क्या विवाह में देरी और वैवाहिक जीवन में राहु परेशानी का कारण बन रहा है?

वैवाहिक जीवन में राहु की स्थिति और प्रभाव

ज्योतिष शास्त्र में राहु एक महत्वपूर्ण ग्रह है, जो वैवाहिक जीवन को प्रभावित कर सकता है। साथ ही राहु के गोचर से व्यक्ति के वैवाहिक जीवन में चुनौतियां और संकट उत्पन्न हो सकते हैं। राहु के कारण जातक की कुंडली में बुरे योग बनते हैं, जो विवाह में देरी का कारण बन सकते हैं। इसके अलावा, राहु व्यक्ति को अनिष्ट फल प्रदान कर सकता है, जैसे कि अंहकार, मानसिक उत्पीड़न, भ्रम आदि। वहीं वैवाहिक जीवन में राहु सकारात्मक और नकारात्मक फल प्रदान कर सकता है। चलिए जानते है कि वैवाहिक जीवन को राहु कैसे प्रभावित करता है।

कौन से ग्रह और भाव उत्पन्न करते है वैवाहिक जीवन में परेशानी?

ज्योतिष शास्त्र में, किसी व्यक्ति की जन्म कुंडली में ग्रहों और भावों की स्थिति उनके वैवाहिक जीवन में अंतर्दृष्टि प्रदान कर सकती है। कुछ ग्रह और भाव रिश्तों में चुनौतियाँ पैदा कर सकते हैं, जिससे विवाह में देरी, संघर्ष और तलाक जैसी समस्याएं हो सकती हैं। आइए कुछ ऐसे ग्रहों और भावों पर करीब से नजर डालते हैं, जो वैवाहिक जीवन को प्रभावित कर सकते हैः

शुक्र ग्रह

शुक्र प्यार और रिश्तों का ग्रह है और जन्म कुंडली में इसकी स्थिति व्यक्ति के सफल रोमांटिक संबंध बनाने की क्षमता को प्रभावित कर सकती है। यदि शुक्र कमजोर या पीड़ित है, तो यह एक उपयुक्त साथी खोजने में देरी या कठिनाइयों का कारण बन सकता है, जिससे वैवाहिक जीवन में परेशानी हो सकती है।

मंगल ग्रह

मंगल जुनून और ऊर्जा का ग्रह है। लेकिन जब यह जन्म कुंडली में पीड़ित या खराब स्थिति में होता है, तो यह रिश्तों में टकराव, आक्रामकता और क्रोध पैदा कर सकता है। इससे वैवाहिक जीवन में समस्याएं हो सकती हैं।

शनि ग्रह

शनि जिम्मेदारी और कड़ी मेहनत का ग्रह है और जन्म कुंडली में इसका स्थान व्यक्ति के वैवाहिक जीवन में उत्पन्न चुनौतियों को संभालने की क्षमता को प्रभावित कर सकता है। यदि शनि कमजोर या पीड़ित है, तो यह विवाह में देरी या बाधाओं का कारण बन सकता है और एक बार विवाह हो जाने के बाद, यह वित्तीय कठिनाइयों, अनुकूलता की कमी जैसे मुद्दों का कारण बन सकता हैं।

सप्तम भाव

जन्म कुंडली में सप्तम भाव विवाह और साझेदारी का प्रतिनिधित्व करता है और इसकी स्थिति वैवाहिक जीवन को प्रभावित कर सकती हैं। यदि सप्तम भाव पीड़ित है या शनि, मंगल या राहु जैसे पाप ग्रह हैं, तो यह विवाह में देरी, संघर्ष और यहां तक कि तलाक का कारण बन सकता है।

आठवां भाव

जन्म कुंडली में 8वां भाव विवाह और भागीदारों के बीच यौन अनुकूलता का प्रतिनिधित्व करता है। यदि आठवां भाव पीड़ित है या इसमें कोई पाप ग्रह हैं, तो यह यौन समस्याओं और यहां तक कि तलाक जैसे मुद्दों का कारण बन सकता है।

यह भी पढ़ें: मुझे कैसे पता चलेगा कि मेरी कुंडली में शनि मजबूत या कमजोर है?

कैसे राहु दोष विवाह में देरी उत्पन्न करता है? 

वैदिक ज्योतिष में, राहु को एक अशुभ ग्रह माना जाता है और राहु दोष के कारण जातक के विवाह में देरी हो सकती है। राहु एक छाया ग्रह है, जिसे जातक की कुंडली में अशुभ माना जाता है और जब यह किसी व्यक्ति की जन्म कुंडली में प्रतिकूल रूप से स्थित होता है, तो यह विवाह में देरी सहित कई तरह की समस्याएं पैदा कर सकता है।

राहु दोष के कारण एक उपयुक्त साथी खोजने और विवाह करने में देरी, बाधा और चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। साथ ही अगर जातक की कुंडली में राहु की अशुभ स्थिति होती है, तो वैवाहिक जीवन में परेशानी पैदा हो सकती है। 

इसके अलावा, राहु दोष के कारण विवाह में देरी के साथ-साथ वैवाहिक जीवन में भी उथल-पुथल मच जाती है। राहु अप्रत्याशित और अचानक घटनाओं को पैदा करने के लिए जाना जाता है और 7वें भाव पर इसके प्रभाव से साथी खोजने या विवाह में देरी या अप्रत्याशित घटनाएं हो सकती हैं। जब राहु पीड़ित होता है, तो व्यक्ति आवेगी और निर्णय लेने में परेशानी का अनुभव करता है। इससे उपयुक्त साथी चुनने या रिश्ते में चुनौतियों को संभालने में मुश्किलें आ सकती हैं, जिससे विवाह में देरी हो सकती है।

यह भी पढ़ें: ज्योतिष अनुसार जानें वैवाहिक जीवन की परेशानी का समाधान कैसे करें?

सफल वैवाहिक जीवन के लिए महत्वपूर्ण ग्रह

ज्योतिष शास्त्र में, किसी व्यक्ति की जन्म कुंडली में ग्रहों और भावों की स्थिति एक सफल वैवाहिक जीवन का संकेत देती है। माना जाता है कि कुंडली में कुछ ग्रह और उनके मजबूत योग एक सामंजस्यपूर्ण और सफल वैवाहिक जीवन की संभावना को बढ़ाते हैं। यहाँ कुछ महत्वपूर्ण ग्रह हैं, जो सफल विवाह योगों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैः

शुक्र ग्रह

शुक्र प्रेम और रिश्तों का ग्रह है और किसी व्यक्ति की जन्म कुंडली में इसकी स्थिति को एक खुशहाल विवाह के लिए महत्वपूर्ण कारक माना जाता है। शुक्र रिश्तों में प्यार, रोमांस और सद्भाव ला सकता है, जबकि एक पीड़ित शुक्र विवाह में संघर्ष, गलतफहमी और असंतोष पैदा कर सकता है।

बृहस्पति ग्रह

बृहस्पति ज्ञान और आध्यात्मिकता का ग्रह है और जन्म कुंडली में इसका स्थान व्यक्ति के सफल विवाह का संकेत देता है। मजबूत बृहस्पति रिश्तों में ज्ञान, समझ और आध्यात्मिक विकास ला सकता है, जबकि कमजोर या पीड़ित बृहस्पति समझ, संघर्ष और गलतफहमी पैदा कर सकता है।

चंद्रमा ग्रह

चंद्रमा भावनाओं का ग्रह है और जन्म कुंडली में इसका स्थान किसी व्यक्ति की अपने साथी के साथ भावनात्मक अनुकूलता का संकेत देता है। मजबूत चंद्रमा रिश्तों में भावनात्मक स्थिरता, समझ और संवेदनशीलता ला सकता है, जबकि पीड़ित चंद्रमा भावनात्मक अस्थिरता, मनोदशा में बदलाव और विवाह में संघर्ष का कारण बन सकता है।

मंगल ग्रह

मंगल ऊर्जा, जुनून और इच्छा का ग्रह है और जन्म चार्ट में इसकी स्थिति किसी व्यक्ति की अपने साथी के साथ यौन अनुकूलता का संकेत देती है। अच्छी स्थिति में मंगल रिश्तों में जुनून, ऊर्जा और शारीरिक अंतरंगता ला सकता है, जबकि पीड़ित मंगल विवाह में यौन समस्याएं, संघर्ष और आक्रामकता पैदा कर सकता हैं।

यह भी पढ़ें: जिनकी कुंडली में होते है ये 5 शुभ योग, जीवनभर नहीं आती धन की कमी

सफल वैवाहिक जीवन के लिए ज्योतिष उपाय

वैवाहिक समस्याओं के लिए यहां कुछ उपाय दिए गए हैः

  • सोमवार का व्रत रखें और भगवान शिव को जल चढ़ाएं।
  • रोज काले कुत्ते को रोटी खिलाएं।
  • प्रतिदिन “ॐ नमः शिवाय” मंत्र का जाप करें।
  • एक छोटी कटोरी में दूध और शहद भरकर इसमें चांदी की अंगूठी रात भर के लिए रख दें और अगली सुबह इसे धारण कर लें।
  • शयन कक्ष में मोरपंख लगाएं।
  • प्रतिदिन बरगद के पेड़ पर जल चढ़ाएं।
  • शयनकक्ष में तांबे के बर्तन में जल भरकर रखें।
  • सफेद धागा कलाई में धारण करें।
  • घर में नवग्रह पूजा करें।
  • तुलसी का पौधा घर में रखें।
  • बाएं हाथ की अनामिका उंगली में सोने की अंगूठी धारण करें।
  • बेडरूम में हल्दी का एक छोटा टुकड़ा रखें।
  • “ॐ ह्रीं श्रीं क्लीं” मंत्र का प्रतिदिन जाप करें।
  • देवी दुर्गा को लाल फूल अर्पित करें।
  • भगवान विष्णु को प्रतिदिन जल और दूध अर्पित करें।
  • शयनकक्ष में लाल रंग की मोमबत्तियों का एक जोड़ा रखें और रोज शाम को उन्हें जलाएं।
  • शुक्रवार के दिन किसी मंदिर में दूध, दही और शक्कर का दान करें।
  • भगवान विष्णु को पीले फूल अर्पित करें।
  • तुलसी के पौधे की रोज पूजा करें।
  • अपने दाहिने हाथ की अनामिका उंगली में चांदी का छल्ला धारण करें।
  • हर सोमवार को शिवलिंग पर जल और दूध चढ़ाएं।
  • गुरुवार के दिन वस्त्र और अन्न दान करें।
  • रुद्राक्ष की माला धारण करें और प्रतिदिन “ॐ नमः शिवाय” मंत्र का जाप करें।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 7,122 

Posted On - May 2, 2023 | Posted By - Jyoti | Read By -

 7,122 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

Our Astrologers

21,000+ Best Astrologers from India for Online Consultation