सिद्धि योग: क्या होता है सिद्धि योग? जानें इसका प्रभाव

सिद्धि योग
WhatsApp

आपको बता दें कि ज्योतिष शास्त्र में ऐसे कई योग होते हैं जो  जातक को शुभ और अशुभ परिणाम देते हैं। वहीं कुछ शुभ योग जातक को हर क्षेत्र में सफलता दिलाते है। साथ ही शुभ योगों के कारण जातक को हर तरफ से खुशियां प्राप्त होती हैं। लेकिन अशुभ योग बनने से जातक को विपरीत परिणाम प्राप्त होते हैं। वहीं ज्योतिष में 27 योग होते हैं। उनमें से कुछ योग शुभ और कुछ अशुभ होते हैं। चलिए जानते है सिद्धि योग के बारें में और यह जातक की कुंड़ली में कैसे बनता है और प्रभाव- 

यह भी पढ़ें- अगर आप भी लेते है गलत निर्णय, तो जानें ज्योतिष कारण

ज्योतिष शास्त्र और योग

आपको बता दें कि ज्योतिष शास्त्र में योगों को काफी महत्वपूर्ण स्थान होता है। क्योंकि जब यह योग किसी जातक की कुंडली में बनते हैं, तो उसे अशुभ और शुभ दोनों परिणाम प्राप्त होते हैं। आपको बता दें कि ज्योतिष शास्त्र में 27 योग होते हैं, जिसमें से कुछ योग शुभ होते हैं और कुछ अशुभ योग होते हैं। अशुभ योग जातक की कुंडली में अशुभ प्रभाव डालते हैं। वही शुभ योग जातक की कुंडली में शुभ प्रभाव डालते हैं। साथ ही शुभ योगों से जातक को अपने जीवन में सफलता प्राप्त होती हैं।

यह भी पढ़ें-नपुंसक योग: कैसे बनता है जातक की कुंडली में नपुंसक योग

आपको बता दें कि ज्योतिष शास्त्र में योगों को महत्वपूर्ण माना जाता है। क्योंकि यही योग जातक की कुंडली में बनकर जातक के जीवन को प्रभावित करते हैं। इन्हीं योगों के कारण जातक को जीवन में परेशानी का सामना करना पड़ता है और इन्हीं कारण जातक अपने जीवन में सफलता पाता है। इसीलिए यह योग जातक की कुंडली में महत्वपूर्ण माने जाते हैं।

सिद्धि योग क्या है?

आपको बता दें कि वार, नक्षत्र और तिथि के बीच संबंध होने पर सिद्धि योग का निर्माण होता है। जैसे अगर सोमवार के दिन नवमी अथवा दशमी तिथि हो और रोहिणी, मृगशिरा, पुष्य, श्रवण और शतभिषा में से कोई नक्षत्र होता है, तो सिद्धि योग बनता है।  साथ ही सिद्धि योग काफी शुभ माना जाता है। बता दें कि इस योग में प्रभु का नाम जपने से जातक को उत्तम परिणाम प्राप्त होते हैं। वहीं इस योग में जो भी कार्य किया जाता है उसमें सफलता जरूर मिलती है। इसीलिए किसी भी तरह का शुभ कार्य करने के लिए सिद्धि योग को प्राथमिकता दी जाती है।

यह भी पढें – दुनिया के 10 तानाशाह: तानाशाह और ज्योतिष

कब और कैसे बनाता है सिद्धि योग

सिद्धि योग काफी शुभ योग होता है, जो निश्चित वार और नक्षत्र के संयोग से बनता है। वहीं इस योग का समय काफी शुभ माना जाता है। साथ ही यह योग सभी इच्छाओं तथा मनोकामनाओं को पूरा करने वाला है। इस योग में किया गया कार्य काफी शुभ परिणाम होता है।

यह भी पढ़े – जन्मकुंडली के ये घातक योग बर्बाद कर देते है जीवन, करें ये उपाय

इसी के साथ मकान खरीदना हो या दुकान का उद्घाटन करना हो, ऑफिस उद्घाटन, वाहन खरीदना हो, क्रय-विक्रय करना हो, मकान की रजिस्ट्री करनी हो, सगाई करनी हो, रोका करना हो इन सभी कार्यों को बिना संकोच इस मुहूर्त में किया जा सकता हैंं। और इससे जातक को काफी शुभ परिणाम भी मिलते है। साथ ही इस मुहूर्त में किये गये कार्य सफल होते है।

यह भी पढें – Vastu Tips 2022: इन वास्तु टिप्स की सहायता से दूर करें, लिविंग रूम की नेगेटिव एनर्जी

जब वार, नक्षत्र और तिथि का आपस में संबंध होता है ,तो  सिद्धि योग का निर्माण होता है। उदाहरण के लिए अगर सोमवार के दिन नवमी या दशमी तिथि हो और रोहिणी, मृगशिरा, पुष्य, श्रवण और शतभिषा में से कोई नक्षत्र होता है, तो सिद्धि योग बनता है।  

यह भी पढ़े  –Holi 2022: जानें 2022 में कब है होली? शुभ मुहुर्त और पूजन विधि की सारी जानकारी

सिद्धि योग का फल

  • सिद्धि योग के स्वामी गणेश जी हैं। और इस योग में पैदा लोगों में ईश्वरीय शक्तियों का निवास होता है।
  • साथ ही ऐसे लोग ज्यादा धनवान नहीं होते हैं। लेकिन निवास स्थान,वस्त्र,भोजन की कोई कमी नहीं होती है। 
  • वहीं इन लोगों की संतान धन कमाने के प्रति काफी लालायित होती हैं।
  • इस योग में पैदा लोगों जन्म से ही वैराग्य की ओर झुकाव रहता है।
  • वहीं ये लोग वेद-पुराण या अन्य ग्रंथों के साथ कई भाषाओं के ज्ञानी होते हैं।
  • इस योग में किया गया कार्य हमेशा सफल होता है। इसलिए किसी तरह के शुभ कार्य के लिए इस योग को प्राथमिकता दी जाती है।
  • वहीं इस योग में जन्म लेनेवाले जातक अक्सर सलाहकार की भूमिका निभाते हैं।
  • साथ ही ये लोग आजीवन लोगों को सलाह देते हैं। और सलाह देने का काम ही इनकी आजीविका का साधन बन जाता है।
  • सिद्धि योग में नया घर, भूमि पूजन, रोका करना, सगाई, नई दुकान खरीदना आदि काम किए जाते है।

यह भी पढ़े – विवाह में देरी – यहाँ जाने ज्योतिषीय कारण और उपाय

इस योग में क्या करना चाहिए और क्या नही चाहिए

क्या करना चाहिए 

  • आपको बता दें कि किसी भी तरह का शुभ कार्य इसी योग में किया जाता है।
  • साथ ही सिद्धि योग बहुत शुभ मुहूर्त होता है। 
  • वहीं इस योग में मकान खरीदने, वाहन खरीदने, सोने-चांदी के जेवर आदि खरीदना शुभ होता है। 
  • साथ ही मकान-वाहन के क्रय-विक्रय और दुकान या ऑफिस का शुभारंभ करना भी इस योग में शुभ माना जाता है। 
  • वहीं इस योग में मकान की रजिस्ट्री करवाने जैसे कार्य किए जाते हैं।

यह भी पढ़े –लड़कियों की शादी के लिए करें ये अचूक ज्योतिष उपाय

क्या नही करना चाहिए

  • आपको बता दें कि सिद्धि योग में विवाह नही करना चाहिए।
  • इसी के साथ सिद्धि योग में गृह प्रवेश और यात्रा करने जैसे कार्य नही करने चाहिए। 
  • बता दें कि इस योग में इन कार्यो को शुभ नहीं माना जाता हैं।

साथ ही आपको अधिक जानकारी के लिए किसी अनुभवी ज्योतिष से सलाह लेनी चाहिए।

यह भी पढ़े – परीक्षा में सफलता पाने के लिए करें ये अचूक ज्योतिषीय उपाय

अधिक जानकारी के लिए आप AstroTalk के अनुभवी ज्योतिषियों से बात करें।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 481 

WhatsApp

Posted On - March 9, 2022 | Posted By - Jyoti | Read By -

 481 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation