कोरोना वायरस की वजह से दुनिया में लॉक डाउन, कैसी रहेगी इस बार की ईद

कोरोना वायरस की वजह से दुनिया में लॉक डाउन, कैसी रहेगी इस बार की ईद

ईद

चीन के वुहान शहर से शुरू हुआ करोना वायरस का कहर अब पूरे संसार में बहुत अधिक फैल चुका है । लाखों लोग इसकी चपेट में आ चुके हैं और लाखों जाने जा चुकी हैं । यह एक संक्रामक बीमारी है , जो बहुत तेज़ी से एक इंसान से दूसरे इंसान में फ़ैल रही है । समस्या यह है कि इस बीमारी का इलाज अभी तक किसी को भी नहीं मिल सका है ।

ध्यान रहे कि एक दूसरे से दूरी बनाए रखने से ही इस बीमारी को फैलने से रोका जा सकता है । फलस्वरूप संसार भर के लोगों की सुरक्षा के लिए इस बात का निर्णय लिया गया है कि सब एक-दूसरे से दूर रहें क्योंकि इसी तरह से हर इंसान सुरक्षित रह सकता है । लॉकडाउन का फ़ैसला लोगों की जान बचाने के लिए किया गया है । ताकि वह सुरक्षित रहे और इस बीमारी की चपेट में न आए।

इसी दौरान लॉकडाउन के चलते रमज़ान का महीना आ गया । इस महीने में मुसलमान पूरे महीने के रोज़े रखते हैं और फिर ईद का त्यौहार आता है । इस महीने की शुरूआत होते ही बाज़ार में खूब चहल-पहल हो जाती है जिनसे रौनक लगी रहती है । ऐसा पहली बार हुआ है जब लॉकडाउन के चलते रौनक नहीं देखी गई । सभी लोग अपने घरों में रहकर शांतिपूर्ण तरीके से रोजे रख रहे हैं । बिना जरूरत के बाहर कोई भी नहीं निकल रहा है । राशन और दवाइयों की दुकानों के अलावा अन्य सभी दुकानें बंद हैं ।

कैसे मनाई जाएगी ईद

इस बार ईद का त्योहार बहुत ही शांतिपूर्ण तरीके से मनाया जाएगा । न तो किसी ने खरीदारी की है और न ही कोई बार कोई अपने दोस्तों, रिश्तेदारों के घर जाएगा । किसी के भीक पास खरीदारी करने के लिए भी उपयुक्त पैसा नहीं है । इस महामारी की वजह से लोगों के काम धंधे बिल्कुल ही ठप्प होकर रह गए हैं । जिसकी वजह से लोगों में उत्साह नहीं है । ऐसे में ईद के आने पर लोग इसको बहुत ही सादगी से मनाएंगे ।

हर साल मस्जिदों में ईद की नमाज़ अदा की जाती है और उसके बाद एक दूसरे से गले मिलकर मुबारकबाद देते हैं । परंतु इस बार लोगों से अपील की गई है कि वह अपने घरों से बाहर न निकले और अपने घर पर ही नमाज़ अदा करें ।

मुस्लिम देशों में ईद

मुस्लिम देशों में ईद का महत्व बहुत अधिक है और यह फेस्टिवल वहां पर बहुत अधिक धूमधाम से मनाया जाता है । लेकिन लॉकडाउन के चलते इस बार सभी लोग अपने घरों में ही रहेंगे और बहुत ही शांतिपूर्ण और सरल तरीके से इस उत्सव को मनाएंगे ।

मलेशिया, इंडोनेशिया, सिंगापुर, ऑस्ट्रेलिया, सऊदी अरब, कुवैत तुर्की, कतर और दूसरे खाड़ी देशों में ईद-उल-फितर भारत से एक दिन पहले मनाई जाएगी क्योंकि यहां पर रमज़ान का महीना 1 दिन पहले शुरू हुआ था । चांद देखने के बाद ही यह त्योहार मनाया जाता है इसलिए दुनिया भर में इस को मनाने का दिन अलग-अलग होता है ।‌ सारे देशों में ईद का त्योहार 24 मई, 2020 को मनाया जा चुका है और सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा पूरा ध्यान भी रखा गया है ।

भारत में यह त्यौहार 25 मई, 2020 को शांतिपूर्ण और सादगी से मनाया जाएगा । लोग सामाजिक दूरी का पूरा ध्यान रखते हुए इस फेस्टिवल को मनाएंगे । साथ ही जामा मस्जिद के शाही इमाम ने सभी मुसलमानों से प्रार्थना की है कि वह अपने घरों से बाहर न निकलें । ईद-उल-फितर की नमाज भी अपने घर पर ही अदा करें । इस बार बाज़ार में मिठाइयां और दूसरी खाने पीने की चीजें उपलब्ध नहीं होंगी । सारा बाज़ार बन्द रहेगा क्योंकि महामारी से निपटने का एक ये ही तरीका है ।

सभी देश के नेताओं ने की है लोगों से अपील

कोरोनावायरस की वजह से सभी देश वासियों से अपील की है कि वह सोशल डिस्टेंसिग का ख्याल रखें । इसके अलावा जुलूस आदि पर भी रोक लगा दी है । अपने घरों से बाहर न निकलें ताकि सामाजिक दूरी रत्न- ज्योतिषीय लाभ और उनका हमारे जीवन प्रभावबनी रहे । इस तरह यह त्यौहार सिंपल तरीके से मनाया जाएगा । हमेशा इस दिन सिवैयां, शीर, खीर और दूसरे स्वादिष्ट पकवान बनाए जाते हैं । परंतु इस बार लोग बजट के हिसाब से विभिन्न तरह के पकवान बनाएंगे । इसके अलावा फोन तथा वीडियो कॉल पर एक दूसरे को इस त्यौहार की मुबारकबाद देंगे ।

यह भी पढ़ें- रत्न- ज्योतिषीय लाभ और उनका हमारे जीवन प्रभाव

 203 total views


Tags: ,

No Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *