ज्योतिष के इन अचूक उपायों से दूर करें बाथरुम का वास्तु दोष

बाथरूम का वास्तु
WhatsApp

कई बार सब कुछ ठीक होने के बावजूद भी व्यक्ति के जीवन में कई परेशानियां होती हैं, जिसके कारण उसे अपने जीवन में असफलता का सामना करना पड़ता है। आपको बता दें यह परेशानियां वास्तु दोष के कारण उत्पन्न हो सकती हैं। जब घर या घर का शौचालय, बाथरूम सही दिशा में ना बनाया जाए, तो व्यक्ति को परेशानियों का सामना करना पड़ता है, जिसके कारण जातक अपने जीवन में असफलता का सामना करते है और वह अपने जीवन में निराशा की चपेट में आ जाते है। इसीलिए घर बनाते समय वास्तु काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

जब बाथरूम में वास्तु दोष उत्पन्न हो जाता है, तो व्यक्ति को इससे जुड़ी कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। और बहुत प्रयास करने के बाद भी यह परेशानियां दूर नहीं हो पाती हैं। इसीलिए वास्तु दोष का ध्यान रखना बेहद जरूरी होता है ताकि व्यक्ति अपने जीवन में परेशानियों का सामना ना करें और सफलता की सीढ़ियों पर आगे बढ़ सकें। यही कारण है कि वास्तु नियमों के अनुसार अपने घर का निर्माण करवाना बेहद जरूरी होता है। ताकि व्यक्ति के घर में किसी भी तरह का वास्तु दोष उत्पन्न ना हो और ना ही उसे किसी तरह की परेशानी का सामना करना पड़े, इसलिए आपको वास्तु का विशेष ध्यान रखना चाहिए। चलिए जानते हैं कि बाथरूम का वास्तु दोष कैसे दूर किया जा सकता है (bathroom ka vastu dosh kaise dur kare)- 

यह भी पढ़ेंःविवाह शुभ मुहूर्त 2023: जानें साल 2023 में विवाह के लिए शुभ मुहुर्त और तिथि

बाथरूम का वास्तु शास्त्र (Bathroom ka Vastu Shastra) –

वास्तु शास्त्र में घर बनवाते समय वास्तु शास्त्र अवश्य ध्यान में रखना चाहिए क्योंकि यह घर के लिए काफी महत्वपूर्ण होता है। आपको बता दें कि यदि आपका घर बन रहा है या अपना बाथरूम रेनोवेट हो रहा हैं, तो आपको कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए। साथ ही गलत दिशा में बाथरूम होने से घर में वास्तु दोष उत्पन्न हो जाता है, जिसके कारण व्यक्ति को कई तरह की परेशानी का सामना करना पड़ता है। इसका असर आर्थिक क्षेत्र और जातक की हेल्थ पर पड़ता है इसीलिए वास्तु शास्त्र काफी महत्वपूर्ण होता है। घर बनाते समय इसका ध्यान अवश्य रखना चाहिए। चलिए जानते हैं कि वास्तु दोष कैसे उत्पन्न होता है। 

यह भी पढ़े- vastu tips 2022: जानें क्या कहता है दुकान का वास्तु शास्त्र और व्यापार में वृध्दि के अचूक ज्योतिष उपाय

कैसे उत्पन्न होता है बाथरूम का वास्तु दोष?

  • दिशा: अगर बाथरूम सही दिशा में ना बनाया जाए, तो भी बाथरूम में वास्तु दोष उत्पन्न हो जाता है। जिसके कारण व्यक्ति के सेहत पर बुरा असर पड़ता है।
  • पौधे और तस्वीर: आपको बता दें कि अगर आप अपने बाथरूम में किसी प्रकार की तस्वीर या पौधे लगाना सही नहीं होता है। क्योंकि इससे बाथरुम में वास्तु दोष पैदा होता है। और जातक को कई परेशानियों का सामना करना पड़ता हैं।
  • बाल्टी और मग: बाथरूम में भूल कर भी मग और बाल्टी का रंग काला, बैगनी और कत्थई रंग का नहीं होना चाहिए। वही नीले रंग के मग और बाल्टी रखने से वास्तु दोष उत्पन्न होता है।
  • दरवाजे: साथ ही वास्तु दोष के दरवाजे के कारण भी उत्पन्न होता है। बाथरूम के दरवाजे प्लास्टिक या लोहे के नहीं होनी चाहिए। साथ ही दरवाजा टूटा फूटा नहीं होना चाहिए। आपको बता दें कि बाथरूम में लकड़ी का दरवाजा लगाना शुभ माना जाता है। इसके अलावा बाथरूम का दरवाजा हमेशा बंद रहना चाहिए।
  • बाथरूम और शौचालय: वास्तु शास्त्र के अनुसार बाथरूम चंद्र शौचालय राहु का स्थान माना जाता है। इसीलिए दोनों को एक साथ नहीं बनाना चाहिए, इसके कारण घर में वास्तु दोष उत्पन्न होता है।
  • पानी का बहाव: बाथरूम  में पानी का बहाव उत्तर से दक्षिण की ओर नहीं होना चाहिए। इसके कारण बाथरूम में वास्तु दोष उत्पन्न होता है। और जातक की हेल्थ पर इसका बुरा प्रभाव होता है।

यह भी पढ़ें-अगर आप भी कर रहे है विवाह की तैयारी, तो नाडी दोष का रखें ध्यान

इन उपायों से दूर करें बाथरूम का वास्तु दोष 

नमक का उपाय

अगर आपके बाथरूम में वास्तु दोष उत्पन्न हो गया है, तो बाथरूम में शीशे के एक बर्तन में नमक डालकर रख दें। इससे बाथरूम का वास्तु दोष खत्म हो जाता है। लेकिन इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि हर हफ्ते नमक को बदलते रहना है।

वास्तु शास्त्र का महत्व

इसी के साथ बाथरूम का निर्माण करते समय वास्तु शास्त्र का बेहद ध्यान रखना चाहिए।

दिशा का महत्व

 वही बाथरूम का निर्माण करवाते समय पानी की निकासी उत्तर या फिर पूर्व दिशा में होनी चाहिए। अगर बाथरूम का पानी दक्षिण-पश्चिम दिशा की तरफ है, तो इससे घर में अशांति बनी रहती है।

शीशा और दिशा

अगर बाथरूम में शीशा लगा है, तो उसका मुंह दरवाजे की तरफ नहीं होना चाहिए। इस दिशा में शीशा लगाना घर में  नेगेटिव एनर्जी उत्पन्न करता है और घर में परेशानी आती है।

टप और बाल्टी

 इसी के साथ वास्तु शास्त्र कहता है कि बाथरूम में रखे टप और बाल्टी को हमेशा भर कर रखना चाहिए। इससे वास्तु के अनुसार घर में खुशियां आती हैं।

इलेक्ट्रॉनिक गेजेट

 इसी के साथ बाथरूम में गीजर और दूसरे इलेक्ट्रॉनिक आइटम को दक्षिण पूर्व दिशा में लगाना सही होता है।

बेडरूम और बाथरूम

इसी के साथ घर के बेडरूम और बाथरूम को अलग-अलग दिशा में बनवाना चाहिए ताकि घर में स्थिरता और समृद्धि बनी रहती है।

ईशान कोण

 बाथरूम का निर्माण करते समय ईशान कोण को छोड़कर किसी भी दूसरे हिस्से में बाथरूम का निर्माण करना चाहिए। ईशान कोण में टॉयलेट बनाने से हेल्थ प्रॉब्लम्स के साथ-साथ फाइनेंस प्रॉब्लम भी बढ़ जाती हैं।

बाथरूम और किचन

 इसी के साथ बाथरूम का निर्माण किचन से दूर ही करवाना चाहिए। बाथरूम, किचन और बेडरूम के साथ बनवाने से घर के सदस्यों को स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इसी के साथ वास्तु शास्त्र कहता है कि बाथरुम और किचन अलग-अलग बनवाना सही रहता है।

यह भी पढ़े- ज्योतिष शास्त्र से जानें मन और चंद्रमा का संबंध और प्रभाव

अधिक जानकारी के लिए आप Astrotalk के अनुभवी ज्योतिषियों से बात करें।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 643 

WhatsApp

Posted On - April 25, 2022 | Posted By - Jyoti | Read By -

 643 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि