Kundali matching : विवाह के लिए क्यों जरूरी है कुंडली मिलान, इसका क्या अर्थ है और इसका वैवाहिक जीवन पर क्या प्रभाव पड़ता है

कुंडली मिलान
WhatsApp

विवाह हिंदू परंपरा का एक हिस्सा है और आज भी ज्यादातर घरों में शादी से पूर्व कुंडली मिलान किया जाता है। सवाल है कुंडली मिलान क्यों किया जाता है और यह इतना महत्वपूर्ण क्यों है? साथ ही कुंडली मिलान वर और वधू के चार्ट की तुलना करता है। यह शादी से पहले जोड़े की अनुकूलता का प्रतीक है और यह सदियों से चला आ रहा है। कुंडली मिलान (kundali matching) का महत्व यह है इससे पता चलता है कि शादी के बाद पति-पत्नी खुश रहेंगे या नहीं, उनके आपसी संबंध में ताउम्र चलेंगे या नहीं। इसी तरह के अन्य सवालों के जवाब हमें कुंडली मिलान की मदद से मिलते हैं। साथ ही यह एक समृद्ध दीर्घकालिक और सफल विवाहित जीवन को प्राप्त करने में भी मदद करता है।

कुंडली मिलान का क्या अर्थ है?

इसी के साथ कुंडली मिलान (kundali matching) की प्रक्रिया सबसे आवश्यक पहलू है क्योंकि इसमें दो लोगों की राशि और स्वभाव का मिलान किया जाता है। फिर भी, यदि कुंडली में मांगलिक दोष है तो उन्हें इसका समाधान करना होगा और आवश्यकतानुसार सही कदम उठाने होंगे। यदि इन दोषों को अनदेखा कर विवाह संपन्न किया जाता है तो ज्योतिषीय मान्यता के अनुसार विवाह के बाद पति-पत्नी के बीच कलह होने की संभावना बनी रहती है। ‘कुंडली मिलान’ के दौरान यह ध्यान रखा जाता है कि जातकों में कोई कुंडली दोष न हो। दोष मुक्त जातकों की और उन्हें अनुकूलता का मिलान कर शादी करवा दी जाती है। अगर इसके विपरीत किसी की कुंडली में ‘मंगल दोष’ हो, तो इस दोष को खत्म करने के लिए उपाय दिए जाते हैं। साथ ही ऐसे जातकों की शादी के दौरान काफी सावधानी भी बरती जाती है।

अपने कुंडली (kundali) मिलान के बारे में अधिक जानकारी के लिए, आप एक विशेषज्ञ ज्योतिषी से परामर्श कर सकते हैं जो आपको आपके भविष्य के वैवाहिक जीवन के बारे में सटीक भविष्यवाणी प्रदान करेगा।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

शादी से पहले कुंडली या गुण मिलान (Guna Milan) का महत्व

गुण मिलान का तात्पर्य दूल्हा और दुल्हन दोनों की क्वालिटी एक-दूसरे से मिलती है। शादी से पहले कुंडली या गुण मिलान का बहुत महत्व होता है। यह उन कारकों में से एक है जो हमें यह निर्धारित करने की अनुमति देता है कि जोड़े की कुंडली संगत है या नहीं। नक्षत्र या नक्षत्र विवाह के लिए शासी कारकों में से एक है क्योंकि ग्रहों और आकाशीय पिंडों का प्रभाव व्यक्तियों के जीवन पर भी पड़ता है। कुंडली का मिलान सुनिश्चित करता है कि स्वर्गीय पिंड एक दूसरे के पूरक हैं जो शांति, खुशी और सद्भाव के इर्द-गिर्द घूमने वाले रिश्ते को बनाने में मदद करता है। कुंडली या गुण मिलान के लिए युगल के ग्रह चंद्रमा की स्थिति को ध्यान में रखा जाता है।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

कुंडली मिलान से पहले गुण (Guna) को समझना आवश्यक है

ऐसे कई गुण हैं, जिन पर ध्यान दिया जाता है और यहां उन गुणों की एक अंतर्दृष्टि है जो एक विवाहित संबंध बनाते या तोड़ते हैं। जो महत्वपूर्ण गुण हैं, इन गुणों की गणना वर और वधू के जन्म विवरण की गणना की जाती है, यह विवाह के भाग्य का फैसला करता है। आइए नीचे दिए गए गुणों को समझते हैं-

वर्ण (Varan) – पहला गुण वर और वधू की जाति को ध्यान में रखता है। वर का वर्ण वधू के वर्ण से ऊंचा या समकक्ष होना चाहिए। यह वर्ण युगल के बीच मानसिक अनुकूलता को तय करता है।

वश्य (VASHYA) – यह गुण दो जोड़ों में से यह पता लगाने में मदद करता है कि कौन अधिक नियंत्रित और हावी होगा।

तारा (Tara) – इस गुण में वर और वधू का तारा या जन्म नक्षत्र व्यक्तिगत स्वास्थ्य स्थिति से संबंधित होता है।

गण (Gana) – यह दोनों जोड़ों के व्यक्तित्व, व्यवहार, दृष्टिकोण और दृष्टिकोण का विश्लेषण करने में मदद करता है।

भकूट (Bhukuta) – यह गुण आर्थिक स्थिति, पारिवारिक स्थिति को बताता है और शादी के बाद दोनों जोड़ों के करियर के विकास की दिशा देता है।

नाड़ी ( Nadi )- अंतिम गुण हमें शादी के बाद परिवार के स्वास्थ्य के बारे में शिक्षित करता है। यह गुण संतान और संतान के मामलों से संबंधित है।

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए: यहां क्लिक करें

शादी के लिए कुंडली मिलान कैसे करें?

विवाह योजना प्राप्त करने या निश्चित तिथि तय करने से पहले पहला कदम विशेषज्ञ ज्योतिषी से कुंडली जोड़ का विकल्प चुनना है। लोगों का मानना है कि शादियों के जोड़े स्वर्ग में बनते हैं और धरती पर मिलते हैं। लेकिन यह तभी संभव है जब हमें दूल्हा और दुल्हन दोनों की कुंडली या गुण की जानकारी हो। आइए जानें कि शादी से पहले कुंडली जोड़ के लिए किन बातों का ध्यान रखा जाता है।

  • कुंडली मिलान में ज्योतिष विशेषज्ञ द्वारा दोनों जोड़ों की जन्म कुंडली को ध्यान में रखा जाता है और मिलान किया जाता है।
  • आजकल ऑनलाइन कुंडली जोड़ बहुत लोकप्रिय हो गया है क्योंकि इससे न केवल समय की बचत होती है बल्कि धन की भी बचत होती है।
  • कुंडली मिलान को पत्रिका मिलान के रूप में भी जाना जाता है और यह मिलान की अष्टकूट पद्धति पर आधारित है। प्रेम कैलकुलेटर का व्यापक रूप से प्रतिशत या अनुकूलता निकालने के लिए उपयोग किया जाता है, लेकिन कुंडली जोड के लिए विस्तृत गुण मिलान या कुंडली मिलान एक विस्तृत या ज्योतिषीय उपाय है।


इस तरह देखा जाए, तो शादी से पहले कुंडली जोड़ आवश्यक है इसलिए वर और वधु की कुंडली को ज्योतिष को जरूर दिखाना चाहिए और गुण और कुंडली मिलान करवाना चाहिए।

विवाह के लिए कुंडली मिलान (Kundli Milan) क्यों करवाएं

एक विवाहित जीवन और उसकी खुशी शादी से पहले कुंडली मिलान पर निर्भर करती है। यह विवाहित जोड़े के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। हम आधुनिक मानदंडों और तकनीकों का पालन करते हैं। लेकिन कुंडली का मिलान जैसी पारंपरिक प्रथाओं को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए। एक आनंदित जोड़ा एक सुंदर परिवार बनाता है। कुंडली का मिलान ऑनलाइन भी किया जा सकता है। हालांकि इसमें आपके समय का केवल आधा घंटा लगता है लेकिन इसका प्रभाव चिरस्थायी है। यदि विवाह से पहले ज्योतिष उपाय किए जाएं तो इससे बाद में आने वाली परेशानियों और स्थितियों से बचा जा सकता है।

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए: यहां क्लिक करें

दांपत्य जीवन में आई समस्याओं के लिए ज्योतिषीय समाधान

  • अपने घर में तुलसी का एक पौधा लगाएं, क्योंकि तुलसी की मदद से पति-पत्नी के बीच संबंध मधुर हो सकते हैं।
  • घर की महिलाओं को नियमितम रूप तुलसी के पौधे को जल के साथ कुमकुम और हल्दी अर्पित करना चाहिए।
  • तुलसी के पौधे को चांदी या लकड़ी की बांसुरी चढ़ाएं। यह उपाय घर के किसी पुरुष सदस्य को करना चाहिए|
  • भगवान कृष्ण के सामने कुछ सुपारी या बांसुरी रखें क्योंकि केवल वही आपको सफल और सुखी प्रेम जीवन प्रदान कर सकते हैं।
  • “ओम नमः शिवाय” का जाप करें, क्योंकि यह मंत्र पति-पत्नी के बीच स्नेह बढ़ाने में मदद करेगा।
  • अपने घर के दक्षिण-पश्चिम कोने में एक दीया जलाकर रखें। 
  • भगवान विष्णु के नाम का जाप करने से वैवाहिक जीवन में अच्छे और अनुकूल परिणाम मिलेंगे।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

1. विवाह के लिए कितने गुण मेल खाने चाहिए?

18 से अधिक अंक वाले किसी भी मैच को ठीक माना जाता है। अधिक अंक, बेहतर मैच होते हैं।

2. क्या मंगल दोष मिलान भी जरूरी है?

हां, मंगल दोष मिलान भी महत्वपूर्ण है। यह अनुशंसा की जाती है कि दोनों कुंडली में मंगल दोष का स्तर लगभग समान हो।

3. क्या नाड़ी दोष को नजरअंदाज किया जा सकता है?

अष्टकूट मिलान प्रणाली में नाड़ी को उच्चतम अंक 8 दिया गया है। यदि कुल अंकों की संख्या 18 से अधिक है, तो इसे नाड़ी दोष होने पर भी सभ्य मिलान माना जाता है।

4. क्या ऑनलाइन राशिफल मिलान सही है?

चाहे आप ऑनलाइन राशिफल मिलान का उपयोग करें या किसी पंडित के पास जाएं, आपको वही परिणाम मिलेगा। पंडित पंचांग या पत्र का भी उपयोग करते हैं जो उसी प्रणाली का उपयोग करते हैं।

अधिक जानकारी के लिए आप Astrotalk के अनुभवी ज्योतिषियों से बात करें।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 3,141 

WhatsApp

Posted On - November 4, 2022 | Posted By - Jyoti | Read By -

 3,141 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation