जन्म नक्षत्र- स्वभाव निर्धारण और नियंत्रण

जन्म नक्षत्र- स्वभाव निर्धारण और नियंत्रण

जन्म नक्षत्र से स्वभाव निर्धारण

सितारों और चंद्र के समूह को नक्षत्र कहा जाता है। सामान्य रूप में, एक व्यक्ति जब जन्म लेता है उस समय नक्षत्रों की स्थिति को जन्म नक्षत्र कहा जाता है। कुल संख्या में २८ नक्षत्र होते हैं। पर, २८वें नक्षत्र की गणना कभी- कभी ही की जाती है। विशेष रूप से, एक राशि ढाई नक्षत्र से बनती है। तत्त्व, राशि, गृह दशा, और नक्षत्र मिल कर जातक का स्वभाव निर्धारित करते हैं। हालांकि, एक कुंडली में कई कारक हैं जो जातक के अस्तित्व और सभी विचारों को प्रभावित करते हैं।

प्राचीन भारतीय ज्योतिष के अनुसार,एक जातक के भविष्य का निर्धारण उसके जन्म होते ही हो जाता है और इसका एक महत्वपूर्ण करक होता है जातक का जन्म नक्षत्र। ज्योतिष के अनुसार, व्यक्ति के नक्षत्र का उसके व्यक्तित्व पर विशेष प्रभाव होता है। साथ ही, नक्षत्रों के सही ज्ञान के साथ एक व्यक्ति जीवन में घटित होने वाली किसी भी घटना की सही भविष्यवाणी की जा सकती है।

नक्षत्रों के विषय गहराई से समझने और नक्षत्र के अनुसार व्यक्तित्व समझने के लिए आगे पढ़ें-

जन्म नक्षत्र

अश्विनी नक्षत्र

इस व्यक्ति की विशेषताएँ बौद्धिक सुगंध, कार्य प्रभाव, गतिशीलता, सौम्य स्वभाव, और सहनशक्ति हैं। ऐसे व्यक्ति स्त्री और पुरुष दोनों के मध्य अपना काम निकलवाने में माहिर होते हैं। इसके अलावा यह हंसमुख होते हैं और आभूषण पहनने के अत्यंत शौकीन होते हैं। इनके जीवन में यश और प्रतिष्ठा की कमी नहीं होती। हलाकि, यह अस्थिर चरित्रवान व्यक्ति होते हैं।

भरणी नक्षत्र

इस नक्षत्र के जातकों में, लालची, अहंकार-केंद्रितता और इसलिए स्वतंत्र निर्णय लेने में असमर्थ होने जैसे गुण होते हैं। इनका स्वस्थ्य अधिकांश अच्छा रहता है और इस नक्षत्र के पुरुष खासकर स्त्रियों में प्रसिद्ध होते हैं। यह व्यक्ति प्रामाणिक, अस्थिर व्यवहार, अनिश्चित भावनाओं, आंदोलन के लिए आग्रह, गलत धारणा का व्यक्तित्व रखते हैं।

कृतिका नक्षत्र

इस नक्षत्र में जन्मा व्यक्ति व्यक्तित्व से रहित, चुस्त-दुरुस्त, अडिग, कृतघ्न, मित्रों और परिवार के सदस्यों के लिए जुनूनी होता है, वह हर कार्य को पूरा करता है। साथ ही, यह अच्छे भोजन के शौकीन होते हैं। महिलाओं के साथ मित्रता में खास रूचि रखते हैं।

रोहिणी नक्षत्र

इस नक्षत्र में जन्म लेने वाला व्यक्ति एक आकर्षक व्यक्तित्व, स्पष्टवादी और मधुरभाषी होता है। ऐसे व्यक्ति सार्वजनिक काम करने में विश्वास रखते हैं और धैर्यवान, बुद्धिमान एवं कलाकार होते हैं। इनकी ऊपरी सतह पर ही धोखा, मुश्किल-दिल की परत झलक जाया करती हैं।

मृगशिरा नक्षत्र

इस नक्षत्र में जन्म लेने वाला व्यक्ति घमंडी, क्रोधी, तुच्छ मामलों-कार्यों को करने में चतुर प्रतिभाशाली, लड़ाकू कर्मों में लिप्त, प्रियजनों के प्रति अवमानना ​​करने वाला, प्रसन्नचित्त, बौद्धिक, यात्रा में रुचि रखने वाला, धनी होता है।

आद्रा नक्षत्र

विनम्र स्वभाव, श्रेष्ठ हृदय, समझदार, इस नक्षत्र में जन्म लेने वाला व्यक्ति, किसी भी कठिनाई का सामना करते हैं। हलाकि, यह धन संपत्ति सुख से वंचित है, परन्तु इनकी अच्छे कार्यों में रुचि होती है।

पुनर्वसु नक्षत्र

दर्जनों दोस्तों के साथ बुद्धिमान, सहज स्वभाव वाले यह व्यक्ति अच्छी चीजों में खुशी के साथ रुचि रखते हैं। साथ ही, इनके जीवन में बच्चे और यात्रा का सुख होता है। ये कविता भक्त, खुशहाल जीवन, अपने नाटकों में सफलता हासिल करते हैं। परोपकारी होना, आत्म-मूल्य में कमी नहीं होने देना इनका उनका मूल स्वभाव है।

पुष्य नक्षत्र

इस नक्षत्र में जन्म लेने वाला व्यक्ति रचनात्मक, बुद्धिमान, संस्कृति में विश्वास करने वाला होता है, जो दूसरे लोगों के चीज़ों को बेहतर बनाने के लिए काम करता है। इन व्यक्तियों को धैर्य आता है यथा, इन्हे जो मिलता है ये उसमे खुश होते हैं। साथ ही, आसानी से दूसरों को समझते हैं।

अश्लेषा नक्षत्र

इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले व्यक्ति को श्रेष्ठ कार्यों का अनुकरण करना चाहते हैं, इनके लिए कुतुम्ब होना एक उपयोगी तकनीक है। अनुवाद के लिए अक्सर अपने लाभ के बारे में सोचते हैं, शराब का अधिक मूल्य होता हैं।

माघ नक्षत्र

ऐसे व्यक्तियों का माता-पिता, प्यार करने वाले, प्रेम धनि, नैतिक और सेवा करने वाला व्यवहार होता है। सरल विचारशीलता का लाभ उठाते हैं, लेकिन बेहद बहादुर, घमंडी, अमीर, और महत्वाकांक्षी होते हैं।

पूर्व नक्षत्र

इस नक्षत्र में जन्मा जातक विजयी, चतुर, सभी कार्यों में कुशल, मृदुभाषी, बड़े लोगों से संबंधित, राजकीय सम्मानित, यात्रा प्रेमी, संगीत प्रेमी, हंसी मजाक करने वाला, जीवनसाथी की मदद करने वाला होता है।

उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र

इस नक्षत्र में जन्मा जातक धनवान, विलासी, मार्शल आर्ट से प्यार करने वाला, दांपत्य-परायण, सौम्य बोलने वाला, स्थिति-वाणी की वास्तविकता रखने वाला और अपनी पत्नी और परिवार को कष्टों से दूर रखने वाला होता है।

हस्त नक्षत्र

इस नक्षत्र में जन्म लेने वाला व्यक्ति अपनी जाति के समुदाय का प्रमुख बन सकता है। विरोधियों से लड़ना या झगड़ा करना, झूठ बोलने और झूठ बोलने का अभ्यास प्राप्त करना, दोस्तों से दूर रहना, व्यक्तित्व कमजोर होना, और उग्र होना इनका व्यक्तित्व होता है।

चित्रा नक्षत्र

इस नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति बुद्धिमान, साहसी, धनवान, संपन्न, धनवान, सुंदर होते हैं, चित्रा नक्षत्र में जन्म लेने वाला, शरीर, स्त्री और संतान के सम्भन्ध में सुखी होते हैं। यह धर्म में विश्वास रखने वाले और विकासशील होते हैं, साथ ही, आयुर्वेद में रूचि रखते हैं।

स्वाति नक्षत्र

इस नक्षत्र में जन्म लेने वाला व्यक्ति विवेकवान, शांत, चतुर और व्यवसाय के अनुकूल होते हैं। साथ ही, यह अनुकूल व्यवसायी, आर्थिक रूप से समृद्ध, संपन्न, समाज में योग्य होते हैं।

विशाखा नक्षत्र

इस नक्षत्र में जन्मे, सुंदर शक्तिशाली, अभी तक बुरे और तुच्छ कार्यों में शामिल हैं, स्वार्थी, वाक्पटु सामान्य-बुद्धि, उग्र, अभिमानी, मूर्ख कामसुक्ता, शराबी, दमन के पापी गुण के होते हैं।

अनुराधा नक्षत्र

इस नक्षत्र में जन्मे जातक एक अमीर स्वभाव और परफेक्ट शरीर वाले होते हैं, कला और काम के व्यवसाय में अधिक निपुणता करते हैं। साथ ही, यह बहादुर, ठोस, मिलनसार, लोकप्रिय, आत्मविश्वासी, समृद्ध व्यक्तित्व, सरकारी नौकरी योग्य होते हैं।

ज्येष्ठा नक्षत्र

यह जातक चतुर, संतुष्ट, मृदु स्वभाव, कला-प्रेमी, अपूर्ण गृहस्थ, कवि, लेखक, पत्रकार, लिटर, मैनेजर, सुपरवाइजर वकील इत्यादि होते हैं।

मूल नक्षत्र

हृदय के महान दाता, गंभीर, धनी, अपने समाज में सम्मानित होते हैं। हलाकि, इन्हे खराब स्वास्थ्य, संभावना: बीमारी का सामना करना पड़ता है। यह कभी-कभी स्वार्थी, क्रोधित और हिंसक हो जाते हैं।

पूर्वाषाढ़ नक्षत्र

यह व्यक्ति धर्मार्थ, सभी के दोस्त, होशियार, बच्चों के साथ खुश, उदार स्वाभिमान के होते हैं। अधिकांश इनका कोई भी काम नहीं रुकता। हलाकि, भले ही बहुत पैसा, भाग्यशाली, कुशल कार्य, उत्कृष्ट रूप से जाना जाता है, सौभाग्य 28 वें वर्ष के बाद ही हासिल होता है।

उत्तरा आषाढ़

यह व्यक्ति विचारशील, होशियार, चतुर, संगीत प्रेमी, विनम्र, शांत स्वभाव वाला, धार्मिक रूप से सुखी होते हैं। साथ ही, यह सर्वगुण संपन्न, विद्वान, बुद्धिमान, प्रेमी, तेजस्वी,होते हैं।

श्रवण नक्षत्र

यह व्यक्ति साहसी लोकप्रिय, सुंदर, योग्य, राग, गणित के विद्वान, असंबंधित विचार के होते हैं। साथ ही यह बुद्धिमान विद्वान उच्च कोटि चरित्र के होते हैं।

धनिष्ठा नक्षत्र

यह व्यक्ति एक शैली से अधिक में सक्रिय और समृद्ध होते हैं। साथ ही, भाई-बहनों से बहुत प्यार करते हैं। यह अमीर, महान, अच्छे संचारक, राज्य के काम से जुड़े होते हैं। साथ ही यह अपने व्यक्तित्व से सम्मान का लाभ उठाते हैं।

शतभिषा नक्षत्र

यह व्यक्ति सम्मान पाने वाले, अमीर और शक्तिशाली, वास्तविक, परोपकारी, प्रसिद्ध, अच्छी तरह से काम करने वाले, बुद्धिमान, जानकार, प्रभावी प्रतिद्वंद्वी, विजेता होते हैं।

पूर्व भाद्रपद नक्षत्र

इस नक्षत्र के जातक अत्यंत सुंदर, प्रसिद्ध, धनि और हसमुख होते हैं। साथ ही, यह विद्वान, कुशल और सहानुभूति रखने वाले होते हैं। इनके जीवन में एक से अधिक स्त्री-पुरुष हो सकते हैं। परन्तु, इन्हे संतान का सुख प्राप्त होता हैं।

उत्तरा भाद्रपद नक्षत्र

यह व्यक्ति आकर्षक, बुद्धिमान, साहसी,अनुबंध व्यक्तिवा के होते हैं। साथ ही, यह शास्त्र संचालक जवाबदेह, लेखक, पत्रकार, कलाकार, मृदुभाषी माता, अच्छे ब्रह्मचारी पुजारी हो सकते हैं।

रेवती नक्षत्र

ऐसे व्यक्ति अपने माता-पिता की सेवा करते हैं। यह चालाक, तेज आवाज और दोस्तों के साथ खुश रहने वाले व्यक्ति होते हैं। इनका शरीर पौष्टिक और बलवान होता हैं और यह प्रकृति से भी वीर और सर्वांगीण, धनी, शिक्षित, अच्छे चरित्र के कवि-लेखक, लेखक, इतिहासकार हो सकते हैं।

साथ ही आप पढ़ना पसंद कर सकते हैं- नक्षत्र और संबंधित रोग

नक्षत्रों के विषय में गहन जानकारी और अपने जीवन पर नक्षत्रों का प्रभाव जानने के लिए ज्योतिष सागर जी से परामर्श करें

Total Page Visits: 759 - Today Page Visits: 2

Tags: , , , , , , , , , , , , ,

No Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *