बार-बार दिखे ऐसे संकेत तो हो सकता है आपकी कुंडली में कमजोर राहु

कुंडली में कमजोर राहु के संकेत

ज्योतिष में, राहु एक नवग्रह है, जो व्यक्ति की कुंडली में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। राहु ग्रह व्यक्ति के भाग्य को बदल सकता है और जातक के जीवन जीने की प्रकृति को प्रभावित करता है। राहु की स्थिति और दशा कुंडली में व्यक्ति के भविष्य के साथ उनके वर्तमान में भी बड़ा प्रभाव डालती है। राहु की स्थिति और दशा से व्यक्ति को नकारात्मक प्रभावों का सामना करना पड़ सकता हैं। 

जातक की कुंडली में राहु का प्रभाव

राहु एक छाया ग्रह है, जो वैदिक ज्योतिष में बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। राहु को उत्तर नोड भी कहा जाता है। कुंडली में राहु का प्रभाव अशुभ होता है। राहु की उपस्थिति कुंडली में कुछ दुष्प्रभावों का कारण बन सकती है।

राहु का प्रभाव जब कुंडली में अधिक होता है, तो व्यक्ति अस्थिर महसूस करता है। इससे जातक के उत्साह में कमी होती है और वे अपने कामों में ध्यान नहीं दे पाते हैं। राहु के प्रभाव से व्यक्ति को भ्रम और चिंता महसूस होती है। वे लोग जिनकी कुंडली में राहु का प्रभाव अधिक होता है, वे अक्सर असमंजस में रहते हैं और अपने फैसलों पर विचार करने के लिए अधिक समय लेते हैं।

इसके अलावा, राहु के प्रभाव से व्यक्ति के स्वास्थ्य पर भी असर पड़ता है। राहु के दोष से आँखों की समस्या, बदहजमी जैसी समस्याएं हो सकती हैं। इसलिए राहु के अशुभ प्रभाव से बचने के लिए व्यक्ति को ध्यान करना चाहिए।

व्यक्ति को अपनी कुंडली में राहु का प्रभाव जानना चाहिए ताकि वे अपने जीवन में राहु के दोषों से बच सकें। यदि राहु का प्रभाव ज्यादा होता है, तो व्यक्ति को धैर्य और स्थिरता बनाए रखने की जरूरत होती है। इस दौरान जातक को नियमित योग अभ्यास और स्वस्थ भोजन करना चाहिए।

यह भी पढ़ें- इन कारणों से बनता है कुंडली में गंडमूल दोष, जानें इससे बचने के अचूक उपाय

कुंडली में राहु के कमजोर होने के संकेत

राहु की अशुभ स्थिति कुंडली पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकती है। जब राहु कुंडली में कमजोर होता है, तो उसके प्रभाव से व्यक्ति के जीवन में अनेक समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। ज्योतिष के अनुसार जब जातक की कुंडली में राहु ग्रह कमजोर होता है, तो व्यक्ति को कुछ संकेत दिखाई देते है, जो राहु की कमजोर स्थिति की तरह इशारा करते हैं। चलिए जानते है वह कौन से संकेत है, जो राहु की कमजोर स्थिति होने पर जातक को दिखाई देते हैंः

मरी हुई छिपकली और सांप दिखना

ज्योतिष के अनुसार, राहु की कमजोर स्थिति में व्यक्ति को अनेक तरह के संकेत दिखाई देते हैं, जिनमें मरी हुई छिपकली या सांप का बार-बार दिखना भी शामिल है। छिपकली या सांप देखना अक्सर लोगों के लिए डरावना होता है। लेकिन ज्योतिष के अनुसार यह एक संकेत हो सकता है, जो राहु की अशुभ स्थिति के बारें में जातक को बताता हैं।

अगर राहु कुंडली में कमजोर है, तो मरी हुई छिपकली देखना व्यक्ति के लिए एक संकेत हो सकता है कि उन्हें व्यापारिक हानि या अन्य आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। इसी तरह सांप देखना भी राहु की अशुभ स्थिति का संकेत हो सकता है। यह व्यक्ति के जीवन में अनेक समस्याओं से संबंधित हो सकता है।

इसके अलावा, अगर आपको बार-बार ये चीजें दिखाई दे रही है, तो आपके जीवन में कई परेशानियां आ सकती हैं। इन चीजों का दिखाई देना कुंडली में राहु के कमजोर होने का संकेत होता है। यदि राहु कमजोर होता है और आप सांप देखते हैं, तो इसका मतलब है कि आप नए संगठन के साथ काम करने के लिए तैयार नहीं हैं। आपको संगठित और अनुकूलन रहने की आवश्यकता हो सकती है। 

यह भी पढ़ें- राहु महादशा में ग्रहों की अंतर्दशा का जीवन पर प्रभाव और इससे बचने के ज्योतिष उपाय

पारिवारिक जीवन में विवाद

ज्योतिष के अनुसार, राहु कमजोर होने पर पारिवारिक जीवन में कलह हो सकता है। राहु एक अशुभ ग्रह है और इसकी अशुभ स्थिति समाज और परिवार में समस्याओं को उत्पन्न कर सकती है। यह समस्याएं विभिन्न प्रकार की हो सकती हैं, जैसे कि संघर्ष, असहमति, विवाद, असंतुलन, व्याकुलता आदि। इस अवधि में, परिवार और सामाजिक संबंध बनाए रखना बहुत महत्वपूर्ण होता है। आपको इन संबंधों के लिए समय देना चाहिए और उन्हें मजबूत बनाए रखने के लिए सक्रिय रहना चाहिए।

आपको ध्यान रखना चाहिए कि आप अपनी बात को स्पष्ट रूप से समझाएं और दूसरों की बातों को समझें। अगर कोई समस्या होती है, तो उसे स्वीकार करना और समाधान के लिए सही कदम उठाना बहुत महत्वपूर्ण होता है, क्योंकि यह स्थिति रिश्तों के लिए बिल्कुल भी ठीक नहीं है। इस दौरान अधिक तनाव, विवाद के कारण व्यक्ति के संबंध भी टूट सकते है, इसलिए इस दौरान सावधानी बरतें।

अगर आपके परिवार में छोटी-छोटी बातों पर विवाद होते है, तो यह राहु की अशुभ स्थिति के कारण हो सकता है। आप किसी अनुभवी ज्योतिष से अपनी कुंडली का विश्लेषण करवाकर उनके बताएं गए उपायों का उपयोग कर सकते हैं।

नाखून और बालों का गिरना

वेदों और पुराणों में बताया जाता है कि राहु एक अशुभ ग्रह है। राहु का अस्त होना या कमजोर होने के कारण व्यक्ति को कई प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। अगर जातक की कुंडली में राहु कमजोर होता है, तो अचानक से जातक के बाल या नाखून गिरने लगते हैं।

इसके अलावा, अगर आपके अचानक से बाल या नाखून गिरने लगे, तो यह कुंडली में राहु की अशुभ स्थिति के कारण होता है। साथ ही राहु के कारण व्यक्ति को मानसिक तनाव भी हो सकता है। इसलिए व्यक्ति को इस स्थिति से ध्यान व योग करना चाहिए।

यदि आपके बार-बार नाखून या बाल गिरते है, तो आपको इसके लिए किसी चिकित्सक से सलाह लेनी चाहिए, क्योंकि यह स्थिति व्यक्ति के स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव डाल सकती है। जातक की कुंडली में राहु की स्थिति महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, क्योंकि शुभ होने पर यह जातक को अच्छे फल देता है। लेकिन अशुभ स्थिति में यह जातक के जीवन में परेशानी लाता हैं।

यह भी पढ़ें: खाने मे बाल निकलना: ज्योतिष के अनुसार जानें क्यों निकलता है बार बार खाने में बाल?

याददाश्त कमजोर होना 

जब राहु कमजोर होता है, तो याददाश्त कमजोर होने का भी एक संभव कारण होता है। याददाश्त कमजोर होने से व्यक्ति को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है, जैसे कि नई जानकारी को न रख पाना, चीजों को रखकर भूल जाना आदि। इस समस्या का संभावित कारण राहु की कमजोर स्थिति हो सकती है। अगर आप बार-बार चीजों को रखकर भूल जाते है या चलते-चलते रास्ता भूल जाते है, तो यह राहु की अशुभ स्थिति का संकेत हो सकता है। इसके अलावा, राहु कमजोर होने से अन्य समस्याएं जैसे दर्द, थकान, दुर्बलता, चक्कर आदि भी हो सकती हैं, जो व्यक्ति की याददाश्त को प्रभावित कर सकती हैं।

इस समस्या को दूर करने के लिए व्यक्ति को अपनी देख-भाल करनी चाहिए। उन्हें नियमित रूप से पौष्टिक भोजन का सेवन करना चाहिए। आपको व्यायाम और योग करना चाहिए, जो आपके सेहत के लिए फायदेमंद है। यदि यह समस्या लंबे समय तक बनी रहती है, तो व्यक्ति को अनुभवी चिकित्सक से सलाह लेनी चाहिए। 

यह भी पढ़ें: पढ़ाई में दिमाग तेज करने के लिए करें ये अचूक ज्योतिष उपाय

पालतू पशुओं की मृत्यु होना 

अगर राहु कमजोर हो जाता है, तो इससे पालतू जानवरों के स्वास्थ्य पर बहुत असर पड़ता है। इससे उनकी प्रतिरक्षा शक्ति कमजोर होती है, जिसके कारण वे बीमारियों से जल्दी संक्रमित हो जाते हैं। अगर इस समस्या को नजरअंदाज कर दिया जाता है, तो यह पालतू पशुओं के लिए जानलेवा साबित हो सकता है।

अगर किसी पालतू जानवर की अचानक मृत्यु हो जाती है, तो यह राहु की अशुभ स्थिति का संकेत होता है। वैदिक ज्योतिष में, राहु एक अशुभ ग्रह माना जाता है, जो व्यक्ति और जानवरों दोनों के लिए दुखदायी परिणाम ला सकता है। जब राहु अशुभ होता है, तो यह पालतू जानवरों को भी प्रभावित कर सकता है।

यदि आपकी कुंडली में राहु कमजोर है, तो इससे आपके घर के पालतू जानवरों के स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। यह उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर कर सकता है और उन्हें विभिन्न संक्रमणों से पीड़ित कर सकता है। राहु अशुभ होने से पालतू जानवरों की मृत्यु का खतरा भी बढ़ जाता है।

यह भी पढ़ें- ज्योतिष अनुसार जानें जन्म कुंडली में शनि कब शुभ होता है?

राहु के अशुभ संकेतों से बचने के उपाय 

  • राहु की कमजोर दशा में पक्षियों को बाजरा खिलाएं।
  • इस दशा के दौरान दान करना जातक के लिए काफी शुभ माना जाता है।
  • अगर आपको बार-बार मरी हुई छिपकली या सांप दिखाई देते है, तो आपको कुत्तों को मीठी रोटी खिलानी चाहिए।
  • यदि राहु ग्रह के कारण आपकी याददाश्त पर प्रभाव पड़ रहा है, तो आपको मदिरा पान नहीं करना चाहिए।
  • परिवार के विवाद को कम करने के लिए दुर्गा चालीसा का पाठ करें।
  • “ॐ भ्रां भ्रीं भ्रौं सः राहवे नमः”  मंत्र का जाप राहु की कमजोर स्थिति में जातक के लिए लाभदायक होता है।
  • इस दौरान आप किसी ज्योतिष की सलाह से रत्न भी धारण कर सकते हैं।
  • राहु को मजबूत करने के लिए राहु कवच का पाठ करें।
  • इस स्थिति में आपको काले कुत्ते को भोजन करना चाहिए।
  • राहु ग्रह को मजबूत करने के लिए आपको लोहे का छल्ला या कड़ा अपने हाथ में धारण करना चाहिए।
  • आप लाल कपड़े में गोमेद को लपेटकर हाथ या फिर बाजू पर धारण कर सकते हैं।
  • राहु बीज मंत्र का जप करना भी जातक के लिए फलदायी होता हैं।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 4,588 

Posted On - April 20, 2023 | Posted By - Jyoti | Read By -

 4,588 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

Our Astrologers

21,000+ Best Astrologers from India for Online Consultation