पाँच मुखी रुद्राक्ष – किस राशि और व्यवसाय वालों को मिलता है लाभ

पांच मुखी रुद्राक्ष
WhatsApp

पाँच मुखी रुद्राक्ष का प्रयोग और उत्पत्ति सभी रुद्राक्षों में सबसे अधिक होता है। रुद्राक्ष वृक्ष की 90% उपज पाँच मुख वाले रुद्राक्ष मनके की है। विभिन्न साधु और पुजारी द्वारा मंत्र जप के लिए उपयोग किए जाने वाली रुद्राक्ष मालाएं आम तौर पर पांच मुखी रुद्राक्ष की माला से बनी होती हैं।इस रुद्राक्ष का स्वामी बृहस्पति ग्रह होता है। इस रुद्राक्ष से जुड़े दो शक्तिशाली गुण मानसिक और आध्यात्मिक विकास हैं। इसका वास्तु में बहुत बड़ा उपयोग है जहाँ एक तरफ इसमें सुरक्षा करने की क्षमता है वहीं दूसरी तरफ परिवार के सदस्यों के बीच शुभता का प्रतीक भी है।

पाँच मुखी रुद्राक्ष क्या है 

प्रकृति पंच तत्वों अर्थात वायु, अग्नि, जल, पृथ्वी और आकाश से मिलकर बनी हुयी है। इनके बिना प्रकृति की कल्पना नहीं की जा सकती है। इस रुद्राक्ष में भी प्रकृति के इन पंच तत्वों के गुण निहित होते हैं। इस रुद्राक्ष के देवता कालाग्नि हैं, जो रुद्र का एक रूप हैं। इस रुद्राक्ष को पहनने से क्रोध, लोभ (लालच), काम (वासना), मोह (स्नेह) और अहंकार जैसे मानवीय चरित्र के विभिन्न रूपों को हटा दिया जाता है। इस रुद्राक्ष का मुख्य और प्रमुख लाभ यह है कि किसी भी आयु की बाधा के बिना सभी लोगों द्वारा पहना जा सकता है।

ज्योतिष, धार्मिक और धर्म, न्यायालय, अध्यापक, बैंकिग व्यवसाय, आभूषण के लेन-देन से जुड़े लोगों के लिए यह रुद्राक्ष काफी ज्यादा लाभदायक होता है। इस रुद्राक्ष की माला पहनने वाले के लिए अधिक शांति और शक्ति लाता है। ऐसा माना जाता है कि पांच मुखी रुद्राक्ष पहनने वाले लोग दुर्भाग्यपूर्ण मृत्यु से बच जाते हैं और सुख, धन और समृद्धि प्राप्त करते हैं।

पाँच मुखी रुद्राक्ष के लाभ

  • इसे पहनने वाला अच्छा स्वास्थ्य और शांति प्राप्त करता है।
  • प्राचीन वैदिक के अनुसार, यह रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद करता है।
  • यह पहनने वाले की मानसिक और मनोवैज्ञानिक वृद्धि के लिए फायदेमंद है।
  • यह मुखी मुख्य रूप से मन पर शक्तिशाली प्रभाव के लिए जाना जाता है।
  • इसे पहनने से सकारात्मक ऊर्जा आती है।
  • यह रुद्राक्ष मनुष्य में श्वसन प्रणाली को बेहतर बनाता है।
  • यह रुद्राक्ष स्मृति लोप होने पर स्मृति हानि को ठीक करने के लिए भी जाना जाता है।
  • इन पांच मुखी रुद्राक्ष को पहनने वाले की कभी असामयिक मृत्यु नहीं होती है।

आध्यात्मिक लाभ

  • इस मुखी में बृहस्पति ग्रह की शक्ति है।
  • पांच मुखी रुद्राक्ष ने बृहस्पति ग्रह के विशेष प्रभाव को शांत किया है।
  • जिन लोगों को आध्यात्मिकता, शांति, अच्छे स्वास्थ्य और मानसिक शक्ति की तलाश है, उन्हें पांच मुखी रुद्राक्ष पहनना चाहिए।

स्वास्थ्य पर असर

  • यह हृदय की समस्याओं, रक्तचाप, मानसिक विकलांगता, तनाव, क्रोध प्रबंधन, विक्षिप्त, कुपोषण की समस्याओं और बवासीर आदि के लिए एक चिकित्सा वरदान के रूप में काम करता है।
  • यह पैरों, लिवर, आंखों, बोन मैरो, किडनी, आदि की कई समस्याओं को ठीक करता है।
  • मुख्य रूप से पहनने वाले को अपने मधुमेह और अतिरिक्त वसा को कम करने में मदद करते हैं।
  • किन राशियों को मिलता है लाभ
  • मीन और धनु राशि वालों के लिए भी यह रुद्राक्ष विशेष लाभदायक सिद्ध होता है।
  • चार मुखी रुद्राक्ष के लिए मंत्र
  • पांच मुखी रुद्राक्ष को धारण करने के लिए मंत्र – “ॐ ह्रीं नमः” 
  • इसे भगवान शिव के पंचाक्षर बीज मन्त्र से भी धारण कर सकते है  – “ॐ नमः शिवाय”

कैसे धारण करें

रुद्राक्ष धारण करने के लिए नित्य क्रिया से निवृत्त होकर शुद्ध जल से स्नान करना चाहिए तदुपरांत गृह में स्थित मंदिर या किसी भी शिव मंदिर में विधिपूर्वक ध्यान करना चाहिए उसके बाद रुद्राक्ष के लिए मन्त्र का जप करना चाहिए।

क्या करें और क्या न करें

  • प्रतिदिन इसकी पूजा करें।
  • इस पर हमेशा भरोसा बनाए रखें।
  • किसी को भी इसकी जानकारी न दें।
  • टूटी हुई माला मत ना पहने।
  • अपना रुद्राक्ष किसी को न दें।
  • इसे पहनने के बाद मांसाहार खाना न खाएं।
  • इसे पहनने के बाद शराब न पिएं।
  • अंतिम संस्कार सेवा में जाने से पहले इसे हटा दें।
  • सोने से पहले इसे हटा दें और जहां आप भगवान की पूजा करते हैं, वहां रखें।

यह भी पढ़ें- वास्तुशास्त्र के अनुसार-कैसा हो घर का मुख्य द्वार?

 1,144 

WhatsApp

Posted On - June 11, 2020 | Posted By - Ajaybisht | Read By -

 1,144 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation