जानें क्या है दिवाली का महत्व, अर्थ और इससे जुड़ी विशेष धारणाएं

दिवाली
WhatsApp

दिवाली दीपों का त्योहार है। इसके बहुत गहरे मायने हैं। यह त्योहार अंधेरे पर प्रकाश की जीत का त्योहार है। वास्तव में यह रोशनी से भरा यह त्योहार खुशियों को दुखों के अंधेरों से बाहर लाने की एक उम्मीद की रोशनी जगाता है। हर साल अक्सर लोग अपने घरों में दिवाली का त्योहार खूब धूमधाम से मनाते हैं। इस दिन चारों ओर खुशियों की लहर और रोशनी की चमक दिखाई देती है। आज इस लेख में हम दिवाली से संबंधित कुछ जरूरी और महत्वपूर्ण तथ्यों के बारे में जानेंगे। साथ ही इसकी चर्चा करेंगे कि इस पर्व के पीछे छिपे निहित मायने क्या हैं और इससे जुड़ी कुछ रोचक कहानियों के बारे में भी जानेंगे।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

दिवाली पर्व क्यों मनाते हैं?

वहीं दिवाली हिंदू धर्म का एक महत्वपूर्ण त्योहार है, जिसे बहुत धूमधाम से मनाया जाता है। यह हमारे देश भारत के सबसे बड़े त्योहारों में से एक है। दिलचस्प बात यह है कि दिवाली सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी काफी धूमधाम से मनाई जाती है। दिवाली मनाने के सब के अलग-अलग तरीके हैं, लेकिन दिवाली वाले दिन कुछ चीजें ऐसी हैं, जो हर घर में देखने को मिलती हैं। जैसे कि घर के अंदर और बाहर जगमगाते खूबसूरत मिट्टी के दीए जलाए जाते हैं, घर को छोटी-छोटी लाइटों की लड़ियों से सजाया जाता है।

साथ ही अपने आस पसोड़ के लोगों को खील-बताशे तथा अन्य मिठाइयों तोहफे स्वरूप दीए जाते हैं। कुछ सक्षम लोग मिठाई के साथ विशेष तोहफे देना भी पसंद करते हैं। कुल मिलाकर यह विशेष दिन हर कोई बहुत ही खुशी और सकारात्मकता के साथ मनाता है। सबके होंठों पर प्यारी मुस्कान खिली होती है और अजनबी से मुलाकात होने पर भी गले लगकर दिवाली के पर्व की बधाई दी जाती है। हिंदू पंचांग के अनुसार दिवाली का त्योहार कार्तिक महीने के तेरहवें पखवाड़े में मनाया जाता है। हालांकि, ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार, यह उत्सव अक्टूबर या नवंबर के महीने में आता है।

दीपावली

इसी के साथ दिवाली का उत्सव भगवान राम की अपने भाई लक्ष्मण और पत्नी, देवी सीता के साथ 14 महीने के वनवास के बाद घर वापसी के लिए समर्पित है। इसके अलावा, उत्सव में घी के साथ मिट्टी का दीपक जलाना, रंगोली और फूलों से घरों को सजाना और भगवान राम, देवी सीता, देवी लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा की जाती है।

तथ्यों के अनुसार , यह त्योहार महीने की सबसे अंधेरी रात में मनाया जाता है और लोग भगवान राम और देवी सीता का स्वागत करने के लिए चंद्रमा की रोशनी और रोशन करने के लिए घर-घर में दीपक जलाते हैं। इस प्रकार, लोग चारों ओर दीए जलाकर अंधकार को दूर करने में विश्वास करते हैं। वास्तव में दीवली, भगवान की आराधना करके बुरी शक्तियों को दूर करने का पर्व है। यह वो त्योहार है, जो लोगों को ज्ञान देता है और उनमें खुशियों कि उम्मीद जगाता है। आइए अब जानते है दिवाली का अर्थ क्या होता है।

दिवाली का अर्थ

हमें यह तो समझ आ चुका है कि दिवाली का त्योहार क्यों मनाया जाता है और इसे किस तरह मना सकते हैं। लेकिन यह जानना भी आवश्यक है कि दिवाली का अर्थ क्या होता है? दिवाली रोशनी का त्योहार है और इसका उत्सव राक्षस राजा रावण पर भगवान राम की विजय और घर वापस आने के उपलक्ष्य में मनाया जाता है।

दिवाली नाम संस्कृत भाषा से आया है और इसका अर्थ है “रोशनी की पंक्ति”। दिवाली की शाम को लोग दर्जनों दीए, मोमबत्तियां, फूल और रंग से अपने घरों को सजाते हैं। यह दीए अंधेरी रात में घरों, मंदिरों और गलियों को रोशनी करते हैं।

भारत के प्रमुख हिस्सों में, दिवाली पांच दिनों का त्योहार है, जिसमें से तीसरे दिन को सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि यह वो दिन है, जब लोग देवताओं की पूजा करके दिवाली मनाते हैं।

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए : यहां क्लिक करें

दिवाली का महत्व

दिवाली एक ऐसा त्योहार है जो अपने साथ-साथ अनेक त्योहारों की खुशियां लेकर आता है जैसे धनतेरस, दीपदान, गोवर्धन पूजा और भाई दूज का उत्सव। यह सारे त्योहार दिवाली की खुशियों को और भी ज्यादा बढ़ा देते हैं। दिवाली पांच दिनों तक चलने वाला उत्सव है, जो खुशी फैलाने के लिए एक साथ आते हैं। दिवाली का धार्मिक, सांस्कृतिक, पारंपरिक, सामाजिक और आर्थिक महत्व बहुत बड़ा होता  है। यह त्योहार लोगों को उनके मतभेदों के बावजूद एक साथ जोड़ता है। साथ ही, दिवाली का उत्सव धर्म और क्षेत्र के अंतर और भेदभाव से अलग मन में अच्छी भावनाओं को जागृत करता है। इस दिन के साथ लोगों के साथ धार्मिकता और अच्छाई के अलावा उनकी आस्था भी जुड़ी होती है। भारत में हर वर्ग के लोग अपने-अपने तरीके से दिवाली मनाते हैं। दिवाली के समान इस त्योहार के और भी कई अन्य नाम मौजूद हैं।

इसका प्रकृति के साथ भी महत्वपूर्ण संबंध है। माना जाता है कि दिवाली के दिन से ही पर्यावरण विकृत कीड़ों से मुक्त हो जाता है। लोककथाओं में उल्लेखनीय है, दीपक के प्रकाश के साथ कीड़ों मकोड़ों का अंत हो जाता है जिससे पर्यावरण में एक प्रकृतिक परिवर्तन दिखाई देता है हालांकि दिवाली के अनेक महत्व हैं। लेकिन दिवाली का सबसे महत्वपूर्ण महत्व है लोगों के एक दूसरे से रिश्ते को मजबूत करना।

दिवाली उत्सव की कहानी

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, दिवाली को दीपप्रतिपादुत्सव के रूप में माना जाता है। कहा जाता है कि सातवीं शताब्दी में भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी के विवाह की स्मृति में नवविवाहित जोड़े उपहार के रूप में दीपक प्राप्त करते थे।

यह कवि राजशेखर के नौवीं शताब्दी के काम में दीपामालिका को संदर्भित करता है। इस कहानी में घरों की सफाई और दीयों से सजाने की परंपराओं का उल्लेख है। यह भारत पर फारसी यात्री अल-बिरूनी के 11वीं शताब्दी के इतिहास के बारे में भी बताता है।

उसी दिन, लोग 14 साल के वनवास  से भगवान राम और देवी सीता की घर वापसी का जश्न मनाते हैं। अपने प्रिय राजा राम की वापसी का जश्न मनाने के लिए अयोध्या की जनता ने शहर में दीप प्रज्ज्वलित किए थे। भगवान राम की वापसी के दिन को याद करने के लिए दुनिया भर मे लोग दिवाली का त्योहार मनाते हैं।

इसके साथ ही कार्तिक अमावस्या पर यम और नचिकेता की कथा भी इस पर्व से जुड़ी हुई है। यह कथा सच्चे धन और ज्ञान की कथा है। यम और नचिकेता की कहानी ने धार्मिकता की मिसाल कायम की है। यह कथा दिवाली को प्रकाश, ज्ञान और ऐश्वर्य का पर्व बनाती है।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

दिवाली 2022 से जुड़े विशेष तथ्य

दिवाली का त्योहार पांच दिनों तक चलता है। तीसरे दिन लोग दीप जलाकर और अपने घरों को रंग-बिरंगे फूलों से सजाकर दिवाली मनाते हैं। इस दिन सर्वोच्च देवता देवी लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा की जाती है।

भारत में दिवाली के उत्सव के कुछ विशिष्ट अर्थ हैं, जो इस प्रकार हैं-

उत्सव का पहला दिन

यह दिन धन और समृद्धि के लिए देवताओं की पूजा करने का प्रतीक है। उत्सव के पहले दिन को धनतेरस के नाम से जाना जाता है।

यह दो शब्दों “धन” और “तेरस” से मिलकर बना है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार धन का अर्थ है पैसा और “तेरस” का अर्थ चंद्र पखवाड़े का तेरहवां दिन है। इस दिन का उत्सव समृद्धि के उत्सव को समर्पित है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार इस दिन देवी लक्ष्मी समुद्र मंथन से निकलती हैं। लोग उनकी पूजा और प्रसाद चढ़ाकर अपने जीवन में उनका स्वागत करने की कामना करते हैं। इस दिन सोना और आभूषण खरीदना इस त्योहार का एक शुभ और महत्वपूर्ण हिस्सा है। देश के दक्षिणी भाग में इस दिन लोग अपनी भक्ति धन्वंतरि को समर्पित करते हैं। उन्हें भगवान विष्णु का अवतार माना जाता है। आयुर्वेद को अस्तित्व में लाने के लिए लोग इनकी पूजा करते हैं। इस वर्ष धनतेरस 2022 का पर्व 23 अक्टूबर को पड़ रहा है।

उत्सव का दूसरा दिन

यह दिन छोटी दिवाली या नरक चतुर्दशी के रूप में लोकप्रिय है। हिंदू पौराणिक कथाओं में, इस दिन देवी काली और भगवान कृष्ण राक्षसी नरकासुर का नाश करते हैं। छोटी दिवाली के दिन लोग जश्न मनाने के लिए राक्षसों के पुतले जलाते हैं। नरक चतुर्दशी 2022 या छोटी दिवाली 2022 का त्योहार 24 अक्टूबर को पड़ेगा।

उत्सव का तीसरा दिन

दिवाली 2022, यह त्योहार का मुख्य दिन है। इस दिन प्रमुख अनुष्ठान किए जाते हैं। तीसरे दिन अमावस्या होता है। यह महीने का सबसे काला दिन होता है। लोग इस दिन देवी लक्ष्मी की पूजा करते हैं क्योंकि इस दिन लोग देवी लक्ष्मी से उनके जीवन में प्रवेश करने और उनके आशीर्वाद की वर्षा करने की प्रार्थना करते हैं।

देश के उत्तरी भाग में लोग दिवाली के त्योहार को बड़े उत्साह और जोश के साथ मनाते हैं। विशेष व्यंजन बनाने में इस दिन का विशेष महत्व है। हिंदू परंपरा में, यह फूलों की सुगंध, दीपक की रोशनी और स्वादिष्ट भोजन की मीठी सुगंध के माध्यम से मनाने का दिन है। प्रत्येक घर के लिए यह विशेष व्यंजन बनाने का दिन होता है।

पश्चिम बंगाल, ओडिशा और असम में यह त्योहार उत्तर से एक दिन पहले पड़ता है। इस साल दिवाली 2022 का पर्व 24 अक्टूबर शनिवार को पड़ रहा है।

उत्सव का चौथा दिन

प्रत्येक क्षेत्र के रीति-रिवाजों के बीच अंतर के आधार पर देश भर में त्योहार के इस दिन के कई अर्थ हैं। वस्तुत: इसे गोवर्धन पूजा की मान्यता प्राप्त है। कथाओं में चौथे दिन का संबंध भगवान कृष्ण से है। पौराणिक कथाओं के अनुसार, इस दिन भगवान कृष्ण ने वर्षा और गरज के देवता इंद्र को परास्त किया था। हालांकि महाराष्ट्र के लोग, इस दिन को राक्षस राजा बाली पर भगवान विष्णु की विजय के रूप में मनाते हैं। जबकि गुजरात में लोग इस दिन को नए साल की शुरुआत के रूप में मनाते हैं।

उत्सव का पांचवां दिन

हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार, दिवाली के पांच दिवसीय त्योहार के समापन दिन को भाई दूज के रूप में मनाया जाता है। यह दिन भाइयों और बहनों के बंधन को समर्पित है। इस दिन, लोग हिंदू देवताओं की पूजा करते हैं और प्रसाद बांटते हैं। भाई दूज 2022 में 6 नवंबर को पड़ रही है।

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए : यहां क्लिक करें

दिवाली 2022 के लिए विशेष खाद्य पदार्थ

स्वादिष्ट व्यंजन का सेवन करने का दिवाली वाले दिन विशेष महत्व है। सभी समुदायों के लोग पटाखे या दीपक भले न जलाएं, लेकिन दिवाली के मौके पर सभी लोग अपने-अपने घर में स्वादिष्ट व्यंजन जरूर बनते हैं। ऐसे में यह जानना दिलचस्प रहेगा कि इस विशेष दिन आप अपने घर में क्या खास बना सकते हैं-

मिठाई-  दिवाली वाले दिन मोतीचूर के लड्डू, बेसन के लड्डू, गुलाब जामुन, गुझिया, माल पुआ, रवा हलवा, मूंग दाल का हलवा, छेना मलाई, बंगाली रसगुल्ला और काजू कतली घरों में बनाई जा सकती है।

पेय– दिवाली के उत्सव पर चेरी जिंजर आइस टी, लस्सी रबड़ी, शिकंजी और कांजी बानाई जा सकती है।

स्नैक्स– इस दिन समोसे, पकोड़ी, आलू चाट, दही पापड़ी, दही वड़ा, वेज कटलेट और हरा भरा कबाब स्नैक्स में बनाए जा सकते हैं।

भोजन- दिवाली वाले दिन दम आलू, नवरत्न कोरमा, भरवां मशरूम, भरवां पराठा, वेज पुलाव और दाल तड़का बनाया जा सकता है।

देश भर में दिवाली 2022 की धूम

मुख्य रूप से, हिंदू, जैन और सिखों के अनुयायी दिवाली मनाते हैं। हालांकि, पूरे देश में लोग दिवाली के अवसर पर सार्वजनिक अवकाश मनाते हैं। इसलिए, इस त्योहार को दुनिया भर के लोगों से धार्मिक सम्मान प्राप्त है।

वास्तव में, विभिन्न समुदायों के यूनाइटेड किंगडम, संयुक्त राज्य अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और सिंगापुर में मौजूद हिंदू धर्म के लोग सहित कई अन्य लोग भी इस पर्व को मनाते हैं। इसके बावजूद भारतीय शहरों के उत्सव सबसे लोकप्रिय हैं।

इसके अलावा, दिवाली की रात जब आसमान में अंधेरा होता है, लोग अपने घर में हर जगह मोमबत्तियां, मिट्टी के दीपक, लालटेन जलाते हैं ताकि हर तरफ रोशनी की जा सके। इसका अभिप्राय है कि अच्छाई को आकर्षित किया जा सके और भगवान का आशीर्वाद प्राप्त हो सके। हालांकि, कुछ क्षेत्रों में, लोग देवताओं को प्रकाश देने और बुराइयों को दूर करने के अपने विश्वास के कारण झीलों में दीये तैराते हैं।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

समापन उद्धरण

सभी हिंदू त्योहारों में दिवाली का प्रमुख स्थान है क्योंकि यह अंधेरे पर प्रकाश की जीत और बुराई पर अच्छाई की जीत का संकेत देता है। इसके अलावा, यह प्रकाश उत्सव के साथ-साथ फसल का मौसम भी लाता है।

दिवाली पूजा का शुभ मुहूर्त सूर्यास्त के बाद आता है। इस दिन व्यापारियों और दुकानदारों जैसे कई वर्ग के लोग कलम, स्याही, कंप्यूटर, टेबल और अन्य संबंधित उपयोगी वस्तुओं की पूजा करते हैं।

2022 से 2024 में दिवाली पर्व की संभावित तिथि 

दिवाली 2022 का त्योहार 24 अक्टूबर को पड़ रह है। साथ ही, अगले पांच वर्षों में दिवाली की तारीखें निम्न प्रकार हैं-

दिन दिनांक वर्ष

  • 24 अक्टूबर 2022, सोमवार 
  • 12 नवंबर 2023, रविवार 
  • 1 नवंबर 2024, शुक्रवार 

(ज्ञात रहे यहां दी गई तारीखें पंचांग अनुसार बदल भी सकती हैं)

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

दिवाली वाले दिन किस रंग के कपड़े पहनने शुभ होते हैं?

वहीं दिवाली वाले दिन हर रंग के कपड़े पहने जा सकते हैं। लेकिन लोगों को काले रंग के कपड़े नहीं पहनने चाहिए। चूंकि दिवाली खुशी और रोशनी का त्योहार है तथा यह बुराई पर अच्छाई की जीत का द्योतक है। इसलिए इस दिन रंगीन कपड़े पहनना शुभ माना जाता है।

क्या दिवाली वाले दिन कोई विशेष भोजन बनाने की मान्यता है?

एक दिन आप अपनी पसंद का कोई भी स्वादिष्ट भोजन बना सकते हैं। साथ ही मीठे में आप मालपुआ खीर और गाजर के हलवे जैसे स्वादिष्ट चीजों को शामिल कर सकते हैं|

यह भी पढ़े- vastu tips 2022: जानें क्या कहता है दुकान का वास्तु शास्त्र और व्यापार में वृध्दि के अचूक ज्योतिष उपाय

अधिक जानकारी के लिए आप Astrotalk के अनुभवी ज्योतिषियों से बात करें।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 1,303 

WhatsApp

Posted On - September 28, 2022 | Posted By - Jyoti | Read By -

 1,303 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation