नौ मुखी रुद्राक्ष – प्रभाव, स्वास्थ्य एवं आध्यात्मिक लाभ और धारण विधि

नौ मुखी रुद्राक्ष – प्रभाव, स्वास्थ्य एवं आध्यात्मिक लाभ और धारण विधि

नौ मुखी रुद्राक्ष

नौ मुखी रुद्राक्ष सभी रुद्राक्षों में से एक दिव्य रुद्राक्ष है। यह नौ मुखी रुद्राक्ष अपनी नौ विभिन्न शक्तियों के लिए जाना जाता है। यह देवी नवदुर्गा का प्रतीक हैं, जिनके नौ अवतार थे और पवित्र और अच्छे लोगों की रक्षा के लिए नौ बार पृथ्वी पर आए थे। इस रुद्राक्ष का प्रभाव बहुत अधिक और शक्तिशाली होता है।इस मुखी को नव मुखी रुद्राक्ष के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि इसमें नव दुर्गा के नौ देवताओं की अच्छाई है। यह रुद्राक्ष देवी दुर्गा की शक्ति है। यह रुद्राक्ष नौ कोबरा (नौ कुली नाग) से संबंधित है। जो लोग नाग देवता की पूजा करते हैं, वे ज्यादातर इस मनके को पहनते हैं क्योंकि इस मनके में नाग की शक्ति होती है।

नौ मुखी रुद्राक्ष का प्रभाव

यह अच्छे स्वास्थ्य, मन की शांति, खुशी देता है और गरीबी दूर करता है। पहनने वाले को अपने जीवन में एक सही, सकारात्मक और सटीक निर्णय लेने की क्षमता मिलती है। यह पहनने वाले को मजबूत इच्छाशक्ति और व्यापक दृष्टि प्राप्त करने में मदद करता है। यह कई नकारात्मक पापों को नष्ट करने में भी मदद करता है। यह रुद्राक्ष विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं जैसे तनाव, मनोवैज्ञानिक मुद्दों और शारीरिक बुराइयों को ठीक करता है। रक्तचाप की समस्या या थायरॉइड की समस्या से पीड़ित लोगों को इस बीड को पहनना चाहिए।

इसमें देवी माँ (दुर्गा माँ) की कृपा है, नौ मुखी रुद्राक्ष पहनने से सभी देवताओं की कृपा प्राप्त होती है। जो भी व्यक्ति किसी भी रूप में देवी दुर्गा माँ की पूजा करते हैं, उन्हें यह रुद्राक्ष जरूर पहनना चाहिए। इस रुद्राक्ष की माला मनोकामना और शक्ति के लिए जानी जाती है। पहनने वाले को अपने ज्योतिषी से सलाह लेने के बाद माला पहनना चाहिए।

इस रुद्राक्ष को धारण करने से व्यक्ति निडर और बहादुर बनता है। इसे पहनने वाला एक छोटे बच्चे की तरह महसूस करता है जो माँ की गोद में बैठा है और आनंद ले रहा है। जिन व्यक्तियों में आत्मविश्वास की कमी है और अवसाद से पीड़ित हैं, उन्हें इस नौ मुखी रुद्राक्ष को धारण करना चाहिए।

नौ मुखी रुद्राक्ष के मुख्य लाभ

  • इस रुद्राक्ष को पहनने वाले को बहुत सारी सकारात्मक ऊर्जा, विशाल शक्ति, उत्साह और निर्भयता प्राप्त होती है, जो सफलता का सुखद जीवन जीने के लिए उपयोगी हैं।
  • यह मानव जीवन से जुड़ी हर समस्या का इलाज करता है।
  • यह पहनने वाले को बहुत अधिक आत्मविश्वास देता है।
  • यह पहनने वाले के आसपास सकारात्मक वातावरण बनाने की अपनी शक्तियों के लिए जाना जाता है।

नौ मुखी रुद्राक्ष के आध्यात्मिक लाभ

  • इसे पहनने से नव दुर्गा माँ की शक्ति मिलती है।
  • इस मुखी के पहनने वाले में समस्याओं को आसानी से हल करने की शक्ति होती है।
  • जो व्यक्ति इस मुखी को धारण करता है, वह क्रोध पर आसानी से नियंत्रण पा सकता है।
  • इसे पहनने वाले को मन की शांति देता है।
  • इसे पहनने वाला हर जगह भगवान की उपस्थिति महसूस कर सकता है।

नौ मुखी रुद्राक्ष के स्वास्थ्य लाभ

  • यह मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र के कामकाज को विनियमित करने में मदद करता है।
  • यह चक्कर आने जैसी बीमारी को ठीक करता है।
  • यह त्वचा विकारों को ठीक करने में मदद करता है।
  • यह शुगर कम करने में मदद करता है।
  • यह रक्तचाप को नियंत्रित करता है।
  • यह डर, भय, मतिभ्रम आदि जैसे मनोवैज्ञानिक विकारों में राहत देता है।

नौ मुखी रुद्राक्ष के गुण

  • इस रुद्राक्ष के चेहरे की नौ खड़ी रेखाएं (मुखी) जो रुद्राक्ष के सिर से लेकर नीचे तक मौजूद होती हैं।
  • यह रुद्राक्ष अपने सभी नौ रूपों में देवी दुर्गा की स्त्री ऊर्जा का प्रतिनिधित्व करता है।
  • यह रुद्राक्ष नेपाल, दक्षिण एशिया के साथ-साथ जावा मूल रूप से उपलब्ध है।
  • इस शक्तिशाली मनके के पहनने से कई बीमारियों से राहत मिलती है।
  • यह रुद्राक्ष न्यूरोलॉजी से संबंधित विकारों को ठीक करने में मदद करता है।
  • यह रुद्राक्ष पहनने वाले को भौतिक आनंद प्रदान करता है और आध्यात्मिक उन्नति को बढ़ावा देता है।

नौ मुखी रुद्राक्ष के मंत्र: –

इस रुद्राक्ष धारण करते समय इस मंत्र का 108 बार जाप करें – “ओम ह्रीं हम नम:” ।

इसे कैसे धारण करें

  • सबसे पहले मनके को एक दिन के लिए “गंगाजल” में रखें।
  • सोमवार को पूजा के बाद इस रुद्राक्ष की माला को लाल या काले या पीले धागे में पहनें।
  • पहनने वाला अपने श्रेष्ठ परिणाम के लिए इस माला को बाएं हाथ में भी पहन सकता है।

क्या करें और क्या न करें

  • प्रतिदिन इसकी पूजा करें।
  • इस पर हमेशा भरोसा बनाए रखें।
  • किसी को भी इसकी जानकारी न दें।
  • टूटी हुई माला मत ना पहने।
  • अपना रुद्राक्ष किसी को न दें।
  • इसे पहनने के बाद मांसाहार खाना न खाएं।
  • इसे पहनने के बाद शराब न पिएं।
  • अंतिम संस्कार सेवा में जाने से पहले इसे हटा दें।
  • सोने से पहले इसे हटा दें और जहां आप भगवान की पूजा करते हैं, वहां रखें।

यह भी पढ़ें- क्या 21 जून को होने वाले सूर्य ग्रहण के बाद कोरोना से मिलेगी मुक्ति ?

 151 total views


Tags: ,

No Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *