Rahu or Ketu: जानें राहु और केतु दोष से जुड़ी सारी जानकारी और उपाय

राहु और केतु दोष
WhatsApp

कहते है जब अचानक जीवन में सभी चीजे नकारात्मक और उल्टी होने लगे तो कही ना आपके ग्रह आप पर भारी होते है ऐसे ही है राहु और केतु जो छाया ग्रह के रूप में जाने जाते है| जिनकी कोई स्वतंत्र पहचान नहीं होती है। उनका कोई भौतिक आकार नहीं होता है और ये आकाश में काल्पनिक बिंदु की तरह होते हैं। साथ ही अपने छायादार स्वभाव के कारण, वे भावनात्मक स्तर पर कार्य करते हैं और जिस चिन्ह में वे स्थित होते हैं, उसके लक्षण साफ तौर पर दर्शाते हैं। दुर्लभ मामलों में ही वे अनुकूल साबित होते हैं। यदि वे किसी कुंडली में दशा या महादशा में होते हैं, तो जातक को उनके अशुभ प्रभावों का सामना करना पड़ सकता है।

राहु और केतु का अस्तित्व

कंडली में  दोष या महादोष का होना जातक के लिए कष्टदाई हो सकता है इसलिए यदि आपकी कुंडली में किसी प्रकार का दोष है तो उसका हल निकालना अतिआवश्यक है खास अगर यह दोष राहु या फिर के प्रभाव से जुड़ा हो, हिंदू पौराणिक मानेंताओ के अनुसार, राहु और केतु अस्तित्व में भागवान विष्णु के सुदर्शन चक्र के वार से आए क्योंकि एक राक्षस का शरीर उनके चक्र से दो हिस्सों में कट गया, परंतु अमृत का सेवन करने के कारण यह मारे नही जा सके| जिसे राक्षस के शरीर का ऊपरी आधा हिस्सा राहु और नीचे के हिस्सा केतु के रूप में जाना जाता है।

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए: यहां क्लिक करें

 राहु और केतु की कहानी

देवताओं और राक्षसों ने एक बार पारस्परिक रूप से अमृत उत्पन्न करने के लिए सहमति जाहिर की थी, जो कि उन्हें हमेशा अमर रहने की शक्ति प्रदान कर सकता था। और इसलिए समुद्र मंथन से ही अमृत प्राप्त किया जा सकता था। जब अमृत प्राप्त किया गया और इसे देवताओं के बीच बांटना शुरू किया गया, तो एक देवता के रूप में एक राक्षस आया और अमृत का सेवन करने के लिए सूर्य और चंद्रमा के बीच में बैठ  गया।

लेकिन सूर्य और चंद्रमा ने उस राक्षस को पहचान लिया और इसकी शिकायत भगवान विष्णु से तुरंत की और यह सुनकर भगवान विष्णु ने राक्षस पर अपने सुदर्शन चक्र का प्रयोग किया और उसे दो टुकड़ों में काट दिया। लेकिन चूंकि दानव ने पहले ही पर्याप्त मात्रा में अमृत का सेवन कर लिया था जिससे वो अमर हो गया था और उसे मारना नामुमकिन था । इसलिए राक्षस के सिर को राहु और निचले आधे हिस्से को केतु कहा गया और तब से, वे सूर्य और चंद्रमा के दुश्मन है।

राहु और केतु दोष होने पर स्वास्थ्य समस्याएं

जब किसी जातक की कुंडली मे दोष होता है तो उसे गंभीर समस्याओं का सामना करना पड़ता है| उनमें से एक समस्या सेहत से भी जुड़ी होती है| अगर किसी जातक की कुंडली में राहु केतु का दोष है| तो उसका निवारण जल्द ही करना चाहिए क्योंकि राहु और केतु दोनों हमेशा सेहत से जुड़ी गंभीर  स्थिति उत्पन्न करते हैं। राहु से मानसिक रोग, चोरी, हानि, परिवार के सदस्यों की मृत्यु, कानूनी परेशानी आदि इसके कुछ नकारात्मक पहलू हैं। यह कुष्ठ रोग, त्वचा रोग, सांस लेने में समस्या, अल्सर आदि रोगों का भी प्रतिनिधित्व करता है। किसी व्यक्ति की तत्काल सफलता या विफलता के पीछे भी राहु का ही हाथ होता है। यदि राहु अच्छी स्थिति में हो तो यह जातक को साहस और प्रसिद्धि भी प्रदान कर सकता है।

वहीं केतु फेफड़ों से संबंधित रोग, कान की समस्याएं, मस्तिष्क विकार, आंत में समस्याएं आदि जैसी बीमारियां उत्पन्न कर सकता है। यह रहस्यवादी गतिविधियों, घावों, कष्टों, बुरी संगति, झूठा अभिमान आदि का प्रतिनिधित्व करता है। अगर यह है अच्छी स्थिती में होता है तो केतु मोक्ष, अचानक लाभ, प्राप्त करने मे भी मदद करता है। 

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

राहु और केतु दोष

जब ये दोनों ग्रह अशुभ होते हैं,  ये बहुत परेशानी और असुविधा का कारण बन सकते हैं। राहु इतना अशुभ है कि ज्योतिषी राहु काल मुहूर्त के दौरान शुभ कार्य करने से मना करते हैं।

राहु दोष तब होता है जब राहु और चंद्रमा एक साथ होते हैं, यह राशि में जुड़ते या अलग होते हैं। यह तब भी बनता है जब वे एक दूसरे को देखते हैं। 

राहु दोष के कुछ उदाहरण

1. राहु, लग्न और चंद्रमा की युति से भी दोष प्रबल होता है।

2. राहु रासी, चंद्र लग्न और नवांश के पहले, दूसरे, 5वें, 7वें, 8वें, 9वें और 12वें घर में है।

3. राहु चंद्रमा या लग्न, 5, 7, और 9 घरों को देखता है।

4. राहु की दृष्टि में, चंद्रमा बृहस्पति के साथ या उसके बिना प्रभाव हीन हो सकता है।

5. राहु को बृहस्पति की दृष्टि मिले या न मिले।

राहु दोष आपके सभी ग्रहों पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है, जो राहु से घिरे हुए हैं। वे अपने अधिकांश सकारात्मक प्रभावों को खो देंगे, इसलिए व्यक्ति बहुत बदकिस्मत हो जाता है। मुसीबतें उसका पीछा करती हैं, और महत्वपूर्ण जीवन की घटनाओं जैसे विवाह, प्रसव, आदि में देरी हो सकती है। उनके जीवन के लगभग सभी पहलुओं पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। राहु दोष वाले किसी भी व्यक्ति को अपने जीवन के अधिकांश समय में  दर्द और दुख सहने की संभावना बनी रहती है।

वैदिक ज्योतिष में राहु और केतु दोष के लिए ज्योतिषीय उपाय हैं। ये राहु और केतु को प्रसन्न कर सकते हैं। घर पर कुछ सरल उपाय करने से राहु केतु दोष को दूर करने में मदद मिल सकती है।

राहु और केतु का जीवन पर प्रभाव

इन दोनों ग्रहों का प्रभाव काफी नकारात्मक होता है| राहु का प्रभाव मानसिक बीमारी, तनाव, हानि, कानूनी समस्या, परिवार में मृत्यु और जीवन में अचानक परिवर्तन का कारण बन सकता है। यदि यह जातक की जन्म कुंडली में अच्छी तरह से स्थित है, तो यह प्रसिद्धि और साहस प्रदान कर सकता है। यदि यह अशुभ हो तो कुष्ठ रोग, त्वचा रोग, सांस लेने में तकलीफ आदि हो सकती है।

यदि केतु प्रतिकूल स्थिति में हो तो यह मस्तिष्क विकार, कान और फेफड़ों की समस्याओं का कारण बन सकता है। केतु अभिमान, अहंकार, अनैतिक कार्यों, बुरी संगति और कठिनाइयों का प्रतिनिधित्व करता है।

साथ ही राहु और केतु दोष व्यक्ति के पूरे जीवन को गंभीर रूप से प्रभावित कर सकते हैं। इसलिए, इस दोष वाले लोगों को बिना असफल हुए राहु केतु दोष के उपाय करने चाहिए।

इसी के साथ राहु और केतु का गोचर अठारह महीने तक चलता है और सभी को प्रभावित करता है। लेकिन राहु-केतु के गोचर के उपाय राहु-केतु दोष के उपाय से थोड़े अलग होते हैं।

राहु और केतु दोष को कम करने के मंत्र

  • यदि जातक की जन्म कुंडली में राहु अनुकूल नहीं है, तो बीज मंत्र का 18000 बार जाप करने से मदद मिल सकती है। राहु का बीज मंत्र ओम भ्रां भ्रं भ्रुं सः रहवे नमः है। राहु के अशुभ प्रभाव को कम करने के लिए शनिवार का व्रत करें। ब्राह्मणों और गरीबों को चावल दान करें। कुष्ठ रोग से पीड़ित व्यक्ति की मदद करें और कौवे को मीठी रोटियां खिलाना और तकिए के पास सौंफ रखना कुछ अन्य चीजें हैं जिनसे आप राहु को शांत कराने के लिए कर सकते हैं। राहु यंत्र रखने से भी राहु के अशुभ प्रभावों को दूर करने में मदद मिल सकती है। 
  • केतु बीज मंत्र का 17,000 बार जाप करें और हवन करें। केतु बीज मंत्र है ओम श्रम श्रीं शौं सह केतवे नमः है। केतु के बुरे प्रभाव को कम करने के लिए कंबल, बछड़ा, बकरी, तिल, भूरे रंग की सामग्री और लोहे के हथियार का दान करें। आप मंगलवार और शनिवार को भी व्रत रख सकते हैं। एक कुत्ते को रोटी खिलाओ और ब्राह्मणों को भोजन भी खिलाएं। साथ ही बुजुर्गों और जरूरतमंदों की मदद करने से भी इसके दुष्प्रभाव को कम करने में मदद मिलती है। केतु के प्रभाव को दूर करने में भी केतु यंत्र उपयोगी हो सकता है।
  • ओम ऐं ह्रीं क्लें चामुंडैई विच्चे एक बहुत ही शक्तिशाली मंत्र है जिसका उपयोग सभी प्रकार के ग्रह दोषों को दूर करने के लिए किया जा सकता है। यह मंत्र नवग्रह शांति के लिए अत्यंत लाभकारी है। इस मंत्र का प्रतिदिन 108 बार जाप करना चाहिए।

वहीं राहु और केतु दो चंद्र नोड और छाया ग्रह हैं जिनका वास्तविक भौतिक आकार नहीं है। लोगों की भावनाओं पर इनका गहरा प्रभाव पड़ता है। उन्हें अशुभ माना जाता है और वे शायद ही किसी व्यक्ति की जन्म कुंडली में सकारात्मक भूमिका निभाते हैं।

राहु और केतु दोष का निवारण

इसी के साथ राहु केतु दोष के लिए घरेलू उपचार

इस दोष के प्रभाव को कम करने या कम करने के लिए आप अपने घर पर कई उपाय कर सकते हैं। उनमें से कुछ यहां हैं।

1. अनाथ और बेघर बच्चों को मिठाई खिलाएं। इससे केतु की नकारात्मकता को कम किया जा सकता है।

2. शिव पंचाक्षर मंत्र “O नमः शिवाय” का प्रतिदिन 108 बार जाप करें।

3. किसी शिव मंदिर में शिवलिंग पर बेलपत्र, कच्चा दूध, फल और जल चढ़ाएं।

4. दोष निवारण मंत्र का नियमित रूप से 108 बार जाप करें।

5. अक्सर भगवान शिव का आशीर्वाद लें। प्रतिदिन किसी शिव मंदिर में जाकर जल चढ़ाएं।

6. निवारण यंत्र या रुद्राक्ष की माला धारण करें या धारण करें।

7. नाग पूजा करें। लगातार 21 दिनों तक विशेष मंत्रों का जाप करें।

8. चांदी से बनी निवारन अंगूठी धारण करें।

9. रुद्र अभिषेकम् करें।

10. तांबे या सोने से बने नाग या नाग सांप को किसी शिव मंदिर में चढ़ाएं।

11. श्रीकालहस्ती मंदिर, आंध्र प्रदेश, या अन्य प्रसिद्ध मंदिरों में कला सर्प निवारण पूजा करें जहां ऐसी पूजा की जा सकती है।

12. जितना हो सके किचन में ही खाएं।

13. राहु और केतु के लिए अलग-अलग जाप करें।

14. लाल और मूंगा रंगों से बचें, खासकर कपड़ों और गहनों में।

15. जरूरतमंदों को मोनोक्रोम प्लेड कंबल दान करें। यह राहु-केतु दोष के लिए एक बहुत ही प्रभावी उपाय है।

16. अशुभ प्रभाव को दूर करने के लिए सरसों के तेल का दान करें।

17. यदि केतु का अशुभ प्रभाव हो तो कुत्तों की देखभाल करें और गली के कुत्तों को आश्रय दें।

18. काले कपड़े न पहनें।

19. केतु के लिए पीला और सफेद रंग अनुकूल है।

राहु केतु दोष के लिए इन सरल घरेलू उपचारों को करके आप राहु और केतु के नकारात्मक प्रभावों को कम कर सकते हैं।

अधिक जानकारी के लिए आप Astrotalk के अनुभवी ज्योतिषियों से बात करें।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 1,863 

WhatsApp

Posted On - October 31, 2022 | Posted By - Jyoti | Read By -

 1,863 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation