Ganga Dussehra 2022: जानें गंगा दशहरा पर गंगा मे डुबकी लगाने से किन 10 प्रकार के पापों से मिलता है छुटकारा

गंगा दशहरा
WhatsApp

आपको बता दें कि हिंदू धर्म में गंगा को काफी पवित्र माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि जो भी व्यक्ति गंगा नदी में स्नान करता है उसके सारे पाप धुल जाते हैं और उस जातक पर भगवान की असीम कृपा होती हैं। इसके अलावा, हिंदू धर्म में गंगाजल को भी काफी पवित्र माना गया है। साथ ही गंगाजल को शुभ कार्य और अनुष्ठान में प्रयोग किया जाता है। आपको बता दें कि गंगाजल के बिना कोई भी मांगलिक कार्य पूरा नहीं होता है। साथ ही मां गंगा के पृथ्वी पर आने के दिन को गंगा दशहरा के रूप में खुशी से मनाया जाता है। सभी लोग इस दिन अपने पापों से मुक्ति पाने के लिए गंगा नदी के पवित्र जल में स्नान करते हैं। और माता गंगा का ध्यान भी करते है। वहीं स्नान के बाद दान आदि करने से जातक को काफी लाभ होता है।

आपको बता दें कि गंगा दशहरा हिंदू धर्म में काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। और साल 2022 में यह शुभ दिन 9 जून 2022 यानी गुरुवार को मनाया जाएगा। साथ ही लोग इस दिन गंगा में स्नान करके अपने सभी पापों से मुक्ति पा लेते हैं। आपको बता दें कि पुराने धार्मिक मान्यता के अनुसार इस दिन मां गंगा धरती पर अवतरण हुआ था इसीलिए बड़ी धूम-धाम से गंगा दशहरा मनाया जाता है। चलिए जानते है गंगा दशहरा का क्या महत्व होता है और साल 2022 में इसकी तिथि-

यह भी पढ़ेंःविवाह शुभ मुहूर्त 2023: जानें साल 2023 में विवाह के लिए शुभ मुहुर्त और तिथि

गंगा दशहरा का महत्व

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार भागीरथ अपने पूर्वजों की आत्मा का उद्धार करने के लिए गंगा को पृथ्वी पर लेकर आए थे। इसलिए गंगा को भागीरथी भी कहा जाता है। ऐसा माना जाता है कि माता गंगा के वेग और प्रभाव को सुनकर मार्कंडेय ऋषि का तप भंग हुआ था।  इसलिए मार्कंडेय ऋषि ने मां गंगा को आत्मसात किया था। वहीं बाद में लोक कल्याण के लिए ऋषि ने माता गंगा को पृथ्वी पर पैर का दाहिना अंगूठा दबाकर मुक्त किया था। आपको बता दें कि गंगा दशहरा में 10 की संख्या काफी महत्वपूर्ण मानी जाती हैं।

गंगा दशहरा तिथि

आपको बता दें कि जेष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि 9 जून को सुबह 8 बजकर 21 मिनट से शुरू होकर 10 जून को साम 7 बजकर 25 मिनट तक रहेगी। वहीं इस दिन हस्त नक्षत्र और व्यतिपात योग भी बनेगा। साथ ही  इस योग में स्नान और दान करने से जातक को काफी लाभदायक प्राप्त होता है। वहीं जो भी व्यक्ति इस दौरान दान पुण्य का कार्य करता है, तो उसके जीवन के सभी पाप धुल जाते हैं। और उसपर माता गंगा की कृपा होती है।

यह भी पढ़े-गणपति आराधना से चमकेगी भक्तों की किस्मत, होगा विशेष लाभ

गंगा दशहरा पर गंगा स्नान का महत्व

आपको बता दें कि गंगा दशहरा के दिन लोग दूर-दूर से गंगा नदी में स्नान करने के लिए आते हैं। ऐसा माना जाता है कि गंगा नदी का पानी काफी पवित्र होता है, जो भी जातक इस दिन गंगा नदी में स्नान करता है, तो उसके सभी पाप धुल जाते हैं। साथ ही उसके मोक्ष के मार्ग भी खुल जाते हैं इसीलिए लोग दशहरे के दिन गंगा नदी में स्नान करते है। आपको बता दें कि गंगा दशहरे में 10 संख्या का बहुत महत्व होता है। ऐसा माना जाता है कि दशहरे के दिन गंगा में 10 डुबकी लगाने से व्यक्ति को काफी लाभ होता है। साथ ही यहां दशहरे के दिन 10 मनोवृत्तियों का हनन है। माना जाता है कि मोक्षदायिनी मां गंगा में स्नान करने से 10 तरह के पापों का नाश हो जाता है।

गंगा स्नान से इन पापों से मिलती है मुक्ति

गंगा दशहरा का दिन गंगा जी का दिन माना जाता है। साथ ही इस पावन दिन पर गंगा स्नान और गंगा पूजन करने से जातक के 10 प्रकार के पापों से मुक्ति मिलती है। इन 10 प्रकार के पापों में तीन प्रकार के दैहिक पाप और चार वाणी द्वारा किए हुए पाप, तीन प्रकार के मानसिक पापों का माश हो जाता हैं। 

यह भी पढ़े- vastu tips 2022: जानें क्या कहता है दुकान का वास्तु शास्त्र और व्यापार में वृध्दि के अचूक ज्योतिष उपाय

दान का महत्व और क्या करें दान

गंगा दशहरा का दिन जिस तरह गंगा नदी में स्नान करना काफी महत्वपूर्ण होता है उसी तरह इस दिन दान पुण्य का कार्य करना भी काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि जो भी व्यक्ति गंगा दशहरे के दिन दान पुण्य का कार्य करता है उसके जीवन के सभी परेशानियां दूर हो जाती हैं और उसे गंगा माता का आशीर्वाद प्राप्त होता है।

आपको बता दें कि गंगा दशहरे पर स्नान, दान, जप, तप, व्रत आदि करना काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। साथ ही दशहरे के दिन 10 प्रकार से स्नान करके शिवलिंग का 10 की संख्या में गंध, पुष्प, धूप, दीप, नैवेद्य और फल इत्यादि से पूजन करना चाहिए। इस दिन दान देते समय आपको इस बात का विशेष ख्याल रखना चाहिए कि आप जो भी दान करें उसकी संख्या 10 हो। और गंगा पूजन के दौरान पूजा में लाई जाने वाली वस्तु की संख्या भी 10 होनी चाहिए। ऐसा करने से जातक को शुभ फलों की प्राप्ति होती हैऔर उसके जीवन में उत्पन्न सभी परेशानियां नष्ट हो जाती हैं। चलिए जानते गंगा दशहरे पर किन चीजों का दान करने से जातक को सफलता प्राप्त होती है

  • आप जरूरतमंद लोगों को खाने पीने की वस्तुएं दान कर सकते हैं।
  • साथ ही आप फलों का दान भी कर सकते हैं।
  • इसी के साथ दशहरे वाले दिन पानी से भरा घड़ा दान करना जातक के लिए शुभ फल देता है।
  • जरूरत की चीज गरीबो में दान करना शुभ होता है।
  • आप कपड़े, जूते, चप्पल आदि का दान भी कर सकते हैं।
  • सूती वस्त्र धोती आदि का दान करना शुभ होता है।

गंगा दशहरा पर मंत्रों का जरूर करें जप

  • गंगा दशहरे का दिन काफी पावन माना जाता है साथ ही आपको इस दिन गंगा माता के नाम पर व्रत भी रखना चाहिए।
  • इस शुभ अवसर पर गंगे माता की कृपा प्राप्त करने के लिए आपको ”ॐ नमो गंगायै विश्वरूपिण्यै नारायण्यै नमो नमः”  मंत्र का जाप करना चाहिए।
  • साथ ही गंगा नदी में डुबकी लगाते समय आपको ॐ श्री गंगे नमः मंत्र का जाप करना चाहिए। इससे माता प्रसन्न होकर आपको शुभ फल देती हैं।

अधिक जानकारी के लिए आप Astrotalk के अनुभवी ज्योतिषियों से बात करें।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 848 

WhatsApp

Posted On - May 24, 2022 | Posted By - Jyoti | Read By -

 848 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation