Phalguna Purnima 2023: कब है फाल्गुन पूर्णिमा 2023, फाल्गुन पूर्णिमा व्रत कथा व पूजा विधि

चैत्र पूर्णिमा 2023

हिन्दू पंचांग के अनुसार फाल्गुन मास की पूर्णिमा को फाल्गुन पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है। इस दिन का हिंदू धर्म में दैवीय, सामाजिक और सांस्कृतिक महत्व होता है। साथ ही इस दिन सूर्योदय से चन्द्रमा की रोशनी तक व्रत किया जाता है। एक धार्मिक मान्यता के अनुसार फाल्गुन पूर्णिमा का व्रत करने वाले जातक को भगवान विष्णु की विशेष कृपा प्राप्त होती है और व्यक्ति के सभी कष्टों का अंत हो जाता है। फाल्गुन पूर्णिमा को हिंदू कैलेंडर के अंत का प्रतीक माना जाता है, जो एक नए साल की शुरुआत करती है। चलिए जानते हैं कि इस साल कब है फाल्गुन पूर्णिमा 2023, उसका महत्व, व्रत और पूजा विधि।

यह भी पढ़ें: जानें पूर्णिमा 2023 की तिथि सूची और पूर्णिमा व्रत का महत्व

पूर्णिमा को साल का सबसे शुभ दिन माना जाता है और इसे पूनम, पूर्णिमा और पूर्णमासी आदि के नाम से पूरे भारत में मनाया जाता है। इस पवित्र अवसर पर अधिकांश भक्त उपवास रखते हैं और भगवान विष्णु की पूजा करते हैं। “पूर्णिमा” एक संस्कृत शब्द है, जिसका अर्थ है “पूरा चांद” और हिंदू कैलेंडर में हर महीने के आखिरी दिन को पूर्णिमा कहा जाता है। ये पूर्णिमा, फाल्गुन महीने में शुक्ल पक्ष के अंत में आती है, जो साल का आखिरी महीना भी होता है।

फाल्गुन पूर्णिमा 2023 की तिथि और शुभ मुहुर्त

फाल्गुन पूर्णिमा 2023 तिथि07 मार्च 2023, मंगलवार
पूर्णिमा तिथि प्रारम्भ06 मार्च 2023 को 16ः17 बजे से 
पूर्णिमा तिथि समाप्त07 मार्च 2023 को 18ः09 बजे तक

यह भी पढ़ें: होली 2023 को शुभ बनाना चाहते हैं तो अपनी राशि के अनुसार चुने ये रंग, आएगा गुडलक

फाल्गुन पूर्णिमा का अर्थ और महत्व

हिंदू कैलेंडर में पूर्णिमा के दिनों को उत्तर भारतीय राज्यों में पूर्णिमा, दक्षिण भारतीय राज्यों में पूर्णिमा और गुजरात में पूनम के रूप में जाना जाता है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार साल में आने वाली सभी पूर्णिमा महत्वपूर्ण होती हैं, क्योंकि पूर्णिमा के दिन या तो कैलेंडर में महत्वपूर्ण त्यौहार या जयंती होती हैं। त्यौहार और जयंती के दिनों के अलावा, कई परिवार परंपरागत रूप से पूर्णिमा के दिन का उपवास रखते हैं। साथ ही सत्य नारायण पूजा करने के लिए पूर्णिमा का दिन बहुत शुभ माना जाता हैं। फाल्गुन पूर्णिमा पर सबसे महत्वपूर्ण और लोकप्रिय हिंदू त्यौहारों में से एक होली मनाई जाती है। इस दिन लक्ष्मी जयंती यानी धन और समृद्धि की हिंदू देवी की जयंती भी होती है।

यह भी पढ़ें: होलिका दहन 2023 तिथि, होलिका दहन, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व

फाल्गुन पूर्णिमा की पूजा और व्रत विधि

जो भक्त पूरी श्रद्धा और विधि-विधान से फाल्गुन पूर्णिमा का व्रत रखते हैं, उन्हें शायद ही कभी किसी परेशानी का सामना करना पड़ता है, क्योंकि इस दिन व्रत रखने से जातक को भगवान विष्णु की विशेष कृपा प्राप्त होती है। बता दें कि भगवान श्री हरि विष्णु के चौथे अवतार माने जाने वाले भगवान नरसिंह की फाल्गुन पूर्णिमा के दिन पूजा की जाती है। ऐसा माना जाता है कि इस शुभ दिन पर भगवान नरसिंह, भगवान हरि विष्णु और देवी लक्ष्मी की पूजा करने से घर में स्वास्थ्य, धन और समृद्धि आती है। इसलिए भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी को प्रसन्न करने और उनका आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए फाल्गुन पूर्णिमा पर पूजा और व्रत विधि का उल्लेख किया गया है।

  • इसके लिए जातक को सुबह जल्दी उठकर शुद्ध जल से स्नान करना चाहिए।
  • स्नान के बाद स्वच्छ वस्त्र धारण करें और भगवान विष्णु की पूजा करें।
  • पूजा के बाद सूर्योदय से चंद्रोदय तक व्रत रखने का संकल्प लें।
  • शाम को चांद निकलने के बाद व्रत खोलें।
  • इस दिन आपके विचार सकारात्मक होने चाहिए और ध्यान रखें कि आप किसी की भावनाओं को ठेस न पहुंचाएं।

फाल्गुन पूर्णिमा 2023 पर होलिका पूजन विधि

होलिका दहन बुराई पर अच्छाई की जीत के प्रतीक पर्व है। यह त्यौहार फाल्गुन पूर्णिमा 2023 के दिन मनाया जाता है और पूरे विश्व में हिंदुओं के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण उत्सव होता है। चलिए फाल्गुन पूर्णिमा पर होलिका पूजा विधि पर एक नज़र डालते हैं।

  • एक खुली जगह में गाय का सूखा गोबर और लकड़ी इकट्ठा करें।
  • एक थाली में निम्नलिखित वस्तुएं रखें और उन्हें होलिका माता को अर्पित करें: कुमकुम, चावल, हल्दी, मेंहदी, गुलाल, रोली, नारियल, एक मुट्ठी गेहूं, लच्छा कपास, एक कमल, कुछ फूल और माला।
  • अब लकड़ियों और गोबर की आग जलाएं, जिसे होलिका दहन भी कहा जाता है और नीचे बताए गए भगवान नरसिंह के मंत्र का जाप करें।

ध्यायेन्नृसिंहं तरुणार्कनेत्रं सिताम्बुजातं ज्वलिताग्रिवक्त्रम्।

अनादिमध्यान्तमजं पुराणं परात्परेशं जगतां निधानम्।।

फाल्गुन पूर्णिमा का श्लोक

फाल्गुने पौर्णमायान्तु होलिका पूजनं स्मृतम्।

पंचयं सर्वकाष्ठानाँ पालालानान्च कारयेत्॥

यह भी पढ़ें: मेष राशि में बन रहा है राहु-बुध संयोग, जानें साल 2023 में इसकी तिथि, समय और प्रभाव

फाल्गुन पूर्णिमा के पीछे की कहानी

कहानी का वर्णन विष्णु पुराण में विस्तृत रूप से किया गया है, जो नीचे संक्षेप में दी गई है।

ऐसे हुई इसकी शुरुआत

हजारों साल पहले, सतयुग के दौरान राक्षसों के राज्य पर राजा हिरण्यकश्यप का शासन था। राक्षसों के राजा ने पृथ्वी पर सभी के लिए जीवन को दयनीय बना दिया था और सभी के लिए बहुत परेशानी खड़ी कर दी थी। वह इतना अति आत्मविश्वासी इसलिए था, क्योंकि उसने वर्षों की तपस्या और ध्यान के बाद भगवान ब्रह्मा से वरदान प्राप्त हुआ था। वरदान यह था कि हिरण्यकश्यप न कभी किसी पुरुष द्वारा मारा जाएगा और न ही स्त्री से, न पशु से और न पक्षी से, न दिन में और न रात में, न अलौकिक अस्त्र से और न ही हस्तस्त्र से, न अपने महल के अंदर और न ही अपने महल के बाहर और अंत में न तो किसी देवता द्वारा और न ही किसी दानव द्वारा इसका अंत किया जाएगा।

जब उसे यह वरदान दिया गया, तो मानो वह अमर हो गया और वह अपने आप को सर्वशक्तिमान मानने लगा। इसलिए उसने राज्य में सभी को भगवान विष्णु की पूजा बंद करने और खुद की पूजा करने का आदेश दिया और जो कोई भी ऐसा करने के लिए सहमत नहीं होगा, उसे मार दिया जाएगा।

हिरण्यकश्यप का डर

राज्य के सभी लोग मृत्यु के भय से उसकी पूजा करने लगे। हालांकि, हिरण्यकश्यप का अपना पुत्र, प्रह्लाद, भगवान विष्णु का सच्चा भक्त था और वह अपने पिता के आदेश के विरुद्ध भगवान विष्णु की पूजा करता रहा और “हरि” का नाम जपता रहा। वहीं हिरण्यकश्यप ने अपने ही बेटे प्रह्लाद को मारने का फैसला किया।

इसलिए मनाया जाता है होलिका दहन

हिरण्यकश्यप ने प्रह्लाद को सांपों से भरी कालकोठरी में फेंकने की कोशिश की, उसके सिर को हाथी से कुचल दिया और कभी उसे एक पहाड़ से फेंकने की कोशिश की, जिसे अब डिकोली पर्वत कहा जाता है। लेकिन हर बार भगवान विष्णु की कृपा से वह बच गया। जब कुछ भी काम नहीं आया, तो हिरण्यकश्यप ने अपनी बहन होलिका को बुलाया।

बहुत पहले, होलिका को एक वरदान प्राप्त हुआ था, जिसके कारण वह आग में नहीं जल सकती थी। हिरण्यकश्यप ने प्रहलाद को जिंदा जलाने की कोशिश में अपनी बहन की गोद में प्रह्लाद को बिठाकर जलती लकड़ियों के ढेर पर बैठने को कहा। जब ऐसा हुआ, तो प्रह्लाद बच गया और हिरण्यकश्यप की बहन होलिका आग में जिंदा जल गई। तब से पूरे भारत में भक्तों द्वारा होलिका माता को श्रद्धांजलि के रूप में होलिका दहन मनाया जाता है।

यह भी पढ़ें: इस पूजा विधि से करें महाशिवरात्रि 2023 पर भगवान शिव को प्रसन्न, मिलेगा मनचाहा वरदान

हिरण्यकश्यप की हार

जब सब कुछ विफल हो गया, तो हिरण्यकश्यप ने प्रह्लाद को स्वयं मारने की कोशिश की और उसे अपने भगवान विष्णु को बुलाने और उसे बचाने का आदेश दिया। जैसे ही वह उसे मारने जा रहा था, भगवान विष्णु के अवतार भगवान नरसिंह महल के एक खंभे को तोड़कर बाहर निकलें। भगवान विष्णु ने हिरण्यकश्यप को मारने के लिए भगवान ब्रह्मा के वरदान के खिलाफ जाकर इस अवतार को लिया था।

वरदान की शर्तों के अनुसार, भगवान नरसिंह न तो मनुष्य थे और न ही जानवर और न ही देवता। भगवान नरसिंह ने हिरण्यकश्यप को महल के प्रवेश द्वार के बीच में घसीटा, इससे वह न तो महल के अंदर था और न ही बाहर, जिस समय वह मारा गया था तब दिन और रात एक साथ मिल रहे थे, इसलिए यह न तो दिन था और न ही रात और अंत में भगवान नरसिंह ने उसे अपने पंजों से मार डाला, जो हथियार नहीं थे। तभी से फाल्गुन पूर्णिमा के दिन भगवान नरसिंह और भगवान विष्णु की पूजा की जाती है।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 3,987 

Posted On - February 6, 2023 | Posted By - Jyoti | Read By -

 3,987 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

Our Astrologers

21,000+ Best Astrologers from India for Online Consultation