Success yoga: ज्योतिष अनुसार जानें सफलता योग का महत्व और जीवन में सफल होने के उपाय

सफलता योग
WhatsApp

अमीर, प्रसिद्ध और सफल कौन नहीं बनना चाहता है? वैसे तो हम सभी बनना चाहते हैं, लेकिन कुछ ही लोगों को सम्पन्न जीवन मिलता है। ज्योतिष अनुसर ऐसा बहुत बड़े योगों के कारण होता है, जो बहुत कम कुंडलियों में ही बनते हैं। लोग अक्सर सोचते हैं कि ज्योतिष में सिर्फ धन या राज योग होने से उनके पास धन के लिए सबसे अच्छा ज्योतिषीय संयोजन होता है। लेकिन यह सच नहीं है। कुंडली में कुछ ऐसे सफलता योग (success yoga) भी होते हैं, जिनके बनने से जातक सफल होता है और जिंदगी में आगे बढ़ता चला जाता है।

आमतौर पर व्यवसाय शुरू करना आसान होता है। लेकिन इसे सफलतापूर्वक चलाने के लिए बहुत सारी योजना, रणनीति और अन्य पहलुओं की आवश्यकता होती है। व्यक्ति को हमेशा ऐसी धारा का चयन करना चाहिए, जो लोगों की रुचि को आकर्षित करे और उनका ध्यान आकर्षित करने में सक्षम हो। इन कारकों के अलावा, किसी व्यवसाय को प्रबंधित करने और उसे शीर्ष पर ले जाने के लिए रचनात्मकता और नेतृत्व जैसे गुण भी आवश्यक हैं। कई बार काफी मेहनत के बाद भी जातक को जीवन में सफलता नहीं मिलती है, इसका कारण कुंडली में बन रहे कुछ योग होते हैं, जो व्यक्ति की सफलता पर अंकुश लगाते हैं। आइए जानते हैं कि ऐसे कौन से योग होते हैं, जो जातक को जीवन में काफी अमीर, सफल व्यक्ति बनाता है।

प्रसिद्ध होने के लिए वैदिक ज्योतिष में सबसे शक्तिशाली योग

ज्योतिष में कई योग होते हैं, जो जातक के लिए शुभ होते हैं। लेकिन कई बार कड़ी मेहनत के बाद भी जातक को जीवन में सफलता नहीं मिलती है। इसके लिए आवश्यक है कि जातक की कुंडली में सफलता योग बने, जो जातक को प्रसिद्धि, सफलता दिला सकते हैं।

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए: यहां क्लिक करें

सफलता योग(success yoga) के लिए महत्वपूर्ण है चंद्रमा की स्थिति

ज्योतिष के अनुसार प्रसिद्धि चंद्रमा द्वारा इंगित की जाती है और कुंडली में चंद्रमा की स्थिति पर विचार करना महत्वपूर्ण है।

  • यदि जन्म कुंडली में चंद्रमा एक महत्वपूर्ण स्थान पर स्थित होता है, तो यह जातक के जीवन में प्रसिद्धि लाता है।
  • अगर चंद्रमा अच्छी स्थिति में हो और उस पर गुरु या शुक्र की दृष्टि भी हो, तो यह ज्योतिष में बड़े पैमाने पर प्रसिद्धि के लिए एक अच्छा योग साबित होता है।

कुंडली में भाव

किसी व्यक्ति को प्रसिद्धि मिलेगी या नहीं यह कुंडली के भावों पर निर्भर करता है:

  • ज्योतिष में प्रसिद्धि कुंडली के 5वें, 9वें और 10वें भाव पर निर्भर करती है।
  • इसी के साथ अगर जातक का चौथा या बारहवां भाव पीड़ित होता है, तो व्यक्ति को लोकप्रियता नहीं मिलती।
  • ज्योतिष के अनुसार दसवां भाव प्रसिद्धि का भाव माना जाता है। एक ग्रह जो अच्छी तरह से स्थित होता है, वह जातक के लिए प्रसिद्धि लाता है।
  • वहीं सातवां भाव जातकों की इच्छाओं का भाव माना जाता है 

कुंडली में लग्न

कुंडली में लग्न मजबूत होना चाहिए, क्योंकि यह जातक के लिए प्रसिद्धि की स्थिति निर्धारित करता है:

  • ज्योतिष में सफलता के लिए लग्न का बलवान होना चाहिए और उसका स्वामी भी मजबूत होना चाहिए।
  • जातक के जीवन में सफलता योग के लिए अरुधा लग्न एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
  • अरुधा लग्न की सहायता के लिए मजबूत केंद्र गृह व्यक्ति के जीवन में प्रसिद्धि लाता है।

शनि ग्रह की भूमिका

चंद्रमा की तरह ही शनि भी कुंडली में प्रसिद्धि और सफलता की स्थिति को परिभाषित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है:

  • कुंडली में शनि की मजबूत स्थिति से अपार प्रसिद्धि आती है।
  • जब मजबूत शनि को राहु या शुक्र के साथ रखा जाता है, तो यह ज्योतिष में बड़े पैमाने पर प्रसिद्धि के लिए सबसे मजबूत योगों में से एक बनाता है।

शुक्र ग्रह की स्थिति

ज्योतिष में जातक के जीवन में प्रसिद्धि के लिए शुक्र ग्रह काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है:

  • शुक्र 5वें, 7वें, 9वें, 10वें, 11वें भाव में स्थित होना चाहिए, तब जातक को जीवन में प्रसिद्धि मिलेगी।
  • शुक्र का कोई अशुभ प्रभाव नहीं होना चाहिए।
  • माघ नक्षत्र में शुक्र या राहु का स्थान महत्वपूर्ण माना जाता है।

सूर्य ग्रह की स्थिति

सूर्य एक महत्वपूर्ण ग्रह है और इसकी स्थिति भी महत्वपूर्ण है:

  • लोकप्रियता के लिए सूर्य को मूल कारक माना जाता है।
  • सूर्य को अपनी स्थिति में मजबूत होना चाहिए।

प्रसिद्धि प्राप्त करने के लिए अन्य ज्योतिषीय योग

यहां प्रसिद्धि के लिए कुछ और ज्योतिषीय योग हैं, जो जातक के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं:

  • गज केसरी योग
  • पंच महापुरुष योग
  • आदि योग

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

ये ग्रह योग व्यक्ति को बनाते हैं सफल व्यवसायी

आइए कुछ ग्रहों के संयोजन पर एक नज़र डालें, जो जातक को व्यवसाय की दुनिया में सफलता प्राप्त करने में सक्षम बनाता है:

  • यदि कुंडली में गुरु ग्रह (भाग्य और भाग्य का स्वामी) कर्म भाव (दशम भाव) में बैठा हो, तो यह केंद्रादित्य योग बनाता है। यदि किसी जातक की कुंडली में यह योग हो, तो उस जातक का व्यवसाय बाकी लोगों की तुलना में अधिक बढ़ता है।
  • अगर बुध या सूर्य की दृष्टि कर्म भाव (दशम भाव) में हो या इनमें से कोई एक ग्रह कर्म स्थान (दशम भाव) में बैठा हो, तो यह लक्ष्मी नारायण योग बनाता है। ऐसे लोगों को व्यापार में लाभ प्राप्त करने के संबंध में अधिक अवसर मिलने की संभावना है।
  • यदि मंगल कर्म के दशम भाव में उच्च अवस्था में हो, तो ऐसे जातक को व्यापार और विदेश यात्रा में लाभ होता है।
  • अगर कुंडली के केंद्र में गुरु-सूर्य या चंद्र-बृहस्पति की युति बन रही हो, तो इसका सीधा प्रभाव कर्म भाव पर पड़ता है। शास्त्रों के अनुसार इसे सर्गोत्तम योग कहते हैं। इस योग के प्रभाव में व्यक्ति सभी प्रकार के सुखों का भोग करता है।
  • सभी ग्रह सप्तम भाव को प्रस्तावित करते हैं। यदि इन शुभ ग्रहों में से किसी एक अर्थात बृहस्पति, सूर्य या मंगल की दृष्टि दशम भाव में हो, तो ऐसे जातक को अनुकूल परिणाम प्राप्त होते हैं।
  • यदि राहु भी कर्म भाव को देखता है या इस भाव में उच्च अवस्था में है, तो यह व्यवसाय की दृष्टि से शुभ और अनुकूल माना जाता है। बेशक शनि, राहु और केतु को अशुभ माना जाता है। लेकिन कभी-कभी ऐसे योग के कारण ये ग्रह अच्छे परिणाम दे सकते हैं।

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए: यहां क्लिक करें

ये योग बनाते हैं आपके जीवन को सफल

बुद्ध-आदित्य योग

  • यह योग तब बनता है जब बुध ग्रह सूर्य के साथ युति करता है।
  • बुद्ध-आदित्य योग बताता है कि जिस जातक की कुंडली में यह योग बनता है, वह जातक अत्यधिक बुद्धिमान होता है। साथ ही वह व्यक्ति अपने कौशल को निखारने के लिए दृढ़ कार्य करता है और इन जातकों के किए कामों के कारण समाज में इनकी बहुत अच्छी छवि होती है। 
  • वहीं आप लोग काफी स्वाभिमानी भी होते हैं। आपके साथी और आपके आस-पास के लोग आपका सम्मान करते हैं। जब आपकी जीवनशैली की बात आती है, तो आप उन सभी सुख-सुविधाओं से युक्त होते हैं, जिनकी आप कल्पना करते हैं। इस योग के कारण जातक अपने जीवन में काफी सफल होते हैं। सफलता योग (success yoga) जातक के लिए काफी लाभदायक होता है।

कुंडली में मजबूत दसवां भाव

  • दसवां भाव कर्म और पेशे का भाव  है। दशम भाव में ग्रहों की शुभ स्थिति या युति व्यक्ति को अपने करियर में ऊंचाइयों तक पहुंचाती है और अपने करियर, व्यवसाय या पेशे के माध्यम से एक महान और प्रसिद्ध व्यक्ति बनने में मदद करती है।
  • यदि दशमेश नवम भाव में स्थित हो, तो यह एक उत्कृष्ट राजयोग बनाता है, जिसे धर्म-कामधिपति योग कहते हैं। यह योग जातक को एक सफल करियर और जीवन में भाग्य का आशीर्वाद देने के लिए जाना जाता है। व्यक्ति के लिए अपने पेशे के माध्यम से प्रचुर मात्रा में कमाने के लिए एक मजबूत दसवां भाव होना अनिवार्य है। दसवां भाव जातक के कर्म को भी दर्शाता है। दशम भाव पर लाभकारी प्रभाव के साथ जातक जीवन में एक नेक मार्ग चुनने के लिए प्रेरित होता है, जो उसके भविष्य की संभावनाओं को और मजबूत करता है।

त्रिनेत्र और उनके स्वामी की स्थिति

  • ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जब पहले, पांचवें और नौवें भाव को त्रिकोण भाव कहा जाता है, यह जीवन में भाग्य और मान्यता प्राप्त होने की प्रबल संभावना उत्पन्न करता है। ज्योतिष में त्रिनेत्र भाव को लक्ष्मी स्थान कहा जाता है और देवी को जीवन में समृद्धि, धन, भाग्य और सफलता लाने के लिए जाना जाता है। 
  • यदि इन भावों में शुभ ग्रह हों या इन भावों के स्वामी केंद्र स्थान में हों, तो जातक अत्यधिक भाग्यशाली होता है। उसके सभी प्रयासों के फलदायी परिणाम प्रतीत होते हैं, जो उस जातक को सफलता के वांछित मार्ग की ओर ले जाते हैं। चतुर्भुज या केंद्र में त्रिदेवों का स्थान राजयोग बनाने के लिए जाना जाता है और इन शुभ ग्रहों की दशा जातकों को अंतिम सफलता प्रदान करती है।

लग्न स्वामी और उसका स्थान

  • लग्न और उसका स्वामी आपको, आपके व्यक्तित्व, जीवन के प्रति उत्साह, आपकी पसंद-नापसंद, जीवन के प्रति आपके दृष्टिकोण और आपके बारे में सब कुछ दर्शाते हैं। एक मजबूत लग्न और उसका स्वामी जीवन में सफलता प्राप्त करने की नींव रखता है। एक अच्छी तरह से स्थापित लग्न स्वामी एक मजबूत व्यक्तित्व का निर्धारण करता है, जो जीवन में सफलता की इच्छा रखता है और प्राप्त करता है।
  • हालांकि, लग्न पर अशुभ ग्रह की उपस्थिति होती है, क्योंकि शुभ ग्रहों नरम प्रकृति के विपरीत जल्दबाजी में काम करते हैं। लेकिन वे नकारात्मक लक्षण जैसे आक्रामकता, बहुत अधिक उत्तेजना, अधीरता, ईर्ष्या, कठोरता और अन्य नकारात्मक लक्षण जातक को जोड़ते हैं। इसलिए जीवन में सफलता पाने के लिए लग्न के स्वामी पर लाभकारी प्रभाव होना वांछनीय है। सफलता योग बनने से जातक को काफी लाभ होता है।

महाभाग्य योग

  • पुरुष का जन्म, दिन के समय होता है और सूर्य, चंद्रमा और लग्न विषम राशियों में होते हैं। स्त्री का जन्म, रात में होता है और सूर्य, चन्द्र और लग्न सम राशियों में होते हैं।
  • एक पुरुष के लिए महाभाग्य योग इंगित करता है कि आपके पास एक मजबूत और अच्छा चरित्र है। आप अपने परिवार और अपने आसपास के लोगों के लिए खुशियां लाएंगे। आपकी विचारधारा उदार होगी और आप स्वभाव से अत्यंत उदार होंगे। 
  • वहीं इस योग के कारण जातक काफी प्रसिद्धि भी प्राप्त करता है और एक शासक या किसी राजा के समकक्ष व्यक्ति का जीवन व्यतीत करता है। महिला के लिए महाभाग्य योग इंगित करता है कि आपको धन और संतान की प्राप्ति होगी, जो लंबे समय तक जीवन का आंनद लेगी। 

सफलता के लिए उपाय 

  • इसी के साथ सफलता के लिए सूर्य देव को जल अर्पित करें। रोज सुबह सूर्य देव को तांबे के बर्तन में जल चढ़ाएं और उसमें गुड़ मिलाएं। इसे सूर्योदय के एक घंटे के भीतर करना चाहिए। भगवान सूर्य ज्ञान और ऊर्जा प्रदान करते हैं और पेशेवर जीवन में किसी भी समस्या को खत्म करने में मदद करते हैं। यह करियर और नौकरी में वृद्धि के लिए एक प्रभावी उपाय है।
  • वहीं सफलता पाने के लिए कौवे को उबले चावल खिलाना चाहिए। कौवे शनि ग्रह (भगवान शनि) के वाहन हैं और शनिवार को कौवे को उबले हुए चावल खिलाने से आपको शनि की कृपा प्राप्त होगी। ज्योतिष के अनुसार करियर और पेशे के पहलू पर शनि का शासन है, इससे आपको पेशेवर मोर्चे पर बढ़ने और सभी बाधाओं को खत्म करने में मदद मिलेगी।
  • मछली को सुबह या शाम को गेहूं के आटे के गोले खिलाना भी कारगर हो सकता है। यदि आप पदोन्नति या वेतन वृद्धि की प्रतीक्षा कर रहे हैं, तो यह एक प्रभावी समाधान हो सकता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ऐसा माना जाता है कि मछलियां आपको मुसीबतों से बचाती हैं। आप घर पर एक्वेरियम भी रख सकते हैं और उन मछलियों को खाना भी खिला सकते हैं।
  • यदि पूरी कोशिश करने के बाद भी आपको पेशेवर जीवन में सफलता नहीं मिल रही है, तो आपको अपने नहाने के पानी में थोड़ी सी हल्दी मिलानी चाहिए। पीला रंग बृहस्पति ग्रह से जुड़ा है और यह वृद्धि और भाग्य लाता है। यह प्रभावी उपाय आपको सफलता और वृद्धि प्राप्त करने में मदद करेगा। आप हल्दी का तिलक भी लगा सकते हैं।

मदिंर से जुड़ा उपाय

  • करियर में सफलता के लिए पांच गुरुवार को किसी मंदिर में जाएं और ब्राह्मणों को पीले रंग की मिठाई का दान करें। साथ ही भगवान लक्ष्मी और नारायण की पूजा करें और भगवान लक्ष्मी और नारायण मंत्र का जाप करें। यह मंत्र नकारात्मक ऊर्जाओं को खत्म कर देंगे और आपको काम और व्यवसाय में सफलता प्राप्त होंगी।
  • यदि आप बाधा का सामना कर रहे हैं या आपकी पदोन्नति अटकी हुई है, तो आपको मंदिर जाना चाहिए और एक अनुभवी पंडित जी से नवग्रह शांति पूजा करवानी चाहिए। यह कई ग्रहों के प्रभाव को खत्म करने में मदद करता है। यह पूजा सफलता, धन और समृद्धि ला सकती है।

अधिक जानकारी के लिए आप Astrotalk के अनुभवी ज्योतिषियों से बात करें।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 1,266 

WhatsApp

Posted On - November 1, 2022 | Posted By - Jyoti | Read By -

 1,266 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation