मंगल ग्रह कैसे वैवाहिक सुख में दोष उत्पन्न करता है? यहां जानिये

WhatsApp

मंगल ग्रह का अस्तित्व –

सौर माला में पृथ्वी की कक्षा के बाहर यह प्रथम ग्रह हैं| इसका आकार पृथ्वी से छोटा हे|इसे भूमिपुत्र, लाल ग्रह , सेनानायक इत्यादी नामो से भी जाना जाता है| यह अग्नितत्व से बना हुंआ हैं| ज्योतिष शास्त्र में व्यक्ती का आत्मविश्वास और धाडस इसी ग्रह के दशा से देखा जाता है|बहुत ही निश्र्चयी , क्रोध युक्त, व चंचल ऐसा इसका स्वभाव हैं|हर बार खुदका ही सत्य करने वाला यह ग्रह हैं| व्यक्ती के चैतन्य पर यही ग्रह शासन करता हैं|मनुष्य के बल और वीर्य पर भी इसका ही प्रभुत्व देखने को मिलता हैं|अति आत्मविश्वास, दुसरों का न सुनने की प्रवृत्ती और इच्छा स्वरुप सुख पाने की वासना मंगल ग्रह की वजह से ही मनुष्य में उत्पन्न होती हैं|

मंगल ग्रह की प्राचीनता-

मंगल ग्रह के दोष और उन से उत्पन्न होने वाले परिणाम अनिष्ट हैं| इनका उल्लेख मूल ग्रंथ “मुहूर्त चिंतामणी” इस के ‘पीयुष धारा’ टिप्पणी में मिलता हैं| इस ग्रंथ में विवाह प्रकरण श्लोक ७ के उपर् पीयुष धारा टिप्पणी में कहा गया है | “इति अन्यमपि श्र्लोकं पठंति |लग्ने व्यये च पाताले आमित्र चाष्टमे कुजे|कन्या भरतृविनाशाय भर्ता कन्याविनाशदः”| इस श्लोक से यह निष्पन्न होता है |की पीयुषधारा की टिप्पणी से पुर्व भी यह श्लोक प्रचलित था|

“मुहूर्त चिंतामणी” यह ग्रंथ शके १५२२ में हुआ| और ग्रंथ के उपर की “पीयुष धारा” टिप्पणी १५२५ में की गयी है| मतलब यह पता चलता हैं की , इससे पूर्व भी विवाह के दौरान मंगल के दोष का अध्ययन किया जाता था |

वैवाहिक जीवन में महत्त्व-

विवाह कार्य में वधु- वर के गुण मिलाते हैं| उस समय जिसप्रकार नाडी कुट, गण इत्यादी आठ बातो से आने वाले गुण मिलाये जाते है | उसी तरह से मंगल के दोषों का भी बारिकी से अध्ययन किया जाता है|

सर्व साधारणतः जन्म कुंडली में १,४,७,८,१२ मतलब विवाह,सुख,सप्तम,मृत्यू व व्यय| इन में से किसी भी स्थान पर यह ग्रह होने से उसे दोषयुक्त माना जाता है|इन स्थानो पर अगर वधु की कुंडली में यह हो तो वैधव्य सुचक माना जाता है| और यदी वर की कुंडली में इन स्थानो पर हो तो स्त्री सुख और कौटुंबिक सुख नष्ट करता हैं|

देखा जाए तो, इसके जैसे ही दुसरे पापग्रह भी वैधव्य , स्त्रीसुखनाश इत्यादी अनिष्ट फल देते हैं| परंतु सिर्फ मंगल ग्रह ही ध्यान में लिया जाता है| शास्त्रो के नुसार , शुद्ध मार्ग मतलब वधु – वर की जन्म कुंडली ओं का योग्य अध्ययन तज्ज्ञ ज्योतिष से कर लेना चाहिए | और सभी अनिष्ट फलों का विचार किया जाना चाहिए|

अब यहा सिर्फ १,४,७,८,१२ इन पांच ही स्थानो का क्यूँ विचार किया गया होगा? इसे अगर ध्यान पुर्वक देखे तो यह पता चलता हैं |

प्रथम –

प्रथम स्थान विवाह स्थान हैं| उसका व्यक्तिमत्व पर ज्यादा प्रभाव पडता हैं|और इस स्थान के मंगल की दृष्टी सीधा वैवाहिक सौख्य स्थान पर आती हैं|

चतुर्थ –

चतुर्थ स्थान सुख हैं|सुख स्थान में मंगल ग्रह मातृसौख्य,कुटुंब सौख्य को मारक ठरता हैं |

सप्तम् –

सप्तम स्थान तो वैवाहिक सुख का हैं| यह सीधा वैवाहिक जीवन पर मारक ठरता हैं और वैवाहिक सुख को हानी पोहचाता हैं|

अष्टम् –

अष्टम् स्थान मृत्यू स्थान माना जाता है|इस लिये इस स्थान का मंगल वैवाहिक जीवन सुख की कालमर्यादा कम करने में कारण बनता है|

द्वादश –

यह शय्या सुख स्थान हैं| इस कारण यह मंगल शैय्यासुख को हानी पोहचाता हैं|

तो इस तरह से हमने मंगल के दोषों के लिए कारणीभूत सभी भावों की जानकारी ले ली हैं|

यह भी पढिये – कुंडली का सप्तम भाव आपके कौन से राज खोलता है

 1,525 

WhatsApp

Posted On - May 30, 2020 | Posted By - Gaurav Shelar | Read By -

 1,525 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation