ज्‍योतिष शास्त्र के अनुसार मानसिक रोग : जानिए चंद्र, बुध, राहु का मानसिक स्वास्थ्य से संबंध

मानसिक रोग
WhatsApp

क्या आप जानते हैं कि ग्रह, ग्रहों की प्रकृति और उनकी स्थिति हमारे मन और शरीर को सवस्थ रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं? जब यह ग्रह कष्ट महसूस करते हैं, तो इसका हमारे मानसिक (mental) और और शारीरिक स्वास्थ्य (physical health) पर पर भी गहरा प्रभाव पड़ता है। आमतौर पर शारीरिक परेशानियों का आसानी से इलाज हो जाता है। जबकि मानसिक बीमारियों के लिए ऐसा नहीं है। ज्यादातर लोग जो मानसिक समस्याओं (mental health) से ग्रस्त हैं, वे चिकित्सक के पास जाने से बचते हैं या फिर अपनी स्थिति का किसी के सामने खुलासा नहीं करते। ऐसा इसलिए क्योंकि मानसिक स्वास्थ्य को हमारे समाज में अच्छी नजरों से नहीं देखा जाता।

हालांकि मौजूदा समय में इस परिदृश्य में कुछ बदलाव अवश्य देखने को मिल रहे हैं। इसके बावजूद मानसिक स्वास्थ्य अब भी किसी टैबू की तरह है। इसलिए इस बीमारी का निदान भी कठिन है और आसानी से इसकी जटिलताओं से निपटा नहीं जा सकता है।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

वैदिक ज्योतिष में मानसिक स्वास्थ्य

जटिलताओं को जानते हुए, क्या बेहतर नहीं होगा कि हम अपने मानसिक स्वास्थ्य (mental health) की स्थिति को पहले से ही आंक सकें? वैदिक ज्योतिष हमें इस दिशा में समाधान प्रदान करता है। यहां हम जान सकते हैं मानसिक विकार होने से पहले उससे किस तरह से सावधान रहा जा सकता है, उसका क्या प्रकार है और उसे रोकने के लिए क्या प्रभावी तरीके हो सकते हैं।

आपके  मानसिक स्वास्थ्य (mental health) प्रभावित करने वाले ग्रह चन्द्रमा और बुध हैं। साथ ही ब्रहस्पति भी आपकी मानसिक क्षमताओं को प्रभावित करता है। यह ग्रह आपकी मानसिक सेहत के साथ निकटता से जुड़े हुए हैं। अपनी बुरी अवस्था में वे हमारे मन को स्वस्थ रखते हैं और अपनी बुरी अवस्था में वे मानसिक विकृतियों (mental disorder) का कारण बनते हैं। चंद्रमा मन का प्रतीक है, बुध स्मृति और संचार को प्रतिनिधित्व करता है, ब्रहस्पति ज्ञान का स्वामी है। जब ये ग्रह पीड़ित होते हैं, तो लोगों को मानसिक तनाव, चिंता, अवसाद और अन्य गंभीर मानसिक विकारों का सामना करना पड़ता है।

ग्रह की दशा से प्रभावित होता है मानसिक स्वास्थ्य

ग्रह की अलग-अलग स्थिति यह तय करती है कि आपका मानसिक स्वास्थ्य (mental health) कैसे प्रभावित होगा जैसे चंद्रमा, बुध और बृहस्पति पीड़ित हैं तो मानसिक स्वास्थ्य बिगड़ सकता है। जन्मकुंडली में पांच वा घर, जो मानसिक बुद्धि और रचनात्मक प्रतीक है, पीड़ित हैं तो भी मानसिक स्वास्थ्य पर प्रभाव पड़ेगा। राहु आपकी जन्म कुंडली (kundali) में लग्न भाव में स्थित है या चंद्रमा पर एक द्रष्टि है तब भी मानसिक स्वास्थ्य पर असर देखने को मिलता है।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

यदि आपका चंद्रमा खराब स्थिति में है?

कुंडली (kundali) में चंद्रमा की बुरी स्थिति मानसिक विकास को रोकता है और चिंता और अवसाद का कारण बनता है। चंद्रमा हमारे मन, व्यवहार और भावनाओं को नियंत्रित करता है। यह पृथ्वी के सबसे निकटतम खगोलीय पिंड है और इसका हमारे जीवन पर गहरा प्रभाव है। चंद्रमा का गुरुत्वाकर्षण बल है, जो समुंद्र में ज्वार का कारण बनता है, जो हमारे भावनात्मक उतार-चढ़ाव का बहुत छोटा संकेत है। आपकी जन्म कुंडली में चंद्रमा का सकारात्मक स्थान मानसिक और भावनात्मक (mental-emotional health) शक्ति का संकेत देता है। अगर चंद्रमा अच्छी स्थिति में है तो आपके पास अच्छी एकाग्रता शक्तियां और रचनात्मक क्षमताएं होंगी। इसके विपरीत अगर चंद्रमा आपकी जन्म कुंडली (kundali) में कमजोर है ,तो यह आपकी सोचने की क्षमता को छीन लेगा और आपको आपकी मानसिक शक्ति को कमजोर कर सकता है।

जब कोई अशुभ ग्रह है (राहु-केतु या शनि) चंद्रमा पर द्रष्टि डालता है, तो आपको कुछ मानसिक परेशानियों का सामना करना पड़ता है। यदि चंद्र किसी भी अशुभ भाव अर्थात छठे, आठवें और 12वें में स्थित है तो यह मानसिक असमानताएं पैदा कर सकता है।

राहु और केतु काल्पनिक ग्रह हैं, और इस प्रकार भ्रम का प्रतीक हैं। यदि वे आपकी जन्म कुंडली में चंद्रमा के साथ हैं या यदि यह किसी न किसी तरह से चंद्रमा को देख रहा है, तो ऐसे में मानसिक बीमारी होने की संभावना बन जाती है, जिससे भ्रम, बेचैनी, बेतुकापन, भय और सिज़ोफ्रेनिया या अनिद्रा जैसी समस्याएं हो सकती हैं। यदि शनि से पीड़ित हो, तो चंद्रमा का नकारात्मक प्रभाव तनाव के स्तर को बढ़ा सकता है, जिससे तीव्र अवसाद हो सकता है। आप हमेशा नकारात्मक विचारों से घिरे रहेंगे और पूरी तरह से जीवन जीने की आशा और उत्साह खोते हुए निराशावादी बन जाएंगे।

यदि बुध खराब स्थिति में है 

कमजोर बुध जातक को बेचैन और क्रोधी बनाता है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार, बुध तेज स्मृति और महान संचार कौशल का प्रतीक है। कमजोर बुध होने पर इसका प्रतिकूल प्रभाव जातक के मन-मस्तिष्क पर पड़ता है, जिससे स्मृति हानि और कट्टर प्रवृत्ति उत्पन्न होती है। यही नहीं, जातक को भूलने की बीमारी और ओसीडी (ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर) जैसी मानिसक समस्याएं भी हो सकती हैं।

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए: यहां क्लिक करें

6वें, 8वें या 12वें भाव में कमजोर बुध

यह पापी भाव 6वें, 8वें या 12वें घर में किसी भी पाप ग्रह (शनि, राहु या केतु) की उपस्थिति से मौजूद होता है जब यह अपनी नीच राशि यानी मीन में होता है।

  • एक परेशान बुध आपको सनकी बनाता है। यदि यह स्थिति अनियंत्रित हो जाती है और बाद के चरण में बढ़ जाती है, तो यह आपके सोचने, जानकारी को संसाधित करने और खुद को संचालित करने के तरीके को गंभीर रूप से प्रभावित कर सकती है। व्यवहार संबंधी समस्याएं (behavioural issues) मानसिक संकट (mental issues) में और बढ़ सकती हैं, जो आपकी रोजमर्रा की जिंदगी को भी प्रभावित कर सकती है। परिणामस्वरूप व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन में अशांति पैदा हो सकती है। इतनी अधिक मानसिक पीड़ा के साथ, लोगों को एक या एक से अधिक प्रकार के मानसिक विकार होने की आशंका में भी बढ़ोत्तरी होती है।
  • एक स्वस्थ बुध आपकी तार्किक शक्तियों और रचनात्मक कौशल को भी बढ़ाता है। जब यह पीड़ित होता है, तो यह नए विचार को प्रभावित करता है, सोचने-समझने की क्षमता को छीन लेता है, तर्कसंगत निर्णय लेने से रोकता है और इस प्रकार तंत्रिका टूटने और भावनात्मक विस्फोट का कारण बनता है।
  • यदि आपका बृहस्पति खराब प्रभाव में है तो बुद्धिमानी से सोचने और मानसिक अशांति पैदा करता है।
  • ‘सबसे बड़ा परोपकारी’ बृहस्पति ज्ञान का प्रतीक है। यह बुद्धि और आध्यात्मिकता का ग्रह है। पीड़ित होने पर, यह एकाग्रता, विश्वास और आत्मविश्वास की कमी को जन्म दे सकता है। इसके परिणामस्वरूप कम आत्मविश्वास, कमजोर बुद्धि और गलत निर्णय होते हैं – आप इन सभी गड़बड़ियों के साथ कभी भी कोई बुद्धिमान निर्णय नहीं ले पाएंगे। जैसा कि आप अपनी निर्णय लेने की क्षमता खो देंगे, आपको वित्तीय नुकसान हो सकता है और व्यक्तिगत आधार पर भी नुकसान हो सकता है। इन सब की अधिकता आपको मानसिक रूप से बीमार कर सकती है।

शनि, राहु या केतु में बृहस्पति का प्रभाव

यह पाप भाव 6वें, 8वें या 12वें घर में किसी भी पाप ग्रह शनि, राहु या केतु की उपस्थिति से मौजूद होता है जब यह अपनी नीच राशि यानी मकर में होता है।

अशुभ बृहस्पति व्यक्ति के मन में अशांति पैदा करता है। यह अराजकता आगे विवेक, ज्ञान, तर्कसंगतता, कुशाग्रता और भावनाओं के बीच तनाव (stress) पैदा करती है। तनाव बढ़ने की वजह से अन्य बीमारियां (physical health) भी होने लगती हैं। आपकी जन्म कुंडली (kundali) में अशांत बृहस्पति की वजह से मानसिक अशांति बनी रहती है।

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए: यहां क्लिक करें

पंचम भाव में प्रभाव

  • पीड़ित पंचम भाव (fifth house) में विश्लेषणात्मक क्षमता और मानसिक सुदृढ़ता का अभाव होता है।
  • आपकी जन्म कुंडली में 5वां भाव आपकी तार्किक समझ, आपके युक्तिकरण कौशल, मानसिक बुद्धि, विश्लेषणात्मक कौशल और ज्ञान का प्रतिनिधित्व करता है। इस भाव का क्लेश भावनात्मक स्थिरता, अवसाद के नुकसान का प्रतीक है, जो कई लोगों को प्रारंभिक अवस्था में पहचान न होने पर मानसिक बीमारी तक फैल जाता है।
  • यह कठोर और असामाजिक व्यवहार की ओर ले जाता है, क्योंकि आप सीधे सोचने में सक्षम नहीं होते हैं और अपनी भावनाओं पर सीमित नियंत्रण रखते हैं। यदि यह भाव पाप ग्रहों, युति या दृष्टि से पीड़ित हो तो जातक गंभीर अवसाद से ग्रस्त हो सकता है।
  • राहु और केतु (rahu-ketu) काल्पनिक ग्रह हैं और इस प्रकार ये दोनों भ्रम का प्रतीक हैं। यदि वे आपकी जन्म कुंडली में चंद्रमा के साथ हैं या यदि यह किसी न किसी तरह से चंद्रमा को देख रहा है, तो आपको मानसिक बीमारी होने की संभावना है, जिससे भ्रम, बेचैनी, बेतुकापन, भय और सिज़ोफ्रेनिया या अनिद्रा जैसी समस्याएं हो सकती हैं।
  • यदि शनि (shani) से पीड़ित हो, तो चंद्रमा का नकारात्मक प्रभाव तनाव के स्तर को बढ़ा सकता है, जिससे तीव्र अवसाद (deep depression) हो सकता है। आप हमेशा नकारात्मक विचारों (negative thoughts) से घिरे रहेंगे और पूरी तरह से जीवन जीने की आशा और उत्साह खोते हुए निराशावादी बन जाएंगे।

बृहस्पति की कमजोर स्थिति

  • यह पाप भाव 6वें, 8वें या 12वें घर में किसी भी पाप ग्रह शनि, राहु या केतु (shani, rahu and ketu) की उपस्थिति से मौजूद होता है जब यह अपनी नीच राशि यानी मकर में होता है।
  • अशुभ बृहस्पति व्यक्ति के मन में अशांति पैदा करता है। यह अराजकता आगे विवेक, ज्ञान, तर्कसंगतता, कुशाग्रता और भावनाओं के बीच हल्का तनाव पैदा करती है। जब यह तनाव तेज हो जाता है तो यह मानसिक तनाव (mental stress) और बीमारियों की ओर ले जाता है। आपकी जन्म कुंडली (kundail) में अशांत बृहस्पति के साथ, आप कई लोग कभी भी मानसिक शांति नहीं पा सकते हैं।

मानसिक रोगों से संबंधित कुछ अन्य महत्वपूर्ण बिंदु

  • हर मानसिक रोगी (mental problem) की याद्दाश्त प्रभावित नहीं होती है, मिजाज ज्यादातर देखा जाता है जिसके कारण समय-समय पर असामान्य व्यवहार देखने को मिलता है।
  • नशे, शराब आदि के सेवन से मानसिक विकारों से छुटकारा पाना संभव नहीं है इसलिए इनका सेवन न करें।
  • मानसिक रोग संक्रामक नहीं होते इसलिए चिंता न करें।
  • हर मानसिक रोगी आत्महत्या करने की कोशिश नहीं करता है इसलिए इस भ्रम को भी दिमाग से निकाल दें।
  • ज्योतिष भी मानसिक समस्याओं का समाधान खोजने में मदद करता है इसलिए ज्योतिष समाधान के लिए ज्योतिषी से सलाह लें।
  • कुछ मानसिक विकारों का पूरी तरह से इलाज संभव है यदि उचित दवा ली जाए, इसलिए किसी भी निर्णय पर पहुंचने से पहले हमेशा डॉक्टर, ज्योतिषी से सलाह लें।

मानसिक रोगों के ज्योतिषीय कारण

  • अगर आप ज्योतिष के माध्यम से मानसिक रोगों के कारणों के बारे में जानना चाहते हैं, तो आपको कुंडली का बहुत ध्यानपूर्वक और सूक्ष्मता से अध्ययन करना होगा क्योंकि इसके कई कारण हो सकते हैं।
  • यदि कुंडली में लग्न बहुत कमजोर हो और ग्रहण योग बन रहा हो या चंद्रमा नीच का हो तो जातक मानसिक रोगों से पीड़ित हो सकता है।
  • अगर प्रथम भाव में राहु और मंगल एक साथ बैठे हों तो जातक को मानसिक रोग हो सकते हैं।
  • यदि कुंडली के पहले भाव, अष्टम और सुख भाव में अंगारक योग, ग्रहण योग हो तो जातक मानसिक रोगों से ग्रस्त हो सकता है।
  • व्यक्ति किस कारण से मानसिक रोग से पीड़ित होगा, यह इस बात पर निर्भर करेगा कि कौन सा ग्रह उसके मन भाव से संबंधित है और कौन से अन्य भाव उससे संबंधित हैं। उदाहरण के लिए कुछ लोग प्यार में धोखा खाने से मानसिक रूप से बीमार हो जाते हैं, कुछ लोग नौकरी न मिलने से मानसिक रूप से बीमार हो जाते हैं, कुछ लोग शादी के बाद सही साथी न मिलने से मानसिक रूप से बीमार हो जाते हैं, कुछ लोग काला जादू करने से मानसिक रूप से बीमार हो जाते हैं। शत्रु द्वारा कुछ लोगों को भ्रम में फंसने के कारण मानसिक परेशानी भी होती है।
  • इसलिए कोई एक कारण नहीं है, केवल जन्म कुंडली का सूक्ष्मता से अध्ययन करने से ही कारणों और उपायों को जानना संभव है। जन्म कुंडली विश्लेषण और समाधान के लिए किसी अनुभवी ज्योतिषी से परामर्श करना अच्छा है।

यदि आप भी किसी मानसिक रोग से गुजर रहे हैं, तो चिंता न करें और सर्वोत्तम उपचार और ज्योतिष उपचार के लिए मनोचिकित्सक के साथ-साथ ज्योतिषी से परामर्श करने में संकोच न करें। अतः मिथकों से दूर होकर रोगों को ही रोग समझकर होम्योपैथी, योग, आयुर्वेद, एलोपैथी, ज्योतिष आदि के माध्यम से उचित उपचार करें। स्वास्थ्य की हो तो कोई भी जोखिम उठाना मूर्खता होगी। अब तक आप जान चुके हैं कि जैसे मानसिक विकार लाइलाज नहीं होते, वैसे ही उनका पता भी नहीं चल पाता। वैदिक ज्योतिष आपकी जन्म कुंडली (kundali) में किसी भी मानसिक बीमारी के संकेतकों का पता लगाने में आपकी मदद कर सकता है।

अधिक जानकारी के लिए आप Astrotalk के अनुभवी ज्योतिषियों से बात करें।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 2,087 

WhatsApp

Posted On - November 4, 2022 | Posted By - Jyoti | Read By -

 2,087 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation