Marriage astrology: जानें कुडंली में तलाक के ज्योतिषीय कारण और विश्लेषण

तलाक
WhatsApp

आजकल विवाहित जोड़ों के बीच तलाक बहुत आम हो गया है। एक छोटी सी गलतफहमी या गलती विवाहित जोड़ो को अलग कर देती है। वहीं तलाक लेने में शादी करने की तुलना में कम समय लगता है। हालांकि, एक साल से भी कम समय में दो लोग एक-दूसरे से अलग हो जोते है। सिर्फ प्रेम विवाह ही नहीं, अरेंज मैरिज वाले लोग भी तलाक के लिए आवेदन करते है। अलग होने के कई कारण हो सकते हैं, जिसमें ग्रह की युति जातक के जीवन को प्रभावित कर सकती है।

आइए ज्योतिष के अनुसार अलगाव और तलाक के योग के बारें में विस्तार से जानें कि आखिर विवाहित जोड़ो के बीच अलगाव का कारण क्या होता है।

तलाक के कारण 

  • जोड़ों के बीच संचार की समस्या
  • ससुराल वालों की समस्या
  • विवाहेतर संबंधों
  • संतान न होना
  • दोनों पक्षों में वित्तीय बेमेल

लड़के और लड़की की ऑनलाइन कुंडली का मिलान करने से इन समस्याओं से बचा जा सकता है। यदि आप किसी ज्योतिषी से बात करें और उचित कुंडली मिलान करवाएं, तो तलाक से बचा जा सकता है। कुछ चार्टों में विवाह भाव यानी 7 वें भाव पर एक स्पष्ट तलाक या प्रमुख हानिकारक प्रभाव होता है। ऐसे मैच से बचा जा सकता है। साथ ही कुंडली मिलान में केवल नियमित गुण मिलान ही काफी नहीं है। यह आज की तारीख में किसी भी सॉफ्टवेयर द्वारा किया जा सकता है। लेकिन वास्तव में सूर्य और चंद्रमा की स्थिति की जांच करने के साथ-साथ विवाह के लिए प्रासंगिक भावों का विश्लेषण सर्वश्रेष्ठ ज्योतिषी द्वारा किया जाना चाहिए।

ज्योतिष में तलाक कुछ ग्रहों की स्थिति से संकेत मिलता है। कुछ ऐसे संयोजन हैं, जो जोड़ों में तलाक का कारण बनते हैं, जिनका विश्लेषण एक अच्छा ज्योतिषी कर सकता है। एक अच्छा ज्योतिषी कुछ उपाय भी सुझाकर विवाह समस्या का समाधान निकाल सकता है।

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए: यहां क्लिक करें

विवाह में समस्याएं: ग्रहों की युति जो अलगाव का कारण बनती है

  • अगर 7वां भाव छठे भाव में हो, तो आठवें भाव अलगाव की ओर ले जाते हैं।
  • सातवें भाव में छठे या आठवें भाव के स्वामी, सप्तमेश के साथ वैवाहिक जीवन को प्रभावित करता है। यदि यह किसी पाप ग्रह से दृष्ट हो और उस पर कोई शुभ पक्ष नहीं है, तो यह जातक पर बहुत अधिक प्रभाव डालता है।
  • यदि मंगल पहले, चौथे, सातवें, आठवें या बारहवें भाव से किसी अन्य अशुभ ग्रह से जुड़ा हुआ है। यह वैवाहिक जीवन में अशांति का कारण बनेगा और यहां तक ​​कि तलाक/अलगाव भी हो सकता है।
  • अगर सातवें भाव का स्वामी छठे भाव में बैठा है और उस पर मंगल की दृष्टि है, तो अचानक अलगाव हो सकता है।
  • वहीं अलगाव और तलाक के योग के लिए एक और ग्रह संयोजन तब होता है जब 7 वां स्वामी छठे भाव में बैठता है और शनि से दृष्ट होता है, एक विस्तारित अदालत का मामला होगा उसके बाद जातक का तलाक हो सकता है।

तलाक के योग

  • छठे, आठवें या बारहवें भाव के ग्रहों की दशा में विवाह करने से अलगाव या तलाक का योग मिल सकता है।
  • यदि पुरुषों की कुंडली में शुक्र ग्रह पीड़ित है और महिलाओं की कुंडली में मंगल पीड़ित है। अगर ऐसा होता है तो दांपत्य जीवन में परेशानी हो सकती है।
  • कन्या की कुंडली में पहले और सातवें भाव में या पांचवें और ग्यारहवें भाव में शनि और मंगल एक दूसरे को देख रहे हैं, तो वैवाहिक जीवन में परेशानी हो सकती है।
  • शनि और मंगल दोनों का सप्तम या अष्टम भाव पर दृष्टि होना वैवाहिक जीवन में परेशानी पैदा करता है।
  • अगर मजबूत मंगल दोष (कुजा दोष) जब मंगल दूसरे, चौथे, सातवें, आठवें या बारहवें भाव में स्थित हो, तो वैवाहिक जीवन में समस्याएं आ सकती हैं।
  • यदि दूसरे, छठे, सातवें, आठवें या बारहवें भाव और उनके स्वामी का क्लेश कुंडली में अलगाव या तलाक के योग को दर्शाता है।

अलगाव या तलाक के लिए जिम्मेदार ग्रह योग

ज्योतिष के अनुसार सूर्य, मंगल, शनि, राहु और केतु जैसे ग्रह अलगाव या तलाक योग बनाने में प्रमुख भूमिका निभाते हैं। इनके कारण जातक को अपने विवाहित जीवन में काफी परेशानी उठानी पड़ती है और इन ग्रहों के प्रभाव से जातक एक- दूसरे से अलग भी हो जाते है।

सूर्य और अलगाव/तलाक

  • सूर्य एक अधिक ऊर्जावान ग्रह है और प्रकृति के अनुसार काफी आधिकारिक है।
  • यदि सूर्य ग्रह पीड़ित है और 7 वें भाव से जुड़ता है, तो यह वैवाहिक जीवन में समस्याओं का कारण बनता है।
  • साथ ही यदि सूर्य पहले या सातवें भाव में है, तो यह विवाहित जोड़े के बीच समस्याएँ होगी। हालांकि, यदि सूर्य अनुकूल या तटस्थ भाव में है, तो यह विवाहित जोड़े के बीच संघर्ष पैदा करेगा। वे एक-दूसरे पर दोषारोपण करेंगे या शब्दों और तर्कों का कठोर आदान-प्रदान करेंगे। लेकिन तलाक नहीं होगा।
  • यदि शुक्र ग्रह सूर्य के साथ 7 अंश और 30 मिनट के भीतर दूसरे या चौथे, 7वें, या 9वें भाव में हो, तो तलाक की स्थिति बन जाती है। हालांकि, हमें अलगाव या तलाक के योग के बारे में सुनिश्चित होने के लिए D9 या नवांश चार्ट देखना चाहिए। केवल लग्न चार्ट को देखना ही पर्याप्त नहीं है।
  • लग्न चार्ट और D9 (नवांश) दोनों तलाक या अलगाव योग को दर्शाते हैं। इसलिए यदि केवल एक चार्ट तलाक को दर्शाता है, तो विवाहित जोड़े में केवल संघर्ष होगा।

मंगल ग्रह 

  • मंगल ग्रह झगड़े और शारीरिक कष्ट का कारक ग्रह है। जब मंगल दूसरे या चौथे या सातवें या आठवें या बारहवें भाव में होता है, तो इसे मंगल दोष या कुज दोष कहा जाता है। इससे दाम्पत्य जीवन में मुश्किलें आती हैं।
  • जब मंगल 1 या 7 वें भाव में विवाह से संबंधित भावों से जुड़ता है, तो यह विवाहित जोड़े के बीच झगड़ा, मौखिक या शारीरिक लड़ाई देता है।
  •  यदि मंगल केवल 7वें भाव (विवाहित साथी से संबंधित घर) से जुड़ता है, तो यह विवाहित जोड़े के बीच समस्या या झगड़ा पैदा करता है।
  • हालांकि, अगर यह किसी तरह तीसरे और 11 वें भाव और उनके स्वामी से जुड़ता है, तो यह एक योग बनाता है जहाँ लड़की को उसके ससुर और सास द्वारा शारीरिक रूप से प्रताड़ित किया जा सकता है। मंगल तलाक का कारक है और आमतौर पर अदालती मामलों में समाप्त होता है। लेकिन ऐसी स्थिति में, D9 या नवमांश चार्ट में तलाक या अलगाव का भी संकेत होना चाहिए।
  • यदि मंगल ने राजयोग बनाया है या अन्य पाप ग्रहों या पहलुओं के किसी भी कष्ट के बिना अपनी खुद की नली में मौजूद है, तो यह एक लंबा और सुखी वैवाहिक जीवन देगा।

शनि ग्रह

  • विवाहित जोड़े में तलाक का निर्धारण करने में भी शनि महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
  • यदि शनि पहले या सातवें भाव जैसे भावों के साथ युति करता है, तो यह जातक को संदिग्ध स्वभाव का बनाता है। इसके अलावा, वह अपने साथी पर शक कर सकता है।
  • शनि ग्रह जब विवाह भाव से जुड़ा होता है, तो जातक को वैवाहिक जीवन में असंतुष्ट रख सकता है। वे ज्यादातर सोचते होंगे कि यह जो है उससे बेहतर हो सकता है।
  • अगर शनि ग्रह बहुत ही धीमी गति से चलने वाला ग्रह है। तो इसके प्रभाव भी बहुत धीमे होते हैं और लंबे समय तक चलते हैं। विवाह से जुड़े भावों में शनि से प्रभावित जोड़े लंबे समय तक मामलों को अपने भीतर रखते हैं और छोटी-छोटी बातों पर भी अचानक फूट पड़ते हैं।
  • शनि कभी-कभी तलाक की ओर ले जाता है और कभी-कभी बिना आधिकारिक तलाक के जोड़े को एक-दूसरे से अलग रख सकता है। यह आमतौर पर विवाहित जोड़े के बीच गलतफहमी पैदा करता है और उनके बीच झगड़े और संघर्ष को आमंत्रित करता है।

राहु ग्रह 

  • राहु को अलगाव का ग्रह कहा जाता है।
  • जब सप्तम भाव से जुड़ा हो और अशुभ दृष्टि वाला हो, तो राहु  वैवाहिक जीवन में अशांति पैदा करता है।
  • यदि राहु यौन के भाव से जुड़ता है, तो व्यक्ति एक व्यक्ति से असंतुष्ट रहता है और कई साथी चाहता है।
  • वह लंबे समय तक एक रिश्ते में नहीं रह सकता है और एक चुलबुला व्यक्तित्व होगा।

केतु ग्रह 

  • केतु और अलगाव को लेकर अलग-अलग मत हैं। कुछ लोगों का कहना है कि केतु अलगाव या तलाक का योग देता है। जबकि कई ज्योतिषियों के अनुसार यह केवल बच्चे पैदा करने के लिए शादी करने का उद्देश्य देता है। 
  • अगर केतु को वैराग्य कारक भी कहा जाता है, जिसका अर्थ है कि वह सभी भौतिकवादी चीजों को नष्ट कर सकता है।
  • यदि केतु सप्तम भाव में जुड़ा या मौजूद हो और पाप ग्रह से पीड़ित या दृष्टि में हो, तो यह वैवाहिक जीवन जीने में प्रतिरोध देता है।
  • जातक को अपने साथी की चिंता नहीं हो सकती है। यदि केतु शुक्र की युति में हो तो जातक के गुप्त संबंध बनते हैं।
  • हालांकि, यदि केतु शुक्र, बृहस्पति, बुध और चंद्रमा जैसे लाभकारी ग्रहों का प्रभाव है, तो यह अच्छे परिणाम देगा।

कुंडली में तलाक के संकेत

आपका राशिफल आपके लिए सही जीवनसाथी का संकेत देता है, चाहे आप लव या अरेंज मैरिज करें। राशिफल यह भी बताता है कि आपकी शादी कब होगी और दोनों व्यक्तियों के बीच संबंध अनुकूलता कैसी होगी। जब हम विवाह की अनुकूलता की जांच करने के लिए कुंडली की समीक्षा करते हैं और किसी भी अनुकूलता कारकों को अनदेखा करते हैं, तो यह तलाक/अलगाव का मुख्य कारण बन जाता है। इसलिए यदि कोई कुंडली आपको विवाह से पहले और बाद में आपके जीवन साथी के बारे में ऐसी सभी जानकारी दे सकती है और आप अपनी कुंडली का सम्मान करते हैं, तो आपको कुंडली में अलगाव के संकेतों/संकेतों के बारे में चिंता नहीं करनी चाहिए।

लेकिन ज्योतिष की दृष्टि से कुंडली में हम ज्योतिष में तलाक के संकेत कैसे देखते हैं। उसके लिए विशिष्ट भाव देखे जाते हैं।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

कुंडली में विवाह के लिए इन भावों का विश्लेषण करने की आवश्यकता होती है  

  • चौथा भाव – चौथा भाव परिवार से सुख का प्रतिनिधित्व करता है। यदि चतुर्थ भाव या चतुर्थ भाव का स्वामी पापों से पीड़ित हो, तो जातक परिवार के सुख से रहित होता है।
  • सप्तम भाव – सप्तम भाव मुख्य रूप से विवाह का प्रतिनिधित्व करता है। यदि सप्तम भाव या सप्तम भाव का स्वामी पीड़ित हो, तो यह विवाह में गंभीर परेशानी का कारण बन सकता है। हालांकि यदि बृहस्पति ग्रह सप्तम भाव पर दृष्टि डालता है, तो जातक का विवाह कभी नहीं टूटता है।
  • दूसरा भाव – दूसरा भाव कुटुम्ब का प्रतिनिधित्व करता है। दूसरे भाव से संबंधित कोई क्लेश भी तलाक का कारण बन सकता है।
  • बारहवां भाव – बारहवां भाव विवाह में यौन सुख का प्रतिनिधित्व करता है। यदि यह भाव या इसका स्वामी पीड़ित है, तो यह यौन संबंधों में समस्या पैदा कर सकता है।

अलगाव से बचने के ज्योतिषी उपाय

प्रत्येक राशि / लग्न और व्यक्ति अलग-अलग होते हैं इसलिए उनके साथ संबंध का बंधन होता है। तलाक की वजह सभी मामलों में अलग-अलग होती है और इसमें शामिल लोगों का स्वभाव भी अलग होता है। इसलिए जीवन में तलाक से बचने का सबसे अच्छा उपाय/समाधान है कुंडली मिलान के बाद शादी करना और अपने जीवनसाथी की अनुकूलता की जांच करना।

अगर तलाक की स्थिति आपके जीवन में प्रवेश कर गई है, तो तलाक को रोकने का सबसे अच्छा उपाय है कि आप एक अच्छे विवाह ज्योतिषी के साथ विवाह के बाद परामर्श कर सकते है।

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए: यहां क्लिक करें 

अक्सर पूछे जानें वालें सवाल

कुंडली में विवाह के लिए किन भावों का विश्लेषण करना चाहिए? 

कुंडली में विवाह के लिए चौथा भाव, सप्तम भाव, दूसरा भाव, बारहवां भाव का विश्लेषण करना चाहिए।

ज्योतिष अनुसार तलाक को कैसे रोक सकते हैं?

जब शनि राहु और केतु अच्छी तरह से स्थित होते हैं, तो वे आपको जीवन की बुराइयों से बचाते हैं और आपको सर्वश्रेष्ठ प्रदान करते हैं। शुक्र, बृहस्पति, या बुध जैसे लाभकारी ग्रह अपने सबसे खराब स्थिति में भी उतने हानिकारक नहीं हो सकते। इन ग्रहों में से एक, राहु, शनि और केतु भले ही विवाह के लिए अशुभ हों, तलाक आसन्न है।

क्या राहु ग्रह तलाक का कारण बनता है?

सप्तम भाव में राहु क्रोध, दबंग और तर्कशील स्वभाव देता है। पहली पत्नी मर सकती है या तलाक दे सकता है और दूसरी शादी भी नहीं होगी। केवल शारीरिक संबंध ही विवाह का आधार होंगे।

कौन सा भाव दूसरी शादी का संकेत देता है?

दूसरा भाव पारिवारिक जीवन का प्रतीक है। आठवां भाव दूसरे विवाह का द्वितीयक सूचक है। नवम भाव द्वितीय विवाह का मुख्य सूचक होता है। महिलाओं में सातवें भाव में बृहस्पति पति को इंगित करता है।

ब्रेकअप के लिए कौन सा ग्रह जिम्मेदार है?

यदि शुक्र, मंगल और राहु छठे भाव में हों, तो व्यक्ति को ब्रेकअप या तलाक का सामना करना पड़ सकता है। और यदि अष्टम भाव में कोई ग्रह हो, तो संबंध निश्चित रूप से गतिरोध होगा ।

कौन से भगवान राहु को नियंत्रित कर सकता है?

बृहस्पति एकमात्र ऐसा ग्रह है, जो राहु को नियंत्रित कर सकता है। बृहस्पति ‘गुरु’ का प्रतिनिधित्व करता है और इसलिए आपको अपने गुरु की पूजा और सम्मान करने की सलाह देता हूं।

अधिक जानकारी के लिए आप Astrotalk के अनुभवी ज्योतिषियों से बात करें।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 1,006 

WhatsApp

Posted On - October 31, 2022 | Posted By - Jyoti | Read By -

 1,006 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation