चंद्रमा और मंगल युति – विभिन्न भावों में प्रभाव

चंद्रमा और मंगल युति – विभिन्न भावों में प्रभाव

चंद्रमा और मंगल युति - विभिन्न भावों में प्रभाव

वैदिक ज्योतिष में, चंद्रमा भावनाओं का प्रभुत्व करता है। यह जातक के मन को दर्शाता है। जबकि, मंगल लाल चीज़ों और ऊर्जाओं का प्रतिनिधित्व करता है। यह हिंसा, साहस, क्रोध, नेतृत्व की गुणवत्ता, कस्तूरी, केसर और बल का प्रभुत्व करता है। कुंडली में चंद्रमा और मंगल युति विरोधाभासी परिणाम लाती है।

चंद्रमा एक शांत ग्रह है जिसका कोई शत्रु नहीं है। दूसरी ओर, मंगल एक आक्रामक, उग्र ग्रह है। जब यह दोनों ग्रह एक साथ आते हैं, तो जातक भावनात्मक दुविधाओं से जूझता है जहां वे भावनात्मक उथल-पुथल के साथ-साथ बेकाबू आक्रामकता पर खुद को परेशां रखता है। इसके अतिरिक्त, वे युद्ध रणनीति विशेषज्ञ होंगे और कोई भी उन्हें विवादों में हरा नहीं पाएगा।

चंद्रमा और मंगल युति जिस भाव में होती है उसके आधार पर जातक को विभिन्न परिणामों की प्राप्ति होती है। आइए जानें कि ज्योतिष के विभिन्न भावों में इस युति के सबसे संभावित परिणाम क्या हैं –

प्रथम भाव में चंद्रमा और मंगल युति का प्रभाव

चंद्रमा चमकदार सफेद चीजों को दर्शाता है। पहला भाव शारीरिक बनावट, व्यक्तित्व और आदतों का प्रभुत्व करता है। यहाँ, चंद्रमा जातक को आकर्षक बनता है। जबकि, मंगल उन्हें एक साहसी व्यक्तित्व प्रदान करता है।

इस भाव में युति जातक की भावनात्मक स्थिति, स्वभाव, बचपन, विकास, सार्वजनिक छवि और स्वयं की भावना पर प्रभाव डालती है। चंद्रमा जातक को भावुक बनाता है और मंगल उन्हें कठोर और आक्रामक बनाता है।

ऐसे जातक काम पर ध्यान केंद्रित करते हैं और कुशलता से प्रदर्शन करते हैं। वे बहादुर और भावनाओं से भरे हुए होंगे।

एक नकारात्मक प्रभाव के रूप में, इन जातकों को अपने स्वर, शब्द और कार्यों के साथ अतिरिक्त सावधानी बरतने की आवश्यकता होगी। अन्यथा, वे समस्याओं का सामना कर सकते हैं।

द्वितीय भाव में चंद्रमा और मंगल की युति का प्रभाव

दूसरा भाव संपत्ति, निवेश, कार और फर्नीचर दर्शाता है। इसे धन भाव भी कहा जाता है। इस भाव में युति व्यक्ति को नाम और प्रसिद्धि देतु है। वे धनी होंगे और मौद्रिक पहलुओं में अच्छे भाग्य वाले उच्च वर्गीय परिवार से संबंधित होंगे।

दूसरी ओर, वह अत्यधिक आक्रामक होंगे। इस तरह के जातक अपने परिवार के साथ मधुर संबंध साझा नहीं करेंगे। साथ ही, वे बहुत ही अनैतिक होंगे और और लोगो से मेल जोल पसंद नहीं करेंगे।

वित्त घर में, चंद्रमा और मंगल युति जातक को वित्तीय आशीर्वाद देता है। हालांकि, उनके जीवन में कई वित्तीय उतार-चढ़ाव होंगे।

ऐसे पुरुष जातक महिला भाग्य का लाभ उठा सकते हैं और धन और संपत्ति प्राप्त कर सकते हैं। बाद में जीवन में उन्हें पुत्र प्राप्ति हो सकती है।

तृतीय भाव में चंद्रमा और मंगल की युति का प्रभाव

तीसरा भाव मानसिक क्षमताओं पर शासन करता है। यह बुद्धि, समझ और याद रखने की क्षमता का भाव है। इस भाव में युति के परिणामस्वरूप, जातक काफी बुद्धिमान होंगे।

मानसिक बुद्धि के अलावा, उनके पास अद्भुत शारीरिक शक्ति होगी। वे बुद्धिमान और चतुर होंगे।

अपनी क्षमताओं के परिणामस्वरूप, वे प्रसिद्धि और धन का निर्माण करेंगे। इसके अलावा, वे किसी भी काम को करने में संकोच नहीं करेंगे।

उनके पास एक स्वर्ण-उन्मुख प्रकृति होगी। उनका आशावादी दृष्टिकोण जीवन में कठिन समय का मुकाबला करने में उनकी अच्छी मदद करेगा।

चतुर्थ भाव में चंद्रमा और मंगल युति का प्रभाव

चतुर्थ भाव में चंद्रमा और मंगल युति का प्रभाव

मातृभूमि, मूल, संपत्ति और मां के साथ संबंध पर चौथे भाव में आते हैं। इस भाव में, चंद्रमा और मंगल का संयोजन मिश्रित परिणाम लाता है। ऐसे ग्रह स्थिति वाले जातक एक सफल व्यक्ति बनेंगे।

नतीजतन, वे एक महान सामाजिक स्थिति हासिल करेंगे और उनके साहसी लक्षणों के लिए उनकी सराहना की जाएगी। उनका तेज दिमाग होगा और वे विज्ञान के विशेषज्ञ बनेंगे।

मंगल की उग्र ऊर्जा के साथ चंद्रमा के कारण, उनके अंदर काफी गुस्सा होगा और वह तर्कपूर्ण होंगे। अवसरों पर, उनका व्यवहार झगड़ालू सकता है। साथ ही, मंगल की आवेशपूर्ण आग के कारण, ये जातक सेक्स एडिक्ट बन सकते हैं।

इसके साथ ही, उनके पास दुनिया भर में धर्मार्थ व्यवहार और कई दोस्त होंगे। वे एक मजबूत राजनीतिज्ञ भी बन सकते हैं।

यह मां का भाव है, मंगल की उपस्थिति के कारण, जातक अपनी मां के साथ मधुर संबंध साझा नहीं करेंगे।

पंचम भाव में चंद्रमा और मंगल युति का प्रभाव

चंद्रमा और मंगल युति से लक्ष्मी योग बनता है। यह बहुतायत और लोकप्रियता के साथ जातक को श्रेष्ठ बनाता है।

5 वां भाव चंचलता, सेक्स, रोमांस, बच्चों और रचनात्मकता का प्रतिनिधित्व करता है। यहाँ, मंगल और चंद्रमा जातक की भावनाओं पर गहरा प्रभाव डालते हैं। नतीजतन, वे आवेगी, आक्रामक और जिद्दी होंगे। साथ ही, वे बहादुर और दयालु होंगे।

अपने आक्रामक स्वभाव के बावजूद, वे महान धन और संपत्ति प्राप्त करेंगे और आगे के जीवन में संतान सम्बन्धी आनंद प्राप्त करेंगे। उनके बच्चे उन्हें प्यार करेंगे और उनका हर तरह से सम्मान करेंगे और उनके प्रति ईमानदार रहेंगे।

यह युति राजनीति, कूटनीति और शेयर बाजार में जातक को विशेषज्ञ बनाती है। वे इन क्षेत्रों में से एक में एक प्रतिष्ठित व्यक्तित्व हासिल करेंगे। कोई भी उनसे युद्ध या बहस जितने में सक्षम नहीं होगा।

एक नकारात्मक प्रभाव के रूप में, उनके जीवन में कई बार अस्थिर वित्तीय स्थिति होगी। यह उन्हें धोखाधड़ी गतिविधियों में शामिल होने के लिए भी प्रेरित कर सकता है। इसके अतिरिक्त, वे बदमाश दिमाग हो सकते हैं और ईर्ष्या कर सकते हैं।

षष्टम भाव में चंद्रमा और मंगल युति का प्रभाव

6 वां भाव शत्रुओं, ऋण, कल्याण, बीमारी, दैनिक दिनचर्या और दैनिक विकल्पों का प्रतिनिधित्व करता है। 6 वें भाव में चंद्रमा और मंगल युति के परिणामस्वरूप, जातक मजबूत मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य प्राप्त करते हैं।

इस ग्रह संयोजन के साथ जातक के अंदर बदले की भावना अधिक होगी। वे अपने दुश्मनों को कभी नहीं बख्शेंगे।

वित्तीय सफलता के साथ, ये लोग रोमांटिक जीवन का आनंद लेंगे। वे स्वभाव से फ्लिर्टी होंगे और कई बार रिलेशनशिप्स में आएंगे। हालांकि, उनका विवाहित जीवन फलदायी होगा। वे अपने जीवनसाथी के प्रति वफादार रहेंगे और आनंदमय मिलन का आनंद लेंगे।

इस तरह के जातकों के पास स्वाद और खान-पैन की अच्छी समझ होगी और वे विभिन्न व्यंजनों का आनंद लेना चाहेंगे। वे खाद्य उद्योग, होटल व्यवसाय या शेफ बन सकते है और एक सफल व्यक्ति हो सकते हैं।

अपनी तरह के और वफादार स्वभाव के बावजूद, उनके जीवन में अपने कर्मचारियों के साथ परेशानिया होंगी और उसी के कारण उन्हें नुकसान उठाना पड़ सकता है।

सप्तम भाव में चंद्रमा और मंगल युति का प्रभाव

7 वां भाव जीवनसाथी और साझेदारी का प्रतिनिधित्व करता है। इसमें बिजनेस पार्टनर और प्रोफेशनल रिलेशनशिप भी शामिल हैं।

इस भाव में युति के फलस्वरूप जातक एक आकर्षक, निष्पक्ष व्यक्ति बनाता है। उनके पास एक अच्छी काया होगी।

जैसा कि यह पति-पत्नी का भाव है, 7 वें भाव में चंद्रमा और मंगल का संयोजन, शांत दिमाग और सुंदर जीवनसाथी के साथ जातक को सर्वश्रेष्ठ बनाता है। वे स्वभाव से कामुक होंगे। हालांकि, वे जातक के प्रति बहुत वफादार हो सकते हैं या नहीं भी।

यहां मंगल की ऊर्जा जातक को कठोर लहजे के साथ क्रूर बनाती है। जब तक वे दूसरे व्यक्ति से लाभ प्राप्त नहीं करना चाहते तब तक वे दूसरों के साथ सम्मान का व्यवहार नहीं करेंगे।

उनकी संकीर्ण मानसिकता होगी। इसके अतिरिक्त, उनकी माँ भी एक क्रूर स्वभाव की होगी और जातक का समर्थन नहीं करेगी।

अष्टम भाव में चंद्रमा और मंगल युति का प्रभाव

8 वां भाव मृत्यु, दीर्घायु और अचानक लाभ और हानि का भाव है। इस भाव में युति के परिणामस्वरूप, जातक कमजोर शरीर और आक्रामक प्रकृति के होंगे।

इसके साथ ही, उनके पास एक दयालु स्वभाव, एक अच्छा दिल होगा। वे स्वभाव से आशावादी होंगे और लोगों को अच्छे कामों की ओर प्रेरित करेंगे। उनके पास एक मधुर आवाज होगी। यह लोगों को आसानी से अपनी ओर आकर्षित करेंगे।

यह युति जातक को भावुक और स्वभाव में कामुक बना देगा। हालांकि, वे एकरसता की अवधारणा का पालन नहीं करेंगे। वे अपने जीवनसाथी को धोखा दे सकते हैं।

ऐसी ग्रह स्थिति के साथ पुरुष जातक एक अच्छी पत्नी से विवाह करेंगे लेकिन अचानक स्वास्थ्य समस्याओं में उसे खो देंगे।

इसमें, यदि चंद्रमा पर किसी क्रूर गृह की दृष्टि है, तो जातक की दुर्घटना में अचानक मृत्यु हो सकती है।

नवम भाव में चंद्रमा और मंगल युति का प्रभाव

इस भाव को धर्म भाव भी कहते हैं। यह वह भाव है जो अच्छे कार्यों, दान, आध्यात्मिक शिक्षा, धर्म और नैतिकता के प्रति झुकाव का प्रतिनिधित्व करता है। 9 वें भाव में चंद्रमा और मंगल के परिणामस्वरूप, जातक उच्च ज्ञान प्राप्त करते हैं और बेहद प्रतिभाशाली और बुद्धिमान होते हैं।

ऐसे जातक नाम और प्रसिद्धि प्राप्त करते हैं। वे वास्तव में अपनी पढ़ाई में अच्छे होंगे और इस तरह बहुत सारी छात्रवृत्ति जीतेंगे। उच्च स्तर तक पहुँचने में उन्हें सरकार का सहयोग मिलेगा।

यह युति उन्हें ऊर्जावान और चिड़चिड़ा बना देगी लेकिन साथ ही किस्मत को भी चमकाएगी। ये लोग सभी प्रकार के धन, संपत्ति और सुख प्राप्त करेंगे। वे अपने भाग्य के निर्माता बनेंगे।

इसके अतिरिक्त, वे अपने पिता के साथ बहुत प्रेमपूर्ण रिश्ता साझा करेंगे। वे जीवन के हर कदम पर जातक का समर्थन करेंगे। जातक को पैतृक संपत्ति का लाभ भी मिलेगा।

वे अपने परिवार के साथ भावनात्मक रूप से जुड़े होंगे। समय-समय पर, वे अपने परिवार के सदस्यों की मदद करेंगे और अपने परिवार के सदस्यों की मदद लेंगे।

दशम भहव में चंद्रमा और मंगल युति का प्रभाव

दशम भहव में चंद्रमा और मंगल युति का प्रभाव

कर्म भाव के रूप में भी जाना जाने वाला 10 वां भाव व्यवसाय, पेशे, सफलता और जातक की प्रतिष्ठा के क्षेत्र पर शासन होता है। इस प्रकार, चंद्रमा और मंगल युति जातक को अपने करियर में अजेय बनाती है।

ये जातक अपनी नौकरी की स्थिति और अधिकार से बहुत लगाव रखने वाले होंगे। वे भावुक और आवेगी होंगे। इसलिए, वे सभी प्रकार के साहसी कार्यों के लिए तैयार होंगे।

इस युति के परिणामस्वरूप, जातक अपने साहसी स्वभाव के लिए बहुत सम्मान अर्जित कर सकते हैं।

उन्हें समृद्धि प्राप्त होगी। अपने स्वयं के प्रयास और व्यक्तित्व के माध्यम से, वे दुनिया में सब कुछ हासिल करेंगे।

साथ ही, ऐसे लोगों के पास सभी प्रकार की संतुष्टि और आराम होंगे। वे अपने सभी प्रयासों में भी सफल होंगे।

अपने पूरे उपक्रम में, वे सफल होंगे। हालांकि, उनके करियर में, अप्रत्याशित काम और कई प्रकार के अप एंड डाउन हो सकते हैं।

यहां पढ़ें – विभिन्न भावों में राहु और मंगल युति का प्रभाव

एकादश भाव में चंद्रमा और मंगल युति का प्रभाव

मंगल ऊर्जा और लाल, चमकदार चीजों को दर्शाता है। यहां 11 वें भाव में जब मंगल चंद्रमा के साथ युति में आता है, तो यह अजेय ऊर्जा लाता है। यह जातक को आवेगी बनाता है। 11 वां भाव मौद्रिक लाभ, आय में वृद्धि और वित्तीय लाभ का प्रतिनिधित्व करता है।

इसके अतिरिक्त, ऐसे जातकों के पास एक आकर्षक व्यक्तित्व होगा। वे उत्कृष्ट वक्ता होंगे जो किसी को भी समझाने में सक्षम होंगे। ये जातक निवासी शेयर बाजार में विशेषज्ञ बन सकते हैं और उसी से महान मौद्रिक लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

उनमें मानसिक क्षमता अच्छी होगी। ये जातक शांतिप्रिय होंगे। उनका सामंजस्यपूर्ण और मधुर स्वभाव होगा। बहरहाल, वे हंसमुख, चतुर और बुद्धिमान भी होंगे।

चंद्रमा की ऊर्जा उन्हें रचनात्मक क्षेत्र में रुचि प्रदान करेगी। जबकि, मंगल का बल उन्हें जो इच्छा है बनने का संकल्प देगा।

धीरे-धीरे, अपने जीवन में, वे कई उच्च पदों और पुरस्कारों को प्राप्त करेंगे। दुनिया भर में उनका सम्मान किया जाएगा और लोग उनकी बात सुनेंगे।

द्वादश भाव में चंद्रमा और मंगल युति का प्रभाव

12 वां भाव अंत का प्रतिनिधित्व करता है। जैसा कि यह कुंडली का अंतिम भाव है, यह भौतिक यात्रा के अंत और आध्यात्मिक यात्रा की शुरुआत का प्रतिनिधित्व करता है। यह आत्म-कारावास और त्याग को भी दर्शाता है।

चंद्रमा और मंगल की उपस्थिति जातक बहुत ज़्यादा भावुक बनाती है। वे अपने दिल से निर्णय लेते हैं। हालांकि, वे एक शानदार जीवन शैली का आनंद लेंगे। मंगल ग्रह की ऊर्जा उन्हें जीवन भर अधिक से अधिक विलासिता प्राप्त करने के लिए प्रेरित करती रहेगी।

ये जातक युद्ध और बहस के विशेषज्ञ होंगे। वे अपने दुश्मनों को कुचलने कलिए अच्छी तरह से जानते हैं। बहरहाल, जब मुसीबत में होते हैं, तो वे अनैतिक मार्ग पर चलने के पहले दो बार नहीं सोचेंगे।

वे बहुत यात्रा करेंगे और जीवन में हर चीज के लिए एक भौतिकवादी दृष्टिकोण रखेंगे। अपने जीवन में, वे किसी भी माध्यम से अधिक से अधिक पैसा कमाना चाहेंगे।

एक समय पर, वे गलत कृत्यों में शामिल हो जाएंगे। उनके आपराधिक कृत्य और धोखाधड़ी की प्रकृति उन्हें परेशान कर सकती है। उन्हें जेल भी जाना पड़ सकता है।

साथ ही आप पढ़ना पसंद कर सकते हैं राहु और गुरु युति – द्वादश भावों में प्रभाव

हर दिन दिलचस्प ज्योतिष तथ्य पढ़ना चाहते हैं? हमें इंस्टाग्राम पर फॉलो करें

 586 total views

Consult an Astrologer live on Astrotalk:

Tags: , , ,

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *