ग्रहों से होता है बीमारियों का संबंध : जानिए ग्रहों से जुड़े रोग और इनके रोकथाम के ज्योतिषीय उपाय

ग्रहों से जुड़े रोग
WhatsApp

ज्योतिष शास्त्र की मानें तो ग्रहों का संबंध न सिर्फ हमारे दैनिक जीवन से होता है, बल्कि हमारे स्वास्थ्य विशेषकर बीमारियों (diseases) से भी होता है। प्रत्येक ग्रह किसी न किसी बीमारी के कारक होते हैं। यदि कुंडली में कोई भी ग्रह बलवान स्थिति में होता है, तो जातक को उसके अच्छे फल प्राप्त होते हैं और वह समय भी अनुकूल साबित होता है। जबकि कमजोर ग्रह होने पर वह बुरे और अशुभ फल प्रदान करता है। इन्हीं अशुभ फलों में बीमारियां (diseases)भी शामिल हैं। आइए जानते हैं किस ग्रह से कौनसी बीमारी होती है और उसके उपचार के लिए ज्योतिष शास्त्र में किस तरह के उपाय मौजूद हैं। ग्रहों से जुड़े रोग जातक के लिए काफी दुखदायक होते हैं।

मौजूदा समय में लोग छोटी-मोटी बीमारियों (diseases) के साथ-साथ कई गंभीर रोग जैसे कैंसर, यौन रोग, बाल झड़ना, अवसाद आदि से भी परेशान हो रहे हैं, बल्कि इन बीमारियों (diseases) के इलाज के लिए भी उन्हें भारी मात्रा में धन खर्च करना पड़ता है। अस्पतालों में उनकी जेब और डॉक्टरों की भारी फीस का भुगतान करने के लिए। इसके बावजूद उन्हें अपनी समस्या का समाधान नहीं मिल रहा है।

ज्योतिष में ग्रहों और स्वास्थ्य समस्याओं(problems) का संबंध

अगर आपको भी ऐसी समस्या है और लाख कोशिशों के बाद भी उस बीमारी से छुटकारा नहीं मिल पा रहा है या आपके परिवार का कोई सदस्य बार-बार बीमार हो रहा है तो कई मामलों में इसके पीछे का कारण ग्रह भी होते हैं। आज इस ब्लॉग की मदद से हम आपको बताएंगे कि ज्योतिष शास्त्र में किस ग्रह के दोष से कौन से रोग अधिक होते हैं। इससे छुटकारा पाने के लिए क्या उपाय किए जा सकते हैं?

किसी ग्रह के कमजोर होने से जातक को उस ग्रह से संबंधित परेशानी हो सकती है। वैदिक ज्योतिष की सहायता से किसी विद्वान ज्योतिषी से न केवल आप अपने पिछले रोगों के बारे में जान सकते हैं, बल्कि वर्तमान रोग और भविष्य में होने वाली बीमारियों और स्वास्थ्य समस्याओं की संभावना के बारे में पहले से जानकारी प्राप्त करके स्वयं को सतर्क रखने में सक्षम हो सकते हैं।

इसके अलावा ज्योतिष में उपायों और आयुर्वेद की मदद से आप अपनी समस्याओं का समाधान भी कर पाएंगे। ये उपाय हमें वैदिक ज्योतिष में विभिन्न ग्रहों और उनसे जुड़े रोगों के आधार पर बताए गए हैं। यदि किसी जातक की जन्म कुंडली में कोई विशेष ग्रह कमजोर या प्रतिकूल स्थिति में हो तो जातक को उस ग्रह से संबंधित रोग होने की संभावना अधिक होती है। आइए जानते हैं इन 9 ग्रहों और इनसे होने वाली बीमारियों के बारे में।

ग्रह और उनसे जुड़े रोग

जिस प्रकार प्रत्येक ग्रह हमारे जीवन के विभिन्न भागों को प्रभावित करते हैं, उसी प्रकार स्वास्थ्य की दृष्टि से प्रत्येक ग्रह और उसमें आने वाले परिवर्तनों का सीधा प्रभाव हमारे स्वास्थ्य पर पड़ता है। आइए ज्योतिष के अनुसार समझते हैं कि कौन सा ग्रह व्यक्ति को कौन सी समस्या दे सकता है:-

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

1. सूर्य जनित रोग

सूर्य व्यक्ति को पित्त, रंग, जलन, पेट के रोग, रोग प्रतिरोधक क्षमता में गिरावट, स्नायविक रोग, नेत्र रोग, हृदय रोग, हड्डी रोग, कुष्ठ, सिर रोग, रक्त रोग, मिर्गी आदि सहित शारीरिक समस्याएं दे सकता है। इनमें से कोई रोग या समस्या है, तो यह जन्म कुंडली में सूर्य की स्थिति के कारण हो सकता है।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

2. चंद्र जनित रोग

कोई भी समस्या जो दिल और फेफड़े, बायीं आंख, अनिद्रा या नींद से संबंधित समस्या, अस्थमा, डायरिया, एनीमिया, रक्त विकार, उल्टी, मानसिक तनाव, किडनी, मधुमेह, ड्रॉप्सी, अपेंडिक्स, खांसी की बीमारी, मूत्र विकार, मुंह से संबंधित है। व्यक्ति में चंद्रमा से दांत, नाक, पीलिया, अवसाद और हृदय की उत्पत्ति होती है। ऐसे में ऐसी समस्याओं के पीछे व्यक्ति की जन्म कुंडली में चंद्रमा की वर्तमान स्थिति देखी जा सकती है।

3. बुध जनित रोग

फलदीपिका के अनुसार, व्यक्ति को छाती के रोग, नसों, नाक, बुखार, खुजली, टाइफाइड, पागलपन, शरीर के किसी भी हिस्से में लकवा, मिर्गी, अल्सर, अपच, मुंह के रोग, किसी प्रकार के त्वचा रोग से संबंधित समस्याओं की संभावना होती है। हिस्टीरिया, चक्कर आना, निमोनिया, अजीब बुखार, पीलिया, हकलाना, कण्ठमाला, चेचक, नसों की कमजोरी, जीभ और दांतों के रोग या बुध के कारण मस्तिष्क से संबंधित समस्याएं।

4. मंगल जनित रोग

मंगल ग्रह की प्रमुख समस्याएं हैं गर्मी से संबंधित रोग, विषाक्त रोग, अल्सर, कुष्ठ रोग, खुजली, गर्मी के चकत्ते, रक्त या रक्तचाप से संबंधित रोग, गर्दन और गले की बीमारी, मूत्र रोग, ट्यूमर, कैंसर, बवासीर, अल्सर, दस्त, आकस्मिक रक्तस्राव, पट्टी का कटा हुआ हिस्सा, फोड़े, बुखार, आग में जलन, चोट आदि। ऐसी स्थिति में जातक की जन्म कुंडली में मंगल की स्थिति इन रोगों के पीछे मानी जाती है।

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए: यहां क्लिक करें

5. शुक्र जनित रोग

ज्योतिष के अनुसार शुक्र नेत्र, जननांग रोग, मूत्र मार्ग के रोग, यौन रोग, मिरगी, अपच, गले के रोग, नपुंसकता, यौन रोग, अंतःस्रावी ग्रंथि रोग, और मादक द्रव्यों के सेवन से उत्पन्न रोग, पीलिया, बांझपन, वीर्य से संबंधित रोग देता है। -संबंधित, और त्वचा से संबंधित रोग। ऐसे में अगर किसी व्यक्ति को इनमें से कोई भी समस्या है तो इसके पीछे जन्म कुंडली में शुक्र की स्थिति देखी जा सकती है।

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए: यहां क्लिक करें

6. बृहस्पति जनित रोग

व्यक्ति को यकृत, गुर्दा, तिल्ली आदि, कान से संबंधित रोग, मधुमेह, पीलिया, स्मृति हानि, जीभ से संबंधित कोई समस्या, बछड़ा रोग, मज्जा दोष, यकृत पीलिया, मोटापा, दंत रोग, मस्तिष्क विकार आदि से संबंधित कोई रोग हो जाता है। बृहस्पति के कारण। इसलिए यदि किसी व्यक्ति को इनमें से कोई भी समस्या है, तो इसके लिए उनकी जन्म कुंडली में बृहस्पति की कमजोर स्थिति जिम्मेदार हो सकती है।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

7. शनि जनित रोग

शनि के कारण व्यक्ति को शारीरिक कमजोरी, शरीर में दर्द, पेट दर्द, घुटने या पैर में दर्द, दांत या त्वचा रोग, फ्रैक्चर, मांसपेशी रोग, पक्षाघात, बहरापन, खांसी, अस्थमा, अपचन, तंत्रिका विकार आदि हो सकते हैं। इसके कारण यदि किसी व्यक्ति को इनमें से कोई भी समस्या है तो इसके लिए जन्म कुण्डली में शनि की स्थिति देखी जा सकती है।

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए: यहां क्लिक करें

8. राहु जनित रोग

फलदीपिका के अनुसार छाया ग्रह राहु मस्तिष्क विकार, यकृत विकार, कमजोरी, चेचक, पेट में कीड़े, ऊंचाई से गिरने के कारण चोट, पागलपन, तेज दर्द, जहरीली समस्या, पशुओं के कारण होने वाले शारीरिक दर्द से संबंधित समस्याएं देता है। कुष्ठ रोग, कैंसर, बुखार, मस्तिष्क विकार, अचानक चोट और दुर्घटना। इसलिए यदि किसी व्यक्ति को इनमें से कोई भी समस्या है तो निश्चित रूप से जन्म कुंडली में राहु की स्थिति इसके लिए जिम्मेदार होती है।

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए: यहां क्लिक करें

9. केतु जनित रोग

ज्योतिष में केतु से आने वाली समस्याएं हैं आमवाती रोग, रक्तस्राव, त्वचा रोग, कमजोरी, ठहराव, शरीर में चोट, घाव, एलर्जी, अचानक बीमारी, परेशानी, कुत्ते के काटने, रीढ़ की हड्डी में समस्या, जोड़ों का दर्द, शुगर, कान, उनींदापन, हर्निया, और जननांग रोग।

फलदीपिका के अनुसार, ये सभी 9 ग्रहों से जुड़ी विभिन्न समस्याएं हैं। आइए अब समझते हैं कि इन ग्रहों से संबंधित कौन से उपाय उन ग्रहों से उत्पन्न होने वाली स्वास्थ्य समस्याओं से खुद को बचाने में मदद कर सकते हैं।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

हर ग्रह से जुड़े आसान ज्योतिषीय उपाय (jyotish upay)

1) सूर्य के लिए उपाय( sun upay)

  • गरीब और जरूरतमंद बीमार लोगों की सेवा करें।
  • प्रतिदिन सुबह सूर्य को अर्घ्य दें।
  • सूर्य के बीज मंत्र “ॐ ह्रां ह्रीं हौं स: सूर्याय नमः” का प्रतिदिन 108 बार जाप करें।
  • सूर्य देव से संबंधित वस्तुओं का दान करें।
  • प्रतिदिन कम से कम 5 मिनट नग्न आंखों से भगवान सूर्य को देखें।
  • जन्म कुंडली में सूर्य ग्रह को शांत करने और उसके अशुभ प्रभावों को दूर करने के लिए ऑनलाइन सूर्य ग्रह शांति पूजा करवाएं।

2) चंद्रमा के उपाय ( moon upay)

  • प्रतिदिन शिवलिंग पर दूध चढ़ाएं और यदि संभव न हो तो हर सोमवार को ऐसा करें।
  • महिलाओं का सम्मान करें।
  • प्रतिदिन ध्यान और योग करें।
  • प्रतिदिन मां का आशीर्वाद लें।
  • चंद्र ग्रह के बीज मंत्र “ऊँ श्रां श्रीं श्रौं सः चंद्रमसे नमः।” का प्रतिदिन 108 बार जाप करें।
  • चंद्र ग्रह से संबंधित चीजों का दान करें।
  • जन्म कुंडली में चंद्रमा ग्रह को शांत करने और उसके अशुभ प्रभावों को दूर करने के लिए ऑनलाइन चंद्र ग्रह शांति पूजा करवाएं।

3) मंगल ग्रह के उपाय (mars upay)

  • हर मंगलवार को मंदिर जाएं और मिठाई का दान करें।
  • मंगलवार के दिन बजरंग बाण का पाठ करें।
  • अपने घर या आसपास नीम का पेड़ लगाएं और उसकी सेवा करें।
  • हर मंगलवार को बंदरों को केला खिलाएं।
  • हर समय अपने साथ लाल हेंकी रखें।
  • महीने में कम से कम एक बार रक्तदान अवश्य करें।
  • मंगल ग्रह के बीज मंत्र “ऊँ क्रां क्रीं क्रौं सः भौमाय नमः” का प्रतिदिन 108 बार जाप करें।
  • मंगल ग्रह से संबंधित चीजों का दान करें।
  • जन्म कुंडली में मंगल ग्रह को शांत करने और उसके अशुभ प्रभावों को दूर करने के लिए ऑनलाइन मंगल ग्रह शांति पूजा करवाएं।

4) बुध के उपाय (Mercury upay)

  • हरे रंग के कपड़े पहनें।
  • कोई भी नया कपड़ा पहनने से पहले उसे हमेशा धो लें।
  • घर की महिलाओं को हरी चीजें गिफ्ट करें।
  • नियमित रूप से भगवान विष्णु या गणेश जी की पूजा करें।
  • गायों को रोज रोटी और हरी पालक खिलाएं।
  • गरीब और जरूरतमंद छात्रों को शिक्षा की सामग्री वितरित करें।
  • बुध ग्रह के बीज मंत्र “ॐ ब्रां ब्रीं ब्रौं सः बुधाय नमः” का प्रतिदिन 108 बार जाप करें।
  • बुध ग्रह से संबंधित चीजों का दान करें।
  • जन्म कुंडली में बुध ग्रह को शांत करने और उसके अशुभ प्रभावों को दूर करने के लिए ऑनलाइन बुध ग्रह शांति पूजा करवाएं।

5) बृहस्पति के उपाय

  • गुरुवार के दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करें।
  • प्रत्येक गुरुवार का व्रत करें।
  • केले का पेड़ घर पर या उसके आस-पास लगाएं और उसकी सेवा करें।
  • गाय को चने की दाल खिलाएं।
  • बृहस्पति ग्रह के बीज मंत्र “ऊँ ग्रां ग्रीं ग्रौं सः गुरुवे नमः।।” का प्रतिदिन 108 बार जाप करें।
  • बृहस्पति ग्रह से संबंधित चीजों का दान करें।
  • जन्म कुण्डली में बृहस्पति ग्रह को शांत करने और इसके अशुभ प्रभावों को दूर करने के लिए ऑनलाइन गुरु ग्रह शांति पूजा करवाएं।

6) शुक्र ग्रह के उपाय 

  • चमकदार, सफेद या गुलाबी रंग के कपड़े पहनें।
  • देवी दुर्गा या देवी लक्ष्मी की पूजा करें।
  • शुक्रवार का व्रत करें।
  • अपने पार्टनर का सम्मान करें और उन्हें खुशबू या परफ्यूम वाली चीजें दें।
  • छोटी बच्चियों को मिठाई बांटें। 
  • शुक्र ग्रह के बीज मंत्र “ॐ द्रां द्रीं द्रौं सः शुक्राय नमः” का प्रतिदिन 108 बार जाप करें।
  • शुक्र ग्रह से संबंधित चीजों का दान करें।
  • जन्म कुंडली में शुक्र ग्रह को शांत करने और उसके शुभ प्रभावों को दूर करने के लिए ऑनलाइन शुक्र ग्रह शांति पूजा करवाएं।

7) शनि के उपाय 

  • रोज काले कुत्ते को खाना खिलाएं।
  • मांसाहार, शराब का सेवन, जुआ आदि गलत कार्य करने से बचना चाहिए।
  • घर के दक्षिण-पूर्व कोने में प्रतिदिन सरसों के तेल का दीपक जलाएं।
  • शनिवार के दिन सरसों के तेल का दान करें।
  • हर शनिवार को शनि मंदिर में जाकर और उनकी मूर्ति को छुए बिना सरसों का तेल चढ़ाकर भगवान शनि की स्तुति करें।
  • शनि के बीज मंत्र “ॐ शं शनैश्चराय नमः” का प्रतिदिन 108 बार जाप करें।
  • शनि ग्रह से संबंधित चीजों का दान करें।
  • जन्म कुंडली में शनि ग्रह को शांत करने और उसके अशुभ प्रभावों को दूर करने के लिए ऑनलाइन शनि ग्रह शांति पूजा करवाएं।
  • उंगली में लोहे की अंगूठी पहनें।

8) राहु के उपाय

  • ग्रहों से जुड़े रोग के लिए ताबें का दान करें।
  • रविवार के दिन किसी तांबे के बर्तन में गेहूं या गुड़ रखकर बहते पानी या नदी में प्रवाहित कर दें।
  • ग्रहों से जुड़े रोग के लिए गले में चांदी पहनना आपके लिए उपयुक्त रहेगा।
  • बहते पानी या नदी में चांदी के सांपों की एक जोड़ी फेंक दें।
  • ग्रहों से जुड़े रोग के लिए बहते पानी में 5 नारियल या कद्दू फेंक दें।
  • राहु ग्रह से संबंधित चीजों का दान करें।
  • ग्रहों से जुड़े रोग के लिए जन्म कुंडली में राहु ग्रह को शांत करने और उसके शुभ प्रभावों को दूर करने के लिए ऑनलाइन राहु ग्रह शांति पूजा करवाएं।
  • राहु के बीज मंत्र “ॐ भ्रां भ्रीं भ्रौं सः राहवे नमः ||” का प्रतिदिन 108 बार जाप करें।

9) केतु के उपाय

  • ग्रहों से जुड़े रोग भूरे रंग के कपड़े पहनें।
  • छोटे बच्चों में मिठाई बांटें।
  • ग्रहों से जुड़े रोग प्रतिदिन स्नान के बाद घर के बड़े-बुजुर्गों का आशीर्वाद लें।
  • केतु ग्रह से संबंधित चीजों का दान करें।
  • 9 मुखी रुद्राक्ष धारण करना आपके लिए लाभदायक रहेगा।
  • जन्म कुंडली में केतु ग्रह को शांत करने और इसके शुभ प्रभावों को दूर करने के लिए ऑनलाइन राहु केतु शांति पूजा करवाएं।
  • केतु के बीज मंत्र “ॐ स्रां स्रीं स्रौं सः केतवे नमः” का प्रतिदिन 108 बार जप करें।

अधिक जानकारी के लिए आप Astrotalk के अनुभवी ज्योतिषियों से बात करें।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 1,113 

WhatsApp

Posted On - November 15, 2022 | Posted By - Jyoti | Read By -

 1,113 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation