जूते-चप्पल से कैसे आपके जीवन में आ सकता है परिवर्तन?

जूते-चप्पल से कैसे आपके जीवन में आ सकता है परिवर्तन?

जूते-चप्पल से कैसे आपके जीवन में आ सकता है परिवर्तन

ज्योतिष ज्ञान की मानें, तो जूते-चप्पल सिर्फ आपके पैरों को सुरक्षित नहीं रखते हैं, अपितु, आपकी किस्मत को भी बदलने का सामर्थ्य रखते हैं। शरीर के हर अंग की निगरानी कोई ग्रह ज़रूर करता है। पैर हो या त्वचा, इस पर शनि देव व मीन राशि का प्रभाव रहता है।

शनि देव को हमेशा न्याय करने की मान्यता प्राप्त है। जहां एक ओर, उनका आशीर्वाद सभी कष्टों को हरता है। वहीं दूसरी ओर, उनकी बुरी दृष्टि से हर शुभ चीज अशुभ में परिवर्तित हो सकती है।

क्या आपके जूते-चप्पल कभी चोरी हुए हैं या फिर कभी टूटे हैं?

किसी भी प्रकार की चोरी व टूटना अशुभ संकेत ही देती है। लेकिन, फिर भी अपके जूते-चप्पल के साथ जब यह घटना घटे, तो इसे शुभ मानिएगा। मान्यताओं के अनुसार, ऐसा होने का अर्थ है कि शनि देव की शुभ छाया बनी हुई है और आप सभी दोष से मुक्त हैं।

ज्योतिष ज्ञान के अनुसार, शनि ग्रह से कष्टों का निवारण करना संभव है। इसके लिए जूते-चप्पल का दान करें। इससे बीमारियों के भी दूर रहने की संभावना बढ़ जाती है। शनिवार तो होता ही शनि का दिन है और यदि आप जूते-चप्पल इस दिन दान करें, तो शनि की कृपा आप पर बन जाती है। कई लोग तो मंदिरों में जान-बूझकर अपने जूते-चप्पल छोड़कर आते हैं। उन्हें लगता है कि इससे शनि देव प्रसन्न हो जाएंगे। सबसे अनोखी बात यह है, कि अगर आपके जूते-चप्पल शनिवार के दिन गुम या चोरी हुए हैं, तो यह मात्र शनि की कृपा है।

इन सभी बातों में एक बात यह भी है, कि यदि यह चोरी होने या जूते-चप्पल टूटने वाली घटना कई बार हो जाए, तब यह शुभ नहीं बल्कि एक अशुभ संकेत है। इसका अर्थ यह होता है कि शनि की साढ़ेसाती सक्रिय हो गई है या आप पर शनि दोष लग चुका है। इससे बचने के लिए आप शनि देव की आराधना, जूते-चप्पल का दान जैसे कई तरीकों को अपना सकते हैं।

जूते व चप्पल से जुड़ी कुछ अन्य अनोखी बातें

  • गंदे व धूल लगे हुए जूते-चप्पल पहनने से बचें। उन्हें पहनने से पहले अच्छे से साफ कर लें। यदि साफ करने का समय नहीं, तो उन्हें झाड़कर ही पहनें क्योंंकि ऐसे जूतों का पहनना, आपके लिए ठीक नहीं होगा।
  • घर में ये ध्यान रखें कि आपके जूते-चप्पल वाली रैक में सिर्फ वही जूते पड़े हैं, जो आप पहनते हैं। अगर आपके पास, ऐसे जूते-चप्पल जमा हैं जो कि आप पहनते ही नहीं, तो उनको दूसरों को दान दे या हटा दें। ऐसा करने से, घर में बीमारियों का वास कम हो जाता है।
  • जिन लोगों को जूते-चप्पल की कमी नहीं, उन्हें यह भेंट के रूप में देना ठीक नहीं माना जाता है। ऐसा करने से, आप अपनी ज़िंदगी में समस्याओं को आमंत्रित कर रहे हैं। लेकिन अगर आप भेंट में जूता ही देना चाहते हैं, तो काले रंग को छोड़कर किसी भी रंग का जूता दे सकते हैं। काले रंग के जूते राहु व शनि के सूचक हैं।
  • अगर आप दिक्कतों को दूर करना चाहते हैं, तो किसी जरूरतमंद या गरीब व्यक्ति को ही जूते दान करें। इसका लाभ आपको नौकरी में तरक्की दिलाने में भी मिल सकता है।
  • शनिवार को अपने किसी भी पुराने जूते को पहनें जिसका उपयोग ना मात्र का हो, और चौराहे पर उसे उतार दें। फिर, प्रार्थना करें की आप अपनी सारी धन सबंधी समस्याओं को वहां छोड़कर जा रहे हैं। इसके बाद आप वापस लौट आएं। यदि आपको धन की समस्या है, तो जूते-चप्पल के इस तरीके का प्रयोग अवश्य करें।

यह बहुत ही विचित्र बात है, कि अपने रोज़ाना जीवन में पाए जाने वाले वस्तुओं का ज्योतिष ज्ञान में इतनी महत्वपूर्ण भूमिका है।

साथ ही यह भी पढ़ें बुरी नजर के लक्षण और इससे बचाव के तरीके

 151 total views


No Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *