Margashirsha Purnima 2023: मार्गशीर्ष पूर्णिमा 2023 पर इस तरह रखें व्रत, मिलेगा सौभाग्य का वरदान

zoidac Full Moon

हिंदू धर्म में मार्गशीर्ष माह को दान-धर्म और भक्ति करने के लिए एक शुभ समय माना जाता है। साथ ही श्रीमद्भागवत गीता में भगवान श्री कृष्ण ने स्वयं कहा है कि सभी माह में मार्गशीर्ष सबसे पवित्र माह है। माना जाता है कि मार्गशीर्ष महीने से ही सतयुग की शुरुआत हुई थी। साथ ही इस माह में आने वाली पूर्णिमा को मार्गशीर्ष पूर्णिमा कहा जाता हैं। इस पूर्णिमा पर स्नान, दान और तप करना बेहद ही शुभ माना जाता है। इसी के साथ इस पूर्णिमा के दिन हरिद्वार, बनारस, मथुरा और प्रयागराज आदि स्थलों पर श्रद्धालु पवित्र नदियों में स्नान और तप करने के लिए दूर-दूर से आते हैं। चलिए जानते है कि इस बार मार्गशीर्ष पूर्णिमा 2023 में कब मनाई जाएगी।

यह भी पढ़ें: Kartik Amavasya 2023: जानें कार्तिक अमावस्या 2023 की तिथि, पूजा विधि और उपाय

मार्गशीर्ष पूर्णिमा 2023ः तिथि और समय

इस बार मार्गशीर्ष पूर्णिमा 26 दिसंबर 2023 दिन मंगलवार को मनाई जाएगी। पूर्णिमा तिथि 26 दिसंबर, 2023 को सुबह 05:46 बजे शुरू होगी और 27 दिसंबर, 2023 को सुबह 06:02 बजे समाप्त होगी। हिंदू पौराणिक कथाओं में मार्गशीर्ष पूर्णिमा का उत्सव बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है और जो लोग इस दिन विधि-विधान से व्रत रखते है, उन्हें सौभाग्य, सुख और समृद्धि प्राप्त होती हैं।

यह भी पढ़ें: Margashirsha Amavasya 2023: मार्गशीर्ष अमावस्या 2023 पर करें शनि से जुड़े उपाय, नहीं होगा जीवन में कष्ट

मार्गशीर्ष पूर्णिमा 2023 पर इस विधि से करें पूजा

हिंदू धर्म में मार्गशीर्ष पूर्णिमा एक शुभ दिन है, जो मार्गशीर्ष के महीने में मनाई जाती है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन पूजा करने से देवताओं से सुख, समृद्धि और आशीर्वाद मिल सकता है। मार्गशीर्ष पूर्णिमा 2023 पर पूजा करने की विधि इस प्रकार है:

  • सबसे पहले स्नान करने के बाद पूजा के लिए स्वच्छ और पवित्र स्थान का चुनाव करें।
  • इसके बाद एक चौकी पर एक साफ सफेद कपड़ा रखें और उसे फूलों, रंगोली और अन्य सजावट के सामान से सजाएं।
  • चौकी पर भगवान विष्णु या भगवान कृष्ण की मूर्ति या तस्वीर स्थापित करें।
  • इसके बाद भगवान के सामने दीया या अगरबत्ती जलाएं।
  • दीपक जलाने के बाद भगवान को जल, दूध, शहद और अन्य मिठाइयां अर्पित करें।
  • भगवान को प्रसन्न करने और उनका आशीर्वाद लेने के लिए विष्णु सहस्रनाम या कृष्ण मंत्र का पाठ करें।
  • आप मार्गशीर्ष पूर्णिमा व्रत कथा का पाठ भी कर सकते है।
  • पूजा समाप्त करने के बाद अपने परिवार के सदस्यों और मेहमानों को प्रसाद दें।
  • मार्गशीर्ष पूर्णिमा 2023 पर भक्ति भाव के साथ पूजा करके आप भगवान विष्णु या भगवान कृष्ण का आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं और अपने जीवन में शांति और समृद्धि ला सकते हैं। साथ ही भगवान के सामने व्रत का संकल्प लें।

यह भी पढ़ें: Sharad Purnima 2023: जानिए शरद पूर्णिमा 2023 की तिथि, व्रत कथा और पूजा के लाभ

मार्गशीर्ष पूर्णिमा व्रत के लाभ

हिंदू धर्म में मार्गशीर्ष पूर्णिमा एक शुभ दिन है, जो मार्गशीर्ष के महीने में आती है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन व्रत करने से भक्तों को कई तरह के लाभ मिलते हैं। मार्गशीर्ष पूर्णिमा के व्रत के कुछ लाभ इस प्रकार हैं:

  • शरीर और मन: पूर्णिमा व्रत शरीर और मन को शुद्ध करने में मदद करता है। यह मन को शांत करने और मानसिक स्पष्टता को बढ़ावा देने में भी मदद करता है।
  • आध्यात्मिक जागृति: मार्गशीर्ष पूर्णिमा पर उपवास आध्यात्मिक जागृति उत्पन्न कर सकता है और भगवान के साथ आध्यात्मिक संबंध को गहरा करने में मदद करता है। ऐसा माना जाता है कि उपवास व्यक्ति की एकाग्रता और ईश्वर के प्रति समर्पण को बढ़ाने में मदद करता है।
  • सौभाग्य: पूर्णिमा का व्रत करने से सौभाग्य और ईश्वर का आशीर्वाद प्राप्त होता है। कहा जाता है कि व्रत करने से बाधाएं दूर होती हैं और जीवन में सफलता और समृद्धि आती है।
  • पाचन तंत्र: उपवास करने से जातक के पाचन तंत्र में सुधार होता है। यह सूजन, कब्ज और अन्य पाचन संबंधी समस्याओं को कम करने में मदद करता है।
  • दीर्घायु: माना जाता है कि उपवास प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने और शरीर को स्वस्थ्य रखने में मदद करता है।
  • आत्म-नियंत्रण: मार्गशीर्ष पूर्णिमा का व्रत आत्म-नियंत्रण बढ़ाने में मदद करता है। यह अनुशासन और आत्म-संयम की भावना विकसित करने में मदद कर सकता है।

यह भी पढ़ें: Kartik Purnima 2023: कार्तिक पूर्णिमा 2023 पर जरूर करें गंगा स्नान, मिलेगी सभी पापों से मुक्ति

मार्गशीर्ष पूर्णिमा से जुड़ी पावन कथा

हिंदू धर्म में मार्गशीर्ष पूर्णिमा एक शुभ दिन है, जो मार्गशीर्ष के महीने में मनाई जाती है। कथा के अनुसार, वृंदावन की गोपियां भगवान कृष्ण से बहुत प्रेम करती थी और उनका आशीर्वाद प्राप्त करना चाहती थीं। उन्होंने भगवान कृष्ण को प्रसन्न करने और उनका आशीर्वाद लेने के लिए मार्गशीर्ष पूर्णिमा पर एक विशेष पूजा करने का निर्णय किया।

गोपियों ने इस दिन उपवास रखा, भक्ति भाव के साथ पूजा की। उन्होंने भगवान कृष्ण को फल, मिठाई और अन्य खाद्य पदार्थ चढ़ाए और भक्ति के साथ उनके नाम का जाप किया।

जैसे-जैसे रात होने लगी, व्रत के कारण गोपियों को भूख-प्यास लगने लगी। उन्होंने अपनी भूख और प्यास बुझाने के लिए भगवान कृष्ण से प्रार्थना की। उनकी भक्ति से प्रसन्न होकर भगवान कृष्ण उनके सामने प्रकट हुए और एक अनुष्ठान करने को कहा।

गोपियों ने भगवान कृष्ण के निर्देशों का पालन किया और भक्ति के साथ अनुष्ठान किया। तब भगवान कृष्ण ने उन्हें अपनी दिव्य कृपा से आशीर्वाद दिया और उनकी सभी इच्छाओं को पूरा किया।

यह कहानी गोपियों की भगवान कृष्ण के प्रति गहरी भक्ति और प्रेम का प्रतीक है। यह देवताओं का आशीर्वाद पाने के लिए मार्गशीर्ष पूर्णिमा पर उपवास और पूजा करने के महत्व पर भी प्रकाश डालता है।

अंत में, भगवान कृष्ण और गोपियों की कहानी भक्ति और विश्वास की शक्ति की याद दिलाती है। मार्गशीर्ष पूर्णिमा पर सच्चे मन से व्रत और पूजा करने से भगवान की कृपा प्राप्त होती है और जातक के जीवन में शांति और समृद्धि आती है।

ज्योतिष शास्त्र में मार्गशीर्ष पूर्णिमा का महत्त्व

हिंदू धर्म में मार्गशीर्ष पूर्णिमा को एक शुभ दिन माना जाता है और ज्योतिष में इसका अधिक महत्व है। यह दिन मार्गशीर्ष मास की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है और माना जाता है कि इसका लोगों के जीवन पर गहरा प्रभाव पड़ता है। ज्योतिषियों का मानना है कि यह दिन आध्यात्मिक विकास, आंतरिक परिवर्तन और ग्रहों के हानिकारक प्रभावों को कम के लिए विशेष रूप से शक्तिशाली है।

मार्गशीर्ष पूर्णिमा एक ऐसा दिन है, जो आध्यात्मिक विकास को बढ़ाता है और आंतरिक परिवर्तन को प्रोत्साहित करता है। इस दिन उपवास रखने और पूजा करने से व्यक्ति परमात्मा से जुड़ सकता है और आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त कर सकता है। यह दिन ध्यान और आत्म-चिंतन के लिए आदर्श माना जाता है, जिससे जातक खुद को और अपने जीवन के महत्व को समझ पाता है।

यह दिन विशेष रूप से शनि से संबंधित ग्रहों के अशुभ प्रभावों को कम करने में भी लाभकारी माना जाता है। मार्गशीर्ष पूर्णिमा पर उपवास और पूजा करने से शनि के नकारात्मक प्रभाव को कम किया जा सकता है और करियर, वित्त और स्वास्थ्य से संबंधित समस्याओं को दूर करने में मदद मिलती है।

मार्गशीर्ष पूर्णिमा को सौभाग्य और देवताओं से आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए भी एक उत्कृष्ट दिन माना जाता है। इस दिन व्रत रखने और पूजा करने से व्यक्ति को दैवीय कृपा और आशीर्वाद प्राप्त होता है, जिससे जीवन में समृद्धि और सफलता आती है। इसके अलावा, परिवार और प्रियजनों के साथ संबंधों में सुधार के लिए यह दिन अनुकूल माना जाता है। कहा जाता है कि भगवान से आशीर्वाद प्राप्त करके जातक के सभी कष्ट दूर हो जाते हैं।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 1,479 

Posted On - May 9, 2023 | Posted By - Jyoti | Read By -

 1,479 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation