नाड़ी दोष और इससे बचने के कारगर उपाय

नाड़ी दोष और इससे बचने के कारगर उपाय

नाड़ी दोष

वैदिक ज्योतिष में, नाड़ी आठ अनिवार्यताओं में से एक है जो विवाह की सफलता को निर्धारित करने के लिए जरुरी हैं और शादी से पहले जिनका विश्लेषण किया जाता है। नाड़ी 36 बिंदुओं में से 8 अंक बनाती है जिनका विवाह के लिए मेल खाना आवश्यक माना जाता है। एक सफल और स्वस्थ विवाह के लिए, दोनों भागीदारों की नाड़ी अलग-अलग होनी चाहिए। नाड़ी दोष के हानिकारक प्रभावों को कम करने के लिए विशेषज्ञों द्वारा कुछ उपायों और विधियों का प्रयोग किया जाता है।

इस दोष का एक अपवाद तब है जब एक ही राशि के पुरुषों और महिलाओं के नक्षत्र एक दूसरे से भिन्न होते हैं, इसके परिणामस्वरूप नाड़ी दोष को रद्द किया जाता है। इसके अलावा, जब युगल का नक्षत्र एक ही है, लेकिन राशि अलग है, तो उस कुंडली में दोष खत्म हो जाता है।

अर्थ

नक्षत्र व्यक्ति के जन्म के समय और दिन के बारे में बताता है। इसके तीन भाग हैं:

  • आदि नाड़ी
  • मध्य नाड़ी
  • अन्त नाड़ी

कुंडली मिलान के समय, जब दो लोगों की नाडी अलग होती है, तो उन्हें पूर्ण 8 अंक मिलते हैं, लेकिन यदि नाड़ी समान होती है, तो इससे उनकी कुंडली में दोष हो जाता है और उन्हें 0 अंक प्राप्त होते हैं। जैसा कि हम जानते हैं कि विपरीत पोल एक दूसरे को आकर्षित करते हैं, इसी तरह से नाडी मिलान के मामले में भी। जब वर-वधु की एक ही नाड़ी होती है तो वे आमतौर पर एक ही प्रवृत्ति को साझा करते हैं और इस तरह शादी को बनाए रखना मुश्किल हो जाता है। यह दोष शादी में अशांति पैदा कर सकता है और तलाक जैसी स्थिति को भी ला सकता है।

नाड़ी दोष के प्रभाव

जहां नाडी दोष का इलाज नहीं किया जाता है या मांग के अनुसार ठीक नहीं किया जाता है तो वैवाहिक जीवन में कई समस्याएं पैदा कर हो सकती हैं। कुछ  समस्याओं के बारे में नीचे बताया गया है।

  • पति-पत्नी के बीच आकर्षण में कमी।
  • एक-दूसरे के लिए प्यार और सम्मान की भावना कम होगी।
  • विवाह में लगातार असहमति और कलह।
  • संतान प्राप्ति में कठिनाई होगी।
  • अगर बच्चे हो भी जाते हैं तो उनमें कुछ शारीरिक परेशानी हो सकती है। 

समान नाड़ी पति-पत्नी के बीच दूरी विकसित करती है जबकि अलग-अलग नाड़ी युगल के बीच आकर्षण पैदा करेगी।

नाड़ी दोष इन परिस्थितियों में प्रभावी नहीं होता

निम्न तरीकों से कोई भी नाड़ी दोष को रद्द कर सकता है:

  • जब जन्म नक्षत्र अलग होता है लेकिन वर और वधू की राशि एक ही होती है, तो यह नाड़ी दोष को रद्द कर देता है।
  • यदि जन्म नक्षत्र एक ही है लेकिन उनकी राशि अलग-अलग हैं।
  • यदि जन्म नक्षत्र समान है लेकिन वर और वधु का चरण अलग है।
  • दोष को शास्त्रों में जातियों के आधार पर विभाजित किया गया है, जैसे ब्राह्मण के लिए नाड़ी दोष, क्षत्रिय के लिए वर्ण दोष, वैश्य के लिए गण दोष और शूद्र के लिए योनी दोष।
  • यह ज्योतिष शास्त्र के अनुसार रोहिणी, मृगशिरा, ज्येष्ठ, कृतिका, पुष्य, श्रवण, रेवती और उत्तराभाद्रपद नक्षत्रों की उपस्थिति में अप्रभावी है।

नाड़ी दोष पूजा के लिए यहां क्लिक करें

नाड़ी दोष के उपाय

नीचे दिए गए उपायों से इस दोष को रद्द किया जा सकता है-

  • किसी विशेषज्ञ के मार्गदर्शन में नाड़ी निर्वाण पूजा करें।
  • ज्योतिषी द्वारा बताए गए ज्योतिषी यंत्र द्वारा निर्धारित रत्न का उपयोग करें।
  • धार्मिक रुप से किसी विशेषज्ञ द्वारा गई विधि से महामृत्युंजय मंत्र का जाप करें
  • ब्राह्मण को स्वर्ण-नाड़ी, अनाज, कपड़ा और गाय का दान करें।
  • इस दोष वाली लड़की पहले भगवान विष्णु से शादी कर सकती है। इसके बाद नाड़ी दोष को रद्द हो जाता है।
  • शादी में शांति, समझौता और प्यार बनाए रखना।

शादी की कुंडली में नाडी दोष सबसे हानिकारक स्थितियों में से एक है जो आपके विवाह में अस्थिरता ला सकता है। न केवल पति-पत्नी में लगातार असहमति होगी, वे धीरे-धीरे एक-दूसरे के लिए प्यार खोना शुरू कर देंगे, आकर्षण की भी कमी देखी जाएगी। वे अपनी विरासत को आगे बढ़ाने में कई मसलों का सामना कर सकते हैं। उनके जन्म लेने वाले बच्चों को शारीरिक और मानसिक रूप से परेशानी हो सकती है।

हालांकि, एक विशेषज्ञ ज्योतिषी के मार्गदर्शन में इस दोष को ठीक किया जा सकता है। यदि कोई व्यक्ति सुखी और सफल वैवाहिक जीवन चाहता है तो इन उपायों को धार्मिक रूप से करने से व्यक्ति को दोष को खत्म करने में मदद मिल सकती है। इसके अलावा दोष, गणदोष, भृकुटदोष और एक अन्य दोषों की भी जाँच और विश्लेषण किया जाना चाहिए।

यह भी पढ़ें- राहु कुलिक पूजा- आवश्यकता और महत्व 

 280 total views


Tags: ,

No Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *