Chaitra Purnima 2023: ऐसे रखें चैत्र पूर्णिमा 2023 का व्रत, होगी पुण्य की प्राप्ति

चैत्र पूर्णिमा 2023

चैत्र मास में आने वाली पूर्णिमा को ही चैत्र पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है। साथ ही चैत्र पूर्णिमा को चैती पूनम के नाम से भी कहा जाता है। चूंकि, चैत्र मास हिन्दू वर्ष का प्रथम माह होता है, इसलिए चैत्र पूर्णिमा का विशेष महत्व होता है। इस दिन भगवान सत्य नारायण की पूजा कर उनकी कृपा पाने के लिये भी लोग पूर्णिमा का उपवास रखते हैं। वहीं रात्रि के समय चंद्रमा का पूजन करके ही व्रत खोला जाता है। साथ ही उत्तर भारत में चैत्र पूर्णिमा के दिन हनुमान जयंती भी धूम-धाम से मनाई जाती है। बता दें कि चैत्र पूर्णिमा 2023 के मौके पर नदी, तीर्थ, सरोवर और पवित्र जलकुंड में स्नान और दान करने से जातक को पुण्य की प्राप्ति होती है।

इसी दिन भगवान श्रीकृष्ण ने ब्रज में रास उत्सव किया था, जिस उत्सव को महारास के नाम से जाना जाता है। इस महारास में हजारों गोपियों ने एक साथ भाग लिया था और प्रत्येक गोपी के साथ भगवान श्रीकृष्ण ने रातभर नृत्य किया था। बता दें कि उन्होंने यह कार्य अपनी योगमाया के द्वारा किया था। चलिए जानते है कि साल 2023 में चैत्र पूर्णिमा कब और कैसे मनाई जाएगी और इस दिन व्रत रखने से जातक को क्या लाभ होता है।

चैत्र पूर्णिमा 2023 की तिथि और शुभ मुहूर्त

चैत्र पूर्णिमा 202306 अप्रैल 2023, गुरुवार
पूर्णिमा तिथि प्रारम्भ05 अप्रैल 2023 को 09ः19 बजे
पूर्णिमा तिथि समाप्त06 अप्रैल 2023 को 10ः04 बजे

चैत्र एक संस्कृत शब्द है, जिसका अर्थ है जब सूर्य ग्रह मेष राशि में उच्च स्थिति में होता है और चंद्रमा ग्रह तुला राशि के नक्षत्र में चमकीले तारे चैत्र के साथ संरेखित होते है, तो इसे चैत्र पूर्णिमा कहा जाता है। बता दें कि पूर्णिमा अभिव्यक्ति और सृजन के लिए एक शक्तिशाली अवधि मानी जाती है, क्योंकि इस दिन मन अपने विभिन्न प्रकार के विचारों को संतुलित करना शुरू कर देता है। साथ ही मेष राशि में उच्च का सूर्य ग्रह आत्मा को सक्रिय करता है और जातक को अच्छे “कर्म” विकल्प बनाने की शक्ति प्रदान करता है, जो जातक के वर्तमान जीवन के साथ-साथ आने वाले जीवन को भी निर्धारित करता है।

यह भी पढ़ें: चैत्र नवरात्रि 2023 का पहला दिन, ऐसे करें मां शैलपुत्री की पूजा, मिलेगा आशीर्वाद

ज्योतिष अनुसार चैत्र पूर्णिमा का अर्थ

हिंदू धर्म में कई ग्रंथों में चैत्र पूर्णिमा का वर्णन किया गया है। बता दें कि चैत्र पूर्णिमा को चैत्र के माह में शुक्ल पक्ष के समय आने वाली पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। वहीं अंग्रेजी कैलेण्डर के अनुसार यह अप्रैल या मई के महीने में आने वाली महत्वपूर्ण पूर्णिमा होती है। हिंदू पंचांग के अनुसार चैत्र पूर्णिमा को हर वर्ष मनाई जाने वाली प्रथम पूर्णिमा माना जाता है। पूर्णिमा के दिन चंद्रमा का पूजन विधि- विधान से किया जाता है।

यह भी पढ़ें: चैत्र नवरात्रि 2023 का दूसरा दिन, इन विशेष अनुष्ठानों से करें मां ब्रह्मचारिणी की पूजा और पाएं उनका आशीर्वाद

इस विधि को अपनाकर लें पूर्णिमा व्रत का संकल्प

चैत्र पूर्णिमा पर स्नान, दान, हवन, व्रत और जप आदि का कार्य किया जाता हैं। इस दिन भगवान सत्य नारायण का पूजन करने और जरूरतमंद लोगों को दान देना जातक के लिए काफी लाभदायक होता है। चैत्र पूर्णिमा 2023 व्रत की पूजा विधि इस प्रकार है-

  • चैत्र पूर्णिमा के दिन प्रातः काल सूर्योदय से पूर्व किसी पवित्र नदी, जलाशय, कुआं या बावड़ी या अपने घर पर नहाने के पानी में गंगाजल डालकर स्नान करना चाहिए। स्नान के बाद सूर्य मंत्र का उच्चारण करते हुए भगवान सूर्य को अर्घ्य देना चाहिए।
  • स्नान करने के बाद आपको व्रत का संकल्प लेकर भगवान सत्य नारायण की पूजा करनी चाहिए।
  • व्रत रखने वाले जातक को घी की मिठाई, चावल, मूंग दाल और दूध का उपवास करना चाहिए।
  • उपवास के दौरान शांत और स्वच्छ जगह पर ध्यान करना चाहिए।
  • चैत्र पूर्णिमा के दिन मंदिर या विशेष पूजा स्थल में जाकर पूजा करना चाहिए।
  • इस व्रत के दौरान, सूर्योदय से सूर्यास्त तक मात्र फल खाना चाहिए।
  • व्रत के दौरान ध्यान और मंत्रों का जप करें। 
  • व्रत के दौरान, किसी भी तरह का गलत विचार अपने मन में न आने दें।
  • रात के समय विधि पूर्वक चंद्रमा का पूजन करने के बाद उन्हें जल अर्पण जरूर करें।
  • पूजन करने के बाद व्रत रखने वाले जातक को कच्चे अन्न से भरा हुआ घड़ा किसी ज़रुरतमंद व्यक्ति को दान करना चाहिए। 

चैत्र पूर्णिमा 2023 पर व्रत रखने के स्वास्थ्य लाभ

चैत्र पूर्णिमा के दिन व्रत रखने से धार्मिक और आध्यात्मिक लाभ होते हैं। यह व्रत अनेक धर्मों में मान्य है जैसे हिंदू, जैन, और बौद्ध धर्म आदि। इस व्रत के लाभों के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बातें निम्नलिखित हैं:

  • स्वस्थ शरीर: व्रत रखने से स्वस्थ शरीर के लिए फायदेमंद होता है। उपवास करने से पाचन शक्ति बढ़ती है, जो आपके स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है।
  • आध्यात्मिक उन्नति: चैत्र पूर्णिमा व्रत के द्वारा आध्यात्मिक उन्नति होती है। व्रत रखने से मन शुद्ध होता है और आपके अंतर्मन की स्थिति बेहतर होती है।
  • पूर्णिमा के चंद्रमा की कृपा: चैत्र पूर्णिमा के दिन चंद्रमा की कृपा बढ़ती है। यह व्रत चंद्रमा की कृपा के लिए भी जाना जाता है।
  • धन की वृद्धि: इस व्रत को रखने से धन की वृद्धि होती है। मान्यताओं के अनुसार, इस दिन धन अधिक प्रभावशाली होता है जो आपकी आर्थिक स्थिति में सुधार कर सकता है।

चैत्र पूर्णिमा 2023 पर हनुमान जयंती

ऐसी मान्यता है कि चैत्र मास की पूर्णिमा को ही श्रीराम भक्त बजरंगबली जी का जन्म हुआ था, इसलिए इस दिन विशेष रूप से उत्तर और मध्य भारत में हनुमान जयंती धूम-धाम से मनाई जाती है। वहीं हनुमान जयंती को लेकर कुछ मतभेद हैं। कुछ स्थानों पर हनुमान जयंती को कार्तिक कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी पर मनाते है, तो कुछ जगह चैत्र शुक्ल पूर्णिमा पर हनुमान जयंती मानते है। हालांकि, धार्मिक ग्रन्थों में दोनों ही तिथियों का जिक्र है। लेकिन इनके कारणों में भिन्नता हो सकती है, इसलिए पहली तिथि जन्मदिवस है और दूसरा तिथि विजय अभिनंदन महोत्सव के रूप मे मनाया जाता है।

यह भी पढ़ें: मुंडन मुहूर्त 2023: इस शुभ मुहूर्त में करें अपने बच्चे का मुंडन, होगा लाभ

पूर्णिमा व्रत से जुड़ी कथा 

वैदिक परंपरा के अनुसार माना जाता है कि भगवान बृहस्पति भगवान इंद्र के गुरु हैं। एक बार इंद्र ने अपने गुरु की अवज्ञा की। नतीजतन, बृहस्पति ने अस्थायी रूप से उन्हें सबक सिखाने के लिए अपने सलाहकार कर्तव्य को इंद्र को सौंप दिया। बृहस्पति के दूर रहने के दौरान इंद्र ने बहुत बुरे कार्य किए। जब बृहस्पति अपने कर्तव्यों पर लौट आए, तो उन्होंने इंद्र ने पूछा कि बुरे कर्मों को दूर करने के लिए उन्हें क्या करना चाहिए। भगवान बृहस्पति ने इंद्र को तीर्थ यात्रा पर जाने के लिए कहा।

दक्षिण भारत के मदुरै में तीर्थयात्रा के दौरान, इंद्र को लगा जैसे उनके कंधों से उनके कई पाप दूर हो गए है। बाद में भगवान इंद्र ने वहां एक शिवलिंग की खोज की और इस शिवलिंग को चमत्कार का श्रेय दिया था, जिससे मौके पर एक मंदिर का निर्माण हो गया था। भगवान शिव ने पास के एक तालाब में स्वर्ण कमल बनाया, जब भगवान इंद्र शिवलिंग की पूजा कर रहे थे। भगवान शिव उनसे प्रसन्न हुए और आशीर्वाद दिया। चैत्र पूर्णिमा वह दिन था, जिस दिन भगवान इंद्र ने शिव जी की पूजा की थी।

चैत्र पूर्णिमा पर किए जानें वाले विशेष अनुष्ठान

चैत्र पूर्णिमा भारतीय संस्कृति और हिंदू धर्म के अनुसार एक महत्वपूर्ण त्यौहार है। इस दिन कई अनुष्ठान किए जाते हैं, जिनमें से कुछ निम्नलिखित हैं:

  • स्नान: चैत्र पूर्णिमा को स्नान करने का बहुत महत्त्व होता है। इस दिन स्नान करने से शरीर की शुद्धि होती है और व्यक्ति को स्वस्थ रहने में मदद मिलती है।
  • व्रत: चैत्र पूर्णिमा को व्रत रखा जाता है। यह व्रत संतान की प्राप्ति और सुख समृद्धि के लिए किया जाता है। इस दिन व्रत रखने से सारे पाप नष्ट होते हैं और भगवान का आशीर्वाद मिलता है।
  • पूजा: चैत्र पूर्णिमा को पूजा करने का विशेष महत्त्व होता है। इस दिन भगवान चंद्रमा की पूजा की जाती है और लोग उन्हें अर्घ्य देते हैं।
  • दान: चैत्र पूर्णिमा को दान करने का भी महत्त्व होता है। लोग दान देकर अन्य लोगों की मदद करते हैं और भगवान का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं।

पूर्णिमा 2023 पर इन बातों का रखें विशेष ध्यान

चैत्र पूर्णिमा एक महत्वपूर्ण पर्व है और इस दिन कुछ विशेष गतिविधियां की जाती हैं। नीचे कुछ ऐसी गतिविधियों के बारे में बताया गया है जो आप चैत्र पूर्णिमा के दिन कर सकते हैं और जिनसे आपको लाभ हो सकता है। चैत्र पूर्णिमा हिंदू धर्म के अनुसार एक महत्वपूर्ण त्योहार है। इस दिन कुछ कार्यों का किया जाना अधिक शुभ माना जाता है जबकि कुछ कार्यों से बचने की सलाह दी जाती है।

कुछ शुभ कार्यों का समय है:

  • चैत्र मास में स्नान करना बहुत ही महत्वपूर्ण होता है, चैत्र पूर्णिमा को स्नान करना अधिक शुभ माना जाता है।
  • साथ ही चैत्र मास में दान देना भी बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। आप जरूरतमंदो को खाना खिला सकते हैं या वस्त्र आदि दान कर सकते हैं।
  • मंदिर या पूजा के स्थान पर जाकर पूजा करना भी अच्छा होता है।
  • मां दुर्गा और भगवान शिव की पूजा करने से बच्चों की लंबी उम्र की कामना पूरी होती है।

कुछ अशुभ कार्यों करने से बचना चाहिएः

  • अनावश्यक झगड़े न करें और शांति रखें।
  • किसी को झूठ न बोलें और अन्याय न करें।
  • इस दिन मांस न खाएं और शराब न पिएं।
  • इस दिन श्राद्ध न करें।

चैत्र पूर्णिमा पर किए जानें वाले ज्योतिष उपाय

चैत्र पूर्णिमा के दिन कुछ ज्योतिष उपाय भी किए जाते हैं, जो आपको अधिक शुभ फल प्रदान कर सकते हैं। कुछ उपाय हैं:

  • चन्दन का तिलक: इस दिन चन्दन का तिलक लगाना बहुत ही शुभ माना जाता है। इससे धन एवं समृद्धि की प्राप्ति होती है।
  • धन प्राप्ति के उपाय: चैत्र पूर्णिमा के दिन अगर आप धन प्राप्ति के लिए उपाय करना चाहते हैं, तो आपको चांदी का तांबा अथवा सोने का एक टुकड़ा भी दान करना चाहिए।
  • मंत्र जप: इस दिन मां दुर्गा और भगवान शिव के मंत्र जप करने से अधिक फल प्राप्त होता है।
  • स्नान: चैत्र पूर्णिमा के दिन स्नान करना बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। इससे शुभ कार्यों में सफलता प्राप्त होती है।
  • पूजा: चैत्र पूर्णिमा के दिन मां दुर्गा और भगवान शिव की पूजा करना बहुत ही शुभ माना जाता है।
  • अन्नदान: इस दिन गरीबों को खाना खिलाना अथवा अन्नदान करना बहुत ही महत्वपूर्ण होता है।

चैत्र पूर्णिमा पर इन मंत्रों का करें जप

चैत्र पूर्णिमा के अवसर पर कुछ मंत्रों का जाप करना महत्वपूर्ण माना जाता है। ये मंत्र भगवान चंद्रमा की पूजा के लिए होते हैं और इनका जाप करने से चंद्रमा की कृपा मिलती है।

  1. “ॐ सोम सोमाय नमः” 
  2. दूसरा मंत्र “ॐ श्रीं चंद्रमसे नमः” 
  3. “ॐ क्षीरपुत्राय विद्महे अमृत तत्त्वाय धीमहि तन्नो चंद्रः प्रचोदयात्।”

इन मंत्रों को चैत्र पूर्णिमा के दिन जाप करते हुए, लोग चंद्रमा की कृपा प्राप्त करते हैं और उन्हें समृद्धि, स्वास्थ्य, धन, संतान आदि की प्राप्ति होती है।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 2,301 

Posted On - March 7, 2023 | Posted By - Jyoti | Read By -

 2,301 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation