जन्म राशि : क्या होता है जन्म राशि का जीवन में प्रभाव, क्या है जन्म राशि तथा नाम राशि में फर्क

जन्म राशि
WhatsApp

जन्म राशि किसी भी व्यक्ति के जीवन में सकारात्मक और नकारात्मक पहलुओं को तय करने का एक बहुत ही महत्वपूर्ण कारक मानी जाती है। माना गया है कि

नास्त्रेदमस और विलियम लिली के नाम इतिहास में कुछ सर्वश्रेष्ठ ज्योतिषियों के रूप में हैं जिन्होंने सितारों के आधार पर घटनाओं की भविष्यवाणी की थी। कई अन्य ज्योतिषियों ने इतिहास में अपनी छाप छोड़ी है। आप अपने जन्म राशि का पता किसी भी ज्योतिषि की मदद से लगा सकते हैं और उसके शुभ और अशुभ पहलुओं को भी जान सकते हैं।

जन्म राशि का महत्व

आने वाले भविष्य में क्या होने वाला है कौन सी घटनाएं, कब घटने वाली है, इस बात की जानकारी आप अपनी राशि की मदद से लगा सकते हैं। हालांकि इसके लिए आपको किसी विशेषज्ञ या किसी ज्योतिष की मदद लेनी पड़ेगी। अपना भविष्य जानने के बाद आपको कई लाभ मिलेंगे। इनकी सहायता से आप अपने भविष्य में होने वाली घटनाओं का पता लगा सकते हैं। यह जानकर आप समय रहते इनके नकारात्मक प्रभाव से बचाव कर सकते हैं। आने वाला भविष्य सबके लिए एक रहस्य की तरह होता है। जिसमें आपको अनेक शॉकिंग और सरप्राइजिंग चीजों का पता चलेगा। चाहे वह एक महत्वपूर्ण निर्णय लेना हो या आपका प्रेम जीवन या करियर सलाह ही क्यों ना हो, ज्योतिष जन्म राशि की मदद से आपको इसका उत्तर देने में मदद कर सकते हैं।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

भाग्य बताने का सबसे पुराना रूप

वैदिक ज्योतिष भाग्य बताने के सबसे पुराने रूपों में से एक है, और खगोलीय पिंडों की स्थिति आपके जीवन को अद्वितीय तरीके से प्रभावित कर सकती है। अपने आप को उनके पास मौजूद ज्ञान से लाभंवित करें और अपने भाग्य का पता लगाएं। दिव्य निकायों की जटिलता में वह ज्ञान है, जो आपके भविष्य के रहस्यों को खोल सकता है। सृष्टि के रूप में जो एक ही ब्रह्मांड का हिस्सा हैं, ग्रह पिंड और तारे हमसे जुड़े हुए हैं और हमारे जीवन और भविष्य पर गहरा प्रभाव डालते हैं।

जो ग्रह एक ही सौरमंडल का हिस्सा हैं, उनका हमारे साथ सबसे गहरा संबंध है। उनके अलग-अलग गुण हैं जो हमारे जीवन के विभिन्न पहलुओं का प्रतिनिधित्व करते हैं और एक दूसरे के साथ उनका अंतर्संबंध भी हमारे अपने रास्ते को उजागर करने में मदद करते हैं। हमारे निकटतम मंगल, शुक्र, बुध, सूर्य और चंद्रमा का हमारे जीवन पर दैनिक आधार पर सबसे अधिक प्रभाव पड़ता है। हमसे दूर ग्रह अपने घूमने के कारण गतिमान होते हैं, और हमारे अनुभवों को आकार देने पर इसका निश्चित प्रभाव पड़ता है।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

जन्म राशि का नकारात्मक-सकारात्मक प्रभाव

वैदिक रूप में भी राशियों कि काफी मानयताएं हैं। लेकिन विज्ञान के साथ अध्यात्म का सम्मिश्रण करते हुए, यह तकनीक ग्रहों की स्थिति और एक दूसरे के संबंध में उनकी चाल का उपयोग करती है। खगोलीय पिंडों की गति को सावधानीपूर्वक चार्ट में तय किया जाता है और उन सभी नकारात्मक और सकारात्मक अर्थो को एक ढांचा प्रदान करने के लिए योजना बनाई जाती हैं, जो अपने पास मौजूद गौरवशाली ज्ञान को प्राप्त करना चाहते हैं।

इस प्रक्रिया में विशेष रूप से महत्वपूर्ण आपकी जन्म कुंडली है, जो आपके जन्म के समय स्वर्गीय पिंडों के क्रम और स्थिति को दर्शाती है। यह न केवल आपके ज्योतिषीय संकेत को निर्धारित करता है, बल्कि भविष्य में आपके द्वारा किए जाने वाले मार्ग के बारे में भी गहरी जानकारी देता है। आपके जन्म के दौरान सूर्य और चंद्रमा की स्थिति, उनके चरण और ग्रहों के पहलू ज्योतिषियों को आपके स्वभाव का ज्ञान प्राप्त करके आपके भविष्य को निर्धारित करने की अनुमति देते हैं। हालंकि आप आसानी से अपनी जन्म राशि का पता लगा सकते हैं।

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए: यहां क्लिक करें

ज्योतिष के अनुसार जन्म राशि की परिभाषा

ज्योतिष का आधार राशि चक्र के एक निश्चित भाग से गुजरने वाले ग्रह से संबंधित है और जब ऐसा होता है, तो यह घटनाओं की एक श्रृंखला को ट्रिगर करता है जो सीधे हमारे जीवन को प्रभावित करता है। साथ ही यह हमारे पथों को आकार देता है। ग्रहों की चाल के एक ही पहलू के तहत पैदा होने के कारण अलग-अलग वर्षों में पैदा हुए लोगों को वही लक्षण प्रदर्शित करने की अनुमति मिलती है, जो समान राशि साझा करते हैं। इन ब्रह्मांडीय हस्तक्षेपों का एक कारण यह है कि ब्रह्मांड ऊर्जा पर कार्य करता है, जो एक शरीर से दूसरे शरीर में पारित और प्रसारित होता है।

इसी तरह, ऊर्जा का यह हस्तांतरण मनुष्यों तक पहुंचता है और उनके पाठ्यक्रम को बदल देता है। ऊर्जा में इन प्रवाहों की व्याख्या करने से हम बेहतर योजना बना सकते हैं और अपने आगे के दिन या वर्ष के लिए तैयारी कर सकते हैं। ये सभी चीजें आपकी व्यक्तिगत कुंडली के अंतर्गत आती हैं, जो एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न हो सकती हैं। हम इन विशेषज्ञ ज्योतिषियों द्वारा प्रदान की गई जानकारी का उपयोग कर सकते हैं और इसकी मदद से अपने जीवन के महत्वपूर्ण क्षणों की योजना, उन क्षणों के अनुसार बना सकते हैं जो उनके लिए सबसे अनुकूल हैं।

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए: यहां क्लिक करें

जन्म राशि मे चंद्रमा की महत्वपूर्ण भूमिका 

इसका गुरुत्वाकर्षण खिंचाव ज्वारीय तरंगों के बल और गति को बदल सकता है और निर्धारित कर सकता है। मानव शरीर में मुख्य रूप से ज्यादातर पानी होता है, इसलिए यह स्पष्ट है कि वही गुरुत्वाकर्षण खिंचाव हम पर भी पड़ता है और हमारी गतिविधियों पर प्रभाव डालता है। चंद्रमा के चरणों का हमारे मूड और कुछ घटनाओं के प्रति हमारी भावनात्मक प्रतिक्रियाओं से बहुत गहरा संबंध है।

यही कारण है कि ज्योतिषी भविष्यवाणी करने में सक्षम हैं कि हम अपने जीवन में कुछ बदलावों पर कैसे प्रतिक्रिया दे सकते हैं। चंद्रमा की परिक्रमा अन्य पिंडों की तुलना में बहुत तेज होती है, इसलिए हमारी भावनाएं भी इतनी जल्दी बदल जाती हैं। ज्योतिषीय घटनाओं से पता चलता है कि जन्म का समय सूर्य की किरणों की तीव्रता और कंपन को निर्धारित करता है, जिसका हमारे आध्यात्मिक और नैतिक गुणों पर प्रभाव पड़ता है और भविष्य में आने वाले अवसरों का भी संकेत मिलता है।

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए: यहां क्लिक करें

ज्योतिष: विश्वसनीय या भ्रम

हालांकि वैज्ञानिक आपको बताएंगे कि ज्योतिष शास्त्र काम नहीं करता है। जबकि जिन लोगों का इस पर विश्वास है, वे आपको बताएंगे कि यह काम करता है। कौन सही है? असल में दोनों सही हैं। ज्योतिष यह विश्वास करते हैं कि सितारों और ग्रहों का संरेखण प्रत्येक व्यक्ति के मनोदशा, व्यक्तित्व और पर्यावरण को प्रभावित करता है, यह इस बात पर निर्भर करता है कि उसका जन्म कब हुआ था। ज्योतिषी जन्म तिथि के अनुसार व्यक्तिगत अखबारों में कुंडली छापते हैं।

ये राशिफल लोगों के निजी जीवन में भविष्यवाणियां करते हैं, उनके व्यक्तित्व का वर्णन करते हैं और सभी खगोलीय पिंडों की स्थिति के अनुसार उन्हें सलाह देते हैं। नेशनल साइंस फाउंडेशन द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण में पाया गया कि 41% उत्तरदाताओं का मानना ​​है कि ज्योतिष “बहुत वैज्ञानिक” या “एक प्रकार का वैज्ञानिक” है। आइए हम मूल प्रश्न को दो अलग, अधिक विशिष्ट प्रश्नों में विभाजित करें,पहला प्रश्न क्या खगोलीय पिंडों की स्थिति किसी व्यक्ति के जीवन को प्रभावित करती है? और दूसरा प्रश्न क्या कुंडली लोगों को बेहतर महसूस करा सकती है? ये दोनों सवाल बहुत अलग हैं। दोनों को वैज्ञानिक रूप से निर्धारित किया जा सकता है।

ज्योतिष का अर्थ

वैसे तो ज्योतिष शास्त्र के कुछ महत्वपूर्ण वाक्यों अथवा का अर्थ है कि विद्या आरंभ करते समय, विवाह के समय, यज्ञोपवीत आदि संस्कारों में जन्म राशि को देखा जाना आवश्यक है। जबकि रोजाना राशिफल के लिए आप नाम राशि का प्रयोग कर सकते हैं। ज्योतिष में भरोसा करने वाले लोग अक्सर एक बात को लेकर दुविधा में रहते हैं कि अपने जीवन के बारे में जानने के लिए जन्म राशि देंखे या फिर नाम राशि। हालांकि आपको बता दें कि ज्योतिष शास्त्र में लोगों की इस समस्या का समाधान दिया गया है।

हिंदू धर्म में बच्चे के जन्म के साथ ही उसकी कुंडली भी तैयार करवा दी जाती है। फिर बच्चे की उसी कुंडली के अनुसार ज्योतिषी सलाह से बच्चे का नाम भी रखा जाता है। लेकिन यह भी सत्य है कि कुछ लोग जन्म कुंडली के नाम से अपने बच्चे का नाम रखना शुभ नहीं मानते हैं। जिस कारण लगभग हर व्यक्ति की दो राशियां हो जाती हैं, एक वो जो उसके जन्म से जुड़ी है और दूसरी वह जो उसके बुलाने के नाम के अनुसार तय हो जाती है।

यहां आप जानेंगे दोनों राशियों के बीच के अंतर और उसके महत्व के बारे में-

विद्यारम्भे विवाहे च सर्व संस्कार कर्मषु।

जन्म राशिः प्रधानत्वं, नाम राशि व चिन्तयेत्।।

ज्योतिष शास्त्र के इस विशेष श्लोक का अर्थ होता है कि विद्या आरंभ करते समय या फिर विवाह के समय, यज्ञोपवीत आदि संस्कारों में जन्म राशि को ही देखा जाता है। जबकि रोजाना राशिफल के लिए आप अपनी नाम राशि का प्रयोग कर सकते हैं। हालांकि यहां ये जानना भी जरूरी है कि दोनों राशियों में क्या अंतर होता है। जन्म के समय जिस बच्चे का जिस नक्षत्र में जन्म हुआ होता है उसके अनुसार ही रखे जाने वाले नाम से जो राशि तय होती है या बनती है उसे जन्म राशि कहते हैं। जो नाम अपनी इच्छा से बुलाने के लिए रखा जाता है, उस नाम के पहले अक्षर से जो राशि बनती है उसे नाम की राशि कहते हैं। एक इंसान की दो राशि हो सकती हैं।

क्या राशिफल लोगों को बेहतर महसूस करा सकता है?

हां, यह संभव है। लेकिन इसका कुंडली के सही होने से कोई लेना-देना नहीं है। राशिफल लोगों को एक मनोवैज्ञानिक प्रभाव के कारण बेहतर महसूस कराता है जिसे प्लेसीबो प्रभाव के रूप में जाना जाता है। प्लेसीबो प्रभाव तब होता है जब एक बेकार पद्धति में विश्वास वास्तव में एक व्यक्ति को बेहतर महसूस कराता है। यह विश्वास ही है, न कि विधि, जो सुधार का कारण बनती है। 

प्लेसबो प्रभाव को वैज्ञानिक रूप से सत्यापित किया गया है। यदि आप दस बीमार रोगियों को केवल साधारण गोलियां देते हैं, लेकिन उन्हें बताएं कि यह एक शक्तिशाली नई दवा है, जो उनकी सेहत बेहतर करने में मदद करेगी, और फिर दस बीमार रोगियों ने गोलियां खा लीं, तो समय के साथ गोलियां लेने वाले रोगी का बेहतर स्वास्थ्य दिखेगा ऐसा इसलिए होगा क्यों दवाई तो साधारण होगी पर उनका विश्वास बिलकुल अटूट। प्लेसीबो प्रभाव के कारण, रोगियों को बेहतर महसूस होगा । 

सटीक चिकित्सा प्रयोगों में, नियंत्रण समूह अनुपचारित रोगियों का संग्रह नहीं है। बल्कि, नियंत्रण समूह एक प्लेसबो प्राप्त करने वाले रोगियों का एक संग्रह है। प्लेसीबो प्रभाव ज्योतिष के साथ काम करने वाला तंत्र है। बहुत से लोग ज्योतिष में विश्वास करते हैं। जब वे अपना राशिफल पढ़ते हैं और उसकी सलाह का पालन करते हैं, तो वे बेहतर महसूस करते हैं। लेकिन यह विश्वास ही है न कि ज्योतिष जो उन्हें बेहतर महसूस करा रहा है। 

कई वैज्ञानिक उपचार – क्रिस्टल हीलिंग से लेकर होम्योपैथी तक – प्लेसीबो प्रभाव के माध्यम से लोगों की मदद करते हैं। ऐसे उपचार में विश्वास करना जो वास्तव में कुछ भी नहीं करता है, मदद कर सकता है, लेकिन जो उपचार करता है उस पर विश्वास करना और भी बेहतर है। वैज्ञानिक रूप से सिद्ध उपचारों में विश्वास रखने से आपको विश्वास का लाभ मिलता है और उपचार की कार्रवाई का लाभ मिलता है। उदाहरण के लिए, हर सुबह अपना राशिफल पढ़ने के बजाय टहलने जाएं। व्यायाम करें क्योंकि व्यायाम शरीर और मन के लिए अच्छा साबित होता है और इसके प्रभाव से आपका विश्वास भी आपकी मदद करेगा।

अधिक जानकारी के लिए आप Astrotalk के अनुभवी ज्योतिषियों से बात करें।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 2,194 

WhatsApp

Posted On - November 3, 2022 | Posted By - Jyoti | Read By -

 2,194 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation