राहु कुलिक पूजा- आवश्यकता और महत्व

राहु कुलिक पूजा- आवश्यकता और महत्व

राहु कुलिक

वैदिक पूजा बहुत प्रभावशाली मानी जाती है। इससे आपके ग्रहों की स्थिति सुधरती है। आपकी कुंडली आपके जीवन में ग्रहों और उनकी ऊर्जाओं के बारे में बताती है। कभी-कभी, वे स्थितियां और ऊर्जाएं आपके जीवन के प्रति अनुकूल नहीं होती हैं। सौभाग्य से, वैदिक अध्ययनों में कुछ उपाय हैं जो ज्योतिष के इन मुद्दों का इलाज करने में मदद कर सकते हैं। भारत वह जगह है जहाँ धार्मिक पूजा करना प्रमुख उपाय है। आपके ग्रह दोष को शांत करने के लिए पंडित वैदिक मंत्रों का जाप करते हैं। यह आपके मार्ग से बाधाओं को दूर कर सकता है।

राहु कुलिक पूजा

राहु-केतु आपकी कुंडली में महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं। आपके दिन-प्रतिदिन के जीवन पर उनका सीधा प्रभाव पड़ता है। राहु पूजा आपको राहु के क्रूर प्रभाव को खत्म करने में मदद करती है। जन्म-कुंडली में उनकी स्थिति से ग्रह दोष से निपटने के लिए राहु-केतु पूजा लाभदायक है। यह राहु के दुष्प्रभाव को शांत करने के लिए एक वैदिक इलाज है। महत्वपूर्ण रूप से, यह शनिवार को राहु कालम के दौरान आयोजित किया जाता है।

राहु कुलिक पूजा का महत्व 

यह पूजा न केवल राहु के कारण होने वाली समस्याओं को ठीक करती है, बल्कि यह उनके आशीर्वाद को भी बढ़ा सकती है। यह सौरमंडल की पहली छाया है। राहु भ्रम, रहस्य, इच्छाओं, महत्वाकांक्षाओं, आकांक्षाओं को नियंत्रित करता है। यह आपके जीवन में बहुत महत्व रखता है। यह धार्मिक कार्य शनिवार को शुरू किया जाता है और 7 दिनों तक चलता है और शनिवार को पूरा होता है। राहु वेद मंत्र का जाप शनिवार को शुरू किया जाता है। विशेषज्ञ ज्योतिषी आपके अच्छे जीवन के लिए इस पूजा की सलाह देते हैं। राहु आपको अवसर और शक्ति प्रदान करता है। यह आपको महत्वाकांक्षी बनाता है। राहु का प्रभाव व्यक्ति को विचारशील और अनुशासित बनाता है। अनुकूल और मजबूत राहु वाले व्यक्ति  का व्यक्तित्व प्रभावशाली होता है।

राहु के नकारात्मक प्रभाव में एक व्यक्ति अवैध गतिविधियों में लिप्त हो सकता है। इसके अलावा, सबसे ज्यादा राहु आपके निर्णय कौशल को प्रभावित करता है। इसके बाद वित्तीय मुद्दों को लेकर व्यक्ति चिंतित रह सकता है। इसके साथ ही राहु आपकी कुंडली के विभिन्न घरों को खतरनाक रूप से प्रभावित कर सकता है। इसके साथ ही अपने जीवन में व्यक्ति असफलताओं का सामना कर सकता है। यह पूजा राहु को खुश करेगी और आपके जीवन में होने वाले किसी भी हानिकारक प्रभाव को ठीक करेगी।

यह पूजा फलदायी होगी और बाधा दूर करेगी।

राहु कुलिक पूजा की विधि

  • पूर्वांग कर्म (गणेश पूजन, मातृपूजन, अभ्युदय, पुण्यवचन, कलशस्तपना, रक्षविधान, नवग्रहपूजा)
  • राहु देव की पूजा करें।
  • अष्टोत्तर नामावली पथ, राहु चालीसा पथ
  • अठारह हजार बार राहु देव का जप मंत्र- ॐ भ्रां भ्रीं भ्रों स: राहवे नम:
  • हवन करना
  • राहु देव की पूजा अर्चना करना।

पूजा के लाभ 

  • राहु कुलिका पूजा, इस पूजा को करने वाले व्यक्ति के लि फलदायक होती है। पंडित को इस पूजा को पूरे समर्पण के साथ करना चाहिए ताकि भक्त इसका पूरा लाभ उठा सके।
  • यह पूजा राहु नकारात्मक प्रभाव वाले लोगों के लिए एक अंतिम उपाय के रूप में काम करेगी।
  • विदेश में रहने की योजना बना रहे लोगों के लिए यह उचित है। इससे उन्हें मानसिक शांति और सद्भाव मिल सकता है।
  • यह पूजा आपके पापों कर्मों को आपके जीवन से समाप्त कर सकती है, जिससे आप किसी भी सजा से मुक्त हो सकते हैं।
  • .यदि कोई व्यक्ति कानूनी मुद्दों का सामना कर रहा है, तो वह उस क्षेत्र में सफलता प्राप्त करेगा।
  • व्यक्ति अधिक केंद्रित और महत्वाकांक्षी होगा.
  • यह पुरानी बीमारी से पीड़ित लोगों को ठीक करती है।
  • कुछ लोगों के जन्म चार्ट में काल सर्प दोष और गुरु चंडाल दोष होता है। यह उनके जीवन को गंभीरता से बाधित कर सकता है। इसलिए, उन्हें यह पूजा जरुर करनी चाहिए लाभ मिलेगा।
  • राहु का आशीर्वाद व्यक्ति को हर मुश्किल से दूर ले जाता है। 
  • यह पूजा आपकी आध्यात्मिक उन्नति भी करती है।
  • यह न केवल आपके पेशेवर जीवन को बल्कि आपके निजी जीवन को भी बदल देगा।

जब कोई व्यक्ति लगातार विफलताओं से निपट रहा होता है, तो यह धार्मिक अनुष्ठान सब कुछ ठीक कर सकता है। यह आपके जीवन में सकारात्मकता लाएगा। साथ ही, यह आपके करियर को आगे बढ़ाएगा। पूजा के दौरान भगवान राहु की कहानियां आपकी आध्यात्मिकता को बढ़ाएंगी। यह आपके जीवन में एक सकारात्मक वृद्धि लाएगा। इसलिए, आपको एक श्रेष्ठ ज्योतिषी के मार्गदर्शन में इस पूजा को करना चाहिए।

यह भी पढ़ें- अष्टम भाव: कुंडली के इस भाव से चलते हैं आपके जीवन के गूढ़ रहस्य

 223 total views


Tags: ,

No Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *