन्म का जश्न मनाया जाता है। ओडिशा के पुरी और पश्चिम बंगाल के नवद्वीप में महत्वपूर्ण पूजाएं आयोजित की जाती हैं।

दक्षिणी भारत

वहीं दक्षिणी भारत में महिलाएं अपने घरों को आटे से बने छोटे पैरों के निशान से सजाती हैं, जो मक्खन चुराते हुए कृष्ण के जीवन का प्रतिनिधित्व करते हैं।

जन्माष्टमी व्रत (krishna janmashtami 2022) और उससे जुड़ी पूजा विधि

  • आपको बता दें कि उत्सव अष्टमी के उपवास और पूजा के साथ शुरू होता है और नवमी पर पारण के साथ समाप्त होता है।
  • इस दिन व्रत रखने वाले को सप्तमी के एक दिन पहले हल्का सा सात्विक भोजन करना चाहिए। अगली रात जीवन साथी के साथ किसी भी तरह की शारीरिक अंतरंगता से बचें और सभी इंद्रियों को नियंत्रण में रखें।
  • साथ ही व्रत के दिन प्रात:काल उठकर सभी देवताओं को प्रणाम करें। फिर पूर्व या उत्तर की ओर मुख करके बैठ जाएं।
  • वहीं पवित्र जल, फल और फूल हाथ में लेकर व्रत का संकल्प लें।
  • इसके बाद अपने ऊपर काले तिल मिलाकर जल छिड़कें और देवकी जी के लिए लेबर रूम बनाएं।
  • अब इस कमरे में एक पलंग और उस पर एक पवित्र कलश रखें।
  • साथ ही कृष्ण को दूध पिलाती देवकी जी की मूर्ति या चित्र लगाएं।
  • साथ ही देवकी, वासुदेव, बलदेव, नंद, यशोदा और लक्ष्मी जी का नाम लेकर पूजा करनी चाहिए।
  • वहीं यह व्रत आधी रात के बाद ही खोला जाता है। इस व्रत में अनाज का सेवन नहीं किया जाता है। केवल फल और ऐसा ही कुछ लिया जा सकता है। कुट्टू के आटे के तले हुए गोले, गाढ़े दूध से बनी मिठाइयाँ और शाहबलूत का हलवे का सेवन कर सकते है।

जन्माष्टमी पर क्या करना चाहिए और क्या नही करना चाहिए

  • आपको बता दें कि कृष्णा जन्माष्टमी 2022 गोपाल को भोग लगाने से पहले आप भोग में तुलसी के पत्ते डाल सकते हैं। यह बेहद शुभ माना जाता है।
  • साथ ही अपने घर में घी से दीया जलाएं और तुलसी के पौधे के पास रखें, इसे लाल रंग की चुनरी से ढक दें। फिर इस मंत्र का ॐ वासुदेवाय नम: जाप करें। इससे आपकी सारी मनोकामना पूरी होगी। और आपको भगवान का आशीर्वाद भी प्राप्त होगा।
  • वहीं जन्माष्टमी के दिन किसी भी तरह के पेड़-पौधे को न तो काटें और न ही उखाड़ें। इस दिन वृक्षों को नुकसान नही पहुचाना चाहिए।
  • जितना हो सके आपको जरूरतमंदों की मदद करनी चाहिए और दूसरों को चोट न पहुंचाएं या उनके साथ अशिष्ट व्यवहार न करें।
  • भगवान का अभिषेक करते समय शंख से बाल-गोपाल की मूर्ति पर दूध डालें। 
  • साथ ही आपको माता लक्ष्मी की भी पूजा करना चाहिए।

निःसंतान दंपतियों के लिए जन्माष्टमी उपाय

जन्माष्टमी के शुभ अवसर पर निःसंतान दंपतियों को भगवान की पूजा करते हुए पूरी भक्ति और उपवास के साथ पूजा अनुष्ठान करना चाहिए। उन्हें अपने घर की वेदी पर पूर्व या उत्तर की ओर मुंह करके संतान गोपाल यंत्र स्थापित करना चाहिए। और भगवान कृष्ण का आशीर्वाद लेते हुए इस मंत्र का ऊँ श्रीं ह्रीं क्लीं जीलौं देवकीसुत वासुदेव जगत् जगत्। देहि मे तनयं कृष्णं त्वमहं शरणं गत: क्लीं ऊ।। का जाप करना चाहिए।

जन्माष्टमी (krishna janmashtami 2022) से जुड़ी कथा

द्वापर युग के अंत में राजा उग्रसेन मथुरा पर शासन करते थे। उग्रसेन का कंस नाम का एक पुत्र था। सिंहासन के लिए कंस ने अपने पिता उग्रसेन को कारागार में धकेल दिया। कंस की बहन देवकी का विवाह यादव समुदाय के वासुदेव से तय हुआ। जब कंस अपनी बहन की शादी के बाद उसे विदा करने वाला था, उसने आकाश से एक तांडव सुना, हे कंस! यह देवकी जो तुम्हें इतनी प्यारी है, उसकी आठवीं संतान तुम्हारी मृत्यु का कारण होगी। यह सुनकर कंस बहुत क्रोधित हुआ और उसे मारना चाहता था। उसने सोचा कि अगर देवकी की मृत्यु हो गई, तो वह किसी भी बच्चे को जन्म नहीं दे पाएगी।

यह भी पढ़ें- Raksha bandhan 2022: क्यों मनाया जाता है रक्षा बंधन 2022 और राखी बांधने का शुभ मुहुर्त

वासुदेव ने कंस को समझाने की कोशिश की कि उसे देवकी से नहीं, बल्कि उसके आठवें बच्चे से परेशानी है। इसलिए वह उसे अपना आठवां बच्चा देगा। कंस इस पर सहमत हो गया और वासुदेव और देवकी को अपने कारागार में बंद कर दिया। तुरंत, नारद वहाँ प्रकट हुए और कंस से पूछा कि उन्हें कैसे पता चलेगा कि कौन सा आठवां गर्भ है। मतगणना पहले या आखिरी से शुरू होगी। नारद के दृष्टिकोण को स्वीकार करते हुए कंस ने देवकी के सभी बच्चों को एक-एक करके निर्दयतापूर्वक मार डाला।

भगवान कृष्ण का जन्म

साथ ही भगवान कृष्ण का जन्म भाद्रपद मास की अष्टमी तिथि को उस समय हुआ था जब रोहिणी नक्षत्र चल रहा था। उनके इस संसार में आते ही पूरा कारागार प्रकाश से भर गया। वासुदेव और देवकी ने एक हाथ में कमल के साथ चार भुजाओं वाले शंख, चक्र (पहिया हथियार), गदा और भगवान को देखा। यहोवा ने कहा, अब, मैं एक बच्चे का रूप लूंगा। मुझे तुरंत गोकुल में नंद के घर ले चलो और उनकी नवजात बेटी को कंस के पास ले आओ। वासुदेव ने ठीक ऐसा ही किया और कंस को कन्या अर्पित की।

यह भी पढ़ें- वरलक्ष्मी व्रत 2022ः जानें क्या होता हैं वरलक्ष्मी व्रत और शुभ मुहूर्त

कंस ने जब इस लड़की को मारने की कोशिश की, तो वह बस उसके हाथ से फिसल गई और आकाश में उड़ गई। फिर वह एक देवी बन गई और कहा, “मुझे मारने से तुम्हें क्या मिलेगा?” क्योंकि तेरा दुश्मन गोकुल में जीवित है। यह देखकर कंस चौंक गया और काफी घबरा गया। साथ ही कंस ने श्री कृष्ण को मारने के लिए कई राक्षसों को भी भेजा। लेकिन अपनी ईश्वरीय शक्तियों से भगवान कृष्ण ने उन सभी का वध कर दिया। जब वह बड़ा हुआ, तो उसने कंस को मार डाला और उग्रसेन के सिंहासन पर विराजमान हो गया।

2022 से लेकर 2029 तक कृष्ण जन्माष्टमी (krishna janmashtami 2022) त्योहार की तारीखें

सालदिनांक
2022गुरुवार, 18 अगस्त
2023बुधवार, 6 सितंबर
2024सोमवार, 26 अगस्त
2025शुक्रवार, 15 अगस्त
2026शुक्रवार, 4 सितंबर
2027बुधवार, 25 अगस्त
2028रविवार, 13 अगस्त
2029शनिवार, 1 सितंबर

अधिक जानकारी के लिए आप Astrotalk के अनुभवी ज्योतिषियों से बात करें।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 6,847 

WhatsApp

Posted On - July 4, 2022 | Posted By - Jyoti | Read By -

 6,847 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation