लाल किताब के इन उपाय से दूर करें केतु दोष

केतु दोष
WhatsApp

ज्योतिष में ग्रहों की बहुत प्रमुख भूमिका होती है। केतु, चंद्रमा के दक्षिण नोड, को भी ज्योतिष में एक ग्रह माना जाता है। यह खगोलीय रूप से कोई ग्रह नहीं है, हालांकि, मानव जीवन पर केतु दोष के प्रमुख प्रभाव के कारण इसे एक ग्रह माना जाता है।  ये सूर्य, चंद्रमा के साथ अन्य ग्रहों की तरह देखने योग्य और आकार या द्रव्यमान वाले आकाशीय पिंड नहीं हैं। केतु एक ऐसा ग्रह है, जो दुनिया से अलग होकर आध्यात्मिकता के मार्ग की ओर ले जाता है, वह हमेशा मोक्ष की तलाश करता है।

यह भी पढ़ें- वरलक्ष्मी व्रत 2022ः जानें क्या होता हैं वरलक्ष्मी व्रत और शुभ मुहूर्त

हमारे जीवन में हर एक गृह का अपना महत्व होता है, सभी ग्रह के अलग अलग प्रभाव होते हैं इसी प्रकार केतु ग्रह भी होता हैं। अगर आप केतु दोष से प्रभावित है तो आपको कई परेशानियों का सामना करना पड़ सकता हैं। केतु दोष से पीड़ित जातक के जीवन में कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। ऐसा  माना जाता है कि  एक राशि से दूसरी राशि में प्रवेश करने में लगभग 18 महीने लगते हैं। केतु की महादशा भी 18 वर्ष की होती है।

केतु ग्रह दोष के बारे में हिंदू पौराणिक कथा

ज्योतिष में ग्रह केतु हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, इसे छाया ग्रह के रूप में भी जाना जाता है। इसका मतलब है कि उनके पास कोई द्रव्यमान, आकार या पदार्थ नहीं है। यह जातक के जीवन में प्रभाव डालने वाला ग्रह माना जाता है। प्राचीन शास्त्रों के अनुसार, ऐसा माना जाता है कि भगवान विष्णु ने “समुद्र मंथन” के समय अमरता या अमृत का अमृत बांटते हुए राक्षसों को मूर्ख बनाया था।

 भगवान विष्णु ने सभी देवताओं को अमृत और सभी राक्षसों को विष दिया। स्वरभानु नाम के एक दानव ने यह देखा, देवताओं की पंक्ति में बैठ गया और अमृत की कुछ बूंदों को प्राप्त करने में कामयाब रहा। हालाँकि, चंद्रमा और सूर्य ने यह देखा और भगवान विष्णु को संकेत दिया जिन्होंने राक्षस का सिर काट दिया लेकिन दुर्भाग्य से तब तक वह अमर हो चुके थे।

उस समय से, दानव के शरीर का सिर “राहु” और धड़ “केतु” बन गया। रहस्य ग्रह केतु के पास केवल शरीर है लेकिन सिर नहीं है। उन्हें नहीं पता था कि किस दिशा का अनुसरण करना है, इसलिए उन्होंने आध्यात्मिकता के मार्ग पर चलने का फैसला किया। यह भौतिकवादी लाभ नहीं चाहता है। यह एक अलग ग्रह है, जो जातक को संसार से और आराम की वस्तुओं से अलग करता है। इसके पास दिमाग नहीं है और यह दिशाहीन है।

केतु से जुड़ी महत्वपूर्ण बात

राहु और केतु को अशुभ माना जाता है क्योंकि उनकी उत्पत्ति राक्षसों से होती है और वे सूर्य को निगल जाते हैं, जिससे सूर्य ग्रहण और चंद्रमा होता है, जिससे चंद्र ग्रहण होता है। केतु को छाया ग्रह या चंद्रमा के दक्षिण नोड के रूप में भी जाना जाता है। राहु और केतु क्रांतिवृत्त के बिंदु हैं जहां चंद्रमा की कक्षा का तल सूर्य की कक्षा के तल को काटता है। जिस राशि बिंदु पर कोई ग्रह दक्षिण से उत्तर अक्षांश को पार करता है उसे उत्तर नोड कहा जाता है और इसके विपरीत। दक्षिण नोड को अवरोही और उत्तर को आरोही नोड कहा जाता है।

केतु ग्रह

पश्चिमी ज्योतिष में केतु को ड्रैगन की पूंछ के रूप में भी जाना जाता है। पाश्चात्य ज्योतिष में केतु का दूसरा नाम कौड़ा भी है। पाश्चात्य ज्योतिष के अनुसार राहु को शुभ माना जाता है जबकि केतु को अशुभ माना जाता है। किसी के जीवन की भविष्यवाणी करने के लिए जन्म कुंडली का विश्लेषण करते समय पश्चिमी लोग इन ग्रहों पर विचार नहीं करते हैं।

कुंडली में केतु का कोई घर या राशि नहीं है। सभी भावों और राशियों पर केवल सात ग्रहों का ही शासन होता है। हालांकि, कुछ ज्योतिषियों का मानना ​​है कि नोड्स भी घरों और संकेतों के मालिक हैं। खैर, केतु की कोई राशि नहीं है, इसलिए यह केवल राशि के स्वामी का प्रतिनिधित्व करता है। हालांकि, कुंडली का विश्लेषण करते समय यह ध्यान रखना चाहिए कि ये नोड्स महत्वपूर्ण हैं यदि वे किसी भी ग्रह से जुड़े हुए हैं। यदि वे संयुक्त हैं, तो वे उस ग्रह के परिणाम प्रदान करते हैं जो उन्हें देखता है। यह घर के स्वामी को दर्शाता है। केतु अश्विनी, माघ और मूल नक्षत्रों पर शासन करता है । हालांकि, कुछ लोगों का मानना ​​है कि केतु वृश्चिक या धनु राशि में उच्च का होता है और वृषभ या मिथुन राशि में नीच का होता है।

वैदिक ज्योतिष में केतु दोष का क्या अर्थ 

केतु किसी भी राशि पर शासन नहीं करता है । हिंदू धर्म के अनुसार केतु जीवन में नकारात्मक प्रभाव डालता है। साथ ही इसके  विचार और कार्य बुरे हैं, जो बता दें कि केतु दोष से काम में बाधा आने लगती है, सिर के बाल गिरने लगते हैं, पथरी की समस्या हो जाती है।  केतु और राहु के कारण जातक के जीवन में कालसर्प योग भी बनता है। इन सबसे बचने के लिए आपको केतु को अच्छा रखना होगा।

कुंडली में केतु का कोई घर या राशि नहीं है। सभी भावों और राशियों पर केवल सात ग्रहों का ही शासन होता है। हालांकि, कुछ ज्योतिषियों के अनुसार नोड्स भी घरों और संकेतों के मालिक हैं। खैर, केतु की कोई राशि नहीं है, इसलिए यह केवल राशि के स्वामी का प्रतिनिधित्व करता है। हालांकि, कुंडली का विश्लेषण करते समय यह ध्यान रखना चाहिए कि ये नोड्स महत्वपूर्ण हैं यदि वे किसी भी ग्रह से जुड़े हुए हैं। यदि वे संयुक्त हैं, तो वे उस ग्रह के परिणाम प्रदान करते हैं जो उन्हें देखता है।

यह घर के स्वामी को दर्शाता है। केतु अश्विनी, माघ और मूल नक्षत्रों पर शासन करता है । हालांकि, कुछ लोगों का मानना ​​है कि केतु वृश्चिक या धनु राशि में उच्च का होता है और वृषभ या मिथुन राशि में नीच का होता है। यदि कुंडली में केतु लाभकारी भावों में स्थित हो तो यह अच्छे परिणाम देगा। इसके लिए कुछ ज्योतिष उपाय होते हैं, जिनको करने से जातक को केतु दोष से मुक्ति मिलती है और पद, प्रतिष्ठा बढ़ती और संतान सुख मिलता है। जिन जातक की कुंडली में केतु दोष होता है वे केतु के रत्न या उपरत्न को भी धारण कर सकते हैं। तो चलिए जानते है कि केतु दोष को कैसे दूर करें।

केतु दोष से मुक्ति के पाने के  ज्योतिष उपाय

1. यदि आपकी कुंडली में केतु दोष है, तो आपको हर शनिवार व्रत करना चाहिए। आपको कम से कम 18 शनिवार का व्रत रखना होगा।

2. केतु दोष को दूर करने या केतु की शांति के लिए ॐ स्त्रां स्त्रीं स्त्रौं स: केतवे नम मंत्र का जाप करना चाहिए।

3. राहु दोष से मुक्ति के उपायों और खाने से जुड़ी बातें केतु दोष में भी लागू होती हैं। आपको शनिवार पर व्रत के दिन एक पात्र में कुशा और दूर्वा रखकर पानी भर कर रखने के बाद उसे पीपल की जड़ों में अर्पित करना होगा, इससे जातक को लाभ होता हैं।

4. वही केतु दोष से मुक्ति के लिए शनिवार को पीपल के पेड़ के नीचे घी का दीपक जलाना से भी लाभ मिलता है।

5. केतु दोष से मुक्ति के लिए कंबल, छाता, लोहा, उड़द, गर्म कपड़े, कस्तूरी, लहसुनिया आदि का दान जरूरतमंदो को करना चाहिए।

6. केतु दोष के निवारण के लिए आप उसके लहसुनिया रत्न को धारण कर सकते हैं। यदि यह नहीं मिलता है, तो आप केतु के उपरत्न फिरोजा, संघीय या गोदंत को भी पहन सकते हैं।

7. यदि आप केतु दोष से मुक्त होना है तो अपनी संतान के साथ अच्छा व्यवहार करें। गणेश जी की पूजा करें, कुत्ता पालना और कुत्ते की सेवा करना भी काफी लाभदायक माना जाता हैं।

यह भी पढ़े- ज्योतिष शास्त्र से जानें मन और चंद्रमा का संबंध और प्रभाव

जानिए लाल किताब  अनुसार केतु ग्रह का महत्व

इस लाल किताब के अनुसार केतु ग्रह का 12 भावों में प्रभाव होता है। लाल किताब ज्योतिष की महत्वपूर्ण किताब है, जो ग्रहों से संबंधित आसान उपाय के लिए काफी प्रसिद्ध है । लाल किताब में शुक्र और राहु को केतु ग्रह का साथी भी बताया गया है, जबकि चंद्रमा और मंगल केतु के दुश्मन बताया गया  है। वहीं बृहस्पति भी केतु के लिए अनुकूल ग्रह माना जाता है। यह केतु की दुर्बलता को दूर करता है। 

लाल किताब के अनुसार केतु ग्रह सीधी चाल नहीं चलता है। बल्कि इसकी चाल उल्टी (वक्री) होती है। केतु कुंडली के द्वादश भाव (बारहवाँ ) का स्वामी होता है। केतु ग्रह का संबंध समाज सेवा, धार्मिक एवं आध्यात्मिक कर्म से मना जाता है। 

इसके अलावा सूअर,गधा, खरगोश छिपकली, चूहा केतु के द्वारा ही दर्शाए जाते हैं। साथ ही काला कंबल, काले तिल, लहसुनिया पत्थर, इमली, प्याज, लहसुन आदि वस्तुएँ केतु ग्रह से संबंधित होते हैं।

यह भी पढ़ें- Raksha bandhan 2022: क्यों मनाया जाता है रक्षा बंधन 2022 और राखी बांधने का शुभ मुहुर्त

लाल किताब अनुसार केतु ग्रह के प्रभाव

बता दें कि यदि जातक की कुंडली में केतु ग्रह बलवान होता है, तो जातक को इसके बहुत अच्छे परिणाम देखने को मिलते  हैं। यह व्यक्ति को आध्यात्मिक क्षेत्र में सफलता दिलाता है तथा मोक्ष प्राप्ति का मार्गदर्शन  करता है। केतु ग्रह अपने मित्र ग्रहों के साथ बली होता है। 

वही  इसके विपरीत यदि  जातक की कुंडली में केतु की स्थिति कमज़ोर होता है अथवा वह पीड़ित है तो उस जातक के लिए यह अच्छा नहीं माना जाता है। केतु अपने शत्रु ग्रहों के साथ कमज़ोर हो जाता  है। कुल मिलाकर यह कहा जा सकता है कि व्यक्ति के जीवन में केतु के सकारात्मक और नकारात्मक दोनों प्रभाव होते हैं।

केतु ग्रह के लिए अपनाएं लाल किताब के उपाय

ज्योतिष में लाल किताब के उपाय को बहुत महत्वपूर्ण माना माना जाता है।  लाल किताब में केतु ग्रह की शांति के टोटके जातकों के लिए बहुत ही लाभकारी होते है साथ ही यह तरीके सरल भी होते है।  इन्हें कोई भी व्यक्ति आसानी से कर सकता है। केतु ग्रह से संबंधित लाल किताब के उपाय करने से जातकों को केतु ग्रह के सकारात्मक फल प्राप्त होने में मदद मिलती हैं। 

  • माथे पर केसर या हल्दी का तिलक लगाने से लाभ होता है।
  • वृद्ध एवं जरूरतमंद व्यक्तियों की सहायता करनी चाहिए।
  • कानों में सोने की बाली पहने से लाभ होता है।
  • वही दूध में केसर मिलाकर पीने से सकारात्मक प्रभाव देखने को मिलते है।
  • पिता एवं वृद्धो का सम्मान करें।
  • कुत्ता पालना काफी लाभदायक होगा।

अधिक जानकारी के लिए आप Astrotalk के अनुभवी ज्योतिषियों से बात करें।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 6,951 

WhatsApp

Posted On - July 1, 2022 | Posted By - Moni Pal | Read By -

 6,951 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation