Holi 2023: होली 2023 को शुभ बनाना चाहते हैं तो अपनी राशि के अनुसार चुने ये रंग, आएगा गुडलक

Holi 2023
WhatsApp

होली, भारत के सबसे प्रतीक्षित त्यौहारों में से एक है, जो रंगों, भाईचारे, शांति और समृद्धि का उत्सव माना जाता है। हिंदू त्यौहार के रुप में, होली, सभी सामाजिक-आर्थिक और धार्मिक बाधाओं को पार करता है और सभी लोगों को एक साथ लाता है। इसीलिए, इसे वसंत उत्सव के रूप में भी जाना जाता है।

हिंदू कैलेंडर 2023 के अनुसार, चैत्र महीने के कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा को होली का उत्सव बड़े ही जोर-शोर से मनाया जाता है। यदि प्रतिपदा दो दिन पड़ रही हो, तो पहले दिन को धुलंडी (वसंतोत्सव या होली) का दिन माना जाता है। चलिए जानते है कि होली 2023 तिथि (Holi 2023) और ज्योतिष अनुसार यह भी जानें की कौन-सा रंग आपके लिए शुभ रहेगा।

होली को रंगों से प्रेरणा लेकर, इसे वसंत ऋतु के आगमन के रूप में भी मनाया जाता है। चाहे होलिका दहन हो या बड़ी होली, यह त्यौहार धूम-धाम से मानाने के लिए प्रसिद्ध है। इस त्यौहार को धुलंडी के नाम से भी जाना जाता है, जो हरियाणा राज्य में लोकप्रिय नाम है और हिंदू पौराणिक कथाओं में यह सबसे प्रसिद्ध त्यौहारों में से एक है।

होली का महत्व

रंगों का यह त्यौहार न केवल भारत देश में बल्कि दुनिया के कई हिस्सों में बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है, यह मस्ती और आनंद का त्यौहार है। इस दिन लोग अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से मिलने जाते हैं, सभी गिले-शिकवे भुलाकर प्यार और भाईचारे के रंग में रंग जाते हैं। यही नहीं, पकवान खिलाकर आपस में प्यार बांटते हैं। इसीलिए, आपसी मतभेद दूर करने के लिए यह सबसे उत्तम पर्व माना जाता है। साथ ही कई जगहों पर संगीत का भी आयोजन किया जाता है।

प्राचीन कथाओं के अनुसार, यह माना जाता है कि होली उत्सव का पहला दिन भगवान विष्णु के भक्त प्रह्लाद की होलिका पर विजय के उपलक्ष्य में मनाया जाता है, जो राक्षस राजा हिरण्यकश्यप की बहन और भक्त प्रह्लाद की बुआ थी। इस दिन होलिका की चिता को जलाया जाता है। अगले दिन रंग और गुलाल के साथ विशेष पकवानों का लुत्फ उठाया जाता है। होली पर इन परंपराओं का सबसे ज्यादा महत्व होता है।

होली से जुड़ी कुछ प्रमुख कहानियां

होली के त्यौहार के पीछे हिरण्यकश्यप-प्रह्लाद की कहानी, राधा-कृष्ण की कहानी और राक्षसी धुंडी की कहानी जैसी कई कथाएं हैं। यह त्यौहार बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। होली से एक दिन पहले उचित अलाव के साथ होलिका दहन किया जाता है। यह हिरण्यकश्यप की बहन होलिका के वध का जश्न होता है। अलाव उस आग का प्रतीक है, जिसमें होलिका (हिरण्यकश्यप की बहन) ने प्रह्लाद को मारने की कोशिश करते हुए खुद को जला लिया।

रंगवाली होली भगवान कृष्ण और राधा के अमर प्रेम की याद में भी मनाई जाती है। एक बार भगवान कृष्ण ने माता यशोदा से पूछा कि वह राधा जी की तरह गोरे क्यों नहीं हैं। माता यशोदा ने मजाक में भगवान कृष्ण को राधा जी के चेहरे पर रंग लगाने का सुझाव दिया, क्योंकि इससे उनका रंग भी काला हो जाएगा। फिर भगवान कृष्ण, राधा जी और गोपियों के साथ विभिन्न रंगों से खेले। तभी से इस दिन को रंगों के त्योहार के रूप में मनाया जाता है। ओग्रेस (महिला राक्षस) धुंडी की कथा कहती है कि उसे भगवान शिव के श्राप के कारण पृथु के लोगों द्वारा पीछा किया गया था।

बरसाने में होली 2023: ब्रज धाम में रंगोत्सव की तिथि

इसी के साथ होली हिंदू कैलेंडर के फाल्गुन (फाल्गुन पूर्णिमा) महीने की अंतिम पूर्णिमा या पूर्णिमा के दिन मनाई जाती है। बता दें कि होली 2023 में, 8 मार्च 2023, यानी मंगलवार के दिन देशभर में धूम-धाम से मनाई जाएगी।

होली उत्सवतारीखस्थान
लड्डूमार होली1 मार्च, 2023बरसाना
लट्ठमार होली2 मार्च, 2023बरसाना
लट्ठमार होली3 मार्च, 2023नंदगाव
फूलवाली होली5 मार्च, 2023वृन्दावन और मथुरा
छड़ी मार होली6 मार्च, 2023गोकुल
विधवा होली7 मार्च, 2023वृन्दावन
होलिका दहन7 मार्च, 2023मथुरा
धुलैंडी8 मार्च, 2023मथुरा

यह भी पढ़ें: फरवरी 2023 अंक ज्योतिष राशिफल:जानें जन्मतिथि से कैसा रहेगा आपके लिए यह महीना

होली के अन्य नाम

  • असम में फगवा 
  • रंगों का त्योहार 
  • वसंत उत्सव
  • धुलैंडी
  • गोवा में सिग्मो
  • महाराष्ट्र में शिमगा
  • बंगाली/उड़िया में डोलजात्रा 

भारत के विभिन्न भागों में होली का उत्सव

मध्य प्रदेश के मालवा क्षेत्र में रंगपंचमी होली के 5वें दिन के बाद मनाई जाती है। इसे होली से भी ज्यादा धूमधाम से मनाया जाता है। रंग पंचमी पर महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों में लोग सूखे रंगों से खेलते हैं। रंगों का यह त्यौहार जाति, वर्ग या लिंग की परवाह किए बिना एकता और प्रेम का प्रतीक माना जात है। इलाहाबाद में, यह त्यौहार दो दिनों के लिए होता है। पहले दिन आम जनता रंग खेलती है और दूसरे दिन व्यापारी मंडल (व्यापारी) इलाहाबाद की सड़कों पर होली खेलते हैं। अगले दिन सड़कों पर फटे कपड़े और रंग उनके होली मनाने के अपार उत्साह का प्रमाण हैं। हर साल की तरह होली 2023 को भी धूम-धाम से मनाया जाएगा।

कैसे मनाएं 2023 में होली का महोत्सव?

  • इस दिन लोग रंग और पानी से खेलते हैं और एक दूसरे के चेहरे पर ‘गुलाल’ लगाते हैं। 2023 में होली रंग नीम, कुमकुम, हल्दी और फूलों के अर्क सहित प्राकृतिक सामग्री से बने हों तोह वह आपके लिए शुभ होंगे।
  • होलिका दहन 2023 के दिन शाम को विशाल अलाव जलाएं और पूजा के लिए गाय के गोबर के उपले, लकड़ी, घी, दूध और नारियल अग्नि में डालें।
  • आप ‘होली मेला,’ जो उत्तर प्रदेश के विभिन्न शहरों और उत्तर भारत के अन्य हिस्सों में आयोजित किया जाता है उसका लाभ भी उठा सकते हैं।
  • अगर आप बंगाल में हैं, आप होली को डोलजात्रा के रूप में मना सकते हैं। इस रंगोस्तव के दौरान युवा लड़कियां सफेद और केसरिया कपड़े पहनती हैं। साथ ही माला और फूलों से सजी होते हैं, पारंपरिक धुनों पर गाना और नृत्य करते हैं। 
  • इस आयोजन के दौरान सुगंधित रंग का पाउडर जिसे ‘अबीर’ के नाम से जाना जाता है, चारों ओर बिखरा होता है, जो आनंद और खुशी की अभिव्यक्ति है। इस अवसर पर कई मीठे व्यंजन जैसे मालपुआ, खीर और बसंती संदेश आदि तैयार किए जाते हैं।
  • अगर आप कर्नाटक में हैं, होली 2023 के दिन आप लोक नृत्य शैली ‘बेदरा वेशा’ का प्रदर्शन देख सकते हैं।
  • तमिलनाडु में इस दिन को पंगुनी उथ्रम के रूप में मनाया जाता है। मान्यता है कि इसी दिन राम-सीता, शिव-पार्वती और मुरुगा-देवसेना का विवाह हुआ था। साथ ही महालक्ष्मी जयंती भी मनाई जाती है, जो दूध के समुद्र से महालक्ष्मी के अवतार की याद दिलाती है।

यह भी पढ़े: Holika Dahan 2023: होलिका दहन 2023 तिथि, होलिका दहन, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व

होली 2023 पर क्या पकवान बनाएं?

होली के दिन लोग विशेष रूप से एक दूसरे के यहाँ इस अवसर पर पकाए गए स्वादिष्ट खाद्य पदार्थों का स्वाद लेने के लिए जाते हैं। इसके अलावा, परिवारों की महिलाएं वास्तविक उत्सव से 10-15 दिन पहले होली के लिए नाश्ता तैयार करना शुरू कर देती हैं। इस प्रकार, यहां उन खाद्य पदार्थों की सूची दी गई है, जो होली पर एक प्रमुख आकर्षण हैं।

  • मिठाई: गुजिया, मालपुआ, शक्कर पारा, रस मलाई, पेड़ा, पूरन पोली और खीर
  • पेय पदार्थ: कांजी, ठंडाई, शरबत, लस्सी और जल जीरा
  • नाश्ता: दही वड़ा, पापड़ी चाट, पकोड़ी, समोसा और चना मसाला
  • भोजन: धुस्का, पुरी सब्जी करी, मटर पुलाव और पनीर करी

होली 2023: रंगों का त्योहार इन बातों का रखें ध्यान

  • किसी भी त्यौहार की शुरुआत अपने बड़ो का आशीर्वाद लेकर करना चाहिए। 2023 में होली खेलने जाने से पहले घर पर पूजा जरुर करें।
  • इस दिन आपको सभी के साथ खुशी और प्रेम से रहना चाहिए।
  • होली के दिन घर की साफ सफाई जरुर करें और इसी के साथ होलिका में जौ जलाएं।
  • आपको होली के दिन अपने सिर को किसी कपड़े से जरुर ढकें। साथ ही, इस दिन आपको पैसों का लेन-देन नहीं करना चाहिए, क्योंकि अगर आप ऐसा करते है, तो आपको धन हानि का सामना करना पड़ सकता है।
  • होली 2023 के दिन आप अंधेरी जगहों से नहीं गुज़रें।

होली का ज्योतिषीय महत्व

वैदिक ज्योतिष के अनुसार, होली के त्यौहार के दौरान सूर्य और चंद्रमा आकाश में एक दूसरे के विपरीत छोर पर होते हैं। जिस स्थान पर चन्द्रमा सिंह और कन्या राशि में स्थित हो वह स्थान शुभ होता है। जबकि सूर्य मीन और कुंभ राशि में स्थित है। राहु प्राय: धनु राशि में गोचर करता है। साथ ही वास्तु विशेषज्ञ इसे वास्तु पूजा करने के लिए बहुत ही शुभ दिन मानते हैं। होलिका दहन और धुलेंडी यानी होली के दिन अपने घर, संपत्ति और वाहन की वास्तु पूजा करना अत्यंत लाभकारी होता है। यह स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करने और सकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित करने में मदद कर सकता है। खास बात यह है कि इस दिन लोग पवन देवता की पूजा करने के लिए पतंग भी उड़ाते हैं।

यह भी पढ़े: इस पूजा विधि से करें महाशिवरात्रि 2023 पर भगवान शिव को प्रसन्न, मिलेगा मनचाहा वरदान

होली 2023 में आपकी राशि के अनुसार शुभ रंग

मेष और वृश्चिक राशि

इन दोनों राशियों का स्वामी मंगल ग्रह है और ज्योतिष अनुसार मंगल ग्रह लाल रंग का प्रतीक होता है। इसीलिए इन दोनों राशियों को होली खेलते समय लाल, गुलाबी या इससे मिलते-जुलते रंगो गुलाल का इस्तेमाल करना चाहिए।

वृषभ और तुला राशि

इन राशियों का स्वामी शुक्र ग्रह है और शुक्र ग्रह सफेद, गुलाबी रंग का प्रतिनिधित्व करता है। और सफेद रंग से होली खेलना संभव नहीं है। इसीलिए आप सिल्वर और गुलाबी रंग से होली खेल सकते हैं।

कन्या और मिथुन राशि

इन राशियों का स्वामी ग्रह बुध है और यह ग्रह हरे रंग का प्रतिनिधित्व करता है। माना जाता है कि हरे रंग का उपयोग करना जातक के लिए सुखदाई होता है। होली के दिन इस राशि के जातक पीले, नारंगी और हल्के गुलाबी रंग से भी होली खेल सकते हैं।

मकर और कुंभ राशि

इन राशियों का स्वामी शनि ग्रह है और शनिदेव काले और नीले रंग का प्रतिनिधित्व करते हैं। इस राशि के लिए नीला रंग काफी शुभ होता है। लेकिन काले रंग से होली खेलना संभव नहीं है, इसीलिए आप नीला, हरा या फिरोजी रंग से होली खेल सकते हैं।

धनु और मीन राशि

इन राशियों का स्वामी बृहस्पति है और बृहस्पति पीले रंग का प्रतिनिधित्व करता है। इसी के साथ होली के दिन इस राशि के लोगों को पीला और नारंगी रंग से होली खेलनी चाहिए।

कर्क और सिंह राशि

कर्क राशि का स्वामी चंद्रमा ग्रह है और चंद्रमा सफेद रंग का प्रतिनिधित्व करता है। सफेद रंग से होली खेलना संभव नहीं होता, इसीलिए आप किसी भी एक रंग में थोड़ा दही या दूध मिला सकते हैं। और उस रंग से होली खेल सकते हैं। वही सिंह राशि के स्वामी सूर्यदेव है। इसके कारण इस राशि के लोगों को नारंगी, लाल या पीले रंग से होली खेल सकते हैं।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 2,207 

WhatsApp

Posted On - February 1, 2023 | Posted By - Jyoti | Read By -

 2,207 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation